home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कीटो डायट प्लान क्या है? जानिए इसके फायदे और नुकसान

कीटो डायट प्लान क्या है? जानिए इसके फायदे और नुकसान

क्या होता है कीटोसिस और कैसे काम करती है कीटो डायट (Ketosis Diet)?

कीटोसिस एक सामान्य मेटाबोलिज्म की प्रक्रिया है, जो आपके शरीर के पाचन तंत्र को बेहतर करती है। कीटो डायट (Ketosis Diet) लेने से आपके लिवर में कीटोन बनना शुरू हो जाते हैं जिन्हें आपका शरीर ऊर्जा के लिए इस्तेमाल करने लगता है। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो इसमें कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) कम और फैट ज्यादा होता है इसीलिए जब हमारे शरीर में एनर्जी बनाने के लिए भोजन में पर्याप्त कार्बोहाइड्रेट नहीं मिलता तो फैट बर्न होता है। इस प्रक्रिया में हमारे शरीर में कीटोन बनता है। आज हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में हम आपको कीटो डायट से जुड़ी जरूरी बाते बताएंगे। पहले जानेंगे कि कीटो डायट (Keto Diet) है क्या? साथ ही कीटो डायट के फायदे (Benefits of Keto Diet) जानेंगे और कीटो डायट के नुकसान (Side effects of Keto diet) भी जानेंगे।

कीटो डायट प्लान (Keto Diet) एक कम कार्ब्स और ज्यादा फैट वाली डायट है। जब भी हम कोई आहार ग्रहण करते हैं, तो हमारा शरीर उसे ग्लूकोज और इंसुलिन में बदलकर उससे एनर्जी लेता है लेकिन, इस प्रॉसेस में बचा हुआ ग्लूकोज फैट में बदल जाता है। इससे मोटापा बढ़ने की संभावना होती है। कीटो डायट में यह प्रॉसेस अलग ढंग से होती है। कीटो डायट में कार्बोहाइड्रेट का सेवन कम करके फैट से एनर्जी का उत्पादन किया जाता है। इसी प्रॉसेस को कीटोसिस कहा जाता है। कीटो डायट प्लान में उच्च मात्रा में फैट, मध्यम प्रोटीन और काफी कम मात्रा में कार्ब्स होते हैं।

कीटो डायट कितने प्रकार की होती है? (Types of Keto Diet)

कीटो डायट के फायदे (Benefits of Keto Diet)

आमतौर पर कीटो डायट चार प्रकार की होती है, जैसे :

  • साइक्लिक केटोजेनिक डायट (CKD)
  • स्टैंडर्ड केटोजेनिक डायट एसकेडी
  • टार्गेटेड केटोजेनिक डायट (TKD)
  • हाई प्रोटीन केटोजेनिक डायट

इन सभी कीटो डायट (Keto diet) को फॉलो करने के अलग अलग तरीके हो सकते हैं। इन्हें किस तरह से फॉलो करना चाहिए और आपके लिए कौन सी कीटो डायट उपयुक्त रहेगी, इसके बारे में जानने के लिए आप अपने डायटीशियन से संपर्क कर सकते हैं। लेकिन कीटो डायट के फायदे क्या हैं, इस बारे में जानना भी ज्यादा जरूरी है। आइए नीचे जानते हैं कीटो डायट किस तरह शरीर को फायदा पहुंचा सकती है।

कीटो डायट के फायदे क्या हैं? (Benefits of Keto diet)

वजन कम करने में कीटो डायट के फायदे

वजन कम करने में भी कीटो डायट के फायदे हैं। कीटो डायट एक बेहतर डायट विकल्प है, लेकिन, हर किसी के लिए नहीं। कीटो डायट प्लान आपके शरीर को अधिक मात्रा में ऊर्जा प्रदान कर दिनभर आपको एक्टिव बनाए रखता है। यह उन लोगों के लिए बेहतर हो सकता है जो वजन घटाना चाहते हैं या फिर जो डायबिटीज (Diabetes) के मरीज हैं। लेकिन अगर आप वजन बढ़ाना (Weight gain) करना चाहते हैं, तो आपको कीटो डायट नहीं करनी चाहिए।

कोलेस्ट्रोल में कीटो डायट के फायदे

कोलेस्ट्रोल (Cholesterol) को ठीक करने में भी कीटो डायट के फायदे देखे गए हैं। कीटो डायट, ट्राइग्लिसराइड और अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाने में मदद करती है। इसमें कर्बोहाइड्रेट की मात्रा कम होती है और फैट ज्यादा होता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो जाता है।

और पढ़ें : उम्र के हिसाब से जरूरी है महिलाओं के लिए हेल्दी डायट

ब्लड प्रेशर (Blood pressure) में कीटो डायट के फायदे

ब्लड प्रेशर में भी कीटो डायट के फायदे देखे गए हैं। बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन कई बीमारियों का जोखिम बढ़ा देता है। जिसमें हार्ट डिजीज, स्ट्रोक और किडनी फेल होना शामिल है। लो कार्ब डायट ब्लड प्रेशर को कम करने का असरदार कारक है। जिससे आप एक अच्छी और हेल्दी लाइफ जी सकते हैं।

मिर्गी के मरीजों के लिए कीटो डायट के फायदे

मिर्गी (Seizures) के मरीज के लिए भी कीटो डायट के फायदे देखे गए हैं। कई बार यह भी साबित हुआ है कि कीटो डायट (Keto diet) मिर्गी के दौरे पड़ने में भी काफी साकारात्मक प्रभाव डालती है। यही कारण है कि मिर्गी के दौरे पड़ने वाले व्यक्ति को कीटो डायट फॉलो करने की सलाह दी जाती है। इसे किस तरह से करना है, इस बारे में अपने डॉक्टर से संपर्क करें, ताकि वो आपको बता सकें कि आपको किस तरह की कीटो डायट करनी चाहिए।

और पढ़ें : तीसरी तिमाही की डायट में महिलाएं इन चीजों को करें शामिल

क्या हो सकते हैं कीटो डायट के नुकसान? (Side effects of Keto Diet)

ऐसे तो इस डायट के कई नुकसान हो सकते हैं लेकिन विशेषज्ञों द्वारा पहचाने गए कुछ मुख्य नुकसान हम आपको बता रहे हैं:

1. शरीर में होती हैं ऐंठन

इसके सेवन के शुरुआती कुछ दिनों में आपको शरीर के कुछ हिस्सों और पैर में ऐंठन महसूस हो सकती है। इसका कारण यह है कि कीटो डायट के सेवन से शरीर में मैग्नीशियम की कमी हो जाती है पर आपको घबराने की जरुरत नहीं है। आप अपने आहार के साथ अधिक से अधिक पानी पिएं और नमक (Salt) का भी सेवन करें ताकि आपको मैग्नीशियम की कमी पूरी हो सके। इस डायट को जब आप शुरू करते हैं तब शरीर को इसकी आदत नहीं होती है। अत: शरीर में सुस्ती और थकान का अनुभव होना आम बात है। कुछ समय बाद जब शरीर डायट का आदी हो जाता है, तब आप सामान्य अनुभव करते हैं।

2. झड़ते हैं बाल

जी हां, अगर आप कीटो डायट (Keto diet) ले रहे हैं, तो आपको हेयर फॉल की समस्या हो सकती है। कीटो डायट लेने के बाद बाल झड़ना सामान्य है। इसके कई कारण हैं जैसे लो कार्बोहाइड्रेट डायट लेने से आपके बाल पतले और कमजोर हो जाते हैं और तेजी से टूटने लगते हैं।

3. कब्ज (Constipation) की समस्या बढ़ जाती है

कीटो डायट (Ketosis Diet) का एक दुष्परिणाम यह भी है कि इसके साथ आपको पर्याप्त फाइबर, कार्बोहाइड्रेट और पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। इस वजह से हमारे पाचन तंत्र पर बहुत बुरा असर पड़ता है और पाचन संबंधी समस्या, खासतौर से कब्ज का सामना करना पड़ सकता है। कीटो डायट का सेवन कर रहें कई लोगों को कब्ज की शिकायत रहती है, इससे निजात पाने के लिए पानी का सेवन अधिक से अधिक करें।

और पढ़ें : विटामिन-ई की कमी को न करें नजरअंदाज, डायट में शामिल करें ये चीजें

4. अन्य साइड इफेक्ट्स:

  • कीटो डायट के सेवन से दिल की धड़कन तेज हो जाती है। कभी-कभी सांस लेने में भी दिक्कत हो सकती है, इसलिए पानी पर्याप्त मात्रा में पिएं।
  • लंबे समय तक कीटो डायट फॉलो करने से आपको भूख कम लगती है और इस वजह से आपको कई तरह के पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। कई मामलों में इस डायट के चलते शरीर में विटामिन्स की कमी भी सामने आती है।
  • सिरदर्द, जी मचलाना, मन भारी होना आदि भी कीटो डायट के साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

कीटो डायट (Ketosis Diet) लेने से कुछ बदलाव तो नजर आएंगे ही। लंबे समय तक कीटो डायट का चयन करने से पहले डॉक्टर का परामर्श लेना अनिवार्य है क्योंकि ये जान लेना जरूरी है कि यह डायट आपके शरीर के लिए उपयुक्त है या नहीं।

ऑर्गेनिक फूड से जुड़ी जानकारी के लिए नीचे दिए वीडियो लिंक पर क्लिक करें।

 

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 04/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x