Buchu: बुचु क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट May 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

बुचु (Buchu) का इस्तेमाल किसलिए होता है?

बुचु एक दक्षिण अफ्रीकी पौधा है। इसकी पत्तियों का इस्तेमाल दवा बनाने के लिए किया जाता है।

निम्नलिखित परिस्थितियों में बुचु का इस्तेमाल किया जाता है:

  • सूजन
  • गुर्दे की समस्या
  • यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन
  • सिस्टाइटिस (Cystitis)
  • मूत्रमार्ग में सूजन
  • प्रोस्टेट ग्लेंड में सूजन
  • यौन जनित रोग (STD)
  • ड्यूरेटिक के तौर पर इस्तेमाल
  • पेट के टॉनिक के तौर पर इस्तेमाल
  • गठिया

बुचु (Buchu) कैसे कार्य करता है?

यह औषधि कैसे कार्य करती है, इस संदर्भ में पर्याप्त शोध उपलब्ध नही हैं। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने हर्बालिस्ट या डॉक्टर से सलाह लें। हालांकि, कुछ मौजूदा शोध बताते हैं कि बुचु में सक्रिय रसायन होते हैं, जो रोगाणुओं (जर्म्स) को मारते हैं और यूरिन फ्लो को बढ़ाते हैं।

यह भी पढ़ें: यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन के घरेलू उपाय जानने के लिए खेलें क्विज

चेतावनी और सावधानियां

बुचु (Buchu) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

निम्नलिखित स्थितियों में इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें:

  • यदि आप प्रेग्नेंट या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं। दोनों ही स्थितियों में सिर्फ डॉक्टर की सलाह पर ही दवा खानी चाहिए।
  • यदि आप अन्य दवाइयां ले रही हैं। इसमें डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुई दवाइयां शामिल हैं, जो मार्केट में बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के खरीद के लिए उपलब्ध हैं।
  • यदि आपको बुचु के किसी पदार्थ से एलर्जी है या अन्य दवा या औषधि से एलर्जी है।
  • यदि आपको कोई बीमारी, डिसऑर्डर या कोई अन्य मेडिकल कंडिशन है।
  • यदि आपको फूड, डाई, प्रिजर्वेटिव्स या जानवरों से अन्य प्रकार की एलर्जी है।

अन्य दवाइयों के मुकाबले आयुर्वेदिक औषधियों के संबंध में रेग्युलेटरी नियम अधिक सख्त नहीं हैं। इनकी सुरक्षा का आंकलन करने के लिए अतिरिक्त अध्ययनों की आवश्यकता है। बुचु का इस्तेमाल करने से पहले इसके खतरों की तुलना इसके फायदों से जरूर की जानी चाहिए। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लें।

यह भी पढ़ें: Allergy Blood Test : एलर्जी ब्लड टेस्ट क्या है?

बुचु (Buchu) कितना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग: यदि आप प्रेग्नेंट हैं तो सामान्य मात्रा से ज्यादा बुचु का सेवन ना करें। प्रेग्नेंसी के दौरान बुचु असुरक्षित है। कई रिपोर्ट्स में बुचु का संबंध मिसकैरिज से पाया गया है। यदि आप शिशु को स्तनपान करा रही हैं तो खाने की मात्रा में बुचु का सेवन करना सुरक्षित हो सकता है, लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन ना करें। हालांकि, ब्रेस्टफीडिंग के दौरान बुचु का सेवन कितना सुरक्षित है इस संबंध में पर्याप्त शोध उपलब्ध नही हैं।

सर्जरी: बुचु ब्लड क्लॉटिंग को स्लो कर सकता है। आपको तय सर्जरी से दो हफ्ता पहले बुचु का सेवन बंद कर देना चाहिए। क्योंकि, सर्जरी में या इसके बाद यह ब्लीडिंग को और बढ़ा सकता है।

साइड इफेक्ट्स

बुचु (Buchu) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

बुचु से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं:

