आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

सर्दियों में इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग करने के लिए कैसा होना चाहिए हमारा खानपान?

    सर्दियों में इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग करने के लिए कैसा होना चाहिए हमारा खानपान?

    ठंड का मौसम यानी फैशनेबल कपड़े पहनने का मौसम, ठंड का मौसम यानी खानेपीने का मौसम, लेकिन इसके साथ ही ये मौसम सर्दी-खांसी और बीमारियों का भी होता है। इसलिए विंटर में खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए ताकि इस मौसम में होने वाली बीमारियों का सामना डटकर किया जा सके। ठंड के मौसम में सर्दी-जुकाम और वायरल इंफेक्शन का खतरा इसलिए भी बढ़ जाता है, क्योंकि अगर इस मौसम में डायट का ध्यान न रखा जाए तो इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है। इन दिनों वैसे भी कोविड-19 से बचाव के लिए इम्यूनिटी का मजबूत होना बहुत जरूरी है। जैसा कि एक्सपर्ट ठंड के मौसम में कोरोना वायरस के बढ़ने की संभावना से इंकार नहीं करे हैं, ऐसे में आपको सर्दियों में खानपान का बहुत ध्यान रखना होगा।

    वैसे भी ठंड में भूख ज्यादा लगती है क्योंकि इस मौसम में हमारा मेटाबॉलिज्म फास्ट हो जाता है। जिससे खाना जल्दी पच जाता है और खाना खाने के थोड़ी देर बार भूख लगने लगती है। ऐसे में लोग ज्यादा और अनहेल्दी खाकर मोटापा और कई अन्य बीमारियों को भी गले लगा लेते हैं। इसलिए ये जानना जरूरी है कि सर्दियों में खानपान कैसा हो? आइए इस बारे में विस्तार से जानते हैं।

    और पढ़ें: सीजनल इन्फ्लूएंजा (विंटर इंफेक्शन) से कैसे बचें?

    सर्दियों में खानपान कैसा हो?

    ठंड के मौसम में गर्म तासीर वाली चीजें खानी चाहिए जो आपके शरीर को गर्मी देती है। तिल, गुड़, अलसी, अदरक, लहसुन जैसी चीजों को डायट में जरूरी शामिल करें, क्योंकि यह न सिर्फ शरीर को गर्मी प्रदान करते हैं, बल्कि आपकी इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग करने में भी मदद करते हैं। इसके अलावा सर्दियों में खट्टे फल भी जरूर खाएं, क्योंकि इसमें विटामिन सी की भरपूर मात्रा होती है जो इम्यूनिटी बढ़ाकर आपको सर्दी-खांसी से बचाते हैं। इस मौमस में सीजनल फल और सब्जियों के साथ ही ड्राई फ्रूट्स और दूध को अपनी डायट का हिस्सा जरूर बनाएं।

    सर्दियों में खानपान: कौन सी सब्जियां खाएं?

    जहां तक सर्दियों में खानपान की बात है तो इस मौसम में मार्केट में ढेर सारी रंग-बिरंगी सब्जियां मिलती हैं जो स्वाद और सेहत से भरपूर होती हैं। इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग करने के लिए हेल्दी डायट लेना जरूरी है इसलिए ठंड के मौसम में अपने खानपान में इन सब्जियों को जरूर शामिल करें।

    पालक को बनाएं सर्दियों में खानपान का प्रमुख हिस्सा

    सर्दियों में खानपान का हिस्सा बनाएं पालक को

    पालक में विटामिन सी, एंटीऑक्सिडेंट और बीटा कैरोटीन के साथ ही कई तरह के पोषक तत्व होते हैं, जो आपके शरीर को किसी भी तरह के संक्रमण से लड़ने के लिए तैयार करते हैं। सर्दियों में पालक का सीजन भी होता है, तो इस मौसम में पालक को अपनी डेली डायट में शामिल करना न भूलें। आप पालक की सब्जी, पालक पराठा, पालक पूरी के साथ ही इसे रायता, पुलाव, सलाद आदि में मिलाकर भी खा सकते हैं। यानी रोजाना अलग-अलग तरीके से इसका सेवन किया जा सकता है।

