आयरन की कमी बच्चों को भी हो सकती है, इन टिप्स से करें इसे पूरा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आयरन बच्चे के अच्छे विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। हमारे शरीर में आयरन की कमी से एनीमिया हो सकता है। बच्चों को जरूरी आयरन उन्हें अपने डायट से मिलता है। कुछ खाने की चीजें ऐसी होती हैं, जो शरीर में आयरन की कमी को पूरा करती हैं। उदाहरण के लिए फिश, चिकन, संतरा, स्ट्राबेरी और ग्रेप्स आदि। सब्जियों में ब्रोकली, टमाटर, आलू, मिर्च आदि। इन सब चीजों में आयरन की मात्रा प्रचुर होती हैं। बच्चों में आयरन की कमी को दूर करने के लिए उन्हें विटामिन ‘सी’ से भरपूर खाना जैसे – टमाटर, ब्रोकली, संतरा, स्ट्रॉबेरी आदि भी अधिक मात्रा में देना चाहिए।

आयरन की कमी कैसा पूरा करें?

कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते हैं, जो कि भोजन में मौजूद आयरन की शरीर में उपलब्धता बढ़ाते हैं, जैसे कि फिश, चिकन, संतरा, स्ट्राबेरी, अंगूर और सब्जियों में ब्रोकली, टमाटर, आलू, मिर्च आदि। बच्चों में आयरन की कमी को दूर करने के लिए उन्हें विटामिन ‘सी’ युक्त खाद्यपदार्थ भी देना चाहिए जैसे कि टमाटर, ब्रोकली, संतरा, स्ट्रॉबेरी आदि भी उचित मात्रा में देनी चाहिए। इसके अलावा बच्चे को खाना खाने के समय चाय या कॉफी नहीं देना चाहिए। चाय या कॉफी में मौजूद टेनिन आयरन को  पचाने में  प्रभावित करता है।

और पढ़ें : Pernicious anemia: पारनिसियस एनीमिया क्या है?

एक बार जब बच्चे ठोस खाद्य पदार्थ खाने लगते हैं, तो उनके लिए आयरन की मात्रा उनकी उम्र पर निर्भर करती है।

लोहे की आयु प्रति दिन (आरडीए)

  • 7 से 12 महीने 11 मिलीग्राम
  • 1 से 3 साल 7 मि.ग्रा
  • 4 से 8 वर्ष 10 मि.ग्रा
  • 9 से 13 वर्ष 8 मि.ग्रा
  • 14 से 18 वर्ष 11 मिलीग्राम (लड़कों के लिए)
  • 15 मिलीग्राम (लड़कियों के लिए)

बच्चों के लिए आयरन का महत्व

और पढ़ें : Iron Test : आयरन टेस्ट क्या है?

पेरेंट्स अपने बच्चों के पोषण व उचित विकास के लिए हर संभव कोशिश करते हैं। लेकिन, यह ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है कि मां के दूध के बाद सवाल यह उठता है कि कौन सा खाद्य पदार्थ बच्चों के लिए आयरन की कमी को रोकने में उपयोगी होगा। रोग से लड़ने की क्षमता स्वस्थ जीवन के लिए आयरन की जरूरी तत्व होती है।

इसलिए अपने बच्चों को आहार में आयरन से भरपूर आहार देने के साथ विटामिन सी से भरपूर खाना भी देना बहुत जरूरी होता है। विटामिन सी आयरन की कमी को दूर करता है।

और पढ़ें : बच्चों के मानसिक विकास के लिए 5 आहार

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

आंकड़ों को जरूर जानें :

करीब 25 से 30 प्रतिशत बच्चे आयरन की कमी से पीड़ित होते हैं। विशेषकर 6 महीने से बड़े बच्चो में आयरन की कमी ज्यादा देखी जाती हैं। क्योंकि 6 माह से पहले बच्चे को अपनी माता से स्वास्थ्य के लिए जरूरी तत्व मिलते रहते हैं।

ये हैं बच्चो में आयरन की कमी होने के लक्षण

  • जल्दी थक जाना 
  • सांस जल्दी-जल्दी चलना 
  • विकास सही से नहीं होना 
  • पसीना ज्यादा आना 
  • कम खाना
  • त्वचा अधिक सुखना

बच्चे में आयरन की कमी को पूरा करने के टिप्स

अनार

अनार ब्लड की कमी को पूरा करने के लिए डॉक्टर्स भी इसके सेवन का सलाह देते हैं। अनार में कैल्शियम और आयरन की प्रचुर मात्रा पायी जाती है। यह शरीर में हिमोग्लोबिन की मात्रा को बैलेंस करता है। अनार में भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और फाइबर का मात्रा भी पाया जाता है। बच्चे में आयरन की कमी हो जाए, तो आप घर पर ही बच्चों को खाली पेट अनार का जूस पिलाएं।

और पढ़ें : डेंगू से बचाव के लिए मददगार साबित हो सकते हैं ये फल

खाना लोहे के बर्तन में बनाएं

आप में से बहुतों ने अपने घर में लोहे की बर्तनों में खाना बनाते देखा होगा। इससे पर्याप्त मात्रा में आयरन मिलता था। लेकिन अब लोग अधिकतर स्टेनलेस स्टील बर्तन का इस्तेमाल करने लगे हैं। लोहे के बर्तन में में पके हुए खाने उनमे आयरन की मात्रा को बढ़ाता है, जिससे आयरन की कमी होने से रोकता है।

आयरन की कमी में सेब और चुकंदर का जूस है लाभदायक

सेब के गुणों से आप सब परिचित हैं। सेब में आयरन की भरपूर मात्रा पायी जाती है। साथ ही चुकंदर में फॉलिक एसिड और फाइबर पाया जाता है, जो आयरन की कमी को दूर करने के लिए बहुत अच्छा विकल्प माना जाता है। बच्चे में आयरन की कमी हो तो सेब और चुकंदर का जूस शहद के साथ दें, जिससे बच्चे को उर्जावान रहने में मदद मिलेगी।

और पढ़ें : क्या आप जानते हैं चुकंदर (Beetroot) के इन 9 फायदों को

विटामिन सी युक्त आहार आयरन की कमी में है महत्वपूर्ण

बच्चों में आयरन की कमी हो तो विटामिन सी वाले आहार देना फायदेमंद होता है। इससे बच्चे के शरीर में खून की कमी नहीं होगी और आयरन भी मिलता रहेगा। विटामिन सी वाले खाने की चीजों में स्ट्रॉबेरी, पत्तागोभी, पपीता, पालक, तथा हरी सब्जियों से बने हुए आहार अपने बच्चे को खिलाएं।

और पढ़ें : इन 8 फूड से शरीर में पूरी होगी विटामिन सी की कमी

टमाटर

हालांकि टमाटर में बहुत आयरन नहीं होता है, लेकिन इसके द्वारा आयरन को ऑब्जर्व किया जा सकता है। बच्चों में इसकी कमी में बच्चे को टमाटर से बनी चीजें भी खिलाना फायदेमंद होती है।

अंडा

अंडे के पीले और सफेद दोनों भागों में कई स्वास्थ्यवर्धक तत्व पाए जाते हैं। जैसे – वसा, प्रोटीन, विटामिन, खनिज और आयरन। इसमें कैल्शियम की भरमार होती है। यह आयरन से भी भरपूर होता है। इसलिए जब भी बच्चों में आयरन की मात्रा कम हो तो उन्हें अंडे का सेवन करने को दें।

हरी पत्तेदार सब्जियां भी हैं मददगार

पालक, सरसो, पुदीना, धनिया, सहजन की पत्तियां, मेथी में आयरन की मात्रा पर्याप्त होती है। हीमोग्लोबिन की शिकायत होने पर पालक का सेवन करने पर इसकी कमी पूरी होती है। पालक में कैल्शियम, सोडियम, क्लोराइड, फॉसफोरस, खनिज और प्रोटीन जैसे तत्व आदि भी पाए जाते हैं।

और पढ़ें : 11 फायदे: इम्यून ​सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बना सकते हैं मेथी दाने

बढ़ते बच्चों के विकास के लिए आयरन बहुत जरूरी है। मां के दूध में शिशु को सभी तरह के पोषक तत्व मिलते हैं। लेकिन, जब बच्चे सॉलिड फूड खाना शुरू कर देते हैं, तो उन्हें कई बार सेहत के जरूरी आयरन नहीं मिल पाता। ऐसे में उन्हें ऊपर दी गए सुझावों के अनुरूप खाना खिलाएं, निश्चित ही उनकी आयरन की समस्या से राहत होगी। विशेष परिस्थितियों में डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बच्चे का अंगूठा चूसना कैसे छुड़वाएं

इस लेख के माध्यम से जानें की बच्चे का अंगूठा चूसना क्यों फायदेमंद माना जाता है और इसे छुड़वाने की सही उम्र क्या होती है। Bache ka angutha peena कैसे बंद करें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बच्चों में खून की कमी कैसे दूर करें?

इस लेख में जाने बच्चों में खून की कमी के मुख्य लक्षण और कारण के बारे में। Bachchon me anemia क्या है और क्यों होता है व इसे कैसे रोकें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Rectal Cancer: रेक्टल कैंसर क्या है और शरीर का कौनसा अंग प्रभावित करता है, जानें यहां

रेक्टल कैंसर या मलाशय का कैंसर होने पर स्टूल में ब्लड दिखाई देना, बाउल मूवमेंट में परेशानी के साथ ही डायरिया का भी सामना करना पड़ सकता है, अगर आपको मलाशय का कैंसर है तो तुरंत डॉक्टर से जांच कराएं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोलोरेक्टल कैंसर, हेल्थ सेंटर्स जनवरी 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

अपनी प्लेट उठाना और धन्यवाद कहना भी हैं टेबल मैनर्स

बच्चों को टेबल मैनर्स कैसे सिखाएं, Table Manners in kids, टेबल मैनर्स क्यों जरुरी है, बच्चों को बाहर खाना सिखाएं, क्यों सिखाएं बच्चों को बाहर खाना

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
बच्चों का पोषण, पेरेंटिंग दिसम्बर 13, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

फेरियम एक्सटी टैबलेट/Ferium XT Tablet

Ferium XT Tablet: फेरियम एक्सटी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
न्यूरोबियन प्लस टैबलेट

Neurobion plus tablet : न्यूरोबियन प्लस टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लिवोजेन एक्सटी टैबलेट

Livogen XT tablet : लिवोजेन एक्सटी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
आयरन कमी/iron/kami/ke/lakshan

इन 15 लक्षणों से जानें क्या आपको आयरन की कमी है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ मई 10, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें