home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

महिलाओं का दिमाग पुरुषों की तुलना में होता है छोटा, जानें एक्सपर्ट से मानव मस्तिष्क की जटिलताएं

महिलाओं का दिमाग पुरुषों की तुलना में होता है छोटा, जानें एक्सपर्ट से मानव मस्तिष्क की जटिलताएं

मानव मस्तिष्क, शरीर के सबसे कम समझे जाने वाला ऑर्गन है और मानव जाति के लिए यह सबसे जटिल संरचना भी है। ह्यूमन ब्रेन एक व्यक्ति के शरीर के वजन का 2% होता है और वसा और प्रोटीन से बना होता है। इसका वजन 1.2 से 1.4 किलोग्राम के बीच होता है। हालांकि, कुछ वैयक्तिक भिन्नताएँ होती हैं लेकिन आमतौर पर पुरुषों के मस्तिष्क का वजन महिलाओं की तुलना में थोड़ा अधिक होता है। यह केवल एक स्ट्रक्चरल अंतर है और इसमें कोई महत्वपूर्ण फंक्शन अंतर नहीं है। यह तो मानव मस्तिष्क का एक फैक्ट था। आइए, वर्ल्ड ब्रेन डे (World Brain Day) पर जानते हैं एक्सपर्ट से ऐसे ही और मानव मस्तिष्क से जुड़े कुछ तथ्य।

मानव मस्तिष्क में 80 बिलियन से ज्यादा न्यूरॉन्स

मानव मस्तिष्क विभिन्न अंगों से बना होता है, जिसमें सेरेब्रल हेमिस्फेयर, सेरिबैलम और ब्रेन स्टेम होते हैं। सेरेब्रल हेमिस्फेयर, मस्तिष्क का सबसे बड़ा हिस्सा है और इसे बाएं और दाएं हेमिस्फेयर में विभाजित किया गया है। वे कॉरपस कॉलोसम (corpus callosum) द्वारा एक-दूसरे से जुड़े होते हैं जो समन्वित क्रियाओं के लिए आवेग / संकेतों की अनुमति देता है। मस्तिष्क के दो पक्ष समान दिखते हैं, लेकिन उनमें एक अंतर है कि वे इन्फॉर्मेशन कैसे प्रोसेस करते हैं। मस्तिष्क में 80 बिलियन से ज्यादा न्यूरॉन्स होते हैं जो सबसे छोटी फंक्शनल यूनिट्स हैं और प्रत्येक न्यूरॉन के बीच कई कनेक्शन होता है।

और पढ़ें : वर्ल्ड ब्रेन हेल्थ डे : स्वस्थ दिमाग के लिए काफी जरूरी हैं ये 8 पिलर्स

मस्तिष्क शरीर की कुल ऊर्जा का लगभग 20% खपत करता है

मस्तिष्क की जटिल संरचना का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 80 बिलियन न्यूरॉन अन्य न्यूरॉन से जुड़े होते हैं। ये न्यूरॉन मिलकर एक न्यूरल पाथवे या सर्किट और 100 ट्रिलियन कनेक्शन के नेटवर्क सिस्टम बनाते हैं। हालांकि, यह शरीर के वजन का सिर्फ 2% योगदान देता है, मस्तिष्क शरीर की कुल ऊर्जा का लगभग 20% खपत करता है जो अन्य अंग से अधिक है। मस्तिष्क ज्यादातर ऊर्जा के लिए ग्लूकोज पर निर्भर करता है और शरीर के कुल ग्लूकोज का 25% इस्तेमाल करता है। ऊर्जा का उपयोग एक न्यूरॉन से दूसरे में केमिकल और इलेक्ट्रिकल मेसेजेस भेजने के लिए किया जाता है। ह्यूमन ब्रेन के सभी कार्यों जैसे सीखना, सोचना, मेमोरी, स्पीच और अन्य संज्ञानात्मक गतिविधियों के लिए यह एनर्जी आवश्यक होती है। कॉर्टेक्स के सक्रिय क्षेत्र निष्क्रिय क्षेत्रों की तुलना में अधिक ऊर्जा की खपत करते हैं।

मस्तिष्क तब भी सक्रिय होता है जब हम अवेयर नहीं होते हैं। हमारे हृदय की धड़कन को मस्तिष्क से सिग्नलिंग द्वारा नियंत्रित किया जाता है। इसी तरह न्यूरॉन्स फेफड़ों को सिग्नल्स भेजते हैं, जो हमें सोते हुए भी सांस लेने की अनुमति देते हैं। मस्तिष्क का वह भाग जो हृदय और फेफड़ों पर नियंत्रण करता है, वह ब्रेन स्टेम है।

और पढ़ें : जानिए ब्रेन स्ट्रोक के बाद होने वाले शारीरिक और मानसिक बदलाव

ह्यूमन ब्रेन का सबसे बड़ा हिस्सा सेलेब्रल हेमिस्फेयर

मस्तिष्क का सबसे बड़ा हिस्सा सेलेब्रल हेमिस्फेयर बाएं और दाएं भाग में बटा हुआ है। प्रत्येक हेमिस्फेयर को चार मुख्य लोबों में विभाजित किया गया है; फ्रंटल लोब, पराइटल लोब, टेम्पोरल लोब और अक्सिपटल लोब। हर लोब को एक विशिष्ट फंक्शन सौंपा जाता है। हालांकि, ये विशिष्ट कार्य हमारे हाथों, पैरों, मुंह, आंखों और कानों द्वारा शारीरिक रूप से पूरे किए जाते हैं। ऐसे फंक्शन्स को शुरू करने के सिग्नल्स मस्तिष्क में एक विशिष्ट स्थान पर उत्पन्न होते हैं। सामान्य तौर पर, फंक्शन मोटर और सेंसरी होते हैं। मोटर फंक्शन में आपके अंगों और चेहरे की गति शामिल होती है, वहीं सेंसरी कार्यों में संवेदनाओं की धारणा शामिल होती है जैसे स्पर्श, वाइब्रेशन, स्वाद, गंध और विजन आदि।

आपके मस्तिष्क का दाहिना भाग शरीर के आधे बाएं हिस्से की गतिविधियों और संवेदनाओं को नियंत्रित करता है और बाएं मस्तिष्क का भाग शरीर के दाहिने हिस्से के आंदोलनों और उत्तेजना को नियंत्रित करता है। हालांकि, सुनना, देखना और गंध जैसी संवेदनाओं को आंख और चेहरे की दोनों मांसपेशियों द्वारा किया जाता है और मस्तिष्क के दोनों साइड्स से सिग्नल्स द्वारा नियंत्रित किया जाता है। दूसरे शब्दों में अगर किसी के मस्तिष्क के बाईं ओर स्ट्रोक होता है, तो वह व्यक्ति अपने शरीर के आधे दाहिने हिस्से में शारीरिक कमजोरी, गंध, सुनने और देखने की शक्ति को कम कर देगा। इसी तरह दाएं मस्तिष्क को प्रभावित करने वाला स्ट्रोक शरीर के आधे बाएं हिस्से को शारीरिक रूप से प्रभावित करेगा।

और पढ़ें : जानिए ब्रेन स्ट्रोक के बाद होने वाले शारीरिक और मानसिक बदलाव

राइट ब्रेन Vs लेफ्ट ब्रेन

क्या आप राइट हैंडेड या लेफ्ट हैंडेड हैं? लगभग 90% आबादी राइट हैंडेड – इसका मतलब है कि वे लिखने, खाने और गेंद को फेंकने के लिए अपने दाहिने हाथ का उपयोग करना पसंद करते हैं। अन्य 10% आबादी लेफ्ट हैंडेड है। वहीं, कुछ लोग दोनों हाथों का समान रूप से उपयोग कर सकते हैं। मस्तिष्क में ब्रोका एरिया स्पीच के लिए जिम्मेदार होता है और वार्निक एरिया स्पीच की समझ के लिए जिम्मेदार होता है। ये दोनों ब्रेन के साइड सेरेब्रल हेमिस्फेयर में एक-दूसरे के पास स्थित होते हैं। यह एरिया लगभग 95% राइट हैंडेड लोगों के लेफ्ट हेमिस्फेयर में मौजूद होता है लेकिन 70% लेफ्ट हैंडेड लोगों में उनका स्पीच एरिया बाईं ओर ही होता है। मस्तिष्क के भाषण क्षेत्र का महत्व उन लोगों के लिए ज्यादा है जो लेफ्ट ब्रेन सर्जरी करा रहे हैं या जिनको लेफ्ट साइड स्ट्रोक या इंजरी हुई है। ऐसे में इन लोगों में स्पीच और बोले गए शब्दों की समझ को खोने की संभावना उन लोगों की तुलना में अधिक होती है जिनका राइट ब्रेन डोमिनेंट होता है।

और पढ़ें : Brain Infection: मस्तिष्क संक्रमण क्या है?

दोनों हेमिस्फेयर का अलग-अलग फंक्शन

1960 में, नोबेल पुरस्कार विजेता रोजर स्प्रीरी पहली बार इस सिद्धांत के साथ आए थे कि ह्यूमन लेफ्ट ब्रेन या राइट ब्रेन डॉमिनेंट होता है। ऐसा उन्होंने इस तथ्य के आधार पर कहा कि दोनों हेमिस्फेयर अलग-अलग कार्य करते हैं। उनके अनुसार लेफ्ट ब्रेन का संबंध तर्क, गणित, लॉजिक थिंकिंग से था। इसीलिए इसे डिजिटल ब्रेन भी कहा जाता है, और यह पढ़ने, लिखने और कैलकुलेशन जैसी चीजों में बेहतर होता है। राइट ब्रेन कला, कल्पना, इंट्यूशन, क्रिएटिविटी और रिदम से संबंधित था। राइट ब्रेन डॉमिनेंट वाले लोगों को संगीत और भाषा के प्रति अधिक रचनात्मक वाला माना जाता था। वे भावनात्मक होते हैं और उनके निर्णय लेने से यह पता लगाया जा सकता है कि वे तथ्यों और आंकड़ों के आधार पर किसी विशेष स्थिति के बारे में कैसा महसूस करते हैं। जबकि, ऐसे लोग ज्यादा सेंसिटिव और इम्पल्सिव भी हो सकते हैं। राइट ब्रेन वाले व्यक्तियों के विपरीत, लेफ्ट ब्रेन वाले व्यक्ति तार्किक होते हैं और भावनात्मक प्रतिक्रिया पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय डेटा और आंकड़ों का उपयोग करते हुए एक समस्या को हल करते हैं।

और पढ़ें : इस दिमागी बीमारी से बचने में मदद करता है नींद का ये चरण (रेम स्लीप)

दोनों हिस्सों के इनपुट जरूरी

पेरी के एक्सपेरिमेंट्स लगभग 60 साल पहले किए गए थे। हालांकि, हम जानते हैं कि मस्तिष्क का प्रत्येक हिस्सा एक विशिष्ट कार्य करता है, लेकिन अभी तक यह साबित करने के लिए कोई ऑब्जेक्टिव एविडेंस नहीं है कि डॉमिनेंट हैंड की तरह ही डॉमिनेंट ब्रेन भी होता है। 1000 से अधिक व्यक्तियों पर किए गए एक प्रयोग में मस्तिष्क का एमआरआई यह जांचने के लिए किया गया था कि क्या मस्तिष्क के एक तरफ के नेटवर्क दूसरी तरफ की तुलना में मजबूत होते हैं। हालांकि, कोई कन्क्लूसिव एविडेंस नहीं मिला था। ह्यूमन ब्रेन के दोनों हिस्से अलग-अलग कार्य करते हैं। जब कोई रचनात्मक या तार्किक कार्य करता है, तो किसी कार्य को करने के लिए दोनों हिस्सों के इनपुट जरूरी होते हैं। लेफ्ट ब्रेन को लैंग्वेज इनपुट मिलते हैं, लेकिन कॉन्टेक्स्ट, टोन और इमोशन को समझने के लिए राइट ब्रेन की आवश्यकता होती है। इसी तरह से लेफ्ट ब्रेन मैथमेटिकल प्रॉब्लम को सॉल्व करते हैं, लेकिन अनुमानों की तुलना और मूल्यांकन में मदद करने के लिए राइट ब्रेन की आवश्यकता होती है। सीटी स्कैन या एमआरआई स्कैन पर गणितज्ञ या कलाकार के मस्तिष्क के बीच अंतर बताना असंभव है। यहां तक ​​कि अगर आपने एक कलाकार और गणितज्ञों के मस्तिष्क पर एक ऑटोप्सी की है, तो मस्तिष्क की संरचना में कोई स्पष्ट अंतर दिखने की संभावना नहीं है।

मानव मस्तिष्क की कॉम्पलेक्सिटी

विज्ञान और कला दोनों के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले लोगों के उदाहरणों से डॉमिनेंट ब्रेन साइड का कॉन्सेप्ट और जटिल हो जाता है। लियोनार्डो दा विंची एक गणितज्ञ, एक वैज्ञानिक और एक महान कलाकार थे जिनकी कला के काम में मोनालिसा (इतिहास की सबसे प्रसिद्ध कलाकृति) भी शामिल है। इसी तरह हाल के इतिहास में, भारतीय वैज्ञानिक होमी भाभा जहाँगीर, भारत के न्यूक्लिअर प्रोग्राम के जनक भी एक महान कलाकार थे। उनकी कला कृतियों को लंदन के प्रदर्शनियों और टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च में जगह मिली। वर्तमान समय में महान बॉलीवुड संगीतकार शंकर महादेवन भी एक कंप्यूटर विज्ञान स्नातक हैं। सुशांत सिंह राजपूत जो एक महान अभिनेता थे, फिजिक ओलंपियाड में भी अव्वल थे और एक टॉप कॉलेज में मैकेनिकल इंजीनियरिंग के छात्र थे। ये उदाहरण हमारे डॉमिनेंट ब्रेन साइड के मिथक को दूर करते हैं।

फिर भी यह सच है कि आपके मस्तिष्क के दोनों हिस्से अलग-अलग हैं, और आपके मस्तिष्क के कुछ क्षेत्रों में विशिष्टताएँ हैं। इसलिए, यदि आप स्वयं को एक रचनात्मक या संख्यावादी व्यक्ति मानते हैं, तो संभवतः इस बात को मस्तिष्क के एक हिस्से से जोड़ना गलत है क्योंकि हम वास्तव में यह नहीं जानते हैं कि इंडिविजुअल पर्सनैलिटीज क्या निर्धारित करते हैं। वैज्ञानिक रूप से यह स्पष्ट नहीं है कि मस्तिष्क का कौन सा हिस्सा डॉमिनेट करता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
डॉ. सुनीत मेदिरत्ता (Dr. Sunit Mediratta) के द्वारा मेडिकल समीक्षा
डॉ. सुनीत मेदिरत्ता (Dr. Sunit Mediratta) द्वारा लिखित
अपडेटेड 22/07/2020
x