home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

वृद्ध में अवसाद क्यों होता हैं, जानिए इसके कारण

वृद्ध में अवसाद क्यों होता हैं, जानिए इसके कारण

वृद्ध लोगों में अवसाद के लक्षण कभी-कभी स्पष्ट नहीं होते हैं क्योंकि वे अक्सर धीरे-धीरे विकसित होते हैं। हम सभी बुजुर्गो का निरीक्षण करने पर कुछ चिंता का अनुभव करते हैं, लेकिन यह जानना मुश्किल हो सकता है कि ये कितना गंभीर है। अवसाद उम्र बढ़ने का एक सामान्य हिस्सा नहीं है, इसे एक योग्य उपचार की जरुरत होती है। कई वृद्ध वयस्क अवसाद का सामना करते हैं। जैसे कई बुजुर्ग अपने किसी प्रियजन के बारे में चिंतित होतें हैं। बुढ़ापे में डिप्रेशन जानने और इसके इलाज के लिए एक होम केयर प्रोवाइडर होना जरुरी है जिससे उनका अवसाद कम करने में सहायता मिल सकती है।

अगर आप वृद्ध हैं और आपने उन गतिविधियों में रुचि खो दी है जिनका आप आनंद लेते थे? अगर आप बेबसी और निराशा की भावनाओं से जूझते हैं? अगर हां, तो आप अकेले नहीं हैं जो अवसाद से गुजर रहें हैं। यह हम में से किसी को भी हो सकता है। बुजुर्गों में होने वाले अवसाद के लक्षण उनके जीवन के हर पहलू को प्रभावित कर सकते हैं, उनकी ऊर्जा, भूख, नींद, काम, शौक, और संबंधों में रुचि को प्रभावित कर सकते हैं।

और पढ़ें: डिप्रेशन और नींद: बिना दवाई के कैसे करें इलाज?

दुर्भाग्य से, सभी अवसादग्रस्त वृद्ध वयस्क अवसाद के लक्षणों को पहचानने में नाकामयाब होते हैं या वे खुद के लिए आवश्यक सहायता प्राप्त करने के लिए कदम नहीं उठाते हैं। बुजुर्ग अवसाद के इन कारणों को अक्सर अनदेखा करते हैं, जैसे:

  • आप ये मान लें कि आपका उदास होना सिर्फ उम्र बढ़ने का ही हिस्सा है।
  • आप अकेले पड़ सकते हैं – जो अपने आप में अवसाद को जन्म दे सकता है।
  • आप महसूस नहीं कर सकते हैं कि आपकी शारीरिक शिकायतें अवसाद के संकेत है
  • आप अपनी भावनाओं के बारे में बात करने या मदद मांगने के लिए अनिच्छुक हो सकते हैं।

बुढ़ापे में डिप्रेशन के संकेत क्या हैं?

बुढ़ापे में डिप्रेशन कई कारणों से हो सकता है, जिनकी वजह से उनके शरीर और मानसिक स्थिति में कई बदलाव आ सकते हैं। आइए, इन कारणों के बारे में जानते हैं।

लंबे समय से चली आ रही अनजान शारीरिक बीमारी

बुजुर्ग लोग कई बार ऐसी किसी शारीरिक बीमारी के बारे में शिकायत करते रहते हैं, जो कि असल में होती नहीं है या वो समझा नहीं पाते। दरअसल, यह बुढ़ापे में डिप्रेशन का संकेत है। इन बीमारियों के संकेतों में चक्कर आना, शारीरिक दर्द, कब्ज, नींद न आना और वजन घटना आदि शामिल हैं। कई दुर्लभ मामलों में बुढ़ापे में डिप्रेशन की वजह से होने वाली इन बीमारियों का इलाज न हो पाने की वजह से उन्हें कई बार आत्महत्या करने का ख्याल भी आ सकता है।

याद्दाश्त कम होना

याद्दाश्त कम होना उम्र बढ़ने के साथ आम समस्या हो सकती है। लेकिन, कई बार यह बुढ़ापे में डिप्रेशन का संकेत हो सकता है, जो कि नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। जो कि, एक समय के बाद गंभीर बीमारी का रूप ने सकता है और अल्जाइमर का खतरा भी बढ़ सकता है। ऐसे मामलों में बुढ़ापे में डिप्रेशन का इलाज करने पर याद्दाश्त के कमजोर होने की समस्या को भी कम किया जा सकता है।

व्यवहार में बदलाव आना

वयस्कों की तरह बुढ़ापे में डिप्रेशन उनके व्यवहार में परिवर्तन ला सकता है। जो कि, आमतौर पर अवसाद का सबसे मुख्य संकेत है। अवसाद से ग्रसित व्यक्ति का बर्ताव चिड़चिड़ा और उदासी भरा हो जाता है। जिसकी वजह से वृद्ध कई तरह के नखरे भी दिखा सकता है। जैसे- घर से बाहर जाने, कुछ खाने, शॉपिंग करने में आनाकानी करना या छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करना या फिर शराब की लत लग जाना।

और पढ़ें: वृद्धावस्था में सीनियर फॉल के रिस्क को कैसे करें कम

बुढ़ापे में डिप्रेशन के कारण

जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं, हम अक्सर कई महत्वपूर्ण जीवन बदलावों का सामना करते हैं जो अवसाद के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। इन बदलावों में निम्नलिखित चीजें शामिल हो सकती हैं:

बुढ़ापे में डिप्रेशन- स्वास्थ्य समस्याएं

बीमारी और विकलांगता, पुराना या गंभीर दर्द, संज्ञानात्मक गिरावट, सर्जरी या बीमारी के कारण आपके शरीर की छवि को नुकसान, ये सभी अवसाद के लिए योगदान दे सकते हैं।

और पढ़ें: दिमाग नहीं दिल पर भी होता है डिप्रेशन का असर

बुढ़ापे में डिप्रेशन- अकेलापन और अलगाव

अकेले रहने जैसे कारक, मौतें या पुनर्वास के कारण एक घटता हुआ सामाजिक दायरा, बीमारी के कारण गतिशीलता में कमी का नुकसान आदि अवसाद को गति प्रदान कर सकता है।

उद्देश्य की कमी

सेवानिवृत्ति अपने साथ पहचान, स्थिति, आत्मविश्वास और वित्तीय सुरक्षा की कमी ला सकती है और अवसाद का खतरा बढ़ा सकती है। आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली गतिविधियों पर शारीरिक सीमाएं आपके उद्देश्य की भावना को भी प्रभावित कर सकती हैं।

बुढ़ापे में डिप्रेशन- आशंका

इनमें मृत्यु या मृत्यु के साथ-साथ वित्तीय समस्याओं या स्वास्थ्य के मुद्दों पर चिंता शामिल है। दोस्तों, परिवार के सदस्यों और पालतू जानवरों की मृत्यु या पति या पत्नी की हानि पुराने वयस्कों में अवसाद के सामान्य कारणों में शामिल है।

और पढ़ेंः Alzheimer : अल्जाइमर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

बुढ़ापे में डिप्रेशन के लिए स्व-सहायता

यह सोचना एक मिथक है कि एक निश्चित उम्र के बाद बड़े वयस्क नए कौशल नहीं सीख सकते हैं या नई गतिविधियों की कोशिश नहीं कर सकते हैं या जीवन शैली में बदलाव नहीं कर सकते हैं। सच्चाई यह है कि मानव मस्तिष्क कभी भी बदलना बंद नहीं करता है, इसलिए एक बड़े वयस्क के रूप में भी आप नई चीजों को सीखने और नए विचारों को अपनाने में एक युवा व्यक्ति की तरह ही सक्षम हैं जो आपको अवसाद से उबरने में मदद कर सकते हैं।

अवसाद पर काबू पाने में आपको नई चीजों का पता लगाना, आनंद लेना सीखना, परिवर्तन के लिए अनुकूल होना, शारीरिक और सामाजिक रूप से सक्रिय रहना और अपने समुदाय और प्रियजनों से जुड़ा हुआ महसूस करना शामिल है।

कभी-कभी, सिर्फ बेहतर महसूस करने के लिए छोटे कदम उठाना जरूरी है। उदाहरण के लिए, थोड़ी देर चलना, कुछ ऐसा है जिसे आप कभी भी कर सकते हैं और यह अगले दो घंटों तक आपके मूड को बढ़ा सकता है। दिन-ब-दिन छोटे कदम उठाने से आपके अवसाद के लक्षण कम हो जाएंगे और आप खुद को फिर से अधिक ऊर्जावान महसूस करेंगे। डिप्रेशन की समस्या को दूर करने करने के लिए दवा भी प्रिस्क्राइब की जा सकती है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Depression in elderly: A review of Indian research – http://www.jgmh.org/article.asp?issn=2348-9995;year=2015;volume=2;issue=1;spage=4;epage=15;aulast=Grover – Accessed on 13/2/2020

Depression in Later Life: A Diagnostic and Therapeutic Challenge – https://www.aafp.org/afp/2004/0515/p2375.html – Accessed on 13/2/2020

Older Adults and Depression – https://www.nimh.nih.gov/health/publications/older-adults-and-depression/index.shtml – Accessed on 13/2/2020

Depression in Older Adults: Signs, Symptoms, Treatment – https://www.helpguide.org/articles/depression/depression-in-older-adults.htm – Accessed on 13/2/2020

Geriatric Depression (Depression in Older Adults) – https://www.healthline.com/health/depression/elderly – Accessed on 13/2/2020

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shilpa Khopade द्वारा लिखित
अपडेटेड 02/10/2019
x