home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

इन 5 बातों को ध्यान में रखकर करें माता-पिता की देखभाल

इन 5 बातों को ध्यान में रखकर करें माता-पिता की देखभाल

आप अपने काम या दफ्तर में कितने ही व्यस्त क्यों न हों पर घर पर अगर वृद्ध माता-पिता हैं तो उनके लिए भी समय निकालना बहुत जरूरी है। वृद्धावस्था में अपना ध्यान अकेले रखना आसान नहीं है। इस समय अलगाव, अकेलापन और रोजमर्रा के कामों में असमर्थता बहुत ही आम बात है। ऐसे में यदि बच्चे अपनी बिजी लाइफस्टाइल में से थोड़ा सा वक्त अपने मां- बाप लिए निकालते हैं तो उन्हें अकेलापन और निराशा का सामना नहीं करना पड़ेगा। आइए बात करते हैं वे कौन सी बातें हैं जिन्हें ध्यान में रखकर आप बेहतर तरीके से अपने माता-पिता की देखभाल कर सकते हैं।

फोन कॉल

अगर आप घर से ज्यादा समय बाहर रहते हैं तो यह बहुत जरूरी है कि कम से एक बार घर पर फोन करके अपने पेरेंट्स का हालचाल जरूर लें। दिन के 5 मिनट निकालना इतना मुश्किल नहीं है इसके लिए आप लंच ब्रेक में एक बार घर पर फोन कर सकते हैं। अगर आपको लगता है कि व्यस्तता के चलते आपको ध्यान नहीं रहेगा तो इसके लिए आप फोन में रिमाइंडर भी लगा सकते हैं। ऐसा करने से मां बाप को इस बात के एहसास होता है कि आपको उनकी फिक्र रहती है और यह एहसास मन की शांति और खुशी के लिए काफी है।

बाहर घूमने जाएं

कभी-कभी ब्रेक बहुत जरूरी होता है और खासकर कि वे लोग जो दिन भर घर में रहते हैं। उनके लिए थोड़ी आउटिंग जरूरी है। इससे मूड चेंज होता है और काफी पॉजिटिविटी आती है। इसलिए वीकेंड पर या महीने में कम से कम एक बार एक फैमिली पिकनिक पर जाएं।

यह भी पढ़ें : ये 5 स्मार्टफोन नियम हर माता-पिता को बच्चों के लिए निर्धारित करना चाहिए

मिलने में ज्यादा समय का अंतराल न रखें

अगर आप घर से दूर हैं तो इस बात की पूरी कोशिश करें कि उनसे मिलने कम समय के अंतराल में जाएं। माना कि काम के चलते ज्यादा छुटियां मिलना मुश्किल है पर अपनी छुट्टियों को कुछ ऐसे मैनेज करें कि उनका इस्तेमाल आप घर जाने के लिए कर सकें। कोशिश करें कि कम से कम 2 -3 महीने में एक बार घर जरूर जाएं।

पेरेंट्स की सोशल लाइफ

वृद्धावस्था में अकेलापन सबसे ज्यादा परेशान करता है इसलिए कोशिश करके मां-बाप को सोशल एक्टिविटी का हिस्सा बनाएं। उन्हें क्लब हाउस जॉइन कराने या उनकी उम्र के लोगों के साथ मेल- जोल बढ़ाने में मदद करें। ताकि वे सारा दिन घर में अकेले परेशान न हों।

यह भी पढ़ें : नए माता-पिता के अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए 5 टिप्स

उनकी असमर्थता को समझें

जेनरेशन गैप एक ऐसी दिक्क्त है, जिसमें एडजेस्ट करने में सबसे ज्यादा दिक्क्त आती है। खासकर नयी टेक्नोलॉजी को समझने में अक्सर ओल्ड ऐज के लोग असमर्थ महसूस करते हैं। जैसे कि मोबाइल या कंप्यूटर। ऐसे में जरूरी है कि आप उनकी मदद करें। इसलिए जब भी समय मिले उनके साथ बैठे, बातें करें और उन्हें नई टेक्नोलॉजी को समझाने में मदद करें।

ऐसी ही छोटी -छोटी बातों का ध्यान रखकर आप अपने माता-पिता को यह एहसास दिला सकते हैं कि वे आपके लिए कितनी अहमियत रखते हैं। यह एहसास आप दोनों के बीच के बॉन्ड को स्ट्रॉन्ग करता है। इसलिए जितना भी हो सके उनके लिए वक्त निकालें और छोटे -छोटे काम में उनकी मदद करें ताकि वे बेहतर महसूस कर सकें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Priyanka Srivastava द्वारा लिखित
अपडेटेड 08/07/2019
x