home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

सारा अली खान की तरह आप भी पीसीओडी की प्रॉब्लम को इस तरह से कर सकती हैं कंट्रोल

सारा अली खान की तरह आप भी पीसीओडी की प्रॉब्लम को इस तरह से कर सकती हैं कंट्रोल

पीसीओडी (PCOD) यानि कि पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर महिलाओं में होने वाली आम समस्या है जो हार्मोन का संतुलन बिगड़ने के कारण होती है। इस समस्या में महिलाओं के अंडाशय (Ovary) पर सिस्ट बनने लगते हैं, जिसकी वजह से उनका वजन या तो बहुत घटने या बढ़ने लगता है। अधिकांश मामलों में वजन बढ़ता ही है। इसके कारण प्रेग्नेंसी में भी दिक्कते आती हैं और पीरियड्स संबंधी समस्या भी होने लगती है। आंकड़ों के मुताबिक, वर्तमान समय में हर 10 में से 2 महिला पीसीओडी की समस्या से जूझ रही हैं। अभिनेत्री सारा अली खान भी इसी समस्या से ग्रस्त हैं, बावजूद इसके उन्होंने संतुलित आहार और एक्सरसाइज की मदद से उन्होंने अपना वजन 96 किलों से घटाकर 54 किलो कर लिया। सारा उन सभी महिलाओं के लिए एक प्रेरणा हैं जो पीसीओडी की वजह से बढ़े वजन के कारण परेशान हैं और जिन्हें लगता है कि मोटापा कम करना उनके लिए मुमकिन नहीं। कैसे सारा की तरह आप भी बैलेंस डायट और एक्सरसाइज के जरिए पीसीओडी की समस्या से निपट सकती हैं जानिए यहां।

क्या है पीसीओडी?

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर या पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओडी) महिलाओं को होने वाली एक बहुत ही आम बीमारी है जिसमें उनके अंडाशय पर कई सिस्ट (गांठ) बन जाते हैं। इन गांठों की वजह से महिलाओं को अनियमित पीरियड्स की समस्या हो जाती है जिससे आगे चलकर प्रेग्नेंसी में भी मुश्किलें आ सकती। पीसीओडी में महिलाओं के शरीर में पुरुष हार्मोन एंड्रोजन का लेवल बढ़ जाता है। इसी हार्मोन की अधिकता से पीरियड संबंधी परेशानी और अंडाशय में समस्या पैदा हो जाती है। पीसीओडी चूकि हार्मोनल असंतुलन की वजह से होता है इसलिए आप इसे पूरी तरह से रोक तो नहीं सकती हैं, लेकिन हां सही लाइफस्टाइल, डायट और एक्सरसाइज की मदद से इसे काफी हद तक कंट्रोल जरूर किया जा सकता है। जैसा कि अभिनेत्री सारा अली खान ने किया।

यह भी पढ़ें- पालक से शिमला मिर्च तक 8 हरी सब्जियों के फायदों के साथ जानें किन-किन बीमारियों से बचाती हैं ये

पीसीओडी को कंट्रोल करने के आप भी अपनाएं सारा अली खान के खास टिप्‍स

डांस और योग

डांस एक बेहतरीन एक्सरसाइज है जिसमें आपके पूरे शरीर का मूवमेंट होता है। सारा ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि वजन कम करने के लिए उन्होंने न सिर्फ जिम में जमकर पसीना बहाया, बल्कि वह खूब डांस भी करती हैं, खासतौर पर कत्थक से उन्होंने सेक्सी फिगर पाया। सारा ने बॉडी को टोनअप करने के लिए अपनी रूटीन में योग को भी शामिल किया। सूर्य नमस्कार और प्राणायाम भी उन्होंने अपने वर्कआउट रूटीन का हिस्सा बनाया।

खेल कूद भी है फायदेमंद

सारा ने वजन घटाने के लिए कोई एक रूल नहीं बनाया, बल्कि डायट और वर्कआउट के साथ वह अपने पापा सैफ अली खान और भाई के साथ 1-2 घंटे टेनिस भी खेलती थीं। इसके अलावा उन्हें भाई के साथ रग्बी खेलने में भी खूब मजा आता था।

एक दिन में नहीं हुआ कमाल

सारा अली खान का वजन 96 से 54 किलो रातोरात किसी चमत्कार से नहीं हुआ, बल्कि इसके लिए उन्होंने सालों तक वेट लॉस प्लान को फॉलो किया खूब मेहनत की। अपनी फिटनेस ट्रेनर निमरत कौर के साथ उन्होंने पिलेट्स भी खूब किया।

हाई प्रोटीन डाइट

सारा अली ने अपनी डायट से हाई कार्बोहाइड्रेट वाली चीजों को हटा दिया और इसकी जगह लो कार्ब और हाई प्रोटीन डायट ली। फाइबर के लिए वह फल खाती थीं, जबकि बॉडी को डिटॉक्स करने के लिए कई तरह के ड्रिंक उनके लिए घर पर ही तैयार किए गएं, जैसे धनिया और जीरा का पानी, ग्रीन स्मूदी जिसे कई तरह की सब्जियों और फल को मिला बनाया जाता था। सारा सुबह उठने के बाद ग्रीन टी या गरम पानी में नींबू और शहद डालकर पीती थीं।

यदि आप भी पीसीओडी की वजह से मोटापे का शिकार हो गई हैं तो इस रूटीन को फॉलो करके काफी हद तक वजन कम कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें- हर उम्र में दिखना है जवां, तो अपनाएं कोलेजन डायट

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम(PCOS) के लक्षण

किसी महिला का पीसीओडी होने पर निम्न लक्षण दिखते हैः

पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं

पीसीओडी की वजह से कुछ महिलाओं को बहुत कम तो किसी को हैवी ब्लीडिंग की समस्या हो जाती है। यदि समय रहते पीसीओडी का इलाज नहीं करवाया गया तो पीरियड्स आना बंद भी हो सकता है, जिससे महिलाओं को गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

शरीर पर अनचाहे बाल निकलना

पीसीओडी में लड़कियों/महिलाओं के शरीर में पुरुष हार्मोन का लेवल बढ़ जाता है जिसकी वजह से उनके चेहरे, छाती, पेट, हाथ और पैर की उंगलियों पर ज्यादा बाल उग आते हैं।

वजन बढ़ना

यही पीसीओडी का मुख्य लक्षण है कुछ महिलाओं का वजन कम होता है, जबकि अधिकांश महिलाओं का वजन इस बीमारी के चलते लगातार बढ़ता चला जाता है और आसानी से वजन घटता भी नहीं है।

पिंपल्स निकलना

इस बीमारी की वजह से महिलाओं के चेहरे पर ढेर सारे मुहांसे आने लगते हैं, साथ ही उनके चेहरे और शरीर में कई तरह के बदलाव आते हैं।

अन्य लक्षणों में शामिल हैं-

  • आवाज भारी होना
  • बाल झड़ना
  • मूड स्विंग
  • सिरदर्द
  • नींद न आना
  • त्वचा संबंधी बीमारी
  • इन्फर्टिलिटी या गर्भ न ठहरना
  • पेल्विक में दर्द होना

यह भी पढ़ें- वेट लॉस के लिए साउथ इंडियन फूड करेंगे मदद

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम(PCOS) के कारण

पीसीओडी के लिए किसी एक चीज को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। यह कई वजहों से हो सकता हैः

  • जानकारों का मानना है कि पीसीओडी की सबसे बड़ी वजह है गलत लाइफस्टाइल
  • नींद पूरी न होना
  • फास्ट और जंक फूड जैसे पिज्जा, चाउमिन, बर्गर, मोमोज, चाट-पकौड़ी आदि अधिक खाना
  • बहुत तनाव
  • सही समय पर खाना नहीं खाना
  • एक्सरसाइज न करना

पीसीओडी का इलाज

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर का कोई परमानेंट इलाज नहीं है। बस इसके लक्षणों को कम करके बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकता है। हर महिला के लिए एक उपचार नहीं है, डॉक्टर किसी महिला का व्यक्तिगत परीक्षण करके इलाज का तरीका निर्धारित करता है। इसके अलावा अपनी कुछ आदतों और जीवनशैली में बदलाव करके भी आप इसके लक्षणों को कम कर सकती हैं जैसे-

  • रोजाना एक्सरसाइज की आदत
  • हेल्दी और बैलेंस डायट
  • डायट, एक्सराइज से वजन कम करने की कोशिश। दरअसल, पीसीओडी से पीड़ित महिला यदि अपना वजन थोड़ा कम कर लेती हैं पीसीओडी के लक्षण कुछ हद तक कम हो जाते हैं।
  • पीसीओडी से पीड़ित महिलाओं को डायबिटीज का भी खतरा हो सकता है, इसलिए मीठी चीजों का सीमित मात्रा में सेवन करें। प्रोटीन और फाइबर से भरपूर चीजें ज्यादा खाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित
अपडेटेड 12/08/2020
x