Oregano: ओरिगैनो क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

ओरिगैनो क्या है?

ओरिगैनो एक हर्ब है जिसे हिंदी में अजवायन की पत्ती कहते है। इसका इस्तेमाल सिर्फ इटेलियन डिशेज को बनाने के लिए ही नहीं, बल्कि कई दवाइयों में भी इस्तेमाल किया जाता है। औषधीय गुणों से भरपूर ओरिगैनो हमें कई गंभीर बीमारियों से कवच प्रदान करता है। यूनानी लोग इसका प्रयोग सदियों से कई बीमारियों के इलाज के लिए करते आ रहे हैं।

ओरिगैनो का उपयोग किस लिए किया जाता है?

एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज:

ओरिगैनो ऑयल में कार्वैक्रोल नामक एक आवश्यक तत्व होता है, जिसमें एंटीमाइक्रोबियल प्रोपर्टीज होती हैं। इसका इस्तेमाल इंटेस्टाइनल पैरासाइट, कई तरह की एलर्जी, साइनस में होने वाला दर्द, अर्थराइटिस, स्वाइन फ्लू, कानों में दर्द और थकान दूर करने के लिए किया जाता है।

ओरिगैनो ऑयल को स्किन संबंधित परेशानियां जैसे एक्ने, ऑयली स्किन, रूसी, दाद, सोरायसिस से निजात पाने के लिए भी अच्छा माना जाता है।

एंटी इंफ्लेमेटरी प्रोपर्टीज:

जर्मनी और स्विट्जरलैंड के वैज्ञानिकों ने ओरिगैनो की पत्तियों में कैरोफिलिन की पहचान की, जो ऑस्टियोपोरोसिस और आर्टीरोस्क्लेरोसिस के इलाज में मददगार है।

कैंसर से बचाव:

2013 में प्लस वन(PLoS ONE) में छपे एक जर्नल में बताया गया था कि ओरिगैनो में ऐसे तत्व होते हैं जो स्तन कैंसर को बढ़ने से रोकता है। दरअसल इसमें मौजूद एसेंशियल ऑयल की वजह से होता है। 

इम्यून सिस्टम होता है स्ट्रांग:

ओरिगैनो में मौजूद दो सबसे महत्वपूर्ण तत्व रोसमेरेनिक एसिड (Rosmarinic acid) और थाइमोल (Thymol) अत्यधिक शक्तिशाली होते हैं जो तनाव को कम कर डायट को ठीक करने में मदद करते हैं। आहार बेहतर होने के कारण इम्यून सिस्टम स्ट्रॉन्ग होता है। 

दिल को रखता है सुरक्षित:

इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड कोलेस्ट्रॉल लेवल को बैलेंस रखने में मदद करता है। कोलेस्ट्रॉल लेवल ठीक रहने की वजह से दिल से संबंधित बीमारियों, हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा कम होता है। शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल ठीक रहने से ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक तरह से होता है। बेहतर ब्लड सर्कुलेशन से त्वचा हेल्दी होती है और बालों में ग्रोथ भी होती है।

इसका प्रयोग इन बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है:

कैसे काम करता है ओरिगैनो?

ओरिगैनों में विटामिन ए, सी और ई के साथ जिंग, मैग्निशियम, आयरन, कैल्शियम, कॉपर, पौटेशियम और मैगनीज पाया जाता है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज पाचन तंत्र को मजबूत करने के साथ दिल संबंधित परेशानियों को दूर करते हैं। इसमें कुछ ऐसे कैमिकल्स होते हैं जो खांसी और गले में ऐछन को कम करते हैं। इसके अलावा ये शरीर में मौजूद कुछ बैक्टीरिया, वायरस, फंगस और आंतों के कीड़ों की सफाई करने में मददगार है। 

जर्नल ऑफ फूड एंड बायोकेमिस्ट्री में छपे एक शोध के अनुसार इसमें रोजमिनिक एसिड और थाइमोल होता है जो एंटीऑक्सीडेंट का काम करते हैं और हमारे शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करते हैं। 

और पढ़ें : Barley: जौ क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है ओरिगैनो का उपयोग ?

  • जिन लोगों में लामियाके परिवार (Lamiaceae family) से संबंधित पौधे जैसे बेसिल, लेवेंडर, मिंट से एलर्जी है हो सकता है उन्हें ओरिगेनो भी सूट न करें।
  • जिन लोगों में ब्लीडिंग डिसऑर्डर होता है हो सकता है उन्हें इससे परेशानी हो।
  • डायबीटिज के पेशेंट्स इसका सेवन सावधानीपूर्वक करें, क्योंकि ये शुगर को कम करता है।
  • कोई सर्जरी होने वाली है तो दो हफ्ते पहले इसका सेवन करना बंद कर दें।
  • प्रेग्नेंट और स्तनपान कराने वाली महिलाएं इसका सेवन न करें।

इसका उपयोग सुरक्षित है लेकिन, किसी भी खाद्य पदार्थ या हर्ब के अत्यधिक सेवन से शरीर पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए इसका सेवन भी संतुलित करें और अगर इसके सेवन से कोई शारीरिक परेशानी या एलर्जी होती है, तो इसका सेवन न करें और जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें।

साइड इफेक्ट्स

ओरिगैनो से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

  • वैज्ञानिकों के अनुसार, ओरिगैनो ऑयल को अधिक मात्रा में लेने से आंतरिक प्रणाली को नुकसान पहुंच सकता है। इसमें ज्यादा मात्रा में थाइमोल हाता है, जो हमारे शरीर को बहुत ज्यादा विषाक्त बना देता है। इसलिए ओरिगैनो ऑयल को लेकर सलाह दी जाती है कि इसके इस्तेमाल कम मात्रा में ही करें।
  • ओरिगैनो ऑयल हमारे शरीर में आयरन लेने की प्राकृतिक क्षमता को कम कर सकता है। यह हमारी नियमित अवशोषण प्रक्रिया को बाधित करता है और हमारी कोशिकाओं को खनिज की आवश्यक मात्रा प्राप्त करने से रोकता है।

और पढ़ें : Capsicum : शिमला मिर्च क्या है?

डोजेज

ओरिगैनो को लेने की सही खुराक क्या है ?

  • ओरिगैनो को लेने की क्या मात्रा सही है इसे लेकर कोई शोध नहीं किया गया है, लेकिन इसे ज्यादा मात्रा में न लें। इसके अलावा स्किन पर भी इसे सीमित मात्रा में ही लगाएं। आप इसे पैरों में या नाखूनों में हुए फंगल इंफेक्शन के लिए दिन में दो बार लगा सकते हैं। इसकी एक से दो बूंद काफी है। इससे ज्यादा तेल स्किन पर लगाना आपको नुकसान पहुंचा सकता है।
  • ओरिगैनो सप्लीमेंट की डॉस हर पेशेंट के लिए अलग होती है। ये मरीज की उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। फिलहाल इसकी निर्धारित खुराक को लेकर कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। एक बात का खास ख्याल रखें कि हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए ये सप्लीमेंट को लेने से पहले अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से एक बार जरूर संपर्क करें।

और पढ़ें : Bitter Gourd : करेला क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

यह निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है। जैसे-

  • ऑयल
  • टी
  • टैबलेट

इसका उपयोग कैसे किया जाता है?

इसका उपयोग निम्नलिखित तरह से किया जा सकता है। जैसे-

सलाद- सलाद में ताजे ओरिगैनो के पत्तों को मिलाकर सलाद के स्वाद को बढ़ाया जा सकता है। यह सेहत के लिए भी लाभकारी होता है।

सॉस- अगर आप सॉस खाने के शौकीन हैं तो सूखे ओरिगैनो (ड्रायड ओरिगैनो) को सॉस में मिलाकर खा सकते हैं।

मसाले- इसका प्रयोग रोस्टेड चिकेन, रोस्टेड पनीर या स्प्राउट्स में डालकर सेवन किया जा सकता है।

टॉपिंग- ओरिगैनो को बारीक-बारीक काटकर सूप अन्य खाद्य पदार्थों में डाल कर सेवन किया जा सकता है।

अगर आप ओरिगैनो से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

रेड टी के फायदे जानकर, आप भी जरूर चाहेंगे इसे ट्राई करना

जानिए क्या है रेड टी? रेड टी शरीर के लिए कैसे लाभकारी है? हालांकि कुछ शारीरिक परेशानी और गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

सनस्क्रीन लोशन क्यों है जरूरी?

जानिए सनस्क्रीन लोशन से जुड़ी जानकारी in hindi. सनस्क्रीन लोशन इस्तेमाल से पहले किन तीन बातों का रखें ख्याल?इसके फायदे क्या-क्या हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
ब्यूटी/ ग्रूमिंग, स्वस्थ जीवन अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

प्रेग्नेंसी में सूखा नारियल खाने के फायदे

जानिए प्रेग्नेंसी में सूखा नारियल खाने के फायदे, प्रेग्नेंसी में सूखा नारियल कब खाएं, गर्भावस्था में नारियल खाने के फायदे और नुकसान। Dry coconut health benefits during pregnancy in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कोरोना के डर से बच्चों को कैसे रखें स्ट्रेस फ्री?

जानिए क्या हैं कोरोना के डर से बच्चों को टेंशन फ्री करने के उपाय? किन-किन टिप्स को फॉलो करना है जरूरी? लॉकडाउन के दौरान बच्चे को कैसे रखें इंगेज?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कोविड 19 व्यवस्थापन, कोरोना वायरस अप्रैल 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

नारियल के फायदे

वर्ल्ड कोकोनट डे: जानें नारियल के फायदे, त्वचा से लेकर दिल तक का रखता है ख्याल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ सितम्बर 1, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
यूरिन इन्फेक्शन का आयुर्वेदिक इलाज-urinary tract infection ayurvedic treatment

यूरिन इन्फेक्शन का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानिए दवा और प्रभाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जून 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में मूली का सेवन

प्रेग्नेंसी में मूली का सेवन क्या सुरक्षित है? जानें इसके फायदे और नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
मैक्सिकन स्कैम्नी -Mexican scammony

Mexican Scammony: मैक्सिकन स्कैम्नी क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Bhawana Sharma
प्रकाशित हुआ मई 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें