Subungual Hematoma: सबंगुअल हेमाटोमा क्या है?

    Subungual Hematoma: सबंगुअल हेमाटोमा क्या है?

    परिचय

    सबंगुअल हेमाटोमा उंगली और अंगूठे के नीचे जमा हुआ खून है। इसका सबसे सामान्य कारण है दरवाज़े या किसी मशीन में उंगलियों का आ जाना। किसी भारी चीज का उंगलियों पर गिरने से भी यह समस्या हो सकती है। अगर कोई व्यक्ति खून को पतला करने या कैंसर के उपचार की दवाईयां ले रहा है तब भी उसे यह रोग हो सकता है। ऑटोइम्यून स्थिति, कपोसी सार्कोमा, या मेलेनोमा होने पर आपको इस स्थिति में जोखिम भी हो सकता है। अगर सबंगुअल हेमाटोमा का नील या घाव छोटा है और अधिक दर्दभरा नहीं है तो यह बिना किसी उपचार के भी ठीक हो जाता है। अगर यह बड़ा और दर्दभरा है तो आपको इसमें से खून बाहर निकालना आवश्यक है। जानिए इसके बारे में और अधिक।

    लक्षण

    अगर हाथ में कोई भी चोट लगती है तो उंगली या अंगूठे के नीचे सबंगुअल हेमाटोमा हो सकता है। इसके लक्षण इस प्रकार हैं:

    • लाल, पर्पल या काले रंग का खून जमा जाना
    • प्रभावित उंगली या पैर की अंगुली में दर्द और सूजन
    • छूने पर प्रभावित स्थान का कोमल होना
    • नाखून के नीचे दबाव महसूस होना
    • नाखून का रंग अलग हो जाना

    जो लोग आर्टिफीसियल नाखूनों का प्रयोग करते हैं, वो नाखूनों के नीचे सबंगुअल हेमाटोमा को देख नहीं सकते। ऐसे में, अगर आपको नाखून के नीचे तेज दर्द या दबाव महसूस हो तो आर्टिफीसियल नाखूनों को निकाल दें।

    और पढ़ें : Gout : गठिया क्या है?

    कारण

    यह चोट बहुत जल्दी किसी भी कारण से लग सकती है, इसके कारण इस प्रकार हैं:

    • कार या घर के दरवाज़े या मशीन में हाथ आना
    • किसी भारी चीज़ जैसे हथोड़े का उंगलियों पर लगना या किसी भारी चीज़ का पैर पर गिरना
    • पैर की उंगलियों का किसी सख्त जगह पर लगना
    • एक्सीडेंट के बाद उंगलियों में चोट लगना
    • खून को पतला करने वाली या कैंसर के उपचार लेने वाली दवाईयां भी इस रोग का कारण बन सकती हैं

    [mc4wp_form id=”183492″]

    जोखिम

    • जो लोग हाथ से काम करते है जैसे मजदूर। उन लोगों में सबंगुअल हेमाटोमा की संभावना अधिक रहती है।
    • खेल से जुड़े व्यक्तियों में भी सबंगुअल हेमाटोमा होने का जोखिम अधिक रहता है। इन खेलों से जुड़े व्यक्तियों को इस समस्या से बचने के लिए खास ध्यान रखना चाहिए।
    • ऑटोइम्यून स्थिति, कपोसी सार्कोमा, या मेलेनोमा होने पर भी इस स्थिति में जोखिम भी हो सकता है

    और पढ़ें – Not Chewing Food Well: भोजन को अच्छी तरह न चबाना क्या है?

    उपचार

    • अगर आपको सबंगुअल हेमाटोमा की समस्या है तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए। अगर आपकी नाखूनों के नीचे की हड्डी टूटी है या आसपास के टिश्यू डैमेज हो गए हैं तो वो आपके नाखूनों को जांचेंगे। वो X-ray के लिए भी कह सकते हैं। माइनर सबंगुअल हेमाटोमा कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्या नहीं है। इसे ठीक करने के लिए घरेलू उपाय का प्रयोग किया जा सकता है।

    लेकिन, अगर आपको यह गंभीर लक्षण दिखाई दें तो आपको तुरंत मेडिकल मदद लें, जैसे :

    • दर्द असहनीय हो
    • अगर यह समस्या किसी बच्चे को हो
    • अगर ब्लीडिंग कण्ट्रोल न हो रही हो
    • नाख़ून की सतह खराब हो
    • बिना किसी चोट के नाख़ून का रंग बदल जाए या गहरा हो जाए

    अन्य उपचार

    • डॉक्टर प्रभावित नाख़ून को अलग कर के जख्म को टांकों को बंद कर देंगे। कई बार प्रभावित नाख़ून को अलग नहीं किया जाता लेकिन इसका प्रयोग नेलबेड को सुरक्षित करने के लिए किया जाता है। जब नेलबेड ठीक हो जाता है तब इस नाख़ून को निकाल दिया जाता है। जब प्रभावित नेलबेड ठीक हो जाता है तो ब्लीडिंग रुक जाती है और एक नया नाख़ून आ जाता है।
    • अगर डॉक्टर को यह लगता है कि हड्डी टूट गयी है, तो वो टूटी हुई फिंगरटिप को स्पलिंट से कवर कर के कई हफ़्तों तक रख सकते हैं ताकि वो जल्दी ठीक हो।
    • डॉक्टर नेल ट्रेफ़िनिशन नाम की प्रक्रिया से नाख़ून के नीचे के खून को निकाल सकते हैं। इसे दर्द और दबाव को दूर करने में मदद मिल सकती है।इसमें डॉक्टर लेज़र या सुई की मदद से एक छोटा सा छेद करेंगे। उपचार के बाद उस भाग को बैंडेज की मदद से कवर कर दिया जाएगा। हालांकि इस प्रक्रिया को घर पर नहीं किया जा सकता है क्योंकि इससे नेल बेड का इंफेक्शन हो सकता है या और अधिक चोट लग सकती है।
    • अगर नाख़ून के नीचे इन्फेक्शन हो तो ऐसी स्थिति में तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए

      इंफेक्शन के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

  • नाखूनों के नीचे तरल या मवाद का होना
  • सूजन या दर्द का बढ़ना
  • त्वचा में लाल लकीरें
  • बुखार
  • उंगलियों या अंगूठे में जलन
  • चोट वाले भाग के आसपास अधिक लालिमा
  • और पढ़ें- Drug overdose : ड्रग ओवरडोज क्या होता है?

    घरेलू उपाय

    • सबंगुअल हेमाटोमा से बचने के लिए सही फिटिंग के जूते पहने। बहुत अधिक तंग जूते भी इस समस्या का कारण बन सकते हैं।
    • अगर आप सॉकर या टेनिस खेलते हैं तो उसे मिटटी या घास पर खेलें। इससे इस समस्या या किसी भी तरह की चोट लगने का खतरा कम होता है।
    • अगर आप कंस्ट्रक्शन या वेयरहाउस में काम करते हैं, तो अपने पैरों को चोट से बचाने के लिए हैवी वर्क बूट या स्टील टॉइड शूज पहने।
    • अगर आपको सबंगुअल हेमाटोमा की समस्या है तो अपनी प्रभावित उंगली या अंगूठे को कम से कम हिलाएं और अधिक आराम दें ताकि आप जल्दी ठीक हो सकें।
    • सूजन और दर्द से बचने के लिए आइस पैक का प्रयोग करें। सीधे प्रभावित स्थान पर बर्फ न लगाएं।
      चोट लगने के एकदम बाद प्रभावित स्थान को तुरंत बांध दें ताकि उस स्थान पर दबाव पड़े।
    • इंफेक्शन न हो इसके लिए एंटीबायोटिक दी जा सकती है।
      दर्द और सूजन दूर करने के लिए आइबूप्रोफेन या नेप्रोक्सेन दी जा सकती है। इन दवाईओं को लेने से पहले अपने डॉक्टर से आवश्यक पूछे खासतौर पर अगर आपको ब्लड प्रेशर, दिल सम्बन्धी बीमारी, किडनी की समस्या, पेट का अलसर या अंदरूनी ब्लीडिंग हो। डॉक्टर के द्वारा बताये हुई दवाई की अधिक डोज न लें

    हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

    संबंधित लेख:

    Piles : बवासीर (Hemorrhoids) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Acanthosis nigricans : एकैंथोसिस निगरिकन्स क्या है?

    Achalasia : एकैल्शिया क्या है?

    Cataracts : मोतियाबिंद क्या है?

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड

    डॉ. पूजा दाफळ

    · Hello Swasthya


    Anu sharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 08/06/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement