home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

बेबी के लिए मशरूम सुरक्षित होता है या नहीं?

बेबी के लिए मशरूम सुरक्षित होता है या नहीं?

छह माह की उम्र तक बच्चा सिर्फ मां दूध पीता है। उसके बाद पेरेंट्स बच्चे के खानपान को लेकर चिंतित होने लगते हैं। छह माह की उम्र के बाद बच्चे को कौन-से सॉलिड फूड्स दिए जा सकते हैं या फिर क्या देने से बच्चे की अच्छी ग्रोथ होगी आदि प्रश्न पेरेंट्स के मन में हमेशा आते रहते हैं। ज्यादातर घरों में छह माह से लेकर एक साल तक की आयु तक बच्चे को दूध के साथ ही दाल का पानी, चावल की माड़, केला आदि बच्चे को दिया जाता है। कुछ फूड ऐसे होते हैं, जिनको लेकर पेरेंट्स के मन में शंका बनी रहती है कि कहीं वो बच्चे को नुकसान न कर जाएं। उन्हीं में से एक है मशरूम। मशरूम वैसे तो सेहत के लिए फायदेमंद होता है लेकिन एक साल तक के बच्चे को इसे दिया जाना सुरक्षित है या नहीं, ये प्रश्न पेरेंट्स को परेशान कर सकता है। बेबी के लिए मशरूम (Mushrooms) सुरक्षित होता है या नहीं, ये बात आपको जरूर जाननी चाहिए। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताएंगे कि बेबी के लिए मशरूम सुरक्षित होता है या फिर नहीं।

और पढ़ें: बच्चों के लिए विटामिन्स की जरूरत और सप्लीमेंटस के बारे में जानिए जरूरी बातें

बेबी के लिए मशरूम (Mushrooms) सुरक्षित है या फिर नहीं?

बेबी के लिए मशरूम (Mushrooms) सुरक्षित है या फिर नहीं, इससे पहले आपको मशरूम के बारे में अहम बातें जानना बहुत जरूरी है। मशरूम कोई सब्जी नहीं होती है बल्कि ये फंगस यानी कवक होता है। मशरूम ऑर्गोनिक तत्वों को खाकर बढ़ता है और किसी भी नमी वाले स्थान में उग सकता है। मशरूम की एक नहीं बल्कि हजारों प्रजातियां होती है। इनमें से कुछ ही प्रजातियां होती हैं, जिन्हें खाया जा सकता है। बाकी प्रजातियां खाने लायक नहीं होती है और शरीर को नुकसान पहुंचाने का काम करती हैं। अगर आप मशरूम किसी ग्रोसरी या फिर फार्मर मार्केट से ले रहे हैं, तो आपको घबराने की जरूरत नहीं, क्योंकि ये सुरक्षित और खाने योग्य होती हैं। अगर आप बेबी को मशरूम खिलाना चाहती हैं, तो आपको बहुत सावधानी रखने की जरूरत हैं। मशरूम में बहुत से पोषक तत्व पाएं जाते हैं। मशरूम में भरपूर मात्रा में फाइबर, सेलेनियम, विटामिन सी, विटामिन डी, डायटरी फाइबर, प्रोटीन, मिनिरल्स आदि पाए जाते हैं। मशरूम में बायोएक्टिव कांपाउड जैसे कि पॉलीसैकेराइड्स, लो मॉलिक्यूल वेट प्रोटीन आदि पाए जाते हैं। इसमें फैट बहुत कम मात्रा में पाया जाता है और साथ ही ये कोलेस्ट्रॉल फ्री होता है। आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि कुछ मशरूम में केले से ज्यादा पोटैशियम पाया जाता है। जानिए बेबी को मशरूम खिलाते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

और पढ़ें: बच्चों में आयरन की कमी को पूरा करने के लिए 10 बेस्ट फूड

बेबी को मशरूम खिलाते समय रखें इन बातों का ध्यान

जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि आप मार्केट या ग्रोसरी से मिलने वाले मशरूम का इस्तेमाल खाने में कर सकती हैं क्योंकि वो पूरी तरह से सुरक्षित होते हैं। आप अपने बेबी को भी मशरूम खिला सकते हैं लेकिन छह माह की आयु के बाद ही उसे मशरूम अच्छी तरह से पका कर खिलाएं। कच्चा मशरूम खिलाने की भूल न करें। आपको बच्चे को मशरूम देने से पहले एक बार बच्चों के डॉक्टर (pediatricians) से भी सलाह जरूर कर लेनी चाहिए। आपको सबसे पहले मशरूम को साफ और ठंडे पानी से मशरूम को धो लेना चाहिए। आप चाहें तो मशरूम को धोने के बाद कुछ समय के लिए पानी में उबाल भी सकते हैं। अच्छी तरह से पकाने के बाद मशरूम को हल्का सा पीसकर ही बच्चे को खाने को दें। दांत न होने के कारण बेबी को मशरूम खाने में दिक्कत हो सकती है। एक साल तक बच्चे के कुछ दांत आ जाते हैं, ऐसे में बच्चों को मशरूम को चबाने में बिल्कुल भी दिक्कत नहीं होगी। बेहतर होगा कि आप बेबी को 10 से 12 माह के बाद ही मशरूम खिलाएं।

बेबी के लिए तैयार करें स्वादिष्ट मशरूम (Mushrooms) रेसिपी

मशरूम में मेन डिश, साइड डिश (Side dish) या फिर किसी भी डिश में एड कर सकते हैं। इसे ग्रिल करके, रोस्ट करके या फिर पका कर खाया जा सकता है। बड़ों के लिए भले ही मशरूम की बहुत सी रेसिपी तैयार की जा सकती हो लेकिन बच्चों को तो कुछ खास ही चाहिए होता है। जानिए कैसे बेबी के लिए मशरूम की स्वादिष्ट डिश (Delicious dish) बनाई जा सकती है।

मक्खन या जैतून का तेल यानी ऑलिव ऑयल (Olive oil) में थोड़ा गार्लिक, मशरूम और नमक डालकर धीमी आंच में कुछ समय के लिए पकाएं। जब मशरूम अच्छी तरह से पक जाए तो उसे पटैटो या फिर हरी सब्जियों के साथ मिलाकर बेबी को खाने के लिए दिया जा सकता है। बेबी आलू बड़े चाव से खाते हैं इसलिए उन्हें मशरूम को खाने में भी दिक्कत नहीं होगी।

राइस, मटर और मशरूम को मिलाकर भी आप बच्चे के लिए स्वादिष्ट डिश तैयार कर सकती हैं। आप चाहे तो मशरूम को बेबी के फेवरेट फूड में भी मिक्स कर सकती हैं। मशरूम आसानी से किसी भी डिश में मिक्स किया जा सकता है। इसका फ्लेवर भी ऐसा होता है कि बच्चों को ये खूब पसंद आता है। बच्चों को मशरूम सूप भी खूब भाता है। अब तो आप समझ ही गए होंगे कि किस तरह से मशरूम को बेबी के खाने में एड किया जा सकता है। अगर बच्चे को मशरूम की रेसिपी पसंद नहीं आ रही है, तो बेहतर होगा कि उसे जबरदस्ती न खिलाएं। आप चाहे तो कुछ दिनों बाद नई रेसिपी ट्राई कर सकते हैं। आप एक साल के बच्चे को मशरूम सूप दे सकते हैं और उससे अधिक उम्र के बच्चे को आप मशरूम की रेसिपी बनाकर खिला सकते हैं। दांत ठीक से न आ पाने के कारण बेबी को मशरूम की सॉलिड डिश खाने में दिक्कत हो सकती है। बेबी को समूचा मशरूम खिलाने की भूल न करें।

और पढ़ें: क्या छोटे बच्चों के लिए फायदेमंद होता है बादाम का दूध?

मशरूम एक फायदे अनेक

  • मशरूम में पर्याप्त मात्रा में आयरन (iron) पाया जाता है, जो नई बॉडी सेल्स के फॉर्मेशन में मदद करता है। बच्चों में आयरन की कमी को दूर करने के लिए मशरूम अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।
  • मशरूम इम्यून सिस्टम को भी मजबूत बनाता है। ग्रोइंड किड्स के लिए स्ट्रॉन्ग इम्यून सिस्टम बहुत जरूरी होता है ताकि बीमारियों से लड़ने में शरीर को समस्या न हो।
  • मशरूम में एंटीऑक्सीडेंट की पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। एंटीऑक्सीडेंट स्किन हेल्थ को मेंटेन करने का भी काम करते हैं।
  • मजबूत बोंस के लिए कैल्शियम बहुत जरूरी होता है। मशरूम में भी कैल्शियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है। कैल्शियम से आयरन का अवशोषण भी होता है।
  • मशरूम की थोड़ी सी मात्रा देने से बच्चों का पेट तुरंत भर जाता है। मशरूम मेटाबॉलिज्म रेट को बढ़ाने का काम करता है।

मशरूम खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान

  • मशरूम खरीदते समय वाइल्ड मशरूम का चयन भूल कर भी न करें। आप लेबल चेक करके ही मशरूम खरीदें।
  • ताजे मशरूम का चुनाव करें और मशरूम के रंग और उसकी बनावट को भी जांचे।
  • मशरूम को बनाने से पहले उसे पानी से अच्छी तह से धुल लें। आप चाहे तो मशरूम को पानी में दस मिनट के लिए भिगो कर भी रख सकते हैं।
  • अगर आपको मशरूम में कोई भी डैमेज पार्ट दिखे, तो उसे हटा जरूर दें।
  • आप मशरूम को धोने के बाद भाप में पकाकर तक डिश तैयार कर सकते हैं।
  • मशरूम को फ्रिश में कई दिनों तक रखने के बजाय उसे ताजा ही बनाएं। आप चाहे तो दो से तीन दिनों तक पेपर बैग में रैप कर फ्रिज में रख सकते हैं।

और पढ़ें: शिशुओं के लिए कॉर्नफ्लेक्स का उपयोग सही या गलत?

बच्चों को छह माह के बाद क्या खिलाना चाहिए या फिर क्या नहीं, बेहतर होगा कि आप इस बारे में बच्चों के डॉक्टर से जरूर पूछ लें। कुछ लोगों को मशरूम से एलर्जी होती है। हो सकता है कि आपके बच्चे को भी मशरूम से एलर्जी है। अगर मशरूम खिलाने के बाद बच्चा असहज महसूस करता हो या फिर उसे वॉमिटिंग होती है, तो उसे मशरूम बिल्कुल न खिलाएं। आप इस बारे में डॉक्टर से जानकारी ले सकते हैं। हमें उम्मीद है कि आपको बेबी के लिए मशरूम के फायदे से संबंधित ये आर्टिकल पसंद आया होगा। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

How to Distinguish Edible from Toxic Mushrooms mastergardeners.org/how-distinguish-edible-toxic-mushrooms Accessed on 10/2/2021

Mushroom allergy. ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/3278649 Accessed on 10/2/2021

Nutrient data on mushrooms updated ars.usda.gov/is/pr/2006/060818.htm Accessed on 10/2/2021

Mushrooms extension.usu.edu/files/publications/publication/FN_Food$ense_2011-17pr.pdf Accessed on 10/2/2021

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/02/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x