Sabudana: साबूदाना क्या है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by | By

Update Date दिसम्बर 15, 2019
Share now

परिचय

साबूदाना (Sago) क्या होता है?

साबूदाना (Sago) एक प्रकार का स्टार्च होता है, जो कुछ ट्रॉपिकल पाल्म की स्टेम से निकाला जाता है। साबूदाना मुख्यतः सागो पाल्म (Sago Palm; Metroxylon sagu) से निकाला जाता है। इस पौधे का बोटैनिकल नाम साइकस रिवॉल्युटा (Cycas revoluta) है, जो कि साइकड (Cycad) फैमिली से संबंध रखता है। यह इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस और पापुआ न्यू गिनी समेत दुनिया भर के कई देशों में पाया जाता है। यह पौधा कई किस्म की मिट्टी में आराम से उगाया जा सकता है। एक अकेले सागो पाल्म में करीब 100-800 किलोग्राम स्टार्च मौजूद होता है।

साबूदाना दिखने में छोटे-छोटे सफेद मोती की तरह दिखता है, जो पकाने के बाद कुछ पारदर्शी हो जाता है। इसमें प्रचुर मात्रा में कार्ब्स होते हैं, जो कि ऊर्जा का मुख्य स्त्रोत होता है। सागो पाल्म का स्टार्च मार्केट में आटे के रूप में भी मिलता है। यह इसका शुद्ध रूप है। लेकिन इसमें पानी मिलाकर और अधपकाकर साबूदाना बनाया जाता है।

प्राकृतिक रूप से ग्लूटेन-फ्री मिलने वाला स्टार्च गेंहू के आटे का अच्छा विकल्प है। जिसे मधुमेह के रोगी इस्तेमाल कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः Irvingia Gabonensis: अफ्रीकी आम क्या है?

उपयोग

साबूदाने (Sabudana) का उपयोग किस लिए किया जाता है?

साबूदाना (Sabudana) में विटामिंस, कार्बोहाइड्रेट, खनिज, आयरन, प्रोटीन, कैल्शियम आदि पोषक तत्व पाए जाते हैं। हड्डियों को स्वस्थ व मजबूत बनाए रखने के लिए कैल्शियम, आयरन, विटामिन ‘के’ की आवश्यकता होती है, जो साबूदाना में भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जिसके कारण इसके सेवन से हड्डियां मजबूत मिलती हैं। 

साबूदाने में कम मात्रा में वसा, कोलेस्ट्रॉल, सोडियम भी पाया जाता है।

उम्र के साथ हमारी हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। हमारे शरीर में हड्डियों से संबंधित समस्या उत्पन्न होने लगती हैं। साबूदाने का सेवन करने से हड्डियों संबंधी बीमारियों को रोका जा सकता है।

यह भी पढ़ें : Strawberry: स्ट्रॉबेरी क्या है?

यह कैसे काम करता है?

साबूदाना पाचन तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद होता है, क्योंकि इसमें फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है। जो हमारे पाचन संबंधी समस्याओं जैसे सूजन, कब्ज, गैस, अपच, आंतों में दर्द आदि इन सब परेशानियों को दूर करने में अच्छी भूमिका निभाता है। साबूदाना एक हल्का और आसानी से पचने वाला खाद्य पदार्थ है।

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित बनाए रखने के लिए साबूदाने का उपयोग उचित माना जाता है। साबूदाना में भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है। कैलोरी भी उच्च मात्रा में पाई जाती है। 

साबूदाना में मौजूद पोषण-

हालांकि, साबूदाना में कुछ प्रकार के कार्ब ही काफी मात्रा में होते हैं। लेकिन, इसमें कुछ मात्रा में प्रोटीन, फैट और फाइबर भी पाया जाता है।

यह भी पढ़ें : Quinoa : किनोवा क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

साबूदाना का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

  • साबूदाना का इस्तेमाल करने से पहले निम्नलिखित स्थितियों में अपने चिकित्सक या फार्मसिस्ट या हर्बलिस्ट से परामर्श करें:
    यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं- गर्भवती या स्तनपान कराने की स्थिति में किसी भी आहार या दवा का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मसिस्ट या हर्बलिस्ट से जरूर परामर्श करें, क्योंकि इसका सीधा प्रभाव बच्चे और मां के स्वास्थ्य पर पड़ता है।
  • यदि आप कोई अन्य दवा ले रहे हैं- इसमें आपके द्वारा ली जा रही कोई भी दवा शामिल है, जो बिना डॉक्टर के पर्चे के खरीदने के लिए उपलब्ध है।
  • यदि आपको साबूदाना या अन्य दवाओं या अन्य जड़ी बूटियों के किसी भी पदार्थ से एलर्जी है।
  • यदि आपको कोई अन्य बीमारी, विकार या चिकित्सा स्थितियां हैं।
  • यदि आपको किसी अन्य प्रकार की एलर्जी है, जैसे कि खाद्य पदार्थ, डाई, डिब्बा बंद चीजें या जानवर से।

किसी भी दवा के रूप में साबूदाने का सेवन करने के नियम उतने ही सख्त होते हैं, जितने कि अंग्रेजी दवा के। सुरक्षा के लिहाज से अभी इसमें और अध्ययन की जरूरत है। साबूदाने के सेवन से होने वाले फायदे से पहले आपको उसके खतरों को समझ लेना चाहिए। ज्यादा जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट से बात कीजिए।

साबूदाना कितना सुरक्षित है?

गर्भावस्था और स्तनपान: प्रेगनेंसी में साबूदाना अत्यंत लाभकारी होता है। इसका सेवन करने से गर्भ में पल रहे बच्चे का विकास अच्छे से होता है। साबूदाना विटामिन ‘बी’ कांपलेक्स से भरपूर होता है और इसमें फोलिक एसिड की भी अच्छी मात्रा पाया जाता है। जो बच्चे के न्यूरल ट्यूब दोष की संभावना को कम करने में मदद करता है। 

दी गयी जानकारी को चिकित्सा सलाह के रूप में न देखें। हमेशा उपयोग से पहले अपने डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ से सलाह लें।

यह भी पढ़ें : Shea Butter : शीया बटर क्या है?

साइड इफेक्ट

साबूदाना के उपयोग से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

  • जो लोग डाइट पर हैं और अपना वजन कम करना चाहते हैं। वह लोग साबूदाने का सेवन भूल कर भी न करें क्योंकि साबूदाने के सेवन से वजन बहुत जल्दी बढ़ता है।
  • अगर साबूदाने को ठीक से नहीं पकाया जाता है, तो वह बहुत ज्यादा नुकसानदायक हो सकता है। जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए बुरा है।
  • साबूदाने में फाइबर उच्च मात्रा में पाया जाता है, जिसका अधिक सेवन करने से हमारी सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है।

इंटरैक्शन

साबूदाना के साथ मेरे क्या इंटरैक्शन हो सकते  है?

साबूदाना आपकी मौजूदा दवाओं या मेडिकल कंडिसन्स पर असर डाल सकता है। उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट, फार्मसिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करें।

यह भी पढ़ेंः Tamarind : इमली क्या है?

मात्रा/डोसेज

सामान्य खुराक क्या है?

साबूदाने की खुराक हर इंसान के लिए अलग-अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। साबूदाना हमेशा सुरक्षित नहीं होता है। कृपया अपनी उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

यह भी पढ़ेंः Lychee : लीची क्या है?

उपलब्धता

साबूदाना किस रूप में आता है?

साबूदाना निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • आटा
  • छोटे-छोटे मोती के रूप में

हेलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ेंः

Jowar: ज्वार क्या है?

Jackfruit: कटहल क्या है?

Jambolan: जामुन क्या है?

Maca Root: माका रूट क्या है?

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Manna Herbal: मन्ना क्या है?

    मन्ना एक छोटा पेड़ होता है। जो दवाई बनाने के काम में आता है। इसकी लंबाई 20 से 30 फीट तक होती है। इस पेड़ पर सफेद रंग के फूल निकलते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Bhawana Sharma

    Pitcher Plant: पिचर पौधा क्या है?

    पिचर एक बारहमासी पौधा होता है जिसके पत्ते कप के आकार के होते हैं। इसके रंग-बिरंगे पत्तों में पानी भरा होता है जिनमें छोटे कीड़े भी पनपते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Bhawana Sharma

    Pimpinella : पिंपिनेला क्या है?

    पिंपिनेला भारतीय रसोई में एक इंग्रीडिएंट की तरह इस्तेमाल किया जाता है। इसका स्वाद मीठा होता है और यह शरीर को ठंडक देता है। जाने इसके औषधीय गुण।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Bhawana Sharma

    Octodrine : ओक्टोड्रिन क्या है?

    जानिए ओक्टोड्रिन की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, ओक्टोड्रिन उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Octodrine डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar

    Recommended for you

    लंगमॉस -lungmoss

    Lungmoss: लंगमॉस क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Bhawana Sharma
    Published on मई 20, 2020
    स्वर्ग का अनाज

    Grains of paradise : स्वर्ग का अनाज क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar
    Published on अप्रैल 7, 2020
    क्वेब्राचो

    Quebracho: क्वेब्राचो क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar
    Published on अप्रैल 7, 2020
    Turtle head: टर्टल हेड

    Turtle head : टर्टल हेड क्या है?

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Anu Sharma
    Published on फ़रवरी 7, 2020