  • पेट और गुर्दों में जलन
  • मासिक धर्म का बढ़ना
  • लिवर प्रॉब्लम- अधिक मात्रा में बुचु का उपयोग लिवर प्रॉब्लम्स का कारण बन सकता है। फिर भले ही हेल्दी लोग ही इसका उपयोग क्यों न करें। इसलिए जिन लोगों को लिवर से संबंधित किसी प्रकार की बीमारी है वे बुचु का उपयोग न करें। अधिक मात्रा में बुचु का उपयाेग लिवर से जुड़ी बीमारियों को और बिगाड़ सकता है।
  • हालांकि, हर व्यक्ति को यह साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं। उपरोक्त दुष्प्रभाव के अलावा भी बुचु के कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप इसके साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

यह भी पढ़ें: पीएमएस (प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम) क्या है? जानें लक्षण और उपचार

इंटरेक्शन

बुचु (Buchu) से मुझे क्या रिएक्शन हो सकते हैं?

बुचु आपकी मौजूदा दवाइयों के साथ रिएक्शन कर सकता है या दवा का कार्य करने का तरीका परिवर्तित हो सकता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर या हर्बलिस्ट से संपर्क करें।

निम्नलिखित परिस्थितियों में बुचु रिएक्शन कर सकता है:

ब्लीडिंग की समस्या: बुचु खून के थक्के बनने की प्रक्रिया (ब्लड क्लॉटिंग) को धीमा कर सकता है। इससे ब्लीडिंग बढ़ सकती है। सैद्धांतिक रूप से बुचु ब्लीडिंग की समस्या को और बदतर कर सकता है।

गुर्दे का संक्रमण: यहां तक कि कुछ लोग गुर्दे के संक्रमण में बुचु का इस्तेमाल करते हैं। वहीं, हेल्थ एक्सपर्ट्स ऐसा ना करने की सलाह देते हैं।

यूरिनरी ट्रैक में सूजन: यदि आपकी यूरिनरी ट्रैक में दर्द और सूजन है तो बुचु का इस्तेमाल ना करें।

निम्नलिखित प्रोडक्ट्स के साथ बुचु रिएक्शन कर सकता है:

बुचु वॉटर पिल या ‘ड्यूरेटिक’ की तरह कार्य कर सकता है। इससे बॉडी की लीथियम से छुटकारा पानी की क्षमता कम हो सकती है। इससे बॉडी में लीथियम की मात्रा बढ़ सकती है और गंभीर साइड इफेक्ट्स बढ़ने की संभावना रहेगी।

ब्लड क्लॉटिंग को धीमा करने वाली दवाइयाें (Anticoagulant / Antiplatelet drugs) के साथ बुचु का उपयोग ब्लड क्लॉटिंग को धीमा कर सकता है। ऐसे में समान प्रभाव वाली दवाइयों के साथ बुचु का सेवन करने से ब्लीडिंग की संभावना और बढ़ जाती है।

ब्लड क्लॉटिंग को धीमा करने वाली दवाइयां निम्नलिखिति हैं:

  • एस्प्रिन (aspirin)
  • क्लोपिडोग्रेल (clopidogrel)
  • प्लेविक्स (Plavix)
  • डाइक्लोफेन (diclofenac)
  • वोल्टारेन, केटाफ्लेम, अन्य (Voltaren, Cataflam, others)
  • ब्रूफेन, (एडविल, मोट्रिन, अन्य) ibuprofen (Advil, Motrin, others)
  • नेप्रोक्सेन (एनाप्रोक्स, नेप्रोसायन, अन्य) (naproxen (Anaprox, Naprosyn, others)
  • डेल्टेपेरिन (फ्रेग्मिन) dalteparin (Fragmin)
  • एनोक्सापेरिन (लोवेनोक्स) enoxaparin (Lovenox)
  • हेपारिन (heparin)
  • वॉरफारिन (कोमाडिन) warfarin (Coumadin)
  • अन्य

यह भी पढ़ें: यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन से बचने के 8 घरेलू उपाय

डोसेज

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं हो सकती। इसका इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें।

बुचु का सामान्य डोज क्या है?

  • परंपरागत रूप से प्रतिदिन 1-2 ग्राम बुचु के पत्तों का सेवन किया जाता रहा है।

हर मरीज के मामले में आयुर्वेदिक औषधियों का डोज अलग हो सकता है। जो डोज आप ले रहे हैं वो आपकी उम्र, हेल्थ और दूसरे अन्य कारकों पर निर्भर करता है। औषधियां हमेशा ही सुरक्षित नहीं होती हैं। बुचु के उपयुक्त डोज के लिए अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें।

बुचु किस रूप में आता है?

यह औषधि निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध हो सकती है:

  • फ्लूड एक्स्ट्रैक्ट (Fluid extract)
  • पाउडर
  • घोल

हमें उम्मीद है कि बुचु हर्ब पर लिखा यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। इस आर्टिकल में हमने इस हर्ब से जुड़ी सभी प्रकार की उपयोगी जानकारी देने की कोशिश की है। अगर आपको यहां बताई गई किसी प्रकार की कोई स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या है तो आप इस हर्ब का उपयोग कर सकते हैं लेकिन याद रखें कि सभी हर्ब हर एक के लिए सुरक्षित नहीं होती। इसलिए बिना डॉक्टर की सलाह के इनका उपयोग परेशानी का सबब बन सकता है। इस हर्ब से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए किसी आयुर्वेदिक एक्सपर्ट या डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या इलाज मुहैया नहीं कराता।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

नर्सिंग मदर्स का परिवार कैसे दे उनका साथ

स्तनपान कराने वाली मां को उसके परिवार से किस तरह सपोर्ट और देखभाल मिलनी चाहिए, इस बारे में बहुत कम बात की जाती है और लोगों को जानकारी भी नहीं होती। आइए, इस वीडियो में इस विषय पर विस्तार से जानें। Family Support for Nursing Mothers

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
बेबी, स्तनपान, पेरेंटिंग August 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

हर्निया का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानिए दवा और प्रभाव

हर्निया का आयुर्वेदिक इलाज कैसे होता है? आयुर्वेदिक इलाज के दौरान किन-किन बातों को ध्यान रखना बेहद जरूरी है। Ayurvedic treatment for Hernia

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

टाइफाइड का आयुर्वेदिक इलाज कैसे करें? जानिए दवा और प्रभाव

टाइफाइड का आयुर्वेदिक इलाज कैसे करें, टाइफाइड का आयुर्वेदिक इलाज इन हिंदी, टाइफाइड के घरेलू उपाय, Ayurvedic Medicine and Treatment for typhoid.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
टायफॉइड बुखार, इंफेक्शस डिजीज June 8, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

डिलिवरी के बाद ब्रेस्ट मिल्क ना होने के कारण क्या हैं?

डिलिवरी के बाद ब्रेस्ट मिल्क नहीं होने का कारण क्या है, डिलिवरी के बाद ब्रेस्ट मिल्क टिप्स इन हिंदी, no breast milk production after delivery.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Recommended for you

इचिनेशिया

हर्बल्स हैं बड़े काम की चीज, जानना चाहते हैं कैसे, तो पढ़ें ये डिटेल्ड आर्टिकल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr snehal singh
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ January 8, 2021 . 11 मिनट में पढ़ें
पाइल्स का आयुर्वेदिक इलाज - Ayurvedic treatment of piles

बवासीर या पाइल्स का क्या है आयुर्वेदिक इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ September 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Quiz: स्तनपान के दौरान कैसा हो महिला का खानपान, जानने के लिए खेलें ये क्विज

के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ August 28, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
स्तनपान है बिल्कुल आसान, मानसिक रूप से ऐसे रहें तैयार

स्तनपान है बिल्कुल आसान, मानसिक रूप से ऐसे रहें तैयार

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ August 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें