home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डिओडरेंट यूज करने से पहले रखें इन 5 बातों का ध्यान

डिओडरेंट यूज करने से पहले रखें इन 5 बातों का ध्यान

मूड चेंज करने का मन हो या फिर कुछ अलग फ्रेंगरेंस की चाहत, हम झट से अपना डिओडरेंट चेंज कर देते हैं। मैं जब कभी भी डिओडरेंट खरीदने का मन बनाती हूं, हर बार कुछ डिफरेंट ही चाहिए होता है। स्टाइल स्टेटमेंट लिए फेमस डिओडरेंट को चूज करने से पहले शायद कोई ज्यादा नहीं सोचता है। फ्रेंगरेंस अच्छी लगी और खरीद लिया न्यू डिओडरेंट। अब इस सोच में थोड़ा सा बदलाव लाने की जरूरत है क्योंकि आप अपनी बॉडी पर जो डिओडरेंट यूज कर रहे हैं वह आपकी स्किन को नुकसान भी पहुंचा सकता है। डिओडरेंट जब भी खरीदें, इन बातों को जरूर ध्यान रखें, लेकिन सबसे पहले समझने की कोशिश करते हैं की डिओडरेंट क्या है?

डिओडरेंट को कई तरह से पुकारा जाता है जैसे, डिओडोरेंट, डियोड्रेंट, डियोडरेंट। वहीं इंग्लिश में डिओडरेंट (Deodorant) टर्म ही बोला जाता है। डिओडरेंट एक प्रकार का कॉस्मेटिक प्रोडक्ट है जिसका इस्तेमाल महिला और पुरुष दोनों करते हैं। दरअसल इसके इस्तेमाल से अंडरआर्म्स के पसीने की बदबू को दूर करना आसान होता है। फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने डिओडोरेंट्स को सौंदर्य प्रसाधन की कैटेगरी में रखा गया है। डिओडरेंट में खुशबुओं की अलग-अलग वैरायटी होती है और यह आसानी से उपलब्ध भी होता है। बॉडी पर डिओडरेंट स्प्रे करने से फ्रेशनेश का अहसाह होता है, लेकिन डिओडरेंट के इस्तेमाल से शरीर को नुकसान भी हो सकता है। इसलिए इसके इस्तेमाल से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

1.ब्रांड का जरूर रखें ध्यान

जब भी डिओडरेंट खरीदने जाएं, अपने ब्रांड के साथ समझौता न करें। आजकल कई कंपनी डिओडरेंट के नाम पर गैस बेच रहीं होती हैं। ये डिओडरेंट लॉन्ग लास्टिंग नहीं होते हैं। जैसे ही आप बॉडी पर अप्लाई करेंगे आपको फ्रेगरेंस अच्छी लगेगी, लेकिन कुछ ही देर में ये बॉडी से उड़ जाएगा। अच्छा ब्रांड आपको इस समस्या से निजात दिला सकता है। इसके साथ ही यह भी ध्यान रखें कि आजकल हर अच्छे ब्रांड की डुप्लीकेट कॉपी बाजार में आसानी से मिल जाती है। अगर समझदारी से डिओडरेंट या किसी भी अन्य कॉस्मेटिक प्रोडक्ट की खरीदारी नहीं की गई तो इससे आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचना तय माना जाता है। इस ब्रांड और डुप्लीकेट कॉपी के बारी में जानकारी हासिल करें।

2.कहीं रोज कई बार तो यूज नहीं करती हैं आप डिओडरेंट?

हो सकता है कि आप रोज ही डिओडरेंट का यूज करती हो ? अगर आप का जवाब हां है तो आपकी स्किन को खतरा हो सकता है। ज्यादातर लोग इसका इस्तेमाल रोजाना और एक दिन में कई बार करते हैं, लेकिन ऐसा करने से स्किन में लाल रैशेज हो सकते हैं या सेंसेशन का अहसास हो सकता है। डिओडरेंट का यूज करने में कोई बुराई नहीं है, लेकिन इसे बहुत ज्यादा यूज न करें। कई बार ये आपकी आंखों को भी सीधा प्रभावित कर सकता है।

और पढ़ें: क्यों जरूरी है सोने से पहले मेकअप उतारना?

3.गीली स्किन पर न करें यूज डिओडरेंट

क्या आपको पता है कि गीली स्किन में डिओडरेंट अप्लाई करने से उसकी खुशबू कुछ ही देर में उड़ जाती है। अप्लाई करने से पहले अपनी स्किन को अच्छी तरह से सुखा लीजिए। कई बार गीली स्किन में अप्लाई करने से इंफेक्शन की समस्या भी हो सकती है। इसलिए डिओडरेंट को लॉन्ग लास्टिंग बनाने के लिए और स्किन इंफेक्शन से बचने के लिए गीले शरीर में स्प्रे न करें।

4.एलर्जी है तो उपयोग करने से पहले डॉक्टर से पूछें

डर्मेटोलॉजिस्टडॉ अनुश्री गंगोपाध्याय ने हैलो स्वास्थ्य से बात करते हुए बताया कि,” जिन लोगों को स्किन की समस्या होती है उन्हें इस बारे में ध्यान रखना चाहिए कि वे इस तरह की चीजों का यूज न करें। ऐसा करने से स्किन की समस्या बढ़ सकती है। अस्थमा या एलर्जी की समस्या से जूझ रहे लोगों को डिओडरेंट से प्रॉब्मल हो सकती हैं। कई बार इनके स्किन के कॉन्टैक्ट में आने से रेडनेस, इरिटेशन, ब्लैक स्किन की दिक्कत हो जाती है। अगर आप फ्रेशनेस के लिए ऐसा कुछ भी यूज करना चाहती हैं तो अपने डर्मेटोलॉजिस्ट से जरूर कॉन्टैक्ट करें फिर यूज करें।

कुछ रिसर्च के अनुसार अस्थमा के मरीजों को डिओडरेंट के इस्तेमाल से बचना चाहिए क्योंकि इससे आपकी परेशानी बढ़ सकती है और आपको सांस लेने में तकलीफ हो सकती है।

और पढ़ें: कैसे चुनें पुरुषों के लिए परफ्यूम?

5. न करें ऐसे अप्लाई डिओडरेंट

हम डिओडरेंट को स्किन के साथ ही कपड़ों पर भी लगा लेते हैं। ऐसा न करें क्योंकि परफ्यूम और डिओडरेंट में अंतर होता है। अच्छी खुशबू के लिए डिओडरेंट को स्किन पर अप्लाई करें। ये स्किन में नमी बनाएं रखने के साथ ही आपको तरोताजा भी रखेगा। कुछ शोध और एक्सपर्ट्स की मानें तो डिओडरेंट का इस्तेमाल सिर्फ अंडरआर्म्स की त्वचा (कांख) पर ही करना चाहिए। वहीं देखा जाए तो महिलाएं और पुरुष गर्दन, ब्रेस्ट के नीचे, जांघों और प्राइवेट पार्ट्स में आने वाले पसीने को कम करने के लिए भी इसका इस्तेमाल शरीर के अलग-अलग हिस्सों में करते हैं। जबकि हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो ऐसा करना ठीक नहीं है और इससे शारीरिक परेशानी भी शुरू हो सकती है।

बॉडी के प्राइवेट पार्ट्स में डिओडरेंट इस्तेमाल करने से खुजली की समस्या शुरू हो सकती है। हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो इन अंगों की दुर्गंध को दूर करने के लिए बेबी पाउडर का इस्तेमाल करना सुरक्षित विकल्प हो सकता है। इसलिए इन बातों को ध्यान में रखकर डिओडरेंट के साइड इफेक्ट्स से बचा जा सकता है।

डिओडरेंट के साइड इफेक्ट्स

  • डिओडरेंट का उपयोग करने से कुछ लोगों को त्वचा में जलन और खुजली की समस्या होने की संभावना होती है। इसकी वजह से कई बार त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ जाते हैं। इससे बचने के लिए आपको डिओडरेंट खरीदते समय यह ध्यान रखना है, कि आपके डिओडरेंट में प्रोपाइलिन ग्लोइकोल की मात्रा कितनी है। यदि इसकी मात्रा बहुत अधिक है, तो आपको इसका उपयोग करने से बचना चाहिए।
  • डिओडरेंट में कई संदिग्ध तत्व होते हैं, जो एलर्जी का कारण हो सकते हैं या स्तन कैंसर के खतरे के रूप में रिपोर्ट किए गए हैं। ऐसा ही एक रासायनिक समूह है “पैराबेन (Parabens)” जो स्तन कैंसर के खतरे को बढ़ाता है। इन अध्ययनों को प्रामाणित नहीं किया गया है, क्योंकि कई लोग इसपर सवाल उठाते हैं।
  • डिओडरेंट के कारण बहुत से लोगों को अल्जाइमर रोग होने का खतरा होता है। इसका असर सीधा किसी व्यक्ति के दिमाग पर भी पड़ता है, जिस कारण उसे अल्जाइमर रोग होने का खतरा बढ़ जाता है। अल्जाइमर रोग होने से व्यक्ति की याददाश्त (स्मृति) कमजोर हो जाती है।

और पढ़ें: स्किन एलर्जी से राहत पाने के 4 आसान घरेलू उपाय

  • डिओडरेंट कई बार शरीर में हार्मोन के संतुलन के बिगड़ने का कारण बन सकता है।
  • डिओडरेंट में न्यूरोटॉक्सिन नामक तत्व पाए जाते हैं, जो आपकी किडनी और लिवर को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं।
  • डिओडरेंट का उपयोग करने से कुछ लोगों को सांस की समस्या हो सकती है। वहीं, कुछ लोगों को बहुत अधिक छींक आने लगती है। इसलिए इसे अस्थमा का भी एक कारण माना गया है।
  • कुछ लोग डिओडरेंट की महक से बेहोश हो जाते हैं। ऐसा बहुत कम मामलों में देखा गया है, लेकिन कुछ लोगों को यह समस्या होती है।
  • शरीर की नाजुक त्वचा के लिए डिओडरेंट का उपयोग बहुत नुकसानदायक होता है।
  • डिओडरेंट को आंख जैसे नाजुक अंग में जाने से बचाना चाहिए। यह बुरी तरह से आपकी आंख को प्रभावित कर सकती हैं।

डिओडरेंट से जुड़े कुछ खास फैक्ट्स क्या हैं?

इससे जुड़े निम्नलिखित फैक्ट्स को जरूर समझें जैसे:-

  1. डिओडरेंट बॉडी की स्मेल को नियंत्रित करने का काम करता है।
  2. डिओडरेंट के इस्तेमाल से पसीना कम नहीं आएगा, पसीना आना आपके बॉडी टाइप पर निर्भर करता है।
  3. एंटीपर्सपिरेंट पसीने को कम करने में मददगार हो सकता है, लेकिन यह बदबू को नहीं दूर कर सकता है।
  4. डिओडरेंट और एंटीपर्सपिरेंट का इस्तेमाल एक साथ किया जा सकता है। एक साथ इस्तेमाल करने पर आपको बेहतर रिजल्ट्स मिल सकते हैं। इसके लिए पहले अपने बगल की त्वचा पर एंटीपर्सपिरेंट का इस्तेमाल करें और फिर उसे बाद डिओडोरेंट स्प्रे करें।

अब आप समझ गए होंगे कि हमें डिओडरेंट का उपयोग कब और कैसे करना चाहिए। ताकि हम पसीने की बदबू से भी बच जाएं और किसी प्रकार की स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या ना हो। अगर आप डिओडरेंट का इस्तेमाल और इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Is Deodorant Harmful for Your Health?/https://www.pennmedicine.org/updates/blogs/health-and-wellness/2019/june/deodorant/Accessed on 18/05/2020

Antiperspirants and Breast Cancer Risk/https://www.cancer.org/cancer/cancer-causes/antiperspirants-and-breast-cancer-risk.html/Accessed on 18/05/2020

Is Deodorant Harmful for Your Health?/https://www.pennmedicine.org/updates/blogs/health-and-wellness/2019/june/deodorant/Accessed on 18/05/2020

Antiperspirants/Deodorants and Breast Cancer/https://www.cancer.gov/about-cancer/causes-prevention/risk/myths/antiperspirants-fact-sheet/Accessed on 18/05/2020

Is that a toxic chemical in my deodorant?/https://saferchemicals.org/2015/05/26/is-that-a-toxic-chemical-in-my-deodorant/Accessed on 18/05/2020

Deodorant/https://www.madesafe.org/education/whats-in-that/deodorant/Accessed on 18/05/2020

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 13/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x