प्रेग्नेंट होने से पहले मन में आते हैं कई सवाल, इस तरह से निकाल सकती हैं हल

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

प्रेग्नेंट होने की कोशिश कर रही महिलाओं के लिए दो सप्ताह का समय मुश्किल से गुजरता है। प्रेग्नेंट होने से पहले कई बातें महिलाओं को सोचने पर मजबूर कर देती हैं। कंसीव हुआ या फिर नहीं, इस सोच में पड़कर महिलाएं अक्सर चिंता या निराशा का शिकार हो जाती हैं। दो सप्ताह ऑव्युलेशन और एक्सपेक्टेशन के बीच गुजरते हैं। आपके मन में ” मैं प्रेग्नेंट हूं या फिर नहीं” कि स्थिति बनी रहती है।

अगर आप इस दौरान प्रेग्नेंसी ट्रीटमेंट (आईवीएफ) ले रही हैं तो ये अधिक मुश्किल हो जाता है। प्रेग्नेंट होने से पहले महिलाओं के मन में तरह-तरह के सवाल भी आते हैं। उन महिलाओं के लिए स्थिति और भी बुरी हो जाती है जो काफी समय से मां बनने की कोशिश कर रही हैं। ऐसे में महिलाओं का चिंता हो जाती है कि आखिर अब की बार वो प्रेग्नेंट हो पाएंगी या फिर नहीं। प्रेग्नेंट होने से पहले महिलाओं के मन में क्या सवाल आते हैं और उनको कैसे समस्या का समाधान करना चाहिए, इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए।

फर्टिलिटी ट्रीटमेंट के दौरान मन में कुछ ख्याल आते हैं जैसे,

  • कंसीव न कर पाने का डर
  • कहीं आईवीएफ साइकिल को दोहराना न पड़े
  • क्या मुझे फिर से ट्राई करना चाहिए ?
  • क्या हम दोबारा कोशिश कर सकते हैं ?
  • क्या आर्थिक रूप से हम फिर से तैयार हैं ?

यह भी पढ़ें : 5 तरह के फूड्स की वजह से स्पर्म काउंट हो सकता है लो, बढ़ाने के लिए खाएं ये चीजें

1. प्रेग्नेंट होने से पहले लक्षणों पर न दें ध्यान

हो सकता है कि आपको ये बात अजीब लगे कि हम आखिर प्रेग्नेंसी के बारे में सोचना कैसे बंद कर सकते हैं? लेकिन प्रेग्नेंट होने से पहले आपको ऐसी चिंताएं नहीं करनी चाहिए कि प्रेग्नेंसी के लक्षण क्यों नहीं दिख रहे हैं। हम आपको सिर्फ इतना कह रहे हैं कि परिवर्तन को महसूस करिए लेकिन उसकी चिंता मत कीजिए। हाॅर्मोन दो हफ्ते के अंदर बदलने लगते हैं और आपको कुछ परिवर्तन महसूस हो सकता है। अगर आपको ये लग रहा है कि पिछली बार तो चेंजेस दिखे थे, लेकिन मैं प्रेग्नेंट नहीं थी, तो ऐसा न सोचें। सिर्फ महसूस करने से प्रेग्नेंसी कंफर्म नहीं होगी। चिंता छोड़िए और खुश रहिए।

यह भी पढ़ें : किन मेडिकल कंडिशन्स में पड़ती है आईवीएफ (IVF) की जरूरत?

2. प्रेग्नेंट होने से पहले खुद को व्यस्त रखें

आपने महसूस किया होगा कि आप जिस चीज का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, वो लंबा समय लगा देती है। कभी-कभी तो महसूस होता है कि घड़ी चलना ही बंद हो गई है। दो सप्ताह का इंतजार भी कुछ ऐसा ही लगता है। प्रेग्नेंट होने से पहले आप इस इंतजार में दिन गुजार देती हैं कि कहीं मुझे चक्कर न जाएं या फिर वॉमिटिंग न फील होने लगे। अगर आप ऐसा कर रही हैं तो ये सिर्फ खुद को परेशान करने जैसा ही है। दो सप्ताह के लक्षण जानने के लिए आप अपना सारा ध्यान एक बात पर लगाएं हैं। इन बातों से निकलने के लिए आपको कुछ प्लान करना चाहिए ताकि आपको चिंता न सताएं और आप एंजॉय भी कर सकें।

प्रेग्नेंट होने से पहले तनाव को दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके

  • अपने दोस्तों के साथ डेट शेड्यूल करें।
  • मूवी देखने का प्लान बनाएं।
  • आप उन कामों को भी कर सकती हैं जो व्यस्तता के कारण अब तक नहीं कर पा रही थी।
  • आप इस दौरान कुछ नया सीख भी सकती हैं।
  • अगर कुछ साफ-सफाई का मन कर रहा है तो ये अपनाकर देख लें। आप व्यस्त रहेंगी तो चिंता आपसे दूर हो जाएगी।
  • कोई भी काम अपने समय पर ही होता है। शारिरिक क्रियाएं कुछ समय लेती हैं। अगर गुड न्यूज होगी तो आपको ही पहले पता चलेगी।

यह भी पढ़ें : कैसे स्ट्रेस लेना बन सकता है इनफर्टिलिटी की वजह?

3. प्रेग्नेंट होने से पहले टाइम करें शेड्यूल

हो सकता है कि आपसे इंतजार करते न बन रहा हो तो आप चार्ट या फिर कैलेंडर में डेट नोट कर सकती हैं। आप चाहे तो अलग दिख रहे लक्षणों को नोट भी कर सकती है। जैसे ही दो सप्ताह हो जाएं और आपको कुछ परिवर्तन महसूस हो तो थोड़ा ठहर जाएं। अभी प्रग्नेंसी किट के बारे में सोच सकते हैं, लेकिन अभी थोड़ा इंतजार करना आपके लिए बेहतर होगा। प्रेग्नेंट होने के पहले आप ये काम और कर सकती हैं। एक लिस्ट बना लें उनमें उन कामों या बातों को लिखें जो आप प्रेग्नेंसी कंफर्म होने के तुरंत बाद करेंगी।

4.  प्रेग्नेंट होने से पहले किसी से डिस्कस करें

आप चाहें तो प्रेग्नेंट होने से पहले अपनी फीलिंग किसी और के साथ शेयर कर सकती हैं। साथ ही ऑनलाइन इनफर्टिलिटी फोरम को सपोर्ट कर सकती हैं। अपनों का साथ ऑनलाइन सोशल मीडिया का सहारा आपको दो सप्ताह के लक्षण महसूस करने के दौरान सुकून दे सकता है। आपको इससे रिलेटेड ब्लॉग या फिर पेज मिलेंगे जो आपको अधिक जानकारी दे सकते हैं। आप चाहे तो अपनी बातें शेयर भी कर सकती हैं। प्रेग्नेंट होने से पहले होने वाले तनाव को कम करने में ये काम मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : स्पर्म काउंट किस तरह फर्टिलिटी को करता है प्रभावित?

5. प्रेग्नेंट होने से पहले अपनाएं रिलैक्सेशन टेक्नीक

आप दो सप्ताह के लक्षणों के दौरान रिलैक्सेशन टेक्नीक अपना सकती हैं। प्रेग्नेंट होने से पहले व्यायाम की सहायता से आपको चिंता से छुटकारा मिल सकता है। योग का अभ्यास भी आपको बहुत सुकून देगा। आप चाहे तो प्रजनन क्लीनिक की ओर से जो योग कक्षाएं चलाई जाती हैं, उसमे भाग ले सकती हैं। इस दौरान एक्यूपंचर तनाव को कम करने के लिए बेहतर साबित होगा। अपने मन को खुश रखने के लिए आप दिए गए तरीके अपना सकती हैं:

  • लंबी यात्रा पर जा सकती हैं।
  • पसंदीदा मूवी देखें।
  • मालिश का आनंद लें।
  • अपने पैट के साथ कुछ समय बिताएं।
  • डेकोरेटिव आइटम्स से घर को सजाएं।

यह भी पढ़ें :इन वजहों से कम हो जाता है स्पर्म काउंट, जानिए बढ़ाने का तरीका

 6.  प्रेग्नेंट होने से पहले ये भी करके देख लें

दो सप्ताह के लक्षणों का दिखना या न दिखना तो अलग बात है। कुछ महिलाएं इतना इंतजार भी नहीं कर पाती हैं। अगले पीरियड्स आने का इंतजार या फिर कुछ समय बाद आने का इंतजार करना उनके लिए बहुत मुश्किल होता है। इतनी जल्दबाजी करना सही नहीं रहेगा। अगर आपको पीरियड्स टाइम पर होते हैं तो एक दिन बाद तक का इंतजार आपको करना चाहिए। कई बार लोग जल्दबाजी में टेस्ट कर लेते हैं और सही परिणाम नहीं आते हैं। अगर आप कुछ वेट कर लेंगी तो रिजल्ट के सही आने की संभावना बढ़ जाती है। प्रेग्नेंट होने से पहले इस तरह की तैयारी आपकी मदद कर सकती है।

7.  प्रेग्नेंट होने से पहले परिवार के सदस्यों से करें बात

महिला की शादी के कुछ ही समय बाद घरवाले अक्सर महिला से उम्मीद लगाने लगते हैं कि कब वो बच्चे को जन्म देगी। ये उम्मीद पूरी तरह से गलत है। मां बनना महिला और पुरुष का आपसी निर्णय होता है। बेहतर रहेगा कि महिला को इस बारे में परिवार के सदस्यों के सामने अपनी राय रख देनी चाहिए। ऐसा करने से परिवार की तरफ से किसी भी तरह का प्रेशर नहीं रहेगा। प्रेग्नेंट होने से पहले अगर इन बातों का ध्यान रखा जाए तो तनाव को दूर करने के साथ ही हेल्दी प्रेग्नेंसी प्लान की जा सकती है।

हम उम्मीद करते हैं कि प्रेग्नेंट होने से पहले तनाव को कम कैसे करें विषय पर आधारित ये आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। तो अब आपको प्रेग्नेंट होने से पहले परेशान होने या फिर चिंता करने की जरूरत नहीं है। आप इस दौरान खुद को व्यस्त रखने के लिए कई तरीके अपना सकती हैं। थोड़ा सा धैर्य और समझ आपको कई समस्याओं से बचा सकता है। अगर आप इस दौरान किसी अन्य समस्या का सामना कर रही हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

कैसे स्ट्रेस लेना बन सकता है इनफर्टिलिटी की वजह?

बादाम, अखरोट से काजू तक, गर्भावस्था के दौरान बेदह फायदेमंद हैं ये नट्स

कपल्स में क्यों बढ़ रही है इनफर्टिलिटी की समस्या ?

किन मेडिकल कंडिशन्स में पड़ती है आईवीएफ (IVF) की जरूरत?

Share now :

रिव्यू की तारीख जनवरी 17, 2020 | आखिरी बार संशोधित किया गया जनवरी 17, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे