ब्रेन स्ट्रोक कम करने के लिए बेस्ट फूड्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट फ़रवरी 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

क्या आपको पता है कि बड़ी से बड़ी बीमारी के ठीक होने में डायट की भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। फिर चाहें वे डायबिटीज, स्ट्रोक या हृदय जैसी कोई गंभीर बीमारी हो। अपनी अच्छी डायट से इनके हानिकारक प्रभावों को कम किया जा सकता है। ताजे फल और सब्जियाें में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं जो हर तरह के स्वास्थ्य जोखिमों को नियंत्रित कर सकते हैं। अगर आप को भी ब्रेन स्ट्रोक का डर है तो उसे रोकने के लिए अपने खानपान में इस तरह के फ्रूट्स और सब्जियां शामिल कर सकते हैं। लेकिन ब्रेन स्ट्रोक कम करने के फूड्स के बारे में बताने से पहले आपको बता दें कि आप हाई ब्लड प्रेशर के खतरे को कम करने के लिए डिटेलुआ डायटिशियन डीएएसएच डॉयट यानी डायटरी एप्रोचेस टू स्टॉप हाइपरटेंशन (DASH Diet- Dietary Approaches to Stop Hypertension) को भी फॉलो कर सकते हैं।

स्ट्रोक कम करने के फूड्स की जानाकारी से पहले जानें क्या है डायटरी एप्रोचेस टू स्टॉप हाइपरटेंशन डायट

यह भी पढ़ेंः आजमाएं ब्रेन स्ट्रोक रोकने के 7 तरीकें

क्या है डायटरी एप्रोचेस टू स्टॉप हाइपरटेंशन डायट

एक डीएएसएच डायट में कोलेस्ट्रॉल, सोडियम और फैट की कम से कम मात्रा होती है। इसके लिए अपने आहार में साबुत अनाज, फल, सब्जियां, लीन प्रोटीन और कम वसा वाले डेयरी उत्पादों के सेवन पर जोर दिया जाता है। डीएएसएच डॉयट में फाइबर, पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम की मात्रा से भरपूर खाद्य पदार्थ शामिल किए जाते हैं। जिनमें शामिल हैं:

  • सब्जियांः प्रतिदिन 3 से 5 तरह की सब्जियां खाएं
  • फलः प्रतिदिन 4 से 5 तरह के फल खाएं
  • अनाजः प्रतिदिन 6 प्रकार के अनाज खाएं
  • लो-फैट और फ्री डेयरी उत्पादः प्रतिदिन 2 से 3 मात्रा में इनका सेवन करें
  • लीन मीटः प्रतिदिन 3 से 6 प्रकार शामिल करें
  • नट्स, सीड्स और फलियां: प्रति सप्ताह 3 से 5
  • फैट और तेल: प्रतिदिन 2 से 3 सर्विंग
  • शुगर की मात्राः प्रति सप्ताह 0 से 5 सर्विंग्स
  • सोडियम: प्रति दिन 1,500 मिग्रा से अधिक नहीं

यह भी पढ़ेंः ब्रेन स्ट्रोक के कारण कितने फीसदी तक डैमेज होता है नर्वस सिस्टम ?

ब्रेन स्ट्रोक कम करने के फूड्स

ऐसे कई खाद्य पदार्थ हैं जिनमें कैलोरी और फैट की कम मात्रा होती है। लेकिन, ये पदार्थ फाइबर का एक अच्छा स्त्रोत भी होते हैं। जो शरीर को तरोजाता रखने के साथ इम्यून सिस्टम को भी मजबूत बनाने में मददगार होते हैं।

1. पोटैशियम युक्त पदार्थ- ब्रेन स्ट्रोक कम करने के फूड्स में शामिल है केला

ब्रेन स्ट्रोक का मुख्य कारण हाई ब्लड प्रेशर होता है। वहीं, केले में पोटैशियम की उच्च मात्रा होती है जो ब्लड प्रेशर कम करने में मददगार होता है। अगर नियमित तौर पर अपने आहार में आप केले का सेवन करते हैं, तो 24 फीसदी तक ब्रेन स्ट्रोक के जोखिम को कम कर सकते हैं।

2. मैग्नीशियम और कैल्शिम की मात्रा वाले खाद्य पदार्थ भी हैं स्ट्रोक कम करने के फूड्स

कम वासा वाले दूध और उससे बने उत्पादों में मैग्नेशियम और कैल्‍शिम के साथ-साथ पोटैशियम की भी उच्च मात्रा पाई जाती है। ये प्राकृतिक रूप से कोलेस्‍ट्रॉल के लेवल को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा जौ और भुट्टा जैसे आहार में भी मैग्नेशियम का अच्छा स्त्रोत माना जाता है। इनके सेवन से आप 30 फीसदी तक स्ट्रोक के जोखिम को कम कर सकते हैं।

3. कम करें कोलेस्ट्रॉल- नाश्ते में खाएं ओटमील

आप हेल्दी नाश्ते के तौर पर ओटमील को भी अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। ओटमील खाने से शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम होता है। साथ ही, यह पेट को भी हेल्दी बनाए रखता है। इसमें आप बादाम और सोया भी मिला सकते हैं। इन तीनों में ही फैट की मात्रा बहुत कम होती है। यह बैड कोलेस्‍ट्रॉल के लेवल को 28 फीसदी तक कम कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः अगर आप पीते हैं ज्यादा कॉफी तो हो सकती हैं खतरनाक बीमारियां

4. हाई फाइबर के लिए खाएं शकरकंद, जो है स्ट्रोक कम करने के फूड्स में शामिल

शकरकंद में फाइबर का अच्छा स्त्रोत पाया जाता है।

5. एंटी-ऑक्सीडेंट्स के तौर पर स्ट्रोक कम करने के फूड्स में शामिल करें ब्लूबेरी

ब्लूबेरी और इसकी प्रजातियां एंटी-ऑक्सीडेंट्स का एक अच्छा स्त्रोत होते हैं। ये खून की नसों को चौड़ा करने में मदद कर सकते हैं।

6. स्ट्रोक कम करने के फूड्स में हरी-भरी पालक भी है मददगार

पालक में पर्याप्त मात्रा में मैग्नीशियम, विटामिन बी और फोलेट की मात्रा पाई जाती है। यह ब्लड प्रेशर को कम करता है और स्ट्रोक के जोखिम से भी बचाता है। इसके साथ ही, बीन्‍स में भी फोलेट और विटामिन बी की अच्छी मात्रा होती है। इनसे सेवन से 20 फीसदी तक स्ट्रोक के जोखिम को कम किया जा सकता है।

7. बेहतर खून के प्रवाह के लिए मछली का सेवन

सैल्‍मन, ट्राउट या अन्‍य मछलियों में ओमेगा-3 फैटी एसिड की उच्चा मात्रा होती है। इनका सेवन खून की नली में खून के बेहतर प्रवाह को बढ़ाते हैं। साथ ही, ये खून को पतला करने में भी मददगार होते हैं। ये ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखते हैं और दिल को भी हेल्दी रखते हैं। मछली उत्पादों के सेवन से ब्रेन स्ट्रोक के खतरे को 6 फीसदी तक कम किया जा सकता है।

खाद्य पदार्थ खरीदने या खाने से पहले चेक करें लेबल और करें स्ट्रोक कम करने के फूड्स की सही पहचान

स्ट्रोक कम करने के फूड्स की जानकारी के लिए यह सबसे जरूरी है की आप जो भी खा रहें हैं या जिस भी खाद्य पदार्थ को खरीद रहें हैं, उसके पैक पर लगे लेबल की जांच करें। फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के निर्देशों के अनुसार मार्केट में मिलने वाले हर तरह के खाद्य उत्पादक कंपनियों को अपने उत्पादित पादर्थों  में मिले सभी पादर्थों की मात्रा सही मात्रा पैक के लेबल पर अंकित करना अनिवार्य है। इस जानकारी से आप आसानी से अपने लिए स्ट्रोक कम करने के फूड्स का चुनाव कर सकते हैं। जब भी आप मार्केट से किसी भी तरह के खाद्य पदार्थ खरीदें, तो उसके पैक पर इनकी मात्रा चेक करेंः

एक अमेरिकी रिपोर्ट के मुताबिक हर साल विश्वभर में लगभग 5 लाख लोगों की मृत्यु ब्रेन स्ट्रोक के कारण होती है। वहीं, अमेरिका में होने वाली मौतों में मस्तिष्काघात तीसरा सबसे बड़ा कारण भी है। हालांकि, आप अपने लाइफस्टाइल और दैनिक आहार में ही बदलाव करके स्ट्रोक के 80 फीसदी जोखिम को कम कर सकते हैं।

साथ ही, स्ट्रोक कम करने के फूड्स के नियमों के पालन के साथ-साथ आपको अपनी कुछ आदतों जैसे, स्मोकिंग या बहुत ज्यादा फास्ट फूड और फैटी खाद्य पदार्थों को खाने की आदतों में बदलाव लाना होगा और नियमित तौर पर एक्सरसाइज भी करना होगा।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और भी पढ़ें:

अस्थमा रोग से हमेशा के लिए पाएं छुटकारा, रोजाना करें ये आसन

त्वचा के इस गंभीर रोग से निपटने के लिए मिल गयी है वैक्सीन

क्या एबॉर्शन और मिसकैरिज के बाद हो सकती है हेल्दी प्रेग्नेंसी?

Thyroid Nodules : थायरॉइड नोड्यूल क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Giant cell Arteritis: जायंट सेल आर्टेराइटिस क्या है?

    जानिए जायंट सेल आर्टेराइटिस क्या है in hindi, जायंट सेल आर्टेराइटिस के कारण और लक्षण क्या है, Giant cell arteritis के लिए क्या उपचार है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Transient ischemic attack: ट्रांसिएंट इस्कीमिक अटैक क्या है?

    जानिए मिनी स्ट्रोक क्या है in hindi, मिनी स्ट्रोक के कारण और लक्षण क्या है, mini stroke को ठीक करने के लिए क्या उपचार है, जानिए यहां।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    फेफड़ों के बाद दिमाग पर अटैक कर रहा कोरोना वायरस, रिसर्च में सामने आईं ये बातें

    कोविड-19 में खांसी, जुकाम व सास लेने में दिक्कत होती है। ताजा रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना वायरस से दिमाग पर असर हो रहा है, corona virus se dimaag par asar

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Mona narang
    कोविड-19, कोरोना वायरस अप्रैल 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    बदबूदार जूता सूंघाने या CPR देने से पहले, जरूर जानें मिर्गी से जुड़े मिथक

    जानिए मिर्गी से जुड़े मिथक in Hindi, मिर्गी से जुड़े मिथक कैसे समझें, मिर्गी का दौरा क्या है, Mirgi Se Jude Mithak, मिर्गी का दौरा आने पर क्या करें, मिर्गी का उपचार, Epilepsy Myths World Epilepsy Day.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    हेल्थ सेंटर्स, न्यूरोलॉजिकल समस्याएं फ़रवरी 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    मानव मस्तिष्क की जटिलता

    महिलाओं का दिमाग पुरुषों की तुलना में होता है छोटा, जानें एक्सपर्ट से मानव मस्तिष्क की जटिलताएं

    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ जुलाई 22, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    पुरुष और महिला में ब्रेन डिफरेंस

    पुरुष और महिला में ब्रेन डिफरेंस से जुड़ी इन इंटरेस्टिंग बातों को नहीं जानते होंगे आप

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    उडिलिव 300, Udiliv 300

    Ecosprin Tablet: इकोस्प्रिन (एस्प्रिन) टैबलेट क्या है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    प्रकाशित हुआ अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    temporal lobe epilepsy- टेम्पोरल लोब एपिलेप्सी

    Temporal Lobe Epilepsy: टेम्पोरल लोब एपिलेप्सी क्या है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    प्रकाशित हुआ अप्रैल 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें