क्या डिलिवरी के समय स्टूल (पूप ड्यूरिंग डिलिवरी) पास होना नॉर्मल है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

प्रेग्नेंसी की आखिरी तिमाही के दौरान स्टूल पास करने में समस्या हो सकती है। आपको ऐसा महसूस होगा कि वाशरूम तो जाना है, लेकिन प्रेशर के बावजूद भी स्टूल पास नहीं हो रहा है। अब बात डिलिवरी के समय की करते हैं क्योंकि उस दौरान भी आपको प्रेशर देकर ही बच्चे को पुश करना होता है। डिलिवरी के दौरान स्टूल पास होना (पूप ड्यूरिंग डिलिवरी) आम बात है। डिलिवरी के समय डॉक्टर आपको पुश करने के लिए कहते हैं। पुश करने के दौरान अगर डिलिवरी के समय स्टूल पास हो जाए तो इसे सामान्य ही कहेंगे। आपको इस दौरान यूरिन भी पास हो सकती है। ये शर्म की बात बिलकुल नहीं है। आपका डॉक्टर डिलिवरी के समय स्टूल पास (पूप ड्यूरिंग डिलिवरी) हो जाने की स्थिति को समझता है और इसके लिए कुछ उपाय भी किए जा सकते हैं। “हैलो स्वास्थ्य” के इस आर्टिकल में जानते हैं कि डिलिवरी के समय स्टूल पास करना ठीक है कि नहीं। क्या इससे बचने के कुछ उपाय भी किए जा सकते हैं?

यह भी पढ़ें : नॉर्मल डिलिवरी में मदद कर सकती हैं ये एक्सरसाइज, जानें करने का तरीका

डिलिवरी के समय स्टूल (पूप ड्यूरिंग डिलिवरी) क्यों पास होता है?

ये शारीरिक प्रक्रिया है। आप इसे इस तरह से समझिए कि स्टूल पास करते समय जो मसल्स काम करती हैं, वही मसल्स डिलिवरी के समय पुश करते हुए भी काम करती हैं। लेबर के दौरान आपको एक्सट्रा प्रेशर देने की जरूरत पड़ती है। इस वजह से कोलन और रेक्टम पर ज्यादा प्रेशर पड़ता है। बच्चा बर्थ कैनाल की ओर बढ़ता है तो कोलन और रेक्टम में प्रेशर बढ़ जाता है। आप इस तरह से समझिए कि कोलन एक ट्यूब के समान है, जिसमें टूथपेस्ट भरा है, जब बच्चा मां की बर्थ कैनाल की ओर खिसकता है तो उस ट्यूब में प्रेशर पड़ता है। अब आपको समझ आ गया होगा कि डिलिवरी के समय स्टूल पास होना सामान्य क्रिया है।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में पाइल्स: 8 आसान टिप्स से मिलेगी राहत

क्या डिलिवरी के समय स्टूल पास (पूप ड्यूरिंग डिलिवरी) करने से बचा जा सकता है?

एनीमा

वैसे डिलिवरी के समय स्टूल या यूरिन पास हो जाना एक आम प्रक्रिया है। लेकिन, इस प्रक्रिया से काफी महिलाएं शर्माती हैं। हालांकि, इसमे शर्म करने जैसी कोई बात नहीं होती है। इसके लिए डॉक्टर डिलिवरी से पहले पेट को साफ करने के लिए प्री-लेबर एनीमा (Pre-labor enema) देते हैं। इस दौरान स्टूल पाथ में एक छोटी ट्यूब लगाई जाती है और सांस खींचने को बोला जाता है। तरल पदार्थ एनस के मार्ग से अंदर चला जाता है। आपको कुछ देर बाद एहसास होगा कि आपको स्टूल पास करना है। एक बार वाशरूम से आने के बाद आपको फिर से यही लग सकता है। जब तक पेट पूरी तरह से साफ नहीं हो जाता है, आपको ऐसा ही लगेगा।

यह भी पढ़ें : आसान डिलिवरी के लिए अपनाएं ये 10 उपाय

क्या एपिड्यूरल से बढ़ जाते हैं स्टूल के चांस?

ऐसा जरूरी नहीं है। अगर आपको एपिड्यूरल दिया गया है तो आपको सेंसेशन नहीं लगेगा। अगर आपके रेक्टम में स्टूल है तो ये पुश करने के दौरान बाहर आ सकता है। ऐसा तब भी हो सकता है जब आपका बेबी बर्थ कैनाल से बाहर आ रहा हो। एपिड्यूरल के बाद आपको स्टूल पास करने के दौरान किसी भी तरह का एहसास नहीं होगा।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान डांस करने से होते हैं ये 11 फायदे

डिलिवरी के समय स्टूल पास (पूप ड्यूरिंग डिलिवरी) को लेकर आपके मन में घबराहट है?

अब आपके मन में एक बात तो जरूर आ रही होगी कि डॉक्टर या फिर पार्टनर के सामने अगर पुश के दौरान स्टूल हो जाता है तो मुझे अच्छा नहीं लगेगा या फिर वो लोग क्या सोचेंगे। आप ऐसा बिल्कुल न सोचें क्योंकि ये एक शारीरिक क्रिया है। अगर ऐसा हो भी जाता है तो कोई बात नहीं। डिलिवरी के समय में महिलाओं को असहनीय दर्द होता है, अगर ऐसे में कोई भी समस्या हो जाती है तो डॉक्टर उसे हैंडल कर लेते हैं।

यह भी पढ़ें :डिलिवरी के बाद बॉडी को शेप में लाने के लिए महिलाएं करती हैं ये गलतियां

क्या डिलिवरी के समय स्टूल (पूप ड्यूरिंग डिलिवरी) पास करने से बचा जा सकता है?

प्रसव के दौरान स्टूल न आएं, इसके लिए डॉक्टर कुछ उपाय करते हैं। इसके साथ ही आप भी अगर कुछ बातों पर ध्यान दें तो इससे बच सकती हैं। जैसे-

अर्ली लेबर स्टेज में एनीमा का प्रयोग

अगर आप घर में हैं और लेबर पेन स्टार्ट हो गया है तो यकीनन आप हॉस्पिटल जाएंगी। उस दौरान डॉक्टर चेक करने के बाद आपके पेट को साफ करने के लिए एनीमा देगा। इसे देने के बाद आपको वाशरूम जाने की जरूरत पड़ेगी। जब तक आपका पेट पूरी तरह से साफ नहीं हो जाता है, आपको वाशरूम जाना पड़ सकता है। ऐसा होने के बाद आपको बहुत रिलैक्स फील होगा।

यह भी पढ़ें : डिलिवरी के वक्त होती हैं ऐसी 10 चीजें, जान लें इनके बारे में

स्टूल को न करें अवॉयड

अगर आपको अर्ली लेबर के दौरान ऐसा महसूस हो रहा है कि वाशरूम जाना है, तो जरूर जाएं। संकुचन के कारण स्टूल पास न करने की भूल न करें। आप आराम से वॉशरूम जाएं। आप चाहे तो ये काम हॉस्पिटल में भी कर सकती हैं। आपको ऐसा करने के बाद अच्छा महसूस होगा।

मेडिसिन भी दे सकता है डॉक्टर

अगर आपको डिलिवरी से पहले कब्ज (constipation) की समस्या रह चुकी हैं तो डॉक्टर इस समस्या से निपटने के लिए आपको दवा (medicine) भी दे सकता है। इसे लेने के बाद आपका पेट साफ हो जाएगा।

डिलिवरी से पहले खाने पर दें ध्यान

हो सकता है कि आपको लेबर पेन से पहले भूख लग रही हो या आपका मन कुछ भी खाने का कर रहा हो। डिलिवरी से पहले किइस भी तरह के हैवी मील जैसे मीट, बर्गर या जंक फ़ूड के बारे में सोचना छोड़ दें। आपको ऐसे समय में तरल पदार्थ ही लेना चाहिए। अगर गर्भवती महिला कोई ठोस खाद्य पदार्थ लेती है तो इसे पचने में बहुत समय लगेगा। ऐसी स्थिति में डिलिवरी के समय स्टूल पास करने (पूप ड्यूरिंग डिलिवरी) की संभावना बढ़ सकती है।

यह भी पढ़ें :जानिए क्या है प्रीटर्म डिलिवरी? क्या हैं इसके कारण?

