Tenia capitis & Scalp Ringworm: टीनिया कैपिटिस और स्कैल्प का रिंगवर्म क्या है?

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

परिभाषा

टीनिया कैपिटिस और स्कैल्प का रिंगवर्म क्या है ?

सिर पर फंगल संक्रमण को टीनिया कैपिटिस कहा जाता है। सिर पर संक्रमण के गोल आकार की वजह से इन्हें रिंगवर्म भी कहते हैं। इसमें किनारे उभरे हुए लगते हैं लेकिन बीच का भाग समतल रहता है। इस संक्रमण के होने से आपके सिर की त्वचा खुरदुरी और खुजलीदार हो जाती है।

ये संक्रमण आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है इस लिए अगर आपके आसपास किसी को ये रिंगवर्म है तो उसकी कंघी, तौलिये और टोपी का इस्तेमाल करने से बचें।

टीनिया कैपिटिस होना कितना आम है?

ये स्थिति बहुत आम है। चार सेV चौदह वर्ष तक की उम्र के बच्चों को ये समस्या ज्यादा प्रभावित करती है। इससे जुड़ी और किसी जानकारी के लिए डॉक्टर से जरूर मिलें।

यह भी पढ़ें : Lung Cancer : फेफड़े का कैंसर क्या है?

लक्षण

टीनिया कैपिटिस के क्या लक्षण हो सकते हैं?

प्रभावित क्षेत्र में आपको बाल टूटने और झड़ने की समस्या हो सकती है। जिस जगह से बाल गायब होंगे वहां पर काले रंग के अणु दिखाई दे सकते हैं। इनसे दोबारा संक्रमण हो सकता है।

इसके अलावा ये लक्षण देखे जा सकते हैं :

बहुत गंभीर मामलों पस भरे उभार दिख सकते हैं। इनके फूटने पर बहुत अधिक बाल झड़ेंगे, दर्द होगा और निशान भी पड़ सकते हैं।

इस विषय से जुड़ी किसी भी और जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से मिलें।

यह भी पढ़ें : Liver Disease : लिवर की बीमारी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

टीनिया कैपिटिस के क्या कारण हो सकते हैं?

स्कैल्प में फंगल संक्रमण डर्मैटोफाइट्स ( Dermatophytes ) की वजह से होता है। सिर पर गंदगी, पसीना और धुल इस बैक्टीरिया की बढ़त को बढ़ावा देते हैं। फंगस अधिकतर नाखूनों, बालों और निर्जीव टिशूज को प्रभावित करती है।

अगर आप किसी संक्रमित व्यक्ति का सामान जैसे कि कंघी, तकिया और तौलिया इस्तमाल कर रहे हैं तो भी आपको इस संक्रमण का खतरा हो सकता है। बच्चों को ये संक्रमण ज्यादा प्रभावित करता है। कुत्ते , बिल्ली और पालतू जानवर भी इस संक्रमण को बढ़ावा दे सकते हैं।

इन जानवरों में इस बीमारी के लक्षण नहीं दिखेंगे लेकिन ये इस बीमारी को फैलाने का काम करते हैं।

खतरों के कारण

टीनिया कैपिटिस के क्या लक्षण हो सकते हैं?

गर्म, नम और गंदगी वाली जगहों पर टीनिया कैपिटिस की समस्या हो सकती है। बहुत ज्यादा भीड़ वाली जगहों पर इस संक्रमण के फैलने की आशंका ज्यादा होती है। डायबिटिक, HIV संक्रमित और कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों को ये संक्रमण ज्यादा प्रभावित करेगा।

और अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर की सलाह लें।

यह भी पढ़ें : Scabies : स्केबीज क्या है?

जांच और इलाज

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सा परामर्श का विकल्प नहीं है। सही सलाह के लिए अपने डॉक्टर की सलाह लें।

टीनिया कैपिटिस की जांच कैसे की जा सकती है ?

आमतौर पर डॉक्टर आपके स्कैल्प की स्थिति देखकर फंगल संक्रमण का पता लगाएंगे। अगर इससे कुछ साफ नहीं होता है तो बालों का सैंपल भी लिया जा सकता है। इसे माइक्रोस्कोप में देखने पर फंगस साफ दिखाई देगी। और संक्रमण की पुष्टि की जा सकती है। इसमें तीन से चार हफ्तों का समय लग सकता है।

टीनिया कैपिटिस का इलाज कैसे किया जा सकता है ?

एंटीफंगल दवाएं

ग्रीसियोफल्विन (griseofulvin) और लेमिसिल (Lamisil) एंटीफंगल दवाओं से टेनिया कैपिटिस का इलाज संभव है। ओरल दवाएं इलाज के लिए छह हफ्तों का समय लेंगी और इनके कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। कभी-कभी आपका पेट खराब हो सकता है। किसी अत्याधिक फैट युक्त खाद्य पदार्थो के साथ लेने पर ये दवाएं कोई भी हानिकारक प्रभाव नहीं डालेंगी।

ग्रीसियोफल्विन के हानिकारक प्रभाव कुछ इस प्रकार हो सकते हैं :

टर्बिनाफाइन (terbinafine ) के घातक प्रभाव कुछ इस प्रकार हैं।

  • पेट दर्द होना।
  • खुजली होना।
  • स्वाद बदलना।
  • सिर दर्द होना
  • बुखार होना।
  • लिवर में परेशानी होना।
  • मेडिकेटिड शैम्पू के उपयोग से भी आप फंगल संक्रमण को रोका जा सकता है। कीटोकोनाजोल (ketoconazole or selenium sulfide.) युक्त शैम्पू से भी इस फंगल संक्रमण से राहत मिल सकती है।
  • डॉक्टर आपको इस शैम्पू का उपयोग कम से कम दो हफ्तों तक करने को कहेंगे।

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू नुस्खे

किन बदलावों से आप संक्रमण से बच सकते हैं :

  • पालतु जानवरों में रिंगवर्म की जांच करते रहें। इससे संक्रमण का खतरा टाला जा सकता है।
  • अगर घर पर किसी को ये समस्या है, तो उन्हें मेडिकेटिड शैम्पू इस्तमाल करने को कहें।
  • अपना निजी सामान जैसे तौलिया, ब्रश, कंघी आदि सब के साथ न बाटें।
  • सिरका आदि से इलाज करने की कोशिश न करें ये स्थिति को और अधिक खराब कर सकते हैं।
  • रिंगवर्म ठीक होने में समय लेता है इसलिए शांति रखें और डॉक्टर की दी हुई सलाह का पालन करें।

और किसी सवाल या जानकारी के लिए डॉक्टर से मिलें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी चिकित्सा परामर्श , जांच और इलाज की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें : Tonsillitis: टॉन्सिलाइटिस क्या है ? जाने इसके कारण लक्षण और उपाय

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख सितम्बर 10, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया नवम्बर 29, 2019

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे