home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Levocetirizine+Phenylephrine+Paracetamol/Acetaminophen: लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Levocetirizine+Phenylephrine+Paracetamol/Acetaminophen: लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

इस्तेमाल

लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन (Levocetirizine + Phenylephrine + Paracetamol/Acetaminophen) का इस्तेमाल किसके लिए किया जाता है?

लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन/पेरासिटामोल का प्रयोग सामान्य सर्दी-जुकाम के लक्षणों को दूर करने के लिए किया जाता है। यह तीन दवाइयों का मिश्रण है। जो इस प्रकार हैं :लेवोसिट्रीजीन, फेनिलेफ्रीन और पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन।

लेवोसिट्रीजीन एक एंटीएलर्जिक है, जो हिस्टामिन (केमिकल मैसेंजर) को ब्लॉक करती है। जिससे इस के लक्षणों से मुक्ति मिलती है। यह लक्षण हैं नाक का बहना, आंखों में पानी आना और छींकें आदि।

फेनिलेफ्रीन एक सर्दी खांसी की दवा है, जो नाक में जमाव या बदबू से राहत प्रदान करने वाली छोटी रक्त वाहिकाओं को फैलाती है।

पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन एक एनल्जेसिक (दर्द से राहत प्रदान करने वाली) और एंटीपैरेटिक (बुखार दूर करने वाली दवाई) है। यह दिमाग में उन खास केमिकल मेसेंजर्स को ब्लॉक करता है जो दर्द और बुखार के लिए उत्तरदायी हैं।

लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

इस दवाई को बिना डॉक्टर की सलाह के इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इसे नियमित रूप से लेना चाहिए।

लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन को कैसे स्टोर करूं?

लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन को हमेशा रूम टेंपरेचर पर ही स्टोर करना चाहिए। इसे धूप के सीधे प्रकाश या नमी से दूर रखें। इसे डैमेज होने से बचाने के लिए कभी भी इसे फ्रीज में स्टोर करके न रखें। इस दवाई को उस पैकेट या कंटेनर में रखना चाहिए जिसमें वो मिलती है। यही नहीं, इसे अच्छे से बंद कर के रखें। इस के पैकेट या लेवल के उपर लिखे निर्देशों के अनुसार इसे स्टोर करें। इस बात का ध्यान रखें कि इसे बच्चों, पालतू जानवरों और अन्य लोगों से दूर रखे।

और पढ़ें : Phenytoin : फेनीटोइन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

सावधानियां और चेतावनी

लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन (Levocetirizine + Phenylephrine + Paracetamol/Acetaminophen) का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

  • लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन का प्रयोग तभी करना चाहिए अगर आपको इसकी सलाह डॉक्टर ने दी हो । यही नहीं, डॉक्टर की बताई खुराक से कम या अधिक डोज न ले। इस दवाई को बताई गई अवधि से अधिक समय तक भी प्रयोग न करें। अगर कोई समस्या हो तो डॉक्टर की सलाह ले।
  • अगर आपको इस दवाई या किसी अन्य दवाई से एलर्जी है तो इस दवाई को लेने से पहले आपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को अवश्य बता दें। इस दवाई में हो सकता है कि कुछ ऐसे तत्व हों तो आपकी एलर्जी की तकलीफ या अन्य समस्याओं को बढ़ा दें।
  • इस दवाई के प्रयोग के बाद आप अधिक नींद या सुस्त महसूस कर सकते हैं। ऐसे में ऐसे किसी भी ऐसे काम को न करें जिसमे आपको एकाग्रता की जरूरत हो जैसे ड्राइविंग आदि। अगर आपको भी ऐसा समस्या होती है तो डॉक्टर को बताएं।
  • इस दवाई को लेने से पहले अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को अपनी मेडिकल हिस्ट्री बता दें जैसे अगर आपको उच्च ब्लड प्रेशर, गंभीर दिल की समस्याओं, पेट के अल्सर, ओवरएक्टिव थाइराइड आदि हो।
  • गर्भावस्था और ब्रेस्टफीडिंग की स्थिति में भी डॉक्टर की सलाह के बिना इसे न लें।

और पढ़ें : Phenylephrine : फीनाइलेफ्रीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन लेना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी या स्तनपान के दौरान लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन का इस्तेमाल करना हानिकारक हो सकता है। ऐसे में इसका सेवन न करने की सलाह दी जाती है। इससे शिशु को नुकसान हो सकता है। इस दवाई के इस्तेमाल से पहले हमेशा इसके फायदे और नुकसान के बारे में अपने डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ें : Paracetamol+Phenylephrine+Chlorpheniramine Maleate: पैरासिटामोल+फिनाइलेफ्रिन+क्लोरफेनीरामिन मालेट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जानिए इसके साइड इफेक्ट्स

लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन के साइड इफेक्ट्स

लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन के प्रयोग से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं।

  • मतली
  • उल्टी
  • मुंह में सूखापन
  • कमजोरी
  • सिरदर्द
  • नींद
  • एलर्जी

इस दवाई के साइड इफेक्ट बहुत कम दिखाई देते हैं। अगर आपको कोई गंभीर एलर्जिक रिएक्शन दिखाई दे जैसे त्वचा रैशेस, मुंह का अलसर, सांस में समस्या, ब्लीडिंग, बुखार या संक्रमण, आंखों की रोशनी में समस्या, तेज या असामान्य दिल की धड़कन तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। यह साइड इफेक्ट असामान्य हैं, लेकिन गंभीर हो सकते हैं और आपको तुरंत मेडिकल मदद की आवश्यकता पड़ सकती है।

और पढ़ें : Acetaminophen : एसिटामिनोफेन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

इन जरूरी बातों को जानें

कौन-सी दवाएं लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन के साथ इस्तेमाल नहीं की जा सकती हैं?

  • लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन को उच्च ब्लड प्रेशर, गंभीर दिल की समस्याओं, पेट के अल्सर, ओवरएक्टिव थाइराइड की स्थिति में नहीं लेना चाहिए। अगर आपके डॉक्टर को आपकी मेडिकल कंडिशंस का पता है तो आप इसे ले सकते हैं।
  • अगर आप तनाव को रोकने वाली दवाई यानी Antidepressant drug का सेवन करते हैं तो ऐसे में भी आपको लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/अस्टमीनोफेन का सेवन नहीं करना चाहिए। इन दवाईयों को मोनोअमीन ऑक्सिडेस इन्हिबिटर्स (MAOIs) कहा जाता है।

और पढ़ें : Boislockerroom : इंस्टाग्राम ग्रुप में दिल्ली के लड़कों ने की रेप प्लानिंग वाली चैट, बॉडी और स्लट शेमिंग पर की बातें

क्या भोजन या एल्कोहॉल के साथ लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन का इस्तेमाल किया जा सकता है?

भोजन के साथ आप लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन को लेना सुरक्षित है लेकिन इसके प्रयोग से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

डोजेज

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प न मानें। किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन की सही डोज क्या है?

इस दवाई की कितनी डोज लेनी है यह बात आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य स्थितियों को देखते हुए आपके डॉक्टर निर्धारित करेंगे। इस दवाई को डॉक्टर की सलाह के बाद ही लें। डॉक्टर द्वारा बताई गई डोज से अधिक दवाई न लें। ऐसा करने से साइड इफेक्ट्स की संभावना बढ़ जाती है। अगर आप कुछ गंभीर साइड इफेक्ट्स महसूस करते हैं या इस दवाई को लेने से आपको कोई फर्क नहीं पड़ रहा हो तो तुरंत अपने डॉक्टर से जांच कराएं।

12 साल से अधिक उम्र के बच्चों और वयस्कों के लिए डोज
12 साल से अधिक उम्र के बच्चों और वयस्कों के लिए शाम को रोजाना 5 mg की डोज लेने की सलाह दी जाती है। कई रोगियों को शाम में एक बार प्रतिदिन 2.5 मिलीग्राम मात्रा भी दी जा सकती है।

6 से 11 साल के बच्चों के लिए डोज
6 से 11 साल के बच्चों के लिए डोज को रोजाना शाम को 2.5 mg एक बार इस दवाई को लेने की सलाह दी जाती है।

6 महीने से लेकर पांच साल की उम्र के बच्चों के लिए डोज
6 महीने से लेकर पांच साल की उम्र के बच्चों को शाम को रोजाना इस दवाई की 1.25 mg लेने की सलाह दी जाती है।

रीनल और हेपेटिक इम्पेयरमेंट के लिए खुराक का समायोजन

  • 12 साल और उससे अधिक की उम्र के बच्चों और वयस्कों के लिए
  • माइल्ड रीनल इम्पेयरमेंट (क्रिएटिनिन क्लीयरेंस [CLCR] = 50-80 mL/min): रोजाना दिन में एक बार 2.5 mg देने की सलाह दी जाती है।
  • मॉडरेट रीनल इम्पेयरमेंट (CLCR = 30-50 mL/min): हर दूसरे दिन 2.5 mg देने की सलाह दी जाती है।
  • गंभीर रीनल इम्पेयरमेंट (CLCR = 10-30 mL/min): हफ्ते में दो बार 2.5 mg देने की सलाह दी जाती है।
  • अंतिम चरण की गुर्दे की बीमारी के रोगियों (CLCR < 10 mL/min) और हेमोडायलिसिस से गुजरने वाले रोगियों को लेवोसेट्रिज़ीन का सेवन नहीं करना चाहिए।

और पढ़ें : Estradiol : एस्ट्राडिओल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

ओवरडोज या आपातकालीन स्थिति में क्या करना चाहिए?

ओवरडोज या आपातकालीन स्थिति होने पर अपने डॉक्टर या हॉस्पिटल से संपर्क करें।

यदि मुझसे लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन की डोज मिस हो जाए तो मुझे क्या करना चाहिए?

अगर आपसे लिवोसिट्रीजिन+फिनायलएफरिन+पेरासिटामोल/असेटामिनोफेन की डोज मिस हो जाए, तो जितना जल्दी हो सके इसे ले लें। हालांकि, अगर दूसरी खुराक का समय हो गया है, तो डबल डोज लेने की बजाय एक डोज मिस कर दें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/08/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x