क्या हार्मोन डायट से कम हो सकता है मोटापा?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट August 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

जब भी वजन कम करने या फिट रहने की बात आती है तो कई तरह के डायट चार्ट्स और फिटनेस प्रोग्राम के विकल्प हमारे सामने आ जाते हैं। कुछ दिनों पहले चर्चा में रही कीटो डायट (कम कार्बोहाइड्रेट, उच्च वसा) और कार्निवोर डायट (carnivore diet) को ज्यादातर लोग जानते ही हैं। लेकिन, एक और डायट जो हाल ही में सुर्खियों में आई है, वह है “हार्मोन डायट” है। कुछ लोग अपने हार्मोन्स के असंतुलन के चलते मोटापा कम नहीं कर पाते हैं। यह डायट ऐसे लोगों के लिए मददगार साबित हो रही है।

और पढ़ें: वजन कम करने में चमत्कारी फायदे देता है दलिया, जानिए कैसे

क्या हैं हार्मोन डायट (Hormone Diet)?

हार्मोन डायट का पहला फोकस रहता है हार्मोन के उतार-चढ़ाव को कम करना क्योंकि माना जाता है हार्मोन का असंतुलन किसी भी व्यक्ति के वजन को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। हालांकि, यह डायट वजन बढ़ाने और अन्य हेल्थ बेनिफिट्स में भी योगदान करती है।

हार्मोन डायट छह-सप्ताह तक तीन चरणों में चलने वाली प्रक्रिया है। इस डायट प्लान को हार्मोन को सिंक करके आहार, व्यायाम, न्यूट्रिशनल सप्प्लिमेंट और डिटॉक्स के माध्यम से स्वस्थ शरीर को बढ़ावा देने के लिए डिजाइन किया गया है। डायट आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन को नियंत्रित करने के साथ ही उसका समय भी निर्धारित करती है जिससे आपके हार्मोन को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके।

फेज-1 

डायट शुरू करने के पहले चरण में दो सप्ताह तक शरीर का “डिटॉक्सिफिकेशन” होता है। इस फेज में ग्लूटेन युक्त अनाज, गाय के दूध से बने डेयरी प्रोडक्ट्स, एल्कोहॉल, कैफीन, मूंगफली, चीनी, अर्टिफिशियल स्वीटनर्स, रेड मीट और खट्टे फल खाने से मना कर दिया जाता है। इसकी बजाय नेचुरल ग्लूटेन युक्त फूड्स, सब्जियां, फल, फलियां, नट्स, पोल्ट्री, मछली, सोया, अंडे जैसे कई खाद्य पदार्थ शामिल करने की सलाह दी जाती है।

और पढ़ें: अर्ली मेनोपॉज से बचने के लिए डायट का रखें ख्याल

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

फेज-2 

दो सप्ताह के डिटॉक्स के बाद फेज-2 में उन आहारों में से कुछ को अपनी डायट में शामिल करने की सलाह देता है जिससे यह पता चल सके कि आपका शरीर उनके प्रति कैसी प्रतिक्रिया दे रहा है। हालांकि, डायट ऐसे पदार्थों को खाने की मनाही रहती है जिससे हार्मोन्स का संतुलन बिगड़ सकता है। हार्मोन डायट के दूसरे चरण में उच्च फ्रक्टोज जैसे-कॉर्न सिरप, हाई मरकरी फिश, किशमिश, खजूर, मूंगफली जैसे फूड प्रोडक्ट्स शामिल हैं। 

फेज-3 

हार्मोन डायट के तीसरे चरण में कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज (cardiovascular exercise) और स्ट्रेंथ ट्रेनिंग (strength training) से संपूर्ण शारीरिक और मानसिक हेल्थ ध्यान दिया जाता है। वहीं, दूसरे चरण की आहार योजना तीसरे चरण में भी जारी रहती है।

और पढ़ें: प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए डायट चार्ट, जानें क्या और कितना खाना है?

क्या कहना है डॉक्टर का?

डॉक्टर श्रुति श्रीधर (कंसल्टिंग होमियोपैथ एंड क्लिनिकल नूट्रिशनिस्ट) का कहना है कि “हार्मोन डायट वजन कम करने में मदद कर सकती है क्योंकि इसमें कैलोरी कम होती है। लेकिन, हार्मोन डायट, ‘हार्मोन को संतुलित करती है या नहीं’ इस बारे में अभी कोई भी वैज्ञानिक परिणाम नहीं मिले हैं। इसलिए, आपको एक स्वस्थ आहार लेना चाहिए, जो प्रिजर्वेटिवस फ्री हो। इसके साथ ही प्रोसेस्ड फूड्स का सेवन न करें। इसके अलावा हेल्दी लाइफ के लिए पर्याप्त व्यायाम के साथ आवश्यक पोषक तत्वों को लाइफस्टाइल में शामिल करें।”

हालांकि, हार्मोन डायट में यह बताया गया है कि यह कैसे शरीर पर काम करती है लेकिन, हार्मोन डायट से मोटापा कम होता है, इस बारे में अभी कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं मिले हैं। हो सकता है यह डायट कई लोगों के लिए लंबे समय तक काम न करें।

मोटापा घटाने की अन्य विधियां क्या हैं?

मोटापा कम करने के लिए कई विकल्प आपको मिल सकते हैं। जिसमें जिम जाना, तरह-तरह की डायट फॉलो करना और सर्जरी के विकल्प भी आपको मिल सकते हैं। हालांकि, आपके लिए कौन सा विकल्प सबसे सुरक्षित और लाभकारी हो सकता है, यह पूरी तरह से आपके शारीरिक स्वास्थ्य, दैनिक आहार और लाइफ स्टाइल पर निर्भर कर सकता है। अगर आप बिना किसी स्पेशल जिम ट्रेनिंग या डायट के बगैर ही अपने बढ़े हुए वजन को कम करना चाहते हैं, तो आप निम्न बातों का भी ध्यान रख सकते हैं, जैसेः

कम से कम कैलोरी का सेवन करें

अपने दैनिक आहार में उन खाद्य पदार्थों को शामिल करें जिनमें कैलोरी की मात्रा कम से कम पाई जाती हो। इसके लिए आप अपने आहार में प्रोटीन, साबूत अनाज, सब्जियां और फलों को शामिल कर सकते हैं। आपके बढ़े वजन को कम करने के लिए किस तरह के खाद्य पदार्थ आपके लिए लाभकारी हो सकते हैं, इसका चुनाव करने से पहले अपने डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ की परामर्श अवश्य लें।

और पढ़ें: कीटो डाइट प्लान क्या है? क्या इसे ​फॉलो करना सेफ है?

भरपूर मात्रा में पानी पीएं

दिन की शुरूआत आपको एक गिलास पानी पीने से करनी चाहिए। साथ ही, आपको अपने पानी पीने की आदत में बदलाव लानी चाहिए। अगर आपको लगता है कि आपके मोटापे का सबसे मुख्य कारण आपका अधिक आहार खाना है, तो पानी पीने की आदत इसमें आपकी कुछ मदद कर सकती है। जब भी आपके हल्की-हल्की भूख महसूस हो, तो आपको पानी पीने की आदत डालने चाहिए। साथ ही, अपने लंच और डिनर करने के समय से आधे घंटे पहले ही आपको भर पेट पानी पीना चाहिए। जिससे आप कम भूख महसूस हो और आप आसानी से अपने भूख को कंट्रोल कर सकें।

उचित उपचार लें

कुछ स्वास्थ्य समस्याओं जैसे, कोई क्रोनिक डिजीज, डायबिटीज, बीपी की समस्या आदि में नियमित तौर पर कुछ दवाओं का सेवन करना पड़ सकता है। इस तरह की दवाएं भी वजन बढ़ाने और मोटापे का कारण बन सकती हैं। अगर आपको ऐसी कोई स्वास्थ्य स्थिति है, जिसके लिए आप दैनिक तौर पर निर्धारित दवा का सेवन कर रहे हैं और आपको लगता है कि, इन दवाओं के कारण आपका वजन बढ़ रहा है, तो आपको इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

शरीर को फुर्तीला बनाएं

अगर आप आलसी हैं और बैठे-बैठे ही हर कार्य कर लेना चाहते हैं, तो आपके वजन में तेजी से इजाफा होने की संभावना भी बढ़ जाती है। इसलिए अपने मोटापे की समस्या को कम करने के लिए अपने शरीर को फुर्तीला बनाएं। दिन में थाड़ी बहुत फिजिकल एक्टीवटीज करें, ताकि शरीर में जमे एक्ट्रा फैट को आसानी से आपका शरीर बर्न कर सके।

तनाव से रहे दूर

तनाव एक ऐसी स्थिति है जो व्यक्ति को शारीरिक और मानसिक दोनों ही तरह से बीमार कर सकता है। इसलिए तनाव से खुद को दूर रखें। तनाव से बचे रहने के लिए आप योग और मेडिटेशन का भी सहारा ले सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Raspberry Ketones: वजन कम करने के साथ ही बहुत से फायदे पहुंचा सकता है ये सप्लिमेंट

रास्पबेरी कीटोंस का इस्तेमाल वेट लॉस सप्लिमेंट के रूप में किया जाता है। अभी इस विषय में अधिक रिसर्च की जरूरत है। raspberry ketones

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
दवाइयां और सप्लिमेंट्स A-Z February 8, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

मसल्स ग्रोथ से लेकर वेट मेंटेनेंस तक, ये प्रोटीन पहुंचा सकता है आपको बहुत से फायदे

व्हे प्रोटीन के हेल्थ बेनीफिट्स एक नहीं बल्कि अनेक है। अगर व्हे प्रोटीन की सही मात्रा ली जाएं, तो मसल्स ग्रोथ के साथ ही वेट मेंटेन रहता है। Health Benefits of Whey Protein

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
दवाइयां और सप्लिमेंट्स A-Z February 8, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

बढ़ते वजन की गाड़ी में ब्रेक लगा सकती हैं होम्योपैथिक दवाएं

वेट लॉस के लिए होम्योपैथिक दवाएं प्रभावी असर दिखाती हैं। वजन कम करने के लिए लाइफस्टाइल में बदलाव के साथ ही अन्य उपाय भी किए जा सकते हैं। homeopathy for weight loss

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

क्या आप वेट लॉस करना चाहते हैं?

वेट लॉस सर्वे : अगर आपका भी वजन लॉकडाउन में बढ़ गया है और आप इसे कम करने के आसान तरीके जानना चाहते हैं। तो लीजिए इन आसान सवालों का दें जवाब...

के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal

Recommended for you

मेरिट्रीम सप्लीमेंट क्या है (Meratrim Supplement)

मेरिट्रीम सप्लीमेंट क्या है, क्या यह वजन कम करने में मददगार है?

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ February 26, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
पुरुषों के लिए हॉर्मोन डायट/hormone diet for men

पुरुषों के लिए हॉर्मोन डायट क्यों जरूरी है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कम उम्र के इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, Erectile Dysfunction in young men

कम उम्र के पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के क्या हो सकते हैं कारण?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ February 9, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन और विटामिन-erectile-dysfunction-aur-vitamins

पुरुषों में होने वाले इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन की समस्या को विटामिन के सेवन से कर सकते हैं कम

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
प्रकाशित हुआ February 9, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें