home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

ब्लूबेरी (नीलबदरी) को सुपरफूड क्यों कहा जाता है?

ब्लूबेरी (नीलबदरी) को सुपरफूड क्यों कहा जाता है? 

ब्लूबेरी (Blueberry) फल यानी नीलबदरी का फल। यह साइज में छोटे गोल आकार और नीले रंग का होता है। स्वाद में खट्टा-मीठा ये फल स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक है। इसमें कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। ब्लूबेरी का साइंटिफिक नाम वैक्सीनियम को रिबोसोम है। यह सबसे ज्यादा अमेरिका, पोलैंड, कनाडा, जर्मनी और नीदरलैंड में होता है।

पाएं विटामिन्स की भरपूर मात्रा

नीलबदरी (Blueberry) में कैलोरी, पोटेशियम, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, शर्करा विटामिन-A, विटामिन-C, विटामिन B-6, मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए सेहत के लिए यह कई तरह से फायदेमंद होता है।

क्यों कहा जाता है सुपरफूड?

एक रिसर्च के अनुसार 40 सब्जियों और फलों में की तुलना में नीलबेरी (Blueberry) में एंटीऑक्सीडेंट सबसे अधिक होता है। यही वजह है कि ब्लूबेरी को उन 40 सब्जियों और फलों में सबसे ऊपर रखा गया है। ब्लूबेरी को सुपरफूड भी कहा जाता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लामेन्ट्री तत्व कई तरह की बीमारियों जैसे बढ़ती उम्र में होने वाली परेशानी, ब्रेन से जुड़ी बीमारी जैसे अल्जाइमर, पार्किन्सन (Parkinson), डायबिटीज और हार्ट से संबंधित बीमारियों से रक्षा करने में सहायक है।

और पढ़ेंः रूमेटाइड अर्थराइटिस के लिए डाइट प्लान: इसमें क्या खाएं और क्या न खाएं?

ब्लूबेरी (Blueberry) के सेवन से होने वाले लाभ:

1.हड्डियों होती हैं मजबूत

इसमें आयरन, फॉस्फोरस, कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैंग्नीज, जिंक और विटामिन के पाया जाता है। इन खनिजों और विटामिन्स का पर्याप्त सेवन हड्डियों को मजबूत बनाता है। इसमें मौजूद आयरन और जिंक हड्डियों के जोड़ों स्ट्रांग बनाने में सहायक है। इन खनिजों और विटामिनों का पर्याप्त सेवन हड्डी की संरचना और ताकत को बनाने और बनाए रखने में योगदान देता है। आयरन और जिंक हड्डियों और जोड़ों की शक्ति और इलास्टिसिटी बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। विटामिन के के कम इंटेक को हड्डी के फ्रैक्चर के एक उच्च जोखिम से जोड़ा गया है। हालांकि पर्याप्त विटामिन के का सेवन कैल्शियम के अवशोषण में सुधार करता है और कैल्शियम की कमी को कम कर सकता है।

और पढ़ेंः विटिलिगो: सफेद दाग के रोगियों के लिए डाइट प्लान

2.त्वचा होती है स्वस्थ

कोलेजन त्वचा का सपोर्ट सिस्टम है। इसका विकास विटामिन सी पर निर्भर करता है। यह धूप, प्रदूषण और धुएं के कारण त्वचा को नुकसान से बचाने में मदद करता है। विटामिन सी कोलेजन को बेहतर बनाने और संपूर्ण त्वचा की बनावट को रिपेयर करने की क्षमता में भी सुधार कर सकता है।

ऑक्सीडेटिव डीएनए डैमेज को रोजमर्रा की जिंदगी का ऐसा हिस्सा माना जाता है जिसे अवॉयड नहीं किया जा सकता। यह आपके शरीर में प्रत्येक कोशिका में प्रति दिन हजारों बार होने के लिए जाना जाता है। डीएनए क्षति उस कारण का हिस्सा है जो हमारे बढ़ची उम्र से जुड़ा हुआ है। यह कैंसर जैसी बीमारियों के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। क्योंकि ब्लूबेरी एंटीऑक्सिडेंट में उच्च हैं वे आपके डीएनए को नुकसान पहुंचाने वाले कुछ मुक्त कणों को बेअसर कर सकते हैं। अपनी त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए आप ब्लूबेरी खा सकते हैं।

3.ब्लड प्रेशर होता है कंट्रोल

इसमें सोडियम की मात्रा कम होती है जो ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखने में सहायक हो सकता है। ब्लूबेरी का सेवन प्रेग्नेंसी के बाद महिलाओं की सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। ब्लड प्रेशर को स्वस्थ स्तर पर रखने के लिए कम सोडियम का स्तर बनाए रखना आवश्यक है। ब्लूबेरी सोडियम से मुक्त हैं। इनमें पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम होते हैं। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि इन खनिजों में आहार कम उच्च रक्तचाप से जुड़े हैं। इन खनिजों का पर्याप्त आहार सेवन रक्तचाप को कम करने में मदद करने के लिए जाना जाता है।

और पढ़ेंः जानिए किडनी के रोगी का डाइट प्लान,क्या खाएं क्या नहीं

4.शुगर लेवल रहता है ठीक

इसका सेवन डायबिटीज के मरीजों के लिए लाभदायक होता है। इसमें शुगर बहुत कम होती है। यह मेटाबॉलिज्म की प्रक्रिया को सुचारू रूप से चलाने में सक्षम होती है। अध्ययन में पाया गया है कि टाइप 1 डायबिटीज वाले लोग जो उच्च फाइबर वाले आहार का सेवन करते हैं, उनमें रक्त शर्करा का स्तर कम होता है, और टाइप 2 मधुमेह वाले लोग जो रक्त शर्करा, लिपिड और इंसुलिन के स्तर में सुधार करते हैं। एक कप ब्लूबेरी में 3.6 ग्राम (जी) फाइबर होता है।

5.दिल रहता है स्वस्थ

नीलबदरी में मौजूद फाइबर, पोटेशियम, फोलेट, विटामिन-सी, विटामिन-बी 6, और फाइटोन्यूट्रिएंट हार्ट से जुड़ी परेशानियों को कम करने में सहायक हो सकता है। इसके कोलेस्ट्रॉल फ्री होने की वजह से भी दिल के लिए अच्छी मानी जाती है।

ब्लूबेरी में फाइबर, पोटेशियम, फोलेट, विटामिन सी, विटामिन बी 6, और फाइटोन्यूट्रिएंट सामग्री स्वास्थ्य हृदय का समर्थन करती है। ब्लूबेरी से कोलेस्ट्रॉल की अनुपस्थिति दिल के लिए भी फायदेमंद है। फाइबर सामग्री खून में कोलेस्ट्रॉल की कुल मात्रा को कम करने और हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद करती है।

विटामिन बी 6 और फोलेट होमोसिस्टीन नामक एक यौगिक के निर्माण को रोकते हैं। शरीर में होमोसिस्टीन का अत्यधिक निर्माण रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है और हृदय की समस्याओं को जन्म दे सकता है।

और पढ़ेंः वात: इस दोष को संतुलित करने के लिए बदलें अपना डाइट प्लान

6.कैंसर का खतरा होता है कम

ब्लूबेरी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकते हैं। ब्लूबेरी ट्यूमर की कोशिकाओं और रेडिकल कोशिकाओं को नष्ट करता है। इसलिए इसका नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। ब्लूबेरी में विटामिन सी, विटामिन ए, और विभिन्न फाइटोन्यूट्रिएंट्स शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करते हैं जो कोशिकाओं को बीमारी से जुड़े मुक्त कणों से नुकसान से बचाने में मदद कर सकते हैं।

शोध बताते हैं कि एंटीऑक्सिडेंट ट्यूमर के विकास को रोक सकते हैं, शरीर में सूजन को कम कर सकते हैं, और इसोफेजियल, फेफड़े, मुंह, ग्रसनी, एंडोमेट्रियल, अग्नाशय, प्रोस्टेट, और पेट के कैंसर को दूर करने में मदद कर सकते हैं। ब्लूबेरी में फोलेट भी होता है, जो डीएनए संश्लेषण और मरम्मत में भूमिका निभाता है। यह डीएनए में उत्परिवर्तन के कारण कैंसर कोशिकाओं के गठन को रोक सकता है।

और पढ़ेंः थायराइड डाइट प्लान अपनाकर पाएं हेल्दी लाइफस्टाइल, बीमारी से रहे दूर

7.मेंटल हेल्थ

ब्लूबेरी के सेवन से यादृदाश्त अच्छी रहती है, इसलिए भी इसका नियमित रूप से किया गया सेवन मस्तिष्क के लिए फायदेमंद है।

8.डाइजेशन रहता है ठीक

ब्लूबेरी पाचन क्रिया को ठीक रखने में सहायक होती है। इसमें फाइबर और मिनरल की पर्याप्त मात्रा कब्ज और पाचन संबंधी तकलीफों को दूर करने में मदद करती है।

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन (NCBI) के अनुसार ब्लूबेरी में मौजूद जिंक की पर्याप्त मात्रा कभी-कभी गर्भवती महिला के लिए नुकसानदायक हो सकती है। इसलिए ब्लूबेरी अर्थात सुपरफूड के कई फायदे हैं लेकिन, गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन हिसाब से करना चाहिए। ब्लूबेरी फल के खाने से अगर कोई परेशानी होती है तो इसका सेवन नहीं करना चाहिए और डॉक्टर से सलाह लेना चा​हिए।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

7 Stunning Reasons You Should Eat Blueberries Every Day/https://foodrevolution.org/blog/healthy-snacks/Accessed on 20/07/2020

What Makes Blueberries Superfoods?/https://daily.jstor.org/what-makes-blueberries-superfoods/ Accessed on 20/07/2020
लेखक की तस्वीर
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 20/07/2020 को
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x