Pear: नाशपाती क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 7, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
Share now

परिचय

नाशपाती (Pear) क्या है?

नाशपाती पौष्टिक गुणों से भरपूर एक फल है, जिसका सेवन प्राचीन काल से दुनियाभर में किया जा रहा है। इसका वानस्पातिक नाम पाइरस कम्यूनिस है। ये फल रोसेशिए (Rosaceae) परिवार का सदस्य है। यह सेब से संबंधित फल है। हालांकि, इसमें शुगर की मात्रा अधिक और अम्ल की मात्रा कम होती है। ये स्वादिष्ट होने के साथ-साथ कई पोषक तत्वों और औषधियों गुणों से भरपूर है। इसका प्रयोग कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। सबसे पहले इस फल को उत्तरी अफ्रीका, पश्चिमी यूरोप और एशिया में उगाया गया था। भारत में इसकी खेती पंजाब, उत्तर प्रदेश और कश्मीर में होती है। इसका पेड़ एक मध्यम ऊंचाई का होता है जो 10 से 17 मीटर (लगभग 33 से 56 फीट) तक लंबा हो सकता है। इसकी कुछ प्रजातियां झाड़ के रूप में भी होती है जिनकी लंबाई बहुत ही कम होती है।

नाशपाती में बहुत से विटामिन्स और खनिजों की मात्रा होती है इसलिए यह शरीर के लिए जरूरी सभी विटामिन्स की कमी को पूरा कर सकता है। यह पाचन तंत्र को भी मजबूत बनाता है और कब्ज की समस्या का उपचार करता है।

यह भी पढ़ेंः दांत टेढ़ें हैं, पीले हैं या फिर है उनमें सड़न हर समस्या का इलाज है यहां

नाशपाती (Pear) का उपयोग किस लिए किया जाता है?

पाचन में सुधार:

मिनेसोटा विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ. जोनने स्लाविन के नेतृत्व में हुए एक अध्ययन में पाया कि नाशपाती  फाइबर का अच्छा स्रोत है। फाइबर युक्त होने की वजह से नाशपाती और आंतों को ज्यादा सक्रिय रखता है और खाना आसानी से पच भी जाता है।

वजन कम करने में मददगार:

बहुत सारे फल ऐसे होते हैं जिसमें शुगर लेवल बहुत अधिक मात्रा में होता है। नाशपाती लो कैलोरी फल है, जो हेल्दी डायट के लिए परफेक्ट है। इसके सेवन से चर्बी के रूप में शरीर में मौजूद विषैले पदार्थ आसानी से बाहर आ जाते हैं। इससे वजन कम करने में मदद मिलती है।

एंटी-ऑक्सीडेंट:

नाशपाती में प्रचुर मात्रा में विटामिन-सी होता है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करने के साथ एंटी-ऑक्सीडेंट गुण भी प्रदान करता है। एंटी-ऑक्सीडेंट्स शरीर से हानिकार तत्वों को बाहर निकाल स्वास्थ्यको ठीक रखता है।

कब्ज से दिलाए राहत:

नाशपाती के सेवन से कब्ज संबंधित परेशानियों से राहत मिलती है। इससे आंतों में जमी गंदगी मल के रूप में आसानी से बाहर आ जाती है।

कोलेस्ट्रॉल को करे कंट्रोल:

एक रिसर्च के मुताबिक पियर में पेक्टिन नामक तत्व होता है, जो कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मददगार है।

मधुमेह:

रिसर्च के अनुसार, नाशपाती के सेवन से मधुमेह के लक्षणों को काफी हद तक कम किया जा सकता है। 

दिल को रखे स्वस्थ:

नाशपाती का सेवन करने से स्ट्रोक का खतरा कम रहता है। पीयर में पोटेशियम होता है जो दिल से लेकर दिमाग और किडनी को सुरक्षित रखने का काम करता है। इसके अलावा, ये शरीर के सभी हिस्सों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है।

गर्भधारण में मददगार:

नाशपाती में फोलिक एसिड होता है, जो ट्यूब में बच्चे को होने वाले दोषों से दूर रखता है। प्रेग्नेंट महिलाओं को फोलिक एसिड मेंटेन रखने की सलाह भी दी जाती है।

हड्डियों को बनाए मजबूत:

नाशपाती में मैग्नीशियम, मैंगनीज, फॉस्फोरस, कैल्शियम और कॉपर उच्च मात्रा में होता है, जो हड्डियों को मजबूत बनाए रखने में लाभदायक है।

कैंसर से कवच प्रदान करे:

इस फल में एंटी-कारसिनोजेनिक (Anticarcinogenic) गुण होते हैं जो कैंसर की रोकथाम में सहायता करता है।

हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ाएः

नाशपाती में आयरन की अच्छी मात्रा होती है, जो शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ा सकता है। अगर कोई एनीमिया से पीड़ित हो तो उसके लिए नियमित तौर पर नाशपाती का सेवन करना लाभकारी हो सकता है।

प्रतिरोध क्षमता बढ़ाएः

नाशपाती शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बहुत आसानी से बढ़ा सकती है और प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत कर सकती है। इसके लिए नियमित तौर पर आप नाश्ते में नाशपाती का सेवन शामिल कर सकते हैं।

घेंघा रोग दूर करेः

शुगर और घेंघा रोग के साथ-साथ नाशपाती एनीमिया और गठिया के उपचार में भी कारगर साबित हो सकता है। साथ ही, इसमें आयोडीन भी भरपूर मात्रा होती है जो घावों को जल्दी भरने में मदद कर सकते हैं।

कैसे काम करता है नाशपाती (Pear)?

इस फल में मौजूद विटामिन, खनिज और ओर्गेनिक कंपाउंड हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें विटामिन-सी, विटामिन-के, पोटेशियम, फोलेट, फाइबर, कॉपर, मैंगनीज और बी कॉम्प्लेक्स विटामिन भी होते हैं। इसमें पेक्टिन होता है, जो डायरिया को कम करने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़ेः जेलेटिन क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है नाशपाती (Pear) का उपयोग?

सही मात्रा में नाशपाती का सेवन सेफ है फिर भी इस पर कई शोध किए जा रहे हैं। हालांकि कुछ लोगों को किसी किसी फल से एलर्जी होती है। इसलिए अपनी बॉडी को मोनिटर करते रहें। अगर आप कभी इस फल को नहीं खाते हैं तो एक दम से इसे ज्यादा मात्रा में न खाएं। रोजाना एक नाशपाती से शुरुआत करें। इसमें अधिक मात्रा में फ्रुक्टोज होता है, जिसकी हाई डायट से कुछ लोगों में डायरिया और कब्ज की परेशानी होने लगती है। इसे दवाई के तौर पर लेना कितना सेफ है इस बारे में कोई जानकारी नहीं है।

हर्बल सप्लिमेंट के उपयोग और दवाओं के नियम सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। नाशपाती के हर्बल सप्लिमेंट के तौर पर इस्तेमाल करने से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ेंः Green Coffee : ग्रीन कॉफी क्या है?

साइड इफेक्ट्स

नाशपाती (Pear) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

नाशपाती से थोड़ी बहुत एलर्जी है तो ये लक्षण दिखाई दे सकते हैं:

  • मुंह पर सूजन आना
  • त्वचा पर खुजली होना
  • मुंह में झुनझुनाहट होना
  • सांस लेने में परेशानी
  • उल्टी
  • दस्त

अगर ये लक्षण दिखाई दें तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें:

  • गले और जीभ में सूजन होना और सांस न ले पाना
  • ब्लड प्रेशर का बहुत ज्यादा कम हो जाना
  • चक्कर आना या बेहोश हो जाना

यह भी पढ़ेंः  हेजलनट क्या है?

डोजेज

नाशपाती (Pear) को लेने की सही खुराक क्या है?

इसकी खुराक को लेकर कोई सही जानकारी नहीं है। हर्बल सप्लिमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लिमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

यह भी पढ़ेंः Jasmine : चमेली क्या है?

उपलब्ध

यह किन रूपों में उपलब्ध है?

  • रॉ नाशपाती
  • जूस

हैले हेल्थ किसी भी तरह की मेडिकली सलाह, निदान या उपचार की सलाह नहीं प्रदान करता है।

और पढ़ेंः-

Gooseberry : आंवला क्या है?

बच्चों को ग्राइप वॉटर पिलाना सही या गलत? जानिए यहां

जानें मेडिटेशन से जुड़े रोचक तथ्य : एक ऐसा मेडिटेशन जो बेहतर बना सकता है सेक्स लाइफ

कभी आपने अपने बच्चे की जीभ के नीचे देखा? कहीं वो ऐसी तो नहीं?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    कमरख के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Carambola (Star Fruit)

    जानिए कमरख फल के फायदे और नुकसान, स्टार फ्रूट क्या है, Carambola के सेवन से होने वाले साइड इफेक्ट्स, Star Fruit in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Ankita Mishra
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 17, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    रोज करेंगे योग तो दूर होंगे ये रोग, जानिए किस बीमारी के लिए कौन-सा योगासन है बेस्ट

    योग से रोग निवारण, योग से रोग भगाएं, डायबिटीज के योगासन, रोग अनुसार योगासन, माइग्रेन के योगा पोज, पीसीओएस योगासन, डिप्रेशन के लिए योग, थायरॉइड के योगासन, योग व्यायाम या ब्रीदिंग टेक्निक से कहीं ज्यादा एक इंडियन आर्ट फॉर्म है।...yoga poses for diseases

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Shikha Patel
    योगा, स्वस्थ जीवन जून 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Throat Ulcers : गले में छाले क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    गले में छाले होने की वजह से आपको खाने-पीने, बात करने आदि में दर्द व परेशानी हो सकती है। आइए, जानते हैं कि गले में छाले के लक्षण, कारण और इलाज क्या होता है।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 11, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Fatigue : थकान क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    थकान की अनुभूति तो सब करते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं यह होता क्यों है? जानिये कैसे थकान को नैचुरल तरीके से कम किया जा सकता है। Fatigue in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 11, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें