backup og meta

इस एलर्जी के लक्षणों को न करें सर्दी के लक्षण समझने की भूल!

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 10/05/2021

इस एलर्जी के लक्षणों को न करें सर्दी के लक्षण समझने की भूल!

फूड एलर्जी के बारे में आपने जरूर सुना होगा। जब किसी व्यक्ति को किसी खास तरह के फूड को खाने के बाद शरीर में विभिन्न लक्षण दिखने लगते हैं, तो इसका मतलब ये होता है कि व्यक्ति को उस खास चीज से एलर्जी है। चिकन एलर्जी (Chicken Allergy) के बारे में लोग कम ही जानते हैं। जी हां! दूध से एलर्जी, अंडे से एलर्जी (Egg allergy) या फिर फिश से एलर्जी (Fish allergy) तो आम है लेकिन चिकन एलर्जी (Chicken Allergy) की समस्या आमतौर पर कम ही लोगों में देखने को मिलती है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको चिकन एलर्जी (Chicken Allergy) के बारे में जानकारी देंगे और बताएंगे कि चिकन एलर्जी (Chicken Allergy) की समस्या होने पर व्यक्ति को शरीर में क्या लक्षण दिखते हैं और कैसे इससे निजात पाया जा सकता है।

और पढ़ें: Allergy Rhinitis: नाक में एलर्जी की समस्या का घरेलू इलाज क्या है?

क्यों होती है चिकन एलर्जी (Chicken Allergy) की समस्या?

चिकन एलर्जी

अक्सर चिकन का नाम सुनकर कुछ लोगों के मुंह में पानी आ जाता है। स्वाद के साथ ही सेहत से भरपूर चिकन में लो फैट (Low fat) के साथ ही हाय प्रोटीन (High protein) पाई जाती है। जिन लोगों को चिकन खाने के बाद एलर्जी की समस्या हो जाती है, उनके लिए चिकन हेल्दी नहीं बल्कि बीमार करने वाला फूड कहा जा सकता है। चिकन एलर्जी कॉमन नहीं होती है। जिन लोगों को चिकन से एलर्जी होती है, उन्हें चिकन खाने के बाद हल्के से लेकर गंभीर लक्षण तक दिख सकते हैं। जिन लोगों को चिकन से एलर्जी होती है, अगर उनके शरीर में चिकन की कुछ मात्रा भी चली जाए, तो इम्यून सिस्टम उसे एलर्जन के तौर पहचान लेता है और उसके खिलाफ एंटीबॉडी बनाने लगता है। इस एंटीबॉडी को इम्युनोग्लोबिन ई (Immunoglobulin E) के नाम से जाना जाता है। यानी एंटीबॉडी शरीर की रक्षा के लिए अटैक करना शुरू कर देती है और शरीर में विभिन्न प्रकार के लक्षण दिखने लगते हैं। अगर आपको फूड एलर्जी है, तो आपके शरीर में कुछ ऐसी ही प्रोसेस होती है, जिसके कारण एलर्जी वाले फूड को खाना वाकई खतरनाक साबित हो सकता है।

और पढ़ें: खाने से एलर्जी और फूड इनटॉलरेंस में क्या है अंतर, जानिए इस आर्टिकल में

चिकन एलर्जी के लक्षण (Symptoms of a chicken allergy)

चिकन एलर्जी की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है। ऐसा जरूरी नहीं है कि चिकन एलर्जी के लक्षण बड़े होने पर ही नजर आए। चिकन एलर्जी बच्चे को सकती है और ये उम्र बढ़ने के साथ जाती नहीं है। जिंदा चिकन या फिर चिकन मीट, दोनों ही एलर्जी के कारण बन सकते हैं। वहीं कुछ लोगों को कच्चे चिकन से एलर्जी होती है न कि पके हुए चिकन से। अगर आपको चिकन खाने के बाद निम्नलिखित लक्षण दिखते हैं, तो आपको अब सावधान हो जाने की जरूरत है। जानिए चिकन एलर्जी होने पर क्या लक्षण दिख सकते हैं।

  • रनिंग नोज
  • छींक आना (Sneezing)
  • सांस लेने मे तकलीफ
  • गले में खराश
  • खांसी या घरघराहट होना
  • एक्जिमा या दाने होना (Eczema-like rash)
  • त्वचा में खुजली
  • पित्ती (hives)
  • जी मिचलाना
  • उल्टी (vomiting)
  • पेट में ऐंठन (stomach cramps)
  • दस्त की समस्या (diarrhea)
  • स्किन में खुजली
  • स्किन में जलन
  • आंखों से पानी आना (watery eyes)
  • अगर आपको निम्नलिखित लक्षण दिखते हैं, तो डॉक्टर से जांच कराएं। डॉक्टर ब्लड टेस्ट करने के साथ ही स्किन प्रिक टेस्ट ( skin prick) की हेल्प एलर्जी को पहचानने की कोशिश करेंगे। अगर आपको चिकन से एलर्जी है, तो बेहतर होता कि आप इससे दूरी बना लें।

    और पढ़ें: क्या फिश खाने के बाद आपको होती है पेट से जुड़ी परेशानी? तो फिश एलर्जी हो सकता है कारण

    चिकन एलर्जी और एनाफिलेक्सिस का संबंध (Chicken allergy and anaphylaxis)

    अगर किसी की नाक बहती है या फिर गले में खराश हो जाती है, तो लोग इसे सर्दी के लक्षण ही समझते हैं। यानी चिकन खाने के बाद अगर आपको सर्दी जैसे लक्षण दिखाई पड़ रहे हैं, इसका मतलब ये भी हो सकता है कि आपको चिकन से एलर्जी है। स्टमक डिस्ट्रेस की समस्या (Stomach distress) भी पैदा हो सकती है। एनाफिलेक्सिस ( Anaphylaxis) को कॉम्प्लीकेशन की तरह देखा जाता है। एनाफिलेक्सिस (Anaphylaxis)) के कारण पूरे शरीर में तुरंत लक्षण दिखने लगते हैं और सीरियस होते हैं। अगर समय पर ट्रीटमेंट न लिया जाए, तो ये गंभीर स्थिति भी पैदा कर सकते हैं। कुछ गंभीर लक्षण जैसे कि हार्टबीट का तेज हो जाना, ब्लड प्रेशर में कमी आ जाना, सांस लेने में आवाज आना, जीभ में सूजन, होश न रहना, हाथ-पैरों में झुनझुनाहट आदि लक्षण दिखते हैं। डॉक्टर इस स्थिति को संभालने के लिए एड्रेनालाईन (Adrenaline) इंजेक्शन देते हैं, जो राहत पहुंचाने का काम करता है।

    और पढ़ें: एलर्जी : कहीं आप तो नहीं है परेशान, बीमारी में ही छुपा है समस्या का समाधान

    अगर है ये बीमारी, तो बढ़ जाएगा चिकन एलर्जी का खतरा

    कुछ फैक्टर्स हैं, जो चिकन एलर्जी की संभावना को बढ़ाने का काम कर सकते हैं। जी हां! अगर आपको एक्जिमा (Eczema) या फिर पहले से ही फूड एलर्जी की समस्या हो, आपको चिकन एलर्जी होने की संभावना भी बढ़ जाती है। साथ ही फिश, प्रॉन, डक, एग आदि से भी एलर्जी हो सकती है। यानी चिकन एलर्जी की समस्या झेल रहे व्यक्ति को बर्ड-एग सिंड्रोम होने के भी चांसेज रहते हैं। ऐसा नहीं है चिकन एलर्जी से मतलब पके हुए चिकन से ही है, अगर किसी को चिकन एलर्जी है, तो उसे चिकन के पंख से, डस्ट से भी एलर्जी हो सकती है।

    ऐसे करें चिकन से होने वाली एलर्जी से बचाव

    एलर्जी से बचने का बेहतर उपाय यही है कि आप उस चीज से दूरी बना लें। आपको ऐसे फूड्स बिल्कुल बंद कर देने चाहिए, जिनमें चिकन हो। मीटबॉल्स खाने से पहले जानकारी लें कि कहीं उसमें चिकन तो नहीं है। अगर आपको फैदर से एलर्जी है, तो आपको फैदर पिलो से भी बचकर रहने की जरूरत है। साथ ही आप जब भी कोई वैक्सीन लें, तो इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात जरूर कर लें। जिन लोगों को बर्ड-एग सिंड्रोम होता है, उन्हें इंफ्लूएंजा वैक्सीन (Influenza vaccine) से बचना चाहिए चूंकि उसमें एग प्रोटीन होती है। आपको जू या फिर फार्म जाने से पहले भी एहतियात बरतनें की जरूरत है। अगर आपको लक्षण दिखें, तो डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर आपको ओवर-द-काउंटर एंटी हिस्टामाइन लेने की सलाह देंगे, ताकि लक्षणों को कंट्रोल किया जा सके। आप चिकन की जगह टोफू का इस्तेमाल कर सकते हैं। चिकन ब्रोथ की जगह वेजीटेबल ब्रोथ आपके स्वास्थ्य के लिए बेहतर रहेगा। आप चाहे तो सोया प्रोटीन से बने प्रोडक्ट का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। बेहतर होगा कि इस बारे में डॉक्टर से परामर्श करें।

    हम उम्मीद करते हैं कि आपको इस आर्टिकल के माध्यम से चिकन एलर्जी के बारे में जानकारी मिल गई होगी। अगर आपको किसी भी फूड से एलर्जी है, तो बेहतर होगा कि उसका सेवन न करें। जब भी बाहर खाने जाए, एक बार जानकारी जरूर लें कि आपके खाने में क्या इंग्रीडिएंट्स इस्तेमाल किए गए हैं। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा और उपचार प्रदान नहीं करता है। हम उम्मीद करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 10/05/2021

    advertisement iconadvertisement

    Was this article helpful?

    advertisement iconadvertisement
    advertisement iconadvertisement