प्रेग्नेंसी के दौरान कब्ज का करें इलाज

अगर आपको प्रेग्नेंसी के दौरान कब्ज है तो डॉक्टर से संपर्क कर इलाज करवाएं। कब्ज के चलते प्रसव के दौरान समस्या हो सकती है क्योंकि डिलिवरी के समय स्टूल ठीक से पास होगा तो आपको प्रसव के समय समस्या नहीं होगी।

डिलिवरी के दौरान स्टूल पास करना एक सामान्य प्रक्रिया है। इसको सोचकर शर्म या संकोच करने की कोई जरूरत नहीं है। फिर भी इसको लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न हो तो एक बार अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श करें। उम्मीद है पूप ड्यूरिंग डिलिवरी पर यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। इससे जुड़ी किसी भी तरह की अन्य जानकारी के लिए आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट के जरिए बता सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और भी पढ़ें :

डिलिवरी के वक्त दिया जाता एपिड्यूरल एनेस्थिसिया, जानें क्या हो सकते हैं इसके साइड इफेक्ट्स?

प्रेग्नेंसी में कैल्शियम की कमी से क्या खतरा हो सकता है?

प्रेग्नेंसी के दौरान गैस से छुटकारा दिलाने वाले 9 घरेलू नुस्खे

लैप्रोस्कोपी के बाद प्रेग्नेंसी की संभावना कितनी बढ़ जाती है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    एक्टोपिक प्रेग्नेंसी क्यों बन जाती है जानलेवा?

    जानिए क्यों जानलेवा है ये एक्टोपिक प्रेग्नेंसी? क्या हैं इस प्रेग्नेंसी के लक्षण और कारण? क्या एक्टोपिक प्रेग्नेंसी का इलाज संभव है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha

    बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होने पर करें ये उपाय

    बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होने के क्या कारण है? इन परेशानी को एक्सपर्ट की मदद से कैसे किया जा सकता है कम, यदि न सुधार किया जाए तो क्या होगा, जानें।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shilpa Khopade
    सीनियर हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    लड़का या लड़की : क्या हार्टबीट से बच्चे के सेक्स का पता लगाया जा सकता है?

    हार्टबीट से सेक्स का पता लगाया जा सकता है, ऐसी कोई भी स्टडी हुई ही नहीं है। अल्ट्रासाउंड, सेल फ्री डीएनए ( Cell Free DNA), आनुवंशिक परीक्षण से गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है या लड़की। इसका पता चल सकता है..

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    शिशु की गर्भनाल में कहीं इंफेक्शन तो नहीं, जानिए संक्रमित अम्बिलिकल कॉर्ड के लक्षण और इलाज

    संक्रमित अम्बिलिकल कॉर्ड के लक्षण क्या हैं? संक्रमित अम्बिलिकल कॉर्ड की देखभाल कैसे करें? Caring for your baby's infected umbilical stump in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    मिफेजेस्ट किट

    Mifegest Kit : मिफेजेस्ट किट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    Published on जुलाई 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    गर्भावस्था के दौरान शहद के फायदे,

    क्या आप जानते हैं गर्भावस्था के दौरान शहद का इस्तेमाल कितना लाभदायक है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    Published on जुलाई 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    क्रीमैलेक्स टैबलेट

    Cremalax Tablet: क्रीमैलेक्स टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on जून 30, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    एसिडिटी का इलाज-acidity treatment

    खुद ही एसिडिटी का इलाज करना किडनी पर पड़ सकता है भारी!

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    Published on मई 19, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें