home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Nursing Pillows: नर्सिंग पिलो का इस्तेमाल आखिर क्या पहुंचाता है फायदा?

Nursing Pillows: नर्सिंग पिलो का इस्तेमाल आखिर क्या पहुंचाता है फायदा?

बच्चे के जन्म के बाद मां के लिए सबसे बड़ा चैलेंज होता है उसे ब्रेस्टफीडिंग कराना। अक्सर बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग कराते समय कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अगर मां बच्चे को पहली बार दूध पिला रही है, तो ऐसे में ये समझ नहीं आता है कि बच्चा किस पुजिशन में आरामदायक महसूस करेगा। ऐसे में नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) अहम भूमिका निभाती हैं। बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग कराते समय उसकी पुजीशन सही होना बहुत जरूरी होता है। अगर पुजीशन सही ना हो, तो बच्चा सही से दूध नहीं पी पाता है या फिर दिक्कत महसूस करता है। ऐसे में नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) की मदद लेना बहुत जरूरी होता है। जहां एक और बच्चा सही पुजीशन में लेट जाता है, वहीं दूसरी ओर मां को भी बच्चों को पकड़ने में आसानी होती है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए नर्सिंग पिलो के बारे में अधिक जानकारी।

और पढ़ें: Brewer yeast for breastfeeding: ब्रेस्टफीडिंग के लिए ब्रेवर यीस्ट लेने से क्या पहुंचता है फायदा?

नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) क्या होती है?

ब्रेस्टफीडिंग मां और बच्चे के बीच भी बेहतर बॉन्डिंग बनाने का काम करती है। अगर आप नर्सिंग पिलो का इस्तेमाल ब्रेस्टफीडिंग के दौरान करते हैं, तो इससे आपको सपोर्ट मिलता है। आपको किस तरह की नर्सिंग पिलो का इस्तेमाल करना चाहिए, इस बारे में आपको एक्सपर्ट या डॉक्टर से राय जरूर लेनी चाहिए। नर्सिंग पिलो घरेलू तकिया या आम तकिया की तरह नहीं होती है। आम तकिया बहुत नरम होती हैं, जिस पर सिर या बच्चे का शरीर आसानी से नीचे की तरफ धस जाता है लेकिन नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) ऐसी नहीं होती है। यह सेमी सर्कल या फिर अर्ध गोलाकार होती है, जो आप आसानी से अपने पैरों के ऊपर रख सकते हैं। आप उतने ही स्थान में बच्चे को लिटा सकते हैं। ऐसा करने से दूध पिलाने वाली मां को थकावट महसूस नहीं होती है। आपने देखा होगा कि आमतौर पर जो महिलाएं नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) का इस्तेमाल नहीं करती हैं, उनके लिए स्तनपान कराना कितना थकावट भरा काम होता है। अगर ऐसे में नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) का इस्तेमाल किया जाता है, तो यह वाकई बच्चे के साथ साथ मां के लिए भी सुविधाजनक होता है।

और पढ़ें: ब्रेस्टफीडिंग के दौरान निप्पल पर ब्लिस्टर की समस्या क्यों होती है?

नर्सिंग पिलो का इस्तेमाल कैसे करते हैं?

फीडिंग पिलो या फिर नर्सिंग पिलो का इस्तेमाल सपोर्ट के लिए किया जाता है। अगर बच्चा बॉटल से दूध पी रहा है, तो ऐसे में भी नर्सिंग पिलो का इस्तेमाल किया जा सकता है। ब्रेस्टफीडिंग के दौरान डिफरेंट नर्सिंग पुजिशन अपनाई जाती हैं। नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) का इस्तेमाल करते समय ये बात ध्यान रखें कि आपको इसे अपने हिसाब से अजेस्ट करना पड़ेगा। हो सकता है कि आप जब इसका इस्तेमाल कर रहे हो, तो आपको अजेस्ट करने में थोड़ा समय लगे। आपको नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) पिलो को अपने करीब ही रखना होगा, ताकि बच्चा स्तन के पास रहे और बच्चे का मुंह और निप्पल समतल रह सके। ऐसा करने से बच्चा आसानी से दूध पी लेता है।

अगर आप नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) को एक बार सही से अपने पास रख लेते हैं, तो आपकी कोहनी भी आसानी से अजेस्ट कर लेती है। ऐसा न समझे कि नर्सिंग पिलो का इस्तेमाल केवस बच्चों को दूध पिलाने के दौरान ही किया जाता है। अगर आप नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) प्रेग्नेंसी के दौरान खरीद लेती हैं, तो ये आपके सोने के दौरान सपोर्ट काम भी करती है। महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान लेटने पर पेट में खिचांव महसूस होता है, इस कारण से सोने में दिक्कत होती है। अगर ऐसे में पैरों को पिलो का सपोर्ट मिल जाए, तो शरीर में खिचांव महसूस नहीं होता है। आप इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से भी परामर्श कर सकते हैं।

और पढ़ें: क्या ब्रेस्टफीडिंग में मेलाटोनिन का इस्तेमाल सेफ है?

क्या नर्सिंग पिलो सबके लिए है परफेक्ट?

शिशु को सही से दूध पिलाने की लिए तकिए का सही ऊंचाई का होना बहुत जरूरी है। नर्सिंग पिलो इस तरह से डिजाइन की जाती है इसे साइज के अकॉर्डिंग एडजस्ट करना बहुत आसान हो जाता है। मां को इस पिलो का इस्तेमाल करते समय सीधे बैठना चाहिए और बच्चे को झुकाना नहीं चाहिए। इस तकिए में एक नहीं बल्कि तीन लेयर मौजूद होती हैं ताकि मां के साथ ही बच्चा सहज महसूस कर सके।

जब सी-सेक्शन के बाद स्तनपान या ब्रेस्टफीडिंग कराने की बात आती है, तो मां को अधिक सावधानी रखने की जरूरत होती है। अगर ध्यान न दिया जाए, तो इंसिजन वाली जगह में जलन हो सकती है। मां के झुकने या बच्चे को उठाने के बजाय, तकिए को अजेस्ट करना बहुत जरूरी होता है। तकिए को अजस्ट करने के लिए फ्लिप भी किया जा सकता है। अगर आप ट्रेवल कर रहे हैं, तो इसे आसानी से एडजस्ट भी कर सकते हैं। यानी की इसे आसानी से पैक भी किया जा सकता है।

और पढ़ें: ब्रेस्टफीडिंग में विटामिन ए सप्लिमेंट्स लेने से पहले जान लें ये जरूरी बातें

क्या नर्सिंग पिलो को किया जा सकता है साफ?

अन्य पिलो की तरह इस पिलो में भी कवर होता है। जिसे साफ किया जा सकता है। इसमें स्लिप कवर होता है, जिसे गंदा होने पर साफ किया जा सकता है क्योंकि यह वॉसेबल होता है। आप जब भी नर्सिंग पिलो खरीदें, एक बार इंस्ट्रक्शन को जरूर पढ़ लें। नर्सिंग पिलो में दिए गए इंस्ट्रक्शन अलग हो सकते हैं। आप अपनी पसंद के अनुसार इनका चयन कर सकते हैं।

विभिन्न प्रकार की होती हैं नर्सिंग पिलो!

मार्केट में विभिन्न प्रकार के नर्सिंग पिलो आते हैं। इनमें ट्विन्स के लिए नर्सिंग पिलो, फुटबाल होल्ड ( football hold) के लिए नर्सिंग पिलो, सी-सेक्शन से बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं के लिए नर्सिंग पिलो, बेस्ट एडजेस्टेबल नर्सिंग पिलो, लार्ज ब्रेस्ट के लिए नर्सिंग पिलो, बेस्ट ओवरऑल पिलो आदि का चयन कर सकते हैं। आप पहले इस बात पर ध्यान जरूर दें कि आप बच्चे को किस तरह से ब्रेस्टफीडिंग कराना चाहते हैं, इसके बाद कुछ अन्य बातों पर ध्यान देने के बाद नर्सिंग पिलो का चयन करें। अगर आपको फिर भी समझने में परेशानी आ रही हो, तो बेहतर होगा कि आप इस बारे में डॉक्टर से बात जरूर करें।

और पढ़ें: ब्रेस्टफीडिंग में विटामिन सी सप्लिमेंट्स के फायदे और नुकसान जानने के लिए करें बस एक क्लिक!

इस आर्टिकल में हमने आपको नर्सिंग पिलो (Nursing Pillows) के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड