अपने 32 महीने के बच्चे की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट August 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

विकास और व्यवहार

32 महीने के बच्चे गतिविधि कैसी होनी चाहिए?

32 महीने के बच्चे या यूं कहें की अब आपका लाडला तीन साल का होने जा रहा है और उसका नाटकीय खेल बढ़ता जा रहा है। अब वह अपनी पीठ पर तौलिया बांधकर कभी-कभी सुपरहीरो बनता है। खेलते समय आपका बच्चा अपने रोमांचक कारनामों के बारे में आपको बता सकता है। अब वह परिवार के सदस्यों का नाम लेना शुरू कर देता है। अब एक-एक कर 32 महीने के बच्चे की अलग-अलग तरह की गतिविधि भी शुरू हो जाती है और आपको उसके हरएक एक्टिविटी का ध्यान भी रखना शुरू हो जाता है।

और पढ़ें: बच्चों की गट हेल्थ के लिए आजमाएं ये सुपर फूड्स

32 महीने के बच्चे को अब किन चीजों के लिए तैयार करना चाहिए ?

आप कविताओं के जरिए अपने बच्चे की भाषा का विकास कर सकते हैं। इलिटरेशन (अनुप्रास), वर्ड प्ले और राइम ट्यून (कविता की धुन) के जरिए बच्चे शब्द और शब्दावली के बारीक अंतर को समझते हैं। उनकी सुनने की क्षमता और रिदम बढ़ता है, जो महत्वपूर्ण प्री-रीडिंग स्किल है। कविता में बनाए गए शब्द, चित्र बच्चों के लिए आकर्षक और परिचित बन जाते हैं। कम से कम उन्हें कविता पढ़ने और गाने से बच्चे को पता चलता है कि शब्द कितने मजेदार हो सकते हैं।

रंगमंच (प्रॉप्स) की सामग्री बच्चे की इमैजिनेशन बिल्डिंग गेम्स में मदद करती हैं लेकिन, एक दो साल का बच्चा शायद इसे समझ न पाए। कभी बच्चा पत्ते को प्लेट की तरह खेल में उपयोग करता है। वह एक लकड़ी को जादू की छड़ी बताकर खेल खेलता है। इसी तरह की एक्टिविटीज बच्चा करना शुरू कर देता है।यह बच्चे की क्रिएटिविटी को भी दिखाता है। बच्चे की इस तरह की क्रिएटिविटी को देखकर खुश होंगे। आप बच्चे को खेलने के लिए कुछ खिलौने जैसे सिंपल कॉस्ट्यूम (जैसे-अपने पुराने जूते, स्कार्व्स) आदि दें या फिर किचन सेट का खिलौना। इस उम्र में बच्चों को घर के काम करने वाले गेम खेलने में बहुत मजा आता है।

परिकथाएं बच्चों को महत्वपूर्ण अवधारणाएं सिखाती हैं लेकिन, आपने शायद कभी ध्यान नहीं दिया होगा कि जब तक आप बच्चे को पूरी बात नहीं समझाते हैं, वह डरते हैं। कई परिकथाएं बच्चों को डर का सामना करना सिखाती है। कहानियों के जरिए बच्चे को अच्छाई और बुराई की पहचान करना बताते हैं।

और पढ़ें : World Television Day : बच्चे के चिड़चिड़े होने का कारण कहीं TV तो नहीं

डॉक्टर के पास कब जाएं?

32 महीने के बच्चे से जुड़े किन विषयों पर डॉक्टर से बात करनी चाहिए?

यदि आपके बच्चे को कभी खाने से एलर्जी हो जाए, तो दोबारा इस तरह की स्थिति के लिए खुद को तैयार रखें। यदि पहली एलर्जी हल्की है, तो हो सकता है अगली गंभीर हो। डॉक्टर आपको एक्शन प्लान और एलर्जिक रिएक्शन से किस तरह निपटना है, इसके बारे में जरूर सलाह देगा।

डॉक्टर आपको एक एपिनेफ्रिन ऑटो-इंजेक्टर ले जाने की सलाह दे सकते हैं और साथ में इस्तेमाल करने का तरीका भी बताएंगे। यह उपकरण एलर्जिक रिएक्शन को रोकने के लिए एपिनेफ्रीन की सही खुराक ऑटोमैटिकली देता है।

और पढ़ें: पिकी ईटिंग से बचाने के लिए बच्चों को नए फूड टेस्ट कराना है जरूरी

32 महीने के बच्चे के बारे में डॉक्टर को क्या बताएं?

यदि बच्चा आपकी बातों को नजरअंदाज करता है, आपसे नजरे नहीं मिलाता तो इस बारे में डॉक्टर से बात करें। बच्चे की स्थिति पर निर्भर करेगा कि उसे सुनने संबंधी या व्यवहार संबंधी जांच की आवश्यकता है।

और पढ़ें : बच्चे का रूट कैनाल ट्रीटमेंट हो तो ऐसे करें डील

32 महीने के बच्चे की देखभाल के लिए निम्नलिखित टिप्स फॉलो करना चाहिए। जैसे:

  • एक खिलौना स्टेथोस्कोप, थर्मामीटर के साथ एक विशेष “डॉक्टर बैग” साथ लाएं, ताकि आपका बच्चा डॉक्टर, डॉक्टर वाला गेम खेल सके। इतना ही नहीं आपका बच्चा डॉक्टर का किरदार आसानी से निभा सके इसलिए उसे रोगी के तौर पर एक गुड़िया या फिर कोई गुड्डा दें।
  • गेम खेलते वक्त बच्चों से बात करें कि आगे क्या होने वाला है? जैसे हम पहले बड़ी मेज पर जाएंगे, फिर अपना नाम बताएंगे और फिर साइड में किताब पढ़ते हुए अपनी बारी का इंतजार करेंगे। ध्यान रखें इस उम्र में आप जो बच्चों को खेल सिखाएगें वह उसे अपने असल जीवन में लागू करेगा।
  • डॉक्टर के पास प्रशिक्षण के दौरान अपने दो साल के बच्चे को गोद में ही बैठा कर रखें।
  • अपने 32 महीने के बच्चे को सिखाएं कि कभी झूठ नहीं बोलना चाहिए
  • बच्चों से कभी ऐसे वादे मत करें जो असल में पूरे नहीं हो सकते हैं। जैसे आप डॉक्टर के पास जा रहे हैं तो बच्चे से कभी ये मत कहें कि आपको इंजेक्शन नहीं लगेगा, किसी तरह की दवाई नहीं मिलेगी।

32 महीने के बच्चे का विकसित और शिक्षित करने के लिए क्या करें?

  • अगर आपका बच्चा घर में या घर के आसपास किसी चीज को ढूंढने की कोशिश करता है तो उसे ऐसा करने दें।
  • इस वक्त बच्चों की इंद्रियां काफी उत्तेजित होती है। बच्चे का मन मिट्टी, रेत या घर के फर्श पर खेलने का करता है। अगर आपका बच्चा भी ऐसा ही करता है तो उसे ऐसा करने दें।
  • इस उम्र में बच्चों को नई जगहों पर लेकर जाइए। जैसे-मार्केट, पूल, चिड़ियाघर और अन्य जगहों पर साथ घूमाने लेकर जाएं।
  • बच्चे के आसपास हमेशा किताबें रखें, उसे घर के पास किसी लाइब्रेरी में लेकर जाएं। ऐसा करने से आपका बच्चा पढ़ने के लिए प्रेरित होगा और उसे बचपन से ही नई चीजों को ढूंढने की आदत होगी।

इन ऊपर बताई गई छोटी-छोटी बातों को अपने बच्चों को फॉलो करवाएं और उनका सही मार्गदर्शन करें।

क्या उम्मीद करें?

32 महीने के बच्चे के स्वास्थ्य से संबंधित और किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए ?

बच्चे के लिए दोपहर की नींद बहुत जरूरी है यह उसे एनर्जेटिक बनाती है और खुश रखती है। इसलिए बच्चे को नींद से जगाने की गलती न करें। यदि बच्चा सोते समय या उससे पहले चिड़चिड़ करता है तो इसका मतलब है कि उसे दोपहर में और सोने की जरूरत है।

किसी भी भोजन से एलर्जी हो सकती है लेकिन, 90 प्रतिशत एलर्जी का कारण ये खाद्य पदार्थ होते हैं- अंडे, दूध, मूंगफली, गेहूं और ट्री नट्स जैसे अखरोट, ब्राजील नट्स और काजू आदि। मछली जैसे ट्यूना, सामन और कॉड। शेलफिश जैसे लॉबस्टर, झींगा और केकड़ा।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बच्चे के आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए ये टिप्स

बच्चे में आत्मविश्वास कैसे भरें, बच्चे में आत्मविश्वास कैसे विकसित करें, बच्चे को आत्मविश्वासी बनाएं, Child confidence development in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

मॉम के पास जरूर हो ये चाइल्ड इक्विप्मेंट्स

चाइल्ड इक्विप्मेंट्स क्या है, चाइल्ड इक्विप्मेंट्स क्यों जरूरी है, बच्चे के पास क्या चीजें होना बहुत जरूरी हैं, child equipment in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

24 महीने के बच्चे की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

24 महीने के बच्चे की देखभाल है बहुत जरूरी है। टॉड्लर केयर से जुड़ी हर जानकारी के लिए आप सही जगह पर है। पढ़े 24 महीने के बच्चे की देखभाल से जुड़ी हर जानकारी।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Bhardwaj
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare

28 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

जानिए 28 सप्ताह के शिशु की देखभाल करने का तरीका in hindi. पढ़े 28 सप्ताह के शिशु की देखभाल से जुड़ी हर जानकारी।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Bhardwaj
के द्वारा लिखा गया Sushmita Rajpurohit

Recommended for you

बच्चों के साथ सोना-co sleeping with kids

पेरेंट्स का बच्चों के साथ सोना बढाता है उनकी इम्यूनिटी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
प्रकाशित हुआ December 4, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
पॉटी ट्रेनिंग

बच्चे को 3 दिन में पॉटी ट्रेनिंग देने के लिए अपनाएं ये उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ October 7, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
बच्चे को खाना

3 साल के बच्चों का खाना चुनते समय पेरेंट्स रखें इन बातों का ध्यान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ October 5, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
डरावने सपने

जब बच्चे को आएं डरावने सपने तो ऐसे करें हैंडल

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ October 5, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें