home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

हर्पीस वायरस की इस गंभीर रोग से निपटने के लिए मिल गयी है वैक्सीन

हर्पीस वायरस की इस गंभीर रोग से निपटने के लिए मिल गयी है वैक्सीन

हर्पीस (Herpes) वायरस क्या है?

हर्पीस एक तरह का इंफेक्शन है जो किसी को भी हो सकता है। हर्पीस स्किन पर छोटे-छोटे छाले की तरह होता है और यह हर्पीस सिंप्लेक्स वायरस के कारण होता है। हाल ही में शोधकर्ताओं ने हर्पीस वायरस से निपटने के लिए एक नए वैक्सीन की खोज की है। शोधकर्ताओं ने 64 चूहों पर रिसर्च की जिसमें चूहों को पेन डेवलप्ड वैक्सीन (पेंसिल्वेनिया यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित वैक्सीन) दी गई और उन्हें 28 दिनों के लिए जेनिटल हर्पीस के संपर्क में लाया गया। 28 दिनों के बाद रिसर्च में पाया गया कि 63 चूहों के इम्यून सिस्टम पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ा। उनमें बीमारी के भी कोई लक्षण नहीं दिखे।

हर्पीस को शिंगल्स भी कहते हैं। यह जोस्टर वायरस के कारण होने वाली एक संक्रामक बीमारी है। इस स्थिति में त्वचा पर दर्द भरे छोटे-छोटे दाने पड़ जाते हैं। कई रिसर्च से यह भी बात सामने आई है कि 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में हर्पीस बीमारी बहुत आम है। इससे आपका इम्यून सिस्टम कमजोर भी हो सकता है। हालांकि, उचित वैक्सिनेशन, इसके खतरों और लक्षणों को नियंत्रित करके इस बीमारी की संभावना काफी हद तक कम की जा सकती है।

हर्पीस वायरस दो तरह के होते हैं 1. हर्पीस सिम्प्लेक्स वायरस HSV-1 और हर्पीज सिम्प्लेक्स वायरस HSV-2

एचएसवी -1 होंठ पर या होंठ के अंदर होता है ये इंफेक्शन। यह छाले के रूप में भी दिखाई दे सकता है। संक्रमित शरीर के हिस्सों जैसे आंख (पेरिओरिबिटल एरिया) के पास की त्वचा में यह परेशानी हो सकती है और यह कॉर्निया और कंजंक्टिवा को भी प्रभावित कर सकता है। इसे केराटाइटिस और कंजंक्टिवाइटिस के रूप में जाना जाता है। इसके लक्षण 3 से 5 दिनों के लिए दिखाई दे सकते हैं।

हर्पीस वायरस के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं

एचएसवी – 2 के लक्षण

इस इंफेक्शन में भी दाने में पानी भरा होता है लेकिन, HSV-1 की तुलना में ये कम गंभीर होता है। प्राइवेट पार्ट में होने पर निम्न लक्षण नजर आते हैं,

  • आंतरिक या बाहरी घाव
  • एक जगह में छाले आ जाना
  • जननांग में खुजली
  • पैर, नितंब या जननांग क्षेत्र में दर्द
  • पेशाब करते समय दर्द होना

सामान्य हर्पीस वायरस के लक्षण क्या हो सकते हैं?

हर्पीस वायरस के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं। जैसे-

  • यह बीमारी शरीर के प्राइवेट पार्ट, मुंह के साथ-साथ अन्य हिस्सों पर भी हो सकते हैं।
  • संक्रमण के कारण शरीर में खुजली और दर्द की समस्या हो सकती है।
  • ज्यादा खुजली होने की स्थिति में घाव होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • शरीर पर लाल निशान (रैश) भी आ सकते हैं।
  • इंफेक्शन वाली जगह पर तेज दर्द भी हो सकता है।

और पढ़ें :11 फायदे: इम्यून ​सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बना सकते हैं मेथी दाने

क्या कहती है रिसर्च?

इसी तरह, 10 हर्पीस वायरस से संक्रमित सूअरों पर भी वैक्सिनेशन की प्रतिक्रियाएं चेक की गई। पाया गया कि सूअरों में भी किसी तरह का हर्पीस वायरस का इंफेक्शन नहीं मिला। स्टडी के मुख्य इन्वेस्टिगेटर हार्वे फ्रीडमैन (एमडी, संक्रामक रोगों के प्रोफेसर) का कहना है कि “जानवरों के ऊपर किए गए टीकाकरण के ये परीक्षण बेहद प्रभावशाली साबित हो रहे हैं। इस वैक्सीन के सुरक्षित और प्रभावशाली उपयोग के लिए वायरस से प्रभावित लोगों पर भी इसका इस्तेमाल किया जाना चाहिए।”

कैसे काम करेगी यह वैक्सीन?

हर्पीस वायरस इंफेक्शन से बचाव के लिए दिया जाने वाला यह टीका तीन प्रकार के एंटीबॉडी को उत्तेजित करके काम करेगा। पहला, वायरस को कोशिकाओं में प्रवेश करने से रोकेगा और अन्य दो एंटीबॉडीज सुनिश्चित करेंगे कि वायरस, जन्मजात प्रतिरक्षा प्रणाली के सुरक्षात्मक कार्यों को न रोके। यह टीका हर्पीस के दूसरे टीकों से अलग होगा। यह वैक्सीन वायरस के प्रवेश को अवरुद्ध करके बीमारी पर काम करेगी।

और पढ़ें : Allergy Blood Test : एलर्जी ब्लड टेस्ट क्या है?

हर्पीस वायरस के कारण क्या हैं?

हर्पीस वायरस निम्नलिखित कारणों से होता है। जैसा-

  • किसी व्यक्ति के साथ एक ही प्लेट में खाना खाने या जूठे गिलास से पानी पीने के कारण हो सकता है। इसलिए किसी भी व्यक्ति के जूठे खाने से बचें।
  • कई बार हमसभी लिप बाम या लिपस्टिक जैसे कॉस्मेटिक प्रोडक्ट एक दूसरे से शेयर कर लेते हैं लेकिन, इस दौरान भी हर्पीस वायरस फैलने का खतरा बना रहता है। हर्पीस वायरस से बचने के लिए होंठों पर इस्तेमाल किये जाने वाले प्रोडक्ट शेयर न करें।
  • ऐसे लोगों के संपर्क न रहें जिन्हें हर्पीस इंफेक्शन हुआ हो।
  • हर्पीस इंफेक्शन होने पर ओरल सेक्स से परहेज करें। ओरल सेक्स के कारण यह आपके पार्टनर को भी हो सकता है।
  • हेल्थ एक्सपर्ट (HSV-2 संक्रमण) बताते हैं की हर्पीस इंफेक्शन अनप्रोटेक्टेड सेक्स के कारण भी हो सकता है।

हेल्थ एक्सपर्ट और डर्मेटोलॉजिस्ट का मानना है की हर्पीस वायरस उसी व्यक्ति को होता है जो चिकन पॉक्स के शिकार हो चुके होते हैं। अगर सामान्य भाषा में इसे समझें तो यह बीमारी वेरिसेला जोस्टर वायरस शरीर में रहने के कारण होता है। इस वायरस के शरीर में होने के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है। शरीर के ज्यादा कमजोर होने के कारण यह नर्वस सिस्टम पर नकारात्मक प्रभाव डालने लगता है। ऐसी स्थिति में हर्पीस की समस्या त्वचा पर आसानी से देखी जा सकती है।

हर्पीस वायरस से संक्रमित होने पर क्या करें?

हर्पीस वायरस से संक्रमित होने पर निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे-

  • संक्रमित त्वचा को छूये नहीं। बार-बार छूने के कारण इंफेक्शन ज्यादा फैल सकता है।
  • इंफेक्शन होने पर आइस पैक का इस्तेमाल करें।
  • दानों को सूखने दें और दाने वाली जगहों को साफ रखें।
  • अगर आपके घर में शिशु या बच्चा है तो उससे दूरी बनाये रखें।

इन लक्षणों के अलावा अन्य लक्षण भी हो सकते हैं। इसलिए परेशानी महसूस होने पर खुद से इलाज न करें और हेल्थ एक्सपर्ट की सलाह लें।

हर्पीस वायरस का खतरा कब ज्यादा होता है?

इस बीमारी का खतरा सबसे ज्यादा बारिश और ठंड के मौसम में होता है। हर्पीस होने पर परेशान न हों लेकिन, इसका इलाज जरूर करवाएं। अगर इसका ठीक तरह से इलाज नहीं करवाया गया तो इंफेक्शन शरीर के अन्य हिस्सों पर फैलने लगता है। यह सबसे पहले चेहरे खासकर होंठों या सीने पर होता है। इसलिए शरीर या चेहरे पर होने वाले दानों को नजरअंदाज न करें।

अगर आप हर्पीस वायरस से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

नोट : नए संशोधन की डॉ. प्रणाली पाटील द्वारा समीक्षा

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/02/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x