home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Kawasaki Disease: कावासाकी रोग क्या है?

परिचय |लक्षण|कारण|जोखिम|उपचार|घरेलू उपाय
Kawasaki Disease: कावासाकी रोग क्या है?

परिचय

कावासाकी रोग (Kawasaki disease) क्या है?

कावासाकी रोग को म्यूकोस्यूटियस लिम्फ नोड सिंड्रोम (Mucocutaneous lymph node syndrome) भी कहा जाता है। यह एक ऐसी बीमारी है, जो रक्त वाहिकाओं को प्रभावित करती है। कावासाकी रोग बचपन में होने वाली एक दुर्लभ बीमारी है, जो ब्लड वेसेल्स को प्रभावित करती है। कावासाकी रोग त्वचा और नाक, गले और मुंह के अंदर स्थिति म्युकस मेम्ब्रेन्स पर प्रभाव डालती है।

कावासाकी रोग होने पर बच्चों की पूरी बॉडी में रक्त वाहिकाओं में सूजन आ जाती है। इससे कोरोनरी आर्टरी क्षतिग्रस्त हो सकती है। यह रक्त वाहिकाएं ब्लड को हार्ट तक लेकर जाती है।

कावासाकी रोग (Kawasaki disease) होना कितना सामान्य है?

जापान, कोरिया और ताइवान को मिलाकर पश्चिम एशिया में कावासाकी रोग 10-20 गुना ज्यादा है। इससे पीढ़ित अधिकतर बच्चे पांच वर्ष से कम उम्र के होते हैं और औसत आयु वाले करीब दो वर्ष के होते हैं। लड़कियों की तुलना में लड़कों को यह बीमारी होने के दो गुना संभावना होती है।

और पढ़ें : Bacterial Vaginal Infection : बैक्टीरियल वजायनल इंफेक्शन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

कावासाकी रोग (Kawasaki disease) के क्या लक्षण हैं?

कावासाकी रोग के लक्षण चरणों में उभरकर आते हैं। कावासाकी रोग के पहले चरण में निम्नलिखित लक्षण सामने आते हैं:

  • अक्सर 102. 2 फेरहनहाइट (F) (39 डिग्री सेल्सियस) से अधिक बुखार आना। यह बुखार तीन दिनों से ज्यादा रह सकता है।
  • शरीर के प्रमुख हिस्से और गुप्तांगों पर रैश पड़ना।
  • लाल, सूखे, फटे होठ और सुर्ख लाल और सूजी हुई जीभ।
  • त्वचा में सूजन, हथेलियों और पंजों के सोल की त्वचा का लाल पड़ना।
  • अन्य हिस्सों से ज्यादा लिंफ नोड्स में सूजन
  • चिड़चिड़ापन

इस बीमारी के दूसरे चरण में आपके बच्चे में निम्नलिखित लक्षण नजर आ सकते हैं:

हाथ और पैर की त्वचा का पीला पड़ना विशेषकर उंगलियों और पैरों के अंगूठों के सिरे पर। अक्सर इनका बड़ा होना।

इस बीमारी के तीसरे चरण में जब तक जटिलताएं पैदा नहीं होती हैं तब तक संकेत और लक्षण धीरे-धीरे चले जाते हैं। इसमें आठ हफ्तों से ज्यादा का समय लग सकता है। इसके बाद ही आपकी बॉडी में ऊर्जा का स्तर सामान्य होता है।

उपरोक्त लक्षणों के अलावा भी कुछ अन्य लक्षण हो सकते हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप कावासाकी रोग के लक्षणों को लेकर चिंतित हैं तो अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

और पढ़ें : कोरोना वायरस से बचाव संबंधित सवाल और उनपर डॉक्टर्स के जवाब

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

ड्राय स्किन

निम्नलिखित लक्षण नजर आने पर डॉक्टर से कंसल्ट करें। जैसे:

  • दोनों आंखें लाल होना
  • जीभ लाल होना और जीभ में सूजन आना
  • स्किन ड्राय होना और पपड़ी पड़ना

यदि आपको उपरोक्त लक्षणों का अनुभव होता है या आपका कोई सवाल है तो डॉक्टर से परामर्श लें। हर बीमारी में प्रत्येक व्यक्ति का शरीर भिन्न तरीके से प्रतिक्रिया देता है। ऐसे में बेहतर होगा कि आप अपनी स्थिति की स्पष्ट जानकारी के लिए डॉक्टर से सलाह लें।

कारण

कावासाकी रोग (Kawasaki disease) का क्या कारण है?

एक्सपर्ट्स के पास अभी तक इस बीमारी के सटीक कारण के संबंध में कोई पुख्ता जानकारी नहीं है। यह बीमारी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलती है। अक्सर कावासाकी रोग सर्दियों के अंत और पतझड़ (वसंत ऋतु) की शुरुआत में होती है।

कई सिद्धांतों में इस बीमारी का संबंध बैक्टीरिया, वायरस या पर्यावरणिक कारकों से जोड़ा गया है, लेकिन अभी तक इनमें से किसी भी कारक की पुष्टि नहीं की गई है। कुछ जीन आपके बच्चे में कावासाकी रोग के फैलने की संभावना बढ़ा सकते हैं।

और पढ़ें : Chikungunya : चिकनगुनिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

जोखिम

किन कारकों से मुझे कावासाकी रोग (Kawasaki disease) होने का जोखिम रहता है?

निम्नलिखित कारकों से कावासाकी रोग होने का खतरा रहता है:

  • पांच वर्ष से कम आयु के ज्यादातर बच्चों को कावासाकी रोग होता है।
  • लड़कियों के मुकाबले लड़कों को यह बीमारी होने का खतरा ज्यादा रहता है।
  • एशियाई वंश जैसे जापान या कोरियाई लोगों में कावासाकी रोग होने का खतरा सबसे ज्यादा रहता है।

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

उपचार

और पढ़ें : बच्चाें में हेल्दी फूड हैबिट‌्स को डेवलप करने के टिप्स

कावासाकी रोग (Kawasaki disease) का निदान कैसे किया जाता है?

कावासाकी रोग का पता लगाना मुश्किल होता है। निम्नलिखित तरीकों से कावासाकी रोग का पता लगाया जाता है:

  • यदि बच्चे को पांच दिनों तक बुखार रहता है।
  • ऊपर बताए गए लक्षणों के सामने आने पर डॉक्टर को कावासाकी रोग का शक हो सकता है।
  • इसके अतिरिक्त, डॉक्टर समान लक्षण वाली बीमारी का पता लगाने के लिए कुछ लैब टेस्ट भी करा सकता है।

यह टेस्ट निम्नलिखित हैं:

और पढ़ें : हर्पीस (Herpes) इंफेक्शन से होने वाली बीमारी है, अपनाएं ये सावधानियां

कावासाकी रोग (Kawasaki disease) का उपचार कैसे किया जाता है?

कावासाकी रोग में आपके बच्चे को बुखार के साथ बहुत दर्द, सूजन और त्वचा में जलन हो सकती है। इन लक्षणों में राहत प्रदान करने के लिए डॉक्टर एस्पिरिन (Aspirin) और ब्लड क्लॉटिंग को रोकने वाली अन्य दवाइयों की सलाह दे सकता है। कावासाकी रोग की स्थिति में बिना डॉक्टर की सलाह के आपको बच्चे को कोई भी दवा नहीं देनी है।

कावासाकी रोग के इलाज में आपके बच्चे को इम्यून ग्लोबुलिन (Immune globulin) IV दिया जा सकता है। यह दवा काफी प्रभावी साबित होती है, जब इसे एस्पिरिन के साथ दिया जाता है। यह दवा इलाज के शुरुआती चरण में दिल की समस्याओं को पैदा होने की संभावना को कम कर देती है। इसके इलाज में जटिलताओं को खतरा होने की वजह से कावासाकी रोग से पीढ़ित ज्यादातर बच्चों का इलाज अस्पताल में किया जाता है।

इलाज में जटिलताएं

यह बीमारी हार्ट को प्रभावित करती है, जिसके वजह से यह समस्या खतरनाक हो सकती है। कावासाकी रोग (Kawasaki disease) से पीढ़ित ज्यादातर बच्चे पूरी तरह ठीक हो जाते हैं और उन्हें किसी भी तरह की समस्या नहीं होती है। हालांकि कुछ दुर्लभ मामलों में बच्चों को निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं:

  • दिल की धड़कन का असामान्य होना (dysrhythmia)
  • हार्ट की मांसपेशियों में सूजन (myocarditis)
  • हार्ट वेल्व्स का क्षतिग्रस्त होना (mitral regurgitation)
  • रक्त वाहिकाओं में सूजन आना (vasculitis)

उपरोक्त स्थितियों में आपकी परेशानियां और बढ़ सकती हैं। साथ ही आर्टरी वॉल कमजोर या फूल सकती है। इस स्थिति को aneurysms कहा जाता है। इससे बच्चे की आर्टरी में ब्लॉकेज होने की संभावना बढ़ जाती है। इससे इंटरनल ब्लीडिंग और हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। एक आधारभूत इकोकार्डियोग्राम (echocardiogram) इनमें से कई समस्याओं का निदान करने में मदद कर सकता है।

कावासाकी रोग के कुछ गंभीर मामलों में सर्जरी की आवश्यकता पड़ती है। इससे गुजरने वाले कुछ प्रतिशत बच्चे जीवित नहीं रह पाते हैं। वहीं, नवजात शिशुओं में गंभीर खतरों की सबसे ज्यादा संभावना रहती है।

आपके बच्चे का हार्ट उचित ढंग से कार्य करे, यह सुनिश्चित करने के लिए आपको नियमित रूप से डॉक्टर के पास जाना है। इलाज के बाद बच्चे का एक्स-रे, इकोकार्डियोग्राम्स, ईकेजी (इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम) या अन्य टेस्ट किए जा सकते हैं।

और पढ़ें : Fanconi Anemia : फैंकोनी एनीमिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

घरेलू उपाय

जीवनशैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो मुझे कावासाकी रोग (Kawasaki disease) को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

निम्नलिखित दिनचर्या और घरेलू उपाय आपको कावासाकी रोग से लड़ने में मदद कर सकते हैं:

  • आपके बच्चे को थकान हो सकती है और उसकी त्वचा एक महीने तक सूखी रह सकती है। ऐसे में बच्चे को पूरी तरह न थकने दें। उंगलियों और अंगूठों में नमी बनाए रखने के लिए स्किन लोशन का इस्तेमाल करें।
  • यदि यह बीमारी बच्चे के हार्ट में समस्या पैदा करती है तो अतिरिक्त इलाज की आवश्यकता पड़ सकती है। इस स्थिति में आपको फॉलो-अप टेस्ट के लिए डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

इस संबंध में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि आपके स्वास्थ्य की स्थिति देख कर ही डॉक्टर आपको उपचार बता सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आप कावासाकी रोग (Kawasaki disease) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/04/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड