home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Lungmoss: लंगमॉस क्या है?

परिचय|उपयोग|साइड इफेक्ट्स|डोसेज|उपलब्ध
Lungmoss: लंगमॉस क्या है?

परिचय

लंगमॉस क्या है?

लंगमॉस पेड़ और पत्थरों के साथ-साथ प्राकृतिक सतहों पर उगने वाली एक काई होती है जिसका रंग हल्का हरा होता है। इसे इंच, लबांई में नापा नहीं जा सकता है। इसे कई सालों तक जमा किया जा सकता है। हालांकि, पेड़ के सूख जाने के बाद इस काई को जमा नहीं करना चाहिए क्योंकि फिर यह दवाई बनाने के लिए उपयोगी नहीं रह जाती है।

अगर इसका इस्तेमाल दवा बनाने के लिए करना है, तो हरे पेड़ पर लगी इस काई का ही इस्तेमाल किया जा सकता है। जैसा कि इसके नाम से पता चलता है कि यह लंबे समय से तपेदिक सहित पल्मोनरी विकारों में उपयोग किया जाता रहा है। इसका उपयोग घावों को ठीक करने, अल्सर को ठीक करने, मासिक धर्म के रक्तस्राव को कम करने, पेचिश से राहत देने और उल्टी को रोकने के लिए भी किया जाता था। फिर भी इसका उपयोग करने से पहले आपको अपने हर्बलिस्ट की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

यह एक लोबेरिया पल्मोनेरिया पौधा है जो लिचेन की एक प्रजाति से संबंधित है। यह काई छोटे होते हैं और बहुत ही धीमी गति से विकसित होते हैं। इनका आकार फेफड़ों के आकार से काफी मिलता-जुलता है। शुरू में इनका रंग गुलाबी होता है जो बाद में नीले रंग का हो जाता है।

यह भी पढ़ेंः Lime : हरा नींबू क्या है?

लंगमॉस का उपयोग किसलिए किया जाता है?

इन काई का इस्तेमाल निम्न स्थितियों में किया जा सकता है, जिसमें शामिल हैंः

  • घावों को ठीक करने के लिए
  • अल्सर को ठीक करने के लिए
  • मासिक धर्म के रक्तस्राव को कम करने के लिए
  • पेचिश से राहत देने के लिए
  • उल्टी को रोकने के लिए
  • सांस लेने में परेशानी होने की स्थिति का उपचार करने के लिए
  • अस्थमा और कफ से राहत पाने के लिए
  • सूजन दूर करने के लिए
  • इंफेक्शन दूर करने के लिए
  • शरीर से बहुत ज्यादा पसीना आने की समस्या के उपचार के लिए

लंगमॉस कैसे काम करता है?

अलग-अलग स्थितियों के उपचार के लिए इस काई के इस्तेमाल करने की प्रक्रिया भी अलग-अलग हो सकती है, जैसेः

  • सांस लेने में दिकक्त होने, बलगम की समस्या होने या खांसी का उपचार करने के लिए इस काई को शहद के साथ मिलाकर उसका काढ़ा बनाकर पीने से इन समस्याओं से राहत मिल सकती है। ऐसा करने से यह फेफड़ों को तुरंत आराम पहंचा सकता है।
  • लंगमॉस को एयरटाइट चीज में रखके ठंडी जगह पर रखना चाहिए। ठंडी जगह में रखने से इसके गुण अधिक समय तक के लिए रह सकते हैं।
  • इस काई के इस्तेमाल से पूरे पाचन तंत्र में पाचन एंजाइमों के उत्पादन और स्राव को बढ़ावा दिया जा सकता है और भूख बढ़ाने में भी इस काई की मदद ली जा सकती है।
  • यह काई फेफड़े, अल्सर और जठरांत्र संबंधी समस्याओं के लिए भी उपयोगी माना जा सकता है।
  • साथ ही बच्चों के इलाज के लिए एक अत्यधिक उपयुक्त जड़ी बूटी है। इसका इस्तेमाल छोटे बच्चों और बड़े बच्चे में खांसी की समस्या को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है। अधिकतर मामलों में इसका कोई साइड इफेक्ट्स नहीं देखा जाता है।
यह भी पढ़ेंः Garlic: लहसुन क्या है?

उपयोग

मेरे लिए लंगमॉस का उपयोग करना कितना सुरक्षित हो सकता है?

  • अगर यह काई सूख जाए तो आप इसकी चाय बनाकर पी सकते हैं। यह आपके लिए एक हर्बल टी के तौर पर भी काम कर सकती है।
  • लंगमॉस की सूखी चाय के प्रोडक्ट भी बाजार में उपलब्ध हैं। जिन्हें आप आसानी से खरीद सकते हैं।
  • इस काई का इस्तेमाल एक औषधि के तौर पर पुराने जमाने से किया जाता रहा है।
  • इससे दवाइयों का निर्माण भी हो रहा है। हालांकि, दवाइयां जांच-परखकर ही बनाई जाती हैं। इसलिए, कुछ मामलों में इसका इस्तेमाल करना जोखिम भरा भी हो सकता है।
  • इस काई की तरह ही आपको कई अन्य प्रकार के काई भी मिल सकती हैं। जो जहरीले पदार्थ युक्त हो सकती हैं। इसलिए सही लंगमॉस की पहचान होना भी बहुत जरूरी है। अगर आप इस काई का इस्तेमाल कर रहें, तो आपने डॉक्टर से एक बार इसकी पहचान जरूर करवाएं।
  • इसके अलावा, किसी भी रूप में इसका इस्तेमाल करने से पहले आपको अपने डॉक्टर की सलाह जरूरी लेना चाहिए।

साइड इफेक्ट्स

लंगमॉस के सेवन से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

लंगमॉस जैसे किसी भी हर्बल का इस्तेमाल अगर उचित और पूरी जानकारी के साथ किया जाए, तो इसका सेवन करना पूरी तरह से सुरक्षित हो सकता है। हालांकि, इसका इस्तेमाल करने के लिए क्या फायदे और साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं इस बात की अभी पूरी जानकारी नहीं है। इसके लिए उचित अध्ययन करने की आवश्यकता है।

किसी भी बीमारी में लंगमॉस का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

प्रेग्नेंट महिलाएं भी ऐसे किसी भी हर्बल का सेवन करने से बचें। अगर गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन करना चाहती हैं, तो इस बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

इसके अलावा ऐसी महिलाएं जो स्तनपान करा रही हैं उन्हें भी इसके सेवन से परहेज करना चाहिए। क्योंकि, मां के दूध के जरिए इसका प्रभाव स्तनपान करने वाले बच्चे पर भी हो सकता है।

बिना अपने डॉक्टर के परामर्श के इसका इस्तेमाल अपने बच्चों को करने के लिए न दें।

यह भी पढ़ेंः Asafoetida: हींग क्या है?

किन खाद्य पदार्थों के साथ मुझे इसका सेवन नहीं करना चाहिए?

इस काई का इस्तेमाल करना पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हो सकता है। यह आपके भोजन, दवाओं और स्वास्थ्य स्थिति के साथ इंट्रैक्शन कर सकता है। इसलिए ऐसे किसी भी जोखिम से बचे रहने के लिए इसका इस्तेमाल सिर्फ अपेन डॉक्टर की सलाह पर ही करें।

डोसेज

यहां प्रदान की गई जानकारी किसी भी मेडिकल परामर्श को नहीं दर्शाता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले आपको अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

लंगमॉस की सामान्य खुराक कितनी मात्रा में लेनी चाहिए?

इसकी खुराक के बारे में कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं हैं। हालांकि व्यक्ति की उम्र, बीमारी और मौजूदा स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार हर किसी के लिए इसके खुराक की मात्रा अलग-अलग निर्धारित की जा सकती है। इसकी खुराक के बारे में अधिक जानकारी के लिए आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

यह भी पढ़ेंः Hazelnut : हेजलनट क्या है?

उपलब्ध

यह काई किन रूपों में उपलब्ध है?

निम्न रूपों में इस काई को प्राप्त किया जा सकता हैः

  • कच्चा लंगमॉस

[mc4wp_form id=”183492″]

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकली सलाह या उपचार की सिफारिश नहीं करता है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो कृपया इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/05/2020 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड