home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

स्टडी: PTSD के साथ ही बुजुर्गों में रेयर स्लीप डिसऑर्डर के मामलों में इजाफा

स्टडी: PTSD के साथ ही बुजुर्गों में रेयर स्लीप डिसऑर्डर के मामलों में इजाफा

वाशिंगटन में हाल ही में रेयर स्लीप डिसऑर्डर से संबंधित स्टडी हुई। स्टडी के दौरान ये बात सामने आई है कि बजुर्गो में पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर की वजह से स्लीपिंग बिहेवियर में असर पड़ता है, जोकि सामान्य आबादी पर पड़ने वाले असर से कहीं ज्यादा है। रिसर्चर ये भी चेक करना चाहते हैं कि ये डिसऑर्डर जो कि आरबीडी (RBD) के रूप में जाना जाता है, कहीं पार्किंसंस रोग जैसे न्यूरोडीजेनेरेटिव स्थितियों के विकास का प्रारंभिक संकेत तो नहीं है।

यह भी पढ़ें: रुजुता दिवेकरः ब्रेन हैल्थ के लिए जरुरी है लोअर स्ट्रैंथ एक्सरसाइज

नींद के समय आंखों की स्थिति क्या होती है?

आमतौर पर नींद के समय आंखे अस्थायी रूप पैरालाइज हो जाती हैं। इस दौरान हमे सपने दिखाई देते हैं। रेपिड आई मूवमेंट स्पील बिहेवियर डिसऑर्डर (Rapid Eye Movement Sleep Behavior Disorder) (RBD) के मामलों में ऐसा नहीं होता है। इस स्थिति से गुजर रहे लोग अपने साथी हो चोट पहुंचा सकते हैं। अनुमान लगाया जा रहा है कि ऐसे लोगों की संख्या एक प्रतिशत से कम है। जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, 394 बुजुर्गों में किए गए अध्ययन में यह समस्या 9 फिसदी अधिक पाई गई, वहीं स्लीप और पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD) के साथ ये 21 फिसदी तक पहुंच गई। वीए पोर्टलैंड हेल्थ केयर सिस्टम में साल 2015 और 2017 के बीच अध्ययन किया गया। RBD को डायग्नोज करने के लिए अध्ययन के 8 घंटों के दौरान मांसपेशियों की गतिविधि की लगातार निगरानी की गई। अध्ययन में पाया गया कि PTSD वाले लोगों में और बिना PTSD के बुजुर्गों में तुलना के दौरान RBD वाले लोगों में रेयर स्लीप डिसऑर्डर 2 गुना अधिक थी।

यह भी पढ़ें: जानें कैसे धुएं का एक कश भी आपके लिए है खतरनाक?

रेयर स्लीप डिसऑर्डर और स्वास्थ्य का संबंध

चिकित्सक व वरिष्ठ लेखक मिरांडा लिम ने कहा कि ‘यह बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि जनरल पॉपुलेशन में RBD को पार्किंसंस रोग से जोड़ा जाता है। इसके लक्षण पहले दिख जाते हैं।’ आगे वो कहते हैं कि ‘हमे नहीं पता कि जिन्हें PTSD है और साथ ही हाई रेट RBD है, उनमे पार्किंसंस रोग विकसित होगा या नहीं। लेकिन हमें इस प्रश्न का जवाब खोजना होगा।’ रिसर्चर ने पाया है कि ब्रेन में क्रोनिक स्ट्रेस होने पर PTSD के साथ ही स्लीपिंग डिसऑर्ड पैदा हो जाता है। ये न्यूरोडीजेनेरेटिव प्रक्रियाओं को तेज करने का काम करता है। हालांकि पार्किंसंस के कुछ लक्षणों को कम करने के लिए कई उपचार हैं, इस दौरान पेशेंट को कंपकंपी और थकान महसूस होती है, लेकिन अभी तक इसे रोकने के लिए कोई निश्चित उपचार नहीं है।

लिम ने कहा कि जब तक किसी मरीज में पार्किंसंस के क्लासिक लक्षण दिखाते हैं, तब तक बहुत देर हो सकती है। अगर पहले से ही RBD के लक्षणों को पहचान लिया जाए तो पार्किंसंस के लक्षणों को रोका जा सकता है।

यह भी पढ़ें: डेंगू से हुई एक और मौत, बेहद जरूरी है जानना इसके लक्षण और उपाय

रेयर स्लीप डिसऑर्डर क्या है?

रेयर स्लीप डिसऑर्डर भी नींद से जुड़ी अन्य समस्याओं जैसे, स्लीप एपनिया, नार्कोलेप्सी और अनिद्रा की तरह होती है। हालांकि, रेयर स्लीप डिसऑर्डर अधिक गंभीर हो सकती है। मौजदा समय में नींद से जुड़ी लगभग 80 से अधिक स्लीप डिसऑर्डर की जानकारियां इक्ठ्ठी की जा चुकी हैं, जिसका सबसे ज्यादा प्रकोप अमेरिकियों के जीवन पर देखा जा रहा है। रेयर स्लीप डिसऑर्डर या नींद से संबंधित अन्य समस्याओं के प्रभाव लगभग एक जैसे या अलग-अलग भी हो सकते हैं। सामान्य तौर पर, नींद की बीमारी वाले रोगियों को रात में सोने में परेशानी महसूस होती है और दिन में अत्यधिक नींद आती है।

जानिए रेयर स्लीप डिसऑर्डर के कारण होने वाली कुछ समस्याएं

1. नींद में बड़बड़ाना भी हो सकता है रेयर स्लीप डिसऑर्डर

नींद में बड़बड़ाने या बात करने की समस्या अक्सर कई लोगों में देखी जाती है। हालांकि, नींद में जो व्यक्ति बात करता है, सुबह जागने पर उसे इसके बारे में कुछ याद भी नहीं रहता है। हालांकि, यह एक सामान्य स्थिति हो सकती है इसके लिए किसी भी तरह के उपचार की आवश्यकता नहीं हो सकती है।

2.रेयर स्लीप डिसऑर्डर के लक्षण हैं नींद में चलना

कई लोग नींद में सोते हुए ही अपने बिस्तर से उठकर इधर-ऊधर घूमने-फिरने की समस्या से भी परेशान रहते हैं जिसके नींद में चलना या स्लीप वॉकिंग भी कहा जाता है। बड़े लोगों की तुलना में इसकी समस्या छोटी उम्र के बच्चों में अधिक देखी जा सकती है। हालांकि, आमतौर पर इसकी समस्या पारिवारिक इतिहास पर भी निर्भर कर सकती है। नींद में चलना भी सामान्य स्थिति ही होती है हालांकि, कुछ मामलों में स्लीप वॉकिंग खतरनाक स्थिति हो सकती है। कई बार लोग नींद में चलते हुए आत्महत्या करने का प्रयास करने के साथ ही, किसी का खून करने का भी प्रयास कर सकते हैं। इसके अलावा नींद में चलते हुए, स्टोव चालू करने की आदत, सीढ़ियों से नीचे गिरने का डर हो सकता है। इन स्थितियों का कोई उपचार नहीं है, इससे बचाव करने के लिए आपको कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए, जैसे- घर के दरवाजे और खिड़कियां बंद रखें, चाकू या अन्य तेज वस्तु सुरक्षित स्थान पर रखें।

यह भी पढ़ें: ‘प्लॉगिंग’ के समय प्रधानमंत्री ने की स्वच्छता की अपील

3.नींद में डर जाना

अक्सर छोटे बच्चे सोते-सोते रोने लगते हैं, जिसका कारण नींद में डर जाना होता है। आमतौर पर सोते हुए डरावने सपने देखने के कारण ही डर लगता है। सोते हुए डरना, चिल्लाना या बहुत डर की वजह से बहुत ज्यादा पसीना होना भी एक आम समस्या होती है। लेकिन, अगर यह समस्या लंबे समय तक बनी रहे, तो डॉक्टर से इसके उपचार के बारे में बात किया जा सकता है।

4.रेयर स्लीप डिसऑर्डर के कारण हो सकता है स्लीप पैरालिसिस

स्लीप पैरालिसिस एक सामान्य स्थिति होती है आनुवांशिक हो सकती है। स्लीप पैरालिसिस की स्थिति रेपिड आई मूवमेंट स्पील बिहेवियर डिसऑर्डर के कारण हो सकती है। REM के दौरान, शरीर की मांसपेशियों को लकवा हो सकता है। लेकिन ऐसा नींद से जागने के तुरंत बाद होता है। स्लीप पैरालिसिस में ऐसी स्थिति होती है जब व्यक्ति नींद से जागता हो, तो खुद के शरीर के अंगों को हिलाने में असमर्थ महसूस करता है। ऐसी स्थिति लगभग 30 सेकेंड तक या कुछ मिनटों तक रह सकती है। इस रेयर स्लीप डिसऑर्डर की घटना से लगभग 50 प्रतिशत लोग पूरे जीवन में एक बार इस स्थिति का सामना जरूर करते हैं। वहीं, लगभग 4 प्रतिशत लोग इस रेयर स्लीप डिसऑर्डर स्थिति से लगभग पांच बार गुजरते हैं। यह जीवन के लिए जोखिम भरा नहीं होता है। लेकिन, अगर इसकी स्थिति बार-बार हो तो आपक अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

ऊपर दी गई रेयर स्लीप डिसऑर्डर से जुड़ी सलाह किसी भी चिकित्सा को प्रदान नहीं करती हैं। रेयर स्लीप डिसऑर्डर के बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से बात करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Sleep and Sleep Disorders in Rare Hereditary Diseases: A Reminder for the Pediatrician, Pediatric and Adult Neurologist, General Practitioner, and Sleep Specialist. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4101612/. Accessed on 25 December, 2019.

Healthy Sleep Health Center. https://www.webmd.com/sleep-disorders/default.htm. Accessed on 25 December, 2019.

What Is REM Behavior Disorder?. https://www.sleep.org/articles/what-is-rem-behavior-disorder/. Accessed on 25 December, 2019.

Fatal Familial Insomnia. https://www.healthline.com/health/fatal-familial-insomnia. Accessed on 25 December, 2019.

Post-traumatic stress disorder (PTSD). https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/post-traumatic-stress-disorder/symptoms-causes/syc-20355967. Accessed on 25 December, 2019.

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 14/10/2019
x