विटामिन-डी की कमी से होती है यह घातक बीमारियां

Medically reviewed by | By

Update Date नवम्बर 7, 2019 . 2 मिनट में पढ़ें
Share now

शायद हम सभी यह जानते हैं कि विटामिन-डी का प्राथमिक और सबसे बड़ा स्रोत ‘धूप’ है। सूरज की रोशनी हमारी त्वचा में विटामिन-डी को संश्लेषित (Synthesized) करने में मदद करती है, जिससे हमारी मांसपेशियां और हड्डियों मजबूती मिलती हैं और उनके विकास को बढ़ावा मिलता है। 

लेकिन जिस तरह यह विटामिन अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है, उसी तरह उसकी कमी से स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को भी न्योता मिल सकता हैं। 

बीमारियां जो विटामिन-डी की कमी से होती है

 विटामिन-डी की कमी और डिमेंशिया:

जर्नल न्यूरोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन में ये पाया गया कि बुजुर्ग लोगों में अल्जाइमर और डिमेंशिया की शिकायत तब बढ़ जाती है, जब उनके शरीर में इस  विटामिन की कमी होती है। डिमेंशिया में सोच, व्यवहार में बदलाव और याददाश्त में कमी आने लगती है। इस अध्ययन में 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के 1,600 से ज्यादा लोगों को मॉनिटर किया गया हैं, जिन्हे अध्ययन की शुरुआत में डिमेंशिया नहीं था।

इस अध्ययन पाया गया हैं की, एक सामान्य विटामिन-डी के स्तर वाले व्यक्ति की तुलना में, विटामिन-डी की कम स्तर वाले लोगों में डिमेंशिया की संभावना 53% मिली। जब कि यही आकड़ा बढ़ कर 125% पहुंज गया जब किसी के शरीर में इस विटामिन की गंभीर कमी थी। इसलिए हमारे शरीर में विटामिन-डी होना बहुत जरुरी है।

यह भी पढ़ें : Albumin Test : एल्बुमिन टेस्ट क्या है?

 विटामिन-डी की कमी और रिकेट्स:

रिकेट्स एक ऐसी समस्या है जिसमें बच्चों की हडियां नरम और कमजोर हो जाती हैं। आमतौर पर यह समस्या शरीर में लंबे समय तक विटामिन-डी की कमी के कारण होती है। शरीर में पूरक मात्रा में इस विटामिन की वजह से हड्डियों में कैल्शियम और फास्फोरस का सही स्तर बनाए रखने में मुश्किल आती है, जिससे रिकेट्स होने की संभावना होती हैं। कभी-कभी, पर्याप्त कैल्शियम न मिलने से या कैल्शियम और विटामिन-डी की कमी से भी रिकेट्स हो सकता है।

विटामिन-डी की कमी और प्रोस्टेट कैंसर:

जर्नल क्लिनिकल कैंसर रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन में पुरुषों में विटामिन-डी के ‘लो ब्लड लेवल’ और बढ़ते प्रोस्टेट कैंसर के बीच एक लिंक पाया गया हैं। शोधकर्ताओं ने 40 से 79 वर्ष की उम्र के 667 पुरुषों में विटामिन-डी के स्तर की जांच  की जो प्रोस्टेट बायोप्सी (Biopsy) से गुजर रहे थे। इस अध्ययन के परिणाम बताते हैं कि सामान्य विटामिन-डी के स्तर वाले अन्य पुरुषों की तुलना में कम विटामिन-डी स्तर वाले पुरुषों में कैंसर होने की संभावना औरों से अधिक है। 

यह भी पढ़ें : Asthma : अस्थमा क्या होता है? जाने इसके कारण ,लक्षण और उपाय

विटामिन-डी की कमी से बढ़ता है स्किजोफ्रेनिया का खतरा:

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ के अनुसार, स्किजोफ्रेनिया एक गंभीर दिमागी बीमारी है। स्किजोफ्रेनिया के लक्षण, जो आमतौर पर 16 से 30 साल की उम्र के बीच दिखाई देते हैं, उनमें, हैलूसिनेशन, दूसरों से ज्यादा बात या घुल-मिल कर न रहना, ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होना इत्यादि शामिल है। 

इस अध्ययन में यह बात सामने आयी कि जिन लोगों में विटामिन-डी की कमी हैं, उनकी तुलना में शरीर में इस विटामिन के सही स्तर वाले लोगों के स्किजोफ्रेनिया की समस्या का निदान होने की संभावना ज्यादा होती है। 

निष्कर्ष:

हमारे शरीर को विटामिन-डी की बहुत जरूरत है। ऐसे में यदि आप अपने स्थान या मौसम की स्थिति के कारण नियमित रूप से धूप लेने में असमर्थ हैं, तो आप अपने डॉक्टर की सलाह लेकर इस विटामिन का सप्लीमेंट लेने का विचार कर सकते हैं।

और पढ़ें : Cellulitis : सेल्युलाइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    अल्सरेटिव कोलाइटिस रोगी के डाइट प्लान में क्या बदलाव करने चाहिए?

    अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट प्लान, अल्सरेटिव कोलाइटिस में क्या खाएं और क्या न खाएं,अल्सरेटिव कोलाइटिस क्या है? Ulcerative colitis in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    यदि आपके बच्चे को होती है बोलने में समस्या तो जरूर कराएं स्पीच थेरेपी

    बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी, घर पर कैसे करें बच्चों की स्पीच थेरेपी, स्पीच थेरेपी के फायदे और नुकसान,Benefits of speech therapy for babies

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग जुलाई 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    चेन स्नैचिंग से कैसे करें अपनी और अपने बच्चे की सुरक्षा

    चेन स्नैचिंग क्या है, चेन स्नैचर कैसे करते हैं अपना काम, कैसे बचे इससे और कैसे रखें अपने बच्चे का ख्याल, chain snatching, chain snatcher

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    जानें, प्राण मुद्रा करने का सही तरीका और इसके फायदे

    प्राण मुद्रा करने का तरीका ,इसके फायदे क्या हैं,यह कई बीमारियों का इलाज कर सकता है। प्राण मुद्रा कब न करें,Prana Mudra steps and benefits in Hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    फिटनेस, योगा, स्वस्थ जीवन जुलाई 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    इंसुलिन रेजिस्टेंट

    क्या आप जानते हैं वजन, बीपी और कोलेस्ट्रोल बढ़ने से इंसुलिन रेजिस्टेंस भी बढ़ सकता है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on जुलाई 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    हेल्दी डाइट चार्ट

    हेल्दी लाइफ के लिए अपनाएं हेल्दी डाइट चार्ट

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on जुलाई 10, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    इओसिनोफिलिया के घरेलू उपाय

    इओसिनोफिलिया से राहत पाने के लिए अपनाएं यह घरेलू उपाय

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    Published on जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    कोरोना सर्वाइवर

    कोरोना से तो जीत ली जंग, लेकिन समाज में फैले भेदभाव से कैसे लड़ें?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on जुलाई 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें