संतुलित आहार और भारतीय व्यंजनों का समझें कनेक्शन

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट June 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

भारतीय संस्कृति अपनी विविधता के लिए प्रसिद्ध है, खाने से लेकर पोशाख और भाषा से लेकर जीने का तरीके तक भारत की हर बात में विभिन्नता झलकती है। यहां बनाए जाने वाले हर पारंपरिक व्यंजनों को दुनिया में सराहा जाता है, क्योंकि हर खाद्य पदार्थ मानवी शरीर और यहां के मौसम के अनुसार शारीरिक स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए बनाये गए है, चाहे वह तमिलनाडु की इडली हो या पंजाब की लस्सी हो। जैसा कि सभी जानते है कि हमारा रोजाना का संतुलित आहार का महत्व बहुत ज्यादा होता है, वह हमारी शारीरिक ऊर्जा और दिमाग को तंदुरुस्त रखने में मदद करता है। इस लिए जानते कुछ ऐसेे फायदे जो आपके पौष्टिक आहार से मिलते हैं और जिससे आपका मानसिक स्वास्थ्य भी ठीक रहता है।

और पढ़ें : Wild Radish: वाइल्ड रेडिश क्या है?

संतुलित आहार के फायदे:

वजन को नियंत्रित करता है

  • संतुलित आहार और नियमित रूप से व्यायाम करने से आप अतिरिक्त वजन बढ़ने और स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। अगर आप वजन कम करने की कोशिश नहीं कर रहे हैं, तो नियमित व्यायाम हृदय स्वास्थ्य में सुधार, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ा सकता है और आपके ऊर्जा के स्तर को बढ़ा सकता है।
  • हर हफ्ते कम से कम 150 मिनट की मध्यम शारीरिक व्यायाम की योजना बनाएं। यदि आप इस समय में  व्यायाम नहीं कर सकते हैं, तो दिन भर की गतिविधियों को बढ़ाने के सरल तरीके देखें। उदाहरण के लिए, ड्राइविंग के बजाय चलने की कोशिश करें, लिफ्ट के बजाय सीढ़ियां लें, या जब आप फोन पर बात कर रहे हों तो गति करें।
  • संतुलित, कैलोरीज घटाने वाला आहार खाने से भी वजन को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। जब आप एक स्वस्थ नाश्ते के साथ दिन की शुरुआत करते हैं, तो आप खाने के समय में भूख लगने पर निंयत्रण पा सकते है।
  • इसके अतिरिक्त, नाश्ता छोड़ने से आपकी रक्त शर्करा बढ़ सकती है, जिससे वसा का भंडारण बढ़ जाता है। प्रति दिन अपने आहार में फलों और सब्जियों की कम से कम पांच सर्विंग्स को शामिल करें। ये खाद्य पदार्थ, जो कैलोरीज़ में कम और पोषक तत्वों से भरपूर हैं, वजन नियंत्रण में मदद करते हैं। शर्करा युक्त पेय पदार्थों को, जैसे सोडा और फलों के रस, और मछली और टर्की जैसे लीन मीट का ग्रहण करें।

और पढ़ें : Betadine : बीटाडीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

मूड में सुधार करता है

  • संतुलित मानसिक आरोग्य के लिए संतुलित आहार होना बहुत जरुरी होता है।वैद्यानिक कहते है की शारीरिक गतिविधि एंडोर्फिन के उत्पादन को उत्तेजित करती है। एंडोर्फिन मस्तिष्क रसायन हैं जो आपको खुशी और अधिक आराम महसूस कराते हैं। एक स्वस्थ आहार खाने के साथ-साथ व्यायाम करने से बेहतर हो सकती है। आप अपनी उपस्थिति के बारे में बेहतर महसूस करेंगे, जिससे आपका आत्मविश्वास और आत्म-सम्मान बढ़ सकता है। व्यायाम के अल्पकालिक लाभों में तनाव में कमी और संज्ञानात्मक कार्य में सुधार शामिल हैं।
  • यह केवल आहार और व्यायाम ही है जो सकारात्मक मनोवस्था का नेतृत्व करता है। एक और स्वस्थ आदत जो बेहतर मानसिक स्वास्थ्य की ओर ले जाती है, सामाजिक संबंध बनाती है। चाहे वह स्वयं सेवा, क्लब में शामिल होना, या किसी फिल्म में भाग लेना हो, सांप्रदायिक गतिविधियाँ में मन को सक्रिय और सेरोटोनिन के स्तर को संतुलित करने में और बेहतर बनाने में मदद करती हैं। स्वयं को अलग न करें। नियमित रूप से परिवार या दोस्तों के साथ समय बिताएं।

और पढ़ें : जानें हेल्दी लाइफ के लिए आपका क्या खाना जरूरी है और क्या नहीं

ऊर्जा को बढ़ाता है

  • हम सभी बहुत अधिक असंतुलित भोजन खाने के बाद एक सुस्त भावना का अनुभव करते हैं। जब आप संतुलित आहार खाते हैं तो आपके शरीर को वह ईंधन प्राप्त होता है जो आपके ऊर्जा स्तर को प्रबंधित करने के लिए आवश्यक होता है। एक स्वस्थ आहार में शामिल हैं: साबुत अनाज, लीन मीट, कम वसा वाले डेयरी खाद्य पदार्थ, फल और सब्जियां
  • विशेषज्ञ को कहना है की, नियमित शारीरिक व्यायाम से मांसपेशियों की ताकत में भी सुधार होता है और आपको अधिक ऊर्जा मिलती है। व्यायाम आपके ऊतकों में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों को पहुंचाने में मदद करता है और आपके कार्डियोवस्कुलर सिस्टम को अधिक कुशलता से काम करने में मदद करता है जिससे आपको अपनी दैनिक गतिविधियों के बारे में जाने के लिए अधिक ऊर्जा मिलती है। यह बेहतर नींद को बढ़ावा देकर ऊर्जा को बढ़ावा देने में भी मदद करता है। यह आपको गहरी नींद के लिए मदद करता है।
  • अपर्याप्त नींद कई तरह की समस्याएं पैदा कर सकती है। थका हुआ और सुस्त महसूस कराता है। इसके  अलावा, यदि आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं तो आप चिड़चिड़े और मूडी भी महसूस कर सकते हैं। उच्च रक्तचाप, मधुमेह और हृदय रोग के लिए नींद की कमतरता जिम्मेदार है। नींद की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए, एक शेड्यूल से जुड़े रहें। अपने कैफीन का सेवन कम करें, नैपिंग को सीमित करें और एक आरामदायक नींद का वातावरण बनाएं। एक शांत कमरे के तापमान को बनाए रखें।

और पढ़ें : Kidney Function Test : किडनी फंक्शन टेस्ट क्या है?

दीर्घायु बनाता है

  • जब आप स्वस्थ आदतों का अभ्यास करते हैं, तो आपके दीर्घायु होने की संभावना बढ़ जाती है। विद्यानिक अध्ययन से पता चला है कि जो लोग हर दिन सिर्फ 30 मिनट चलते थे, उन्होंने समय से पहले मरने की संभावना को कम कर दिया, उन लोगों की तुलना में जिन्होंने व्यायाम किया था। प्रियजनों के साथ अधिक समय के लिए आगे बढ़ते रहने के लिए पर्याप्त कारण है। पांच मिनट की छोटी पैदल चाल से शुरू करें और धीरे-धीरे समय बढ़ाएँ जब तक आप 30 मिनट तक न कर लें।

संतुलित आहार के लिए डायट में शामिल करें

अगर आप संतुलित आहार लेना चाहते हैं, तो आप ताजे फलों और सब्जियों के पकने के तुरंत बाद ही उनका सेवन करें। इनके पकने के बाद कुछ समय बितने के बाद इन्हें खाने से बचना चाहिए। इसके अलावा खाने को ज्यादा पकाने, तलने या बार-बार गर्म करने से भी बचने की जरूरत होती है। ऐसा करने से खाने की न्यूट्रीशन वैल्यू कम हो जाती है।  संतुलित आहार लेते समय यह जानना भी जरूरी है कि खाने के नेचुरल सोर्सेज हमारी बॉडी की न्यूट्रीशन डिमांड को पूरा करते हैं लेकिन इसके साथ जरूरी है कि इन्हें इनकी सही फॉर्म और मात्रा में खाया जाए। साथ ही अपनी डायट में कुछ भी शामिल करने से पहले यह समझ लें कि बॉडी को विटामिन, मिनरल और एंटी ऑक्सीडेंट आदि न्यूट्रिएंट्स का जरूरत होती है। इसके अलावा बॉडी की इम्यूनिटी को भी मजबूत रखना जरूरी है। इसके लिए विटामिन ए, सी और ई को अपनी डायट में शामिल करें

स्वस्थ रहें और खुश रहें!

संतुलित आहार या बैलेंस डायट न सिर्फ आपकी बॉडी के लिए बल्कि आपके दिमाग के लिए फायदेमंद साबित होता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Quiz: सेहत के लिए खजाने से कम नहीं वाइन, क्विज खेलें और बढ़ाएं अपना ज्ञान

आपको वाइन के बारे में कितनी जानकारी है? किन लोगों के लिए वाइन जहर का काम करती है? सेहत के लिए वाइन फायदेमंद है या नहीं, जानने के लिए खेलें यह क्विज

के द्वारा लिखा गया Mona narang

हार्ट अटैक के बाद डायट का रखें खास ख्याल! जानें क्या खाएं और क्या न खाएं

हार्ट अटैक के बाद डायट, हार्ट अटैक के बाद क्या खाएं और क्या नहीं, पाएं हार्ट अटैक के बाद स्वस्थ रहने की पूरी जानकारी, Diet after Heart Attack in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
स्पेशल डायट, आहार और पोषण August 21, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

विशेष स्थिति के लिए आहार भी हो विशेष, ऐसा कहना हैं एक्सपर्ट का

स्वस्थ रहने के नियम आयुर्वेद में बताए गए हैं। आयुर्वेद के अनुसार संतुलित भोजन से भरपूर ब्रेकफास्ट करें, लंच में पर्याप्त भोजन और रात के खाने में बहुत हल्के खाद्य पदार्थ खाएं।

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

क्रेविंग्स और भूख लगने में होता है अंतर, ऐसे कम करें अपनी क्रेविंग्स को

क्रेविंग्स और भूख में क्या अंतर है? क्रेविंग्स की पहचान करने का प्रमुख टूल यह है कि जब आप आखिरी बार भोजन करते हैं, तो यह फूड टेम्पेटेशन का कारण बनता है। लॉक-डाउन क्रेवर्स (लॉकडाउन के दौरान हर समय कुछ अच्छा खाने की इच्छा रखने वाले लोग) इस समय कई तरह के बेक्ड और फ्राइड डिशेस के साथ कई तरह के प्रयोग कर रहे हैं।

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन July 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पुरुषों के लिए हॉर्मोन डायट/hormone diet for men

पुरुषों के लिए हॉर्मोन डायट क्यों जरूरी है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कीटो डाइट और lchp डाइट

कीटो डायट और LCHP डायट: जानिए इनमें अंतर और डाइटस को कंबाइन करने के नियम

के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ January 31, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
हार्ट केयर इन विंटर

सर्दियों में हार्ट पेशेंट रखें इन बातों का ध्यान, नहीं तो बढ़ सकता है अटैक का खतरा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
प्रकाशित हुआ January 17, 2021 . 10 मिनट में पढ़ें
पितृ पक्ष डायट तामसिक भोजन सात्विक भोजन

तामसिक छोड़ अपनाएं सात्विक आहार, जानें पितृ पक्ष डायट में क्या खाएं और क्या नहीं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ August 31, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें