Amino Acid Profile : अमीनो एसिड प्रोफाइल क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 13, 2020
Share now

जानें मूल बातें

अमीनो एसिड प्रोफाइल (Amino Acid Profile) क्या है?

अमीनो एसिड प्रोफाइल एक टेस्ट है, जिसका उपयोग शरीर में अमीनों एसिड की जांच करके अमीनो एसिड में मेटाबॉलिज्म की असामान्यताओं का निदान करने के लिए किया जाता है। अमीनो एसिड ऐसा पदार्थ है जो आपके शरीर में प्रोटीन, हार्मोन, न्यूक्लिक एसिड बनाता है। इसके अलावा यह न्यूरोट्रांसमीटर और एंजाइम्स के रूप में काम करते हैं। अमीनों एसिड आपके रोज़मर्रा के भोजन से अवशोषित किया जाता है। आपके शरीर में प्रवेश करने के बाद यह दूसरे अमीनो एसिड्स में बदल जाते हैं। आठ तरह के अमीनो एसिड होते हैं जिन्हें आपका शरीर सिंथेसाइज नहीं कर पाता। ये आठ प्रकार के अमीनो एसिड आपकी डेली डायट में होने चाहिए।

यदि अमीनो एसिड के मेटाबॉलिज्म या उसे ले जाने की प्रक्रिया में कोई खराबी होती है, तो अमीनो एसिड ब्लड या यूरिन या दोनों में होगा। अमीनो एसिड से जुड़ी बीमारियों के परिणाम बहुत सामान्य या गंभीर हो सकते हैं (मानसिक विकास में बाधा, विकास में देरी आदि)।

अमीनो एसिड के असामान्य मेटाबॉलिज्म से जुड़ी बीमारियां फेनिलकेटो यूरिया सिरप यूरीन डिसीज रोग (एमएसयूडी), होमोसिस्टिन यूरिनरी और सिस्टिक फाइब्रोसिस हैं।

अमीनो एसिड प्रोफाइल क्यों किया जाता है?

डॉक्टर यह टेस्ट करता है, यदि उसे संदेह होता है कि :

  • आपके शरीर में अमीनो एसिड के असामान्य मेटाबॉलिज्म से संबंधित जन्मजात बीमारी है, जैसे- यूरीन फेनिलकीटोन्यूरिया (पीकेयू), सिरप यूरीन डिसीज (एमएसयूडी), होमोसिस्टिन यूरिनरी और सिस्टिक फाइब्रोसिस।
  • उपचार प्रभावी है या नहीं इस बात की निगरानी करने के लिए
  • आपकी पोषण स्थिति अच्छी है या नहीं इस बात की समीक्षा करने के लिए।

अमीनो एसिड प्रोफाइल में ये सारे टेस्ट शामिल होते हैं:

  • एसेंशियल इनडिसपेंसेबल एमीनो एसिड (Essential indispensible amino acids)
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल मार्कर्स (Gastrointestinal markers)
  • मैग्नीशियम डिपेंडेंट मार्कर्स (Magnesium-dependent markers)
  • डिटॉक्सिफिकेशन मार्कर्स (Detoxification Markers)
  • न्यूरोलोजिकल मार्कर्स (Neurological markers)
  • यूरिया साइकिल मेटाबॉलिटिस (Urea cycle metabolites)
  • नॉन एसेंशियल एमीनो एसिड (Nonessential amino acids)
  • बी 6, बी 12 और फोलेट डिपेंडेंट मार्कर्स (B6, B12 & Folate-dependent markers)

यह भी पढ़ें: विटामिन-ई की कमी को न करें नजरअंदाज, डायट में शामिल करें ये चीजें

पहले जानने योग्य बातें

अमीनो एसिड प्रोफाइल से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

  • अमीनो एसिड का कॉन्सन्ट्रेशन दिन में बदलता रहता है। सुबह इसका स्तर सबसे कम और दोपहर में सबसे अधिक होता है।
  • प्रेग्नेंसी में अमीनो एसिड का कॉन्सन्ट्रेशन सामान्य से कम हो जाता है।
  • बिस्मथ, हेपरिन, स्टेरॉयड और सल्फोनामाइड्स जैसी दवाएं अमीनो एसिड का स्तर बढ़ा देती हैं।
  • एस्ट्रोजन और ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स अमीनो एसिड का स्तर कम कर देती हैं।

इस टेस्ट से पहले इससे संबंधित एहतियात और क्या सावधानी बरतनी है इसे समझना ज़रूरी है। यदि आपके मन में कोई प्रश्न है, तो अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

यह भी पढ़ें : टेस्टिक्युलर बायोप्सी क्या है?

जानिए क्या होता है

अमीनो एसिड प्रोफाइल के लिए कैसे तैयारी करें?

टेस्ट से पहले डॉक्टर आपसे पूछेगा आपके-

  • लक्षणों के बारे में
  • अमीनो एसिड डिसऑर्डर से पीड़ित परिवार के अन्य सदस्यों के बारे में

ब्लड सैंपल देने से पहले आपको आमतौर पर 12 घंटे पहले ही खाना-पीना बंद करना होता है।

आपको छोटी बांह के कपड़े पहने चाहिए ताकि नर्स को आपकी बांह से ब्लड सैंपल लेने में आसानी हो।

टेस्ट के लिए 12 घंटे फास्ट के बाद आपके शरीर में से 7 मिलीलीटर ब्लड लिया जाता है।

अमीनो एसिड प्रोफाइल के दौरान क्या होता है?

इस टेस्ट को करने के लिए डॉक्टर

  • बांह के ऊपर एलास्टिक बैंड बाधेगा ताकि रक्त का प्रवाह रुक जाएगा
  • रक्त निकालने वाली जगह को दवा से साफ करेगा
  • नस में इंजेक्शन लगाएगा। जरूरत होने पर इंजेक्शन एक से अधिक बार लगाया जा सकता है।
  • सुई के साथ एक ट्यूब अटैज होती है जिसमें ब्लड जमा होता है
  • पर्याप्त रक्त लेने के बाद बांह पर बंधे एलास्टिक बैंड को निकाल दिया जाएगा।
  • इंजेक्शन लगाने वाली जगह पर रूई या पट्टी लगा दी जाती है।

यदि टेस्ट यूरीन सैंपल से किया जाना है तो विशेषज्ञ आपको सुबह उठने के बाद पहले यूरीन का सैंपल लाने के लिए कहेंगे।

अमीनो एसिड प्रोफाइल के बाद क्या होता है?

डॉक्टर या नर्स टेस्ट के लिए ब्लड सैंपल ले लेते हैं। इसमें आपको कितना दर्द होगा यह नर्स के अनुभव, आपकी नसों की स्थिति और दर्द के प्रति आप कितने संवदेनशील है इस बात पर निर्भर करती है।

टेस्ट के बाद सुई लगाने वाली जगह पर पट्टी लगाकर उसपर दबाव देना होता है ताकि ब्लीडिंग रुक जाए। टेस्ट के बाद आप अपनी सामान्य दिनचर्या शुरू कर सकते हैं।

अमीनो एसिड प्रोफाइल टेस्ट से जुड़े किसी सवाल और इसे बेहतर तरीके से समझने के लिए, कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

यह भी पढ़ें: Intestinal obstruction: इंटेस्टाइनलऑबस्ट्रक्शन क्या है ?

परिणामों को समझें

मेरे परिणामों का क्या मतलब है?

सामान्य परिणाम

अलग-अलग अमीनो एसिड के लिए सामान्य वैल्यू अलग-अलग होती है और सिर्फ बेहद असामान्य परिणाम ही जेनेटिक कोरोबोर्शन के बिना जेनेटिक डायग्नोस यानी निदान दे सकते हैं।

व्यस्कों की तुलना में नवजात शिशु और बच्चों में अमीनो एसिड का स्तर अधिक होता है।

असामान्य परिणाम

रक्त में अमीनो एसिड आने का कारण हो सकते हैं-

  • विशिष्ट अमीनो एसिड से जुड़े रोग (जैसे, PKU, सिरप यूरीन डिसीज);
  • ब्लड डिसीज विशिष्ट अमीनो एसिड (जैसे-यूरिनरी ग्लटैरिक एसिड)।

यूरीन में अमीनो एसिड का स्तर डिसीज स्पेसिक यूरिनरी अमीनो एसिड्स (जैसे- यूरिनरी सिस्टिन, यरिनरी होमोसिस्टिन) के कारण बढ़ सकता है।

अमीनो एसिड का कॉन्सन्ट्रेशन इन कारणों से कम हो सकता है:

सटीक निदान के लिए डॉक्टर को क्लिनिकल एग्जामिनेशन के साथ ही दूसरे टेस्ट भी करने चाहिए। निदान कितना सटीक है जानने के लिए आपको अपने परिणाम के बाद डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए

सभी लैब और अस्पताल के आधार पर अमीनो एलिड प्रोफाइल की सामान्य सीमा अलग-अलग हो सकती है। परीक्षण परिणाम से जुड़े किसी भी सवाल के लिए कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी तरह की चिकित्सा सलाह, निदान और उपचार प्रदान नहीं करता है।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में अमीनो एसिड प्रोफाइल से जुड़ी ज्यादातर जानकारियां देने की कोशिश की है, जो आपके काफी काम आ सकती हैं। अगर आपको ऊपर बताई गई कोई सी भी शारीरिक समस्या है तो आपका चिकित्सक आपको अमीनो एसिड प्रोफाइल टेस्ट रिकमेंड कर सकता है। अमीनो एसिड प्रोफाइल से जुड़ी यदि आप अन्य जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं। आपको हमारा लेख कैसा लगा यह भी आप हमें कमेंट कर बता सकते हैं।

और पढ़ें :-

जानें क्या है हेमाटोक्रिट टेस्ट?

Iron Test : आयरन टेस्ट क्या है?

Liver biopsy: लिवर बायोप्सी क्या है?

Ibugesic Plus : इबूगेसिक प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    जानिए कैसे वजन घटाने के लिए काम करता है अश्वगंधा

    वेट लॉस के लिए अश्वगंधा के प्रयोग की जानकारी in hindi. अश्वगंधा शरीर का मेटाबॉलिज्म रेट को हाई करता है। इस कारण से शरीर का फैट तेजी से घटने लगता है।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi

    बच्चों के मुंह के अंदर हो रहे दाने हो सकते हैं ‘हैंड फुट माउथ डिजीज’ के लक्षण

    हैंड फुट माउथ डिजीज क्या है, इसके लक्षण, कारण और उपाय, हैंड फुट माउथ डिजीज ट्रीटमेंट, hand foot mouth disease in hindi, जानें....

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Lucky Singh

    कॉन्ट्रासेप्टिव पैच (Contraceptive patch) क्या है? जानिए इसके फायदे और नुकसान

    कॉन्ट्रासेप्टिव पैच क्या है,कॉन्ट्रासेप्टिव पैच का इस्तेमाल क्यों करते हैं, जानें इसके फायदे और नुकसान. रिस्क फैक्टर, पैच के लिए डॉक्टर से कब मिलें

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Mona Narang

    Thyroid Biopsy: थायरॉइड बायोप्सी क्या है?

    जानिए थायरॉइड बायोप्सी की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Thyroid Biopsy क्या होता है, थायरॉइड बायोप्सी के रिजल्ट और परिणामों को समझें।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Kanchan Singh