    गाजर

    सर्दियों में गाजर का हलवा सबका फेवरेट होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि गाजर इम्यूनिटी बूस्टर का भी काम करती है। इसमें कैरीटोनॉइड, पोटैशियम, विटामिन ए और विटामिन ई समेत ढेर सारे पोषक तत्‍व होते हैं, जो नैचुरली आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करते हैं। गाजर को आप सलाद के रूप में खा सकते हैं या किसी सब्जी, पुलाव, सूप, पराठे आदि में मिक्स कर सकते हैं। इसे डायट में शामिल करने से पोषक तत्वों की कमी तो पूरी होगी ही साथ ही बीमारियों से लड़ने की ताकत भी बढ़ेगी।

    सर्दियों में खानपान कैसा हो?
    winter diet tips

    और पढ़ें: सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर टिप्स से रखें, उनका खास ख्याल

    सर्दियों में खानपान का मुख्य हिस्सा बनाएं ब्रोकली को

    खासतौर पर ठंड के मौसम में मिलने वाली ब्रोकली सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्, विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई और फाइबर की भरपूर मात्रा होती है। इसके अलावा इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट और अन्य कई पोषक तत्व होते हैं जो इम्यूनिटी बूस्टर का काम करते हैं। ब्रोकली को सलाद के रूप में खाना ज्यादा फायदेमंद होता है।

    अदरक

    सर्दियों में खानपान में अदरक को करें शामिल

    सर्दी-खांसी दूर करने में अदरक बहुत फायदेमंद माना जाता है, चूंकि ठंड के मौसम में सर्दी-खांसी होने की अधिक संभावना रहती है इसलिए अदरक को डायट में शामिल करके आप सीजनल फ्लू से बच सकते हैं। अदरक में एंटी वायरल प्रॉपर्टीज होती हैं जो खांसी के साथ ही गले की खराश और सूजन दूर करने में भी मदद करती हैं। इसके अलावा इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग करके यह कई अन्य बीमारियों से लड़ने में भी आपकी मदद करता है। अदरक का सेवन आप कई तरह से कर सकते हैं, सब्जी, चाय में इसे डाला जा सकता है। खांसी होने पर अदरक के रस और शहद का सेवन किया जा सकता है।

    लहसुन

    लहसुन में एंटी इंफ्लामेट्री गुण होते हैं जो शरीर में होने वाली सूजन को कम करते हैं। इसमें एंटी वायरल गुण भी होते हैं जो वायरल इंफेक्शन से बचाने में मदद करते हैं। लहसुन को बेहतरीन इम्यूनिटी बूस्टर माना जाता है। आमतौर पर हर भारतीय घर में लहसुन का इस्तेमान खाने में किया जाता है।

    और पढ़ें: सर्दियों के दिनों में ऐसे रखें बुजुर्गों का ध्यान

    इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए सर्दियों में खानपान में शामिल करे ये खास मसाले

    भारतीय खाने में मसालों का खास महत्व है। ये मसाले खाने का स्वाद और सुगंध तो बढ़ाते ही है, साथ ही सेहत के लिए भी फायदेमंद होते हैं जब तक इनका सेवन सीमित मात्रा में किया जाए। कुछ मसाले ऐसे हैं जो बहुत फायदेमंद होते हैं और आपको कई तरह की बीमारियों से बचाने का काम करते हैं।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    सर्दियों में खानपान का अहम हिस्सा है हल्दी

    हल्दी के बिना दाल-सब्जी का रंग अच्छा नहीं आता है। हल्दी आपको हर किचन में मिल जाएगी। हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीबैक्टीरिया और एंटीफंगल गुण होते हैं, जो शरीर को बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं। इसके अलावा इसमें प्रोटीन, फाइबर, विटामिन सी, विटामिन के, पोटैशियम, कैल्शियम, कॉपर, आयरन, मैग्नीशियम व जि़ंक आदि ढेरों पोषक तत्व होते हैं। सर्दियों के मौसम में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए रोजाना हल्दी वाला दूध पीना भी अच्छा होता है।

    दालचीनी

    गरम मसाले का अहम हिस्सा है दालचीनी। सब्जी, करी आदि के साथ ही इसका इस्तेमाल केक और बिस्किट में भी फ्लेवर के लिए किया जाता है। आप एक कप चाय में चुटकी भर दालचीनी पाउडर डालकर आप इसे पोषक तत्वों से युक्त बना सकते हैं और सर्दियों के लिए अपनी इम्यूनिटी बूस्ट कर सकते हैं क्योंकि इस मौसम चाय तो सभी पीते ही हैं। इसके साथ ही दालचीनी में कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन ई आदि होता है।

    केसर

    कम ही लोग जानते हैं कि मिठाई, खीर आदि का स्वाद और रंग बढ़ाने वाला केसर इम्यूनिटी बूस्टर का भी काम करता है। तो अब से आप इसे सर्दियों में बनने वाले सूप या चावल की किसी भी डिश में जरूर डालें। ये बात ध्यान रखें केसर फायदा करता है ऐसा सोचकर केसर वाली मिठाई को अपनी डायट का हिस्सा न बना लें। केसर वाली मिठाइयां मोटापे का कारण बन सकती हैं।

    लौंग

    लौंग में कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, सोडियम, पोटैशियम और विटामिन सी पोषक तत्व होते हैं। सब्जी, मीट आदि में इसे डालने से न सिर्फ अच्छी खुशबू आती है, बल्कि स्वाद भी बढ़ जाता है। चाय, काढ़े आदि में भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। यह भी इम्यूनिटी बूस्टर का काम करती है।

    और पढ़ें: Quiz: लॉकडाउन में वर्क फ्रॉम होम करने के टिप्स

    जीरा

    दाल और सब्जी बिना जीरे के तड़के के अच्छी नहीं लगती। जीरा भारतीय मसाले का जरूरी हिस्सा है। जीरे में मैग्नीशियम और आयरन की भरपूर मात्रा होती है। यह ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रखने के साथ ही इम्यूनिटी बढ़ाने में भी बहुत कारगर है। इसलिए जीरा को विंटर की डेली डायट में जरूर जगह दें। इसे खाने से सांस की बीमारी वालों को राहत मिलती है और जीरे का पानी पीना वजन कम करने में भी मददगार है।

    इलायची

    सब्जी से लेकर मीठे व्यंजन तक में इलायची का इस्तेमाल करके फ्लेवर बढ़ाया जाता है। इलायची में पौटेशियम, मैग्नीशियम, विटामिन बी1, बी6 और विटामिन सी पाया जाता है। शहद के साथ इलायची का सेवन इम्यूनिटी बूस्ट करता है। साथ ही इसमें फाइबर और कैल्शियम भी होता है जो आपके बढ़ते वजन को कंट्रोल कर सकता है। इलायची डायजेशन के लिए भी अच्छी होती है।

    करीपत्ता

    दाल, पोहा और अन्य फूड आइट्म्स के तड़के में इस्तेमाल होने वाला करीपत्ता भी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है जो आपकी इम्यूनिटी को बूस्ट करता है। इसे भी विंटर डायट का हिस्सा जरूर बना लें। ताकि आप इस मौसम में होने वाली बीमारियों से बचे रहें।

    अब तो आप समझ ही गए होंगे कि आपको सर्दियों में खानपान कैसा रखना है और क्या-क्या खाना है? यहां बताई गई टिप्स को फॉलो कर आप सर्दियों में बेहतर स्वास्थ्य के मालिक बन सकते हैं और बीमारियों से भी बचे रह सकते हैं।

    उम्मीद हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और सर्दियों में खानपान कैसा हो इससे संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

     

    health-tool-icon

    बीएमआर कैलक्युलेटर

    अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Measurement of spices and seasonings in India: Opportunities for cancer epidemiology and prevention/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3072051/ Accessed on 28th November, 2020

    Beneficial Effects of Spices in Food Preservation and Safety/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5030248/Accessed on 28th November, 2020

    10 (organic) spices to cook with this winter/https://theecologist.org/2009/nov/06/10-organic-spices-cook-winter/Accessed on 28th November, 2020

    How to Stay Healthy, Fit and Safe During the Winter Season/https://www.pinnaclehealth.org/wellness-library/how-to-stay-healthy-during-winter/Accessed on 28th November, 2020

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 02/12/2020 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: