अनियमित पीरियड्स को नियमित करने के 7 घरेलू नुस्खे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट July 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

पीरियड्स जिसे आम भाषा मे मासिक धर्म या माहवारी कहा जाता है, यह हर महिला को हर महीने आता है. लेकिन, हर महिला को कभी ना कभी अनियमित पीरियड्स का सामना करना ही पड़ता. आमतौर पर पीरियड्स की शुरुआत हर महिला में 10-16 साल की उम्र से शुरू हो जाती है। पीरियड्स हर महीने में एक बार आता है और एक पीरियड्स से दूसरे पीरियड्स के बीच में 28 से 32 दिनों का अंतर सही माना जाता है. लेकिन, समय से पहले या समय के बाद  अगर पीरियड्स आते है, तो उसे अनियमित होना माना जाता है। अनियमित पीरियड्स की समस्या पीरियड्स के शुरुआती समय में लड़कियां को होना सामान्य होता है लेकिन, 3 से 4 महीनों में यह परेशानी ठीक हो सकती है। अगर यह परेशानी लगातर बनी रहे तो इसका इलाज करवाना जरूरी होता है। 

एक एप द्वारा किये गए सर्वे के अनुसार 50 प्रतिशत भारतीय महिलाएं इरेगुलर पीरियड्स की समस्या से परेशान हैं। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है की 68 प्रतिशत महिलाएं पीरियड्स के दौरान होने वाले क्रैंप अत्यधिक परेशान रहती हैं और इन्हें अत्यधिक थकावट भी महसूस होती है।

और पढ़ें : पीरियड सेक्स- क्या सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि है?

अनियमित पीरियड्स के कारण क्या हैं? (Causes of Irregular Periods)

पीरियड्स में देरी की वजह के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे-

इनसभी कारणों के अलावा अन्य कारण भी हो सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : पीरियड्स के दाग अगर आपको कर रहे हैं परेशान तो अपनाएं ये तरीके

अनियमित पीरियड्स को नियमित करने के लिए घरेलू उपाए क्या हैं?

अनियमित पीरियड्स को नियमित करने के घरेलू उपाय निम्नलिखित हैं। जैसे-

अनियमित पीरियड्स से राहत के लिए गाजर का जूस (carrot juice for irregular periods)

गाजर में पर्याप्त मात्रा आयरन होता है, जो शरीर में हो रहे खून की कमी को पूरा करता है। नियमित रूप से गाजर के रस का सेवन करने से पीरियड्स में होने वाली देरी से बचा जा सकता है। यही नहीं पीरियड्स के दौरान होने वाली शारीरिक परेशानी जैसे ब्लीडिंग, पेट दर्द या कमजोरी महसूस होती है। इनसभी समस्याओं से भी गाजर का जूस आपकी परेशानी को कम कर सकता है। अगर आप गाजर के जूस का सेवन नहीं कर पा रहीं हैं, तो आप गाजर खा भी सकती हैं।

अनियमित पीरियड्स से राहत के लिए कच्चा पपीता (raw papaya for irregular periods)

पपीता गर्भाशय में मांसपेशियों को सिकुड़ने में मदद करता है, इस प्रकार मासिक धर्म के प्रवाह को नियंत्रित करता है। कुछ दिनों तक कच्चे पपीते का रस पीने से लाभ मिलता है। पपीते में मौजूद विटामिन-ए, विटामिन-बी, विटामिन-बी 6, विटामिन-बी 1, फोलोक एसिड, कैल्शियम और पोटैशियम मौजूद होता है। इसके सेवन से पीरियड्स में होने वाली देरी से बचा जा सकता है।

सौंफ (saunf ke fayde)

सौंफ में एमिनअगोग (Emmenagogue), पाया जाता है, जो पीरियड्स के रक्तप्रवाह (blood flow) को उत्तेचित करता है। पानी और सौंफ के मिश्रण को उबालकर पिने से पीरियड्स में हुई देरी ठीक हो सकती है।

तिल (til ke fayde)

शरीर में एस्ट्रोजन के संतुलित होने से नियमित पीरियड्स आते है। तिल के बीज में एस्ट्रोजन मात्रा भरपूर होती है, जिससे अगर एस्ट्रोजन शरीर में कम हो तो यह बीज उसकी कमी पूरी करने में मदद करता है, इससे पीरियड्स को नियमित रखने में मदद मिलती है।

और पढ़ें : कम उम्र में पीरियड्स होने पर ऐसे करें बेटी की मदद

विटामिन सी (vitamin C for irregular periods)

विटामिन सी एस्ट्रोजनऔर प्रोजेस्टेरोन के स्तर को कम कर सकता है। यह, बदले में, गर्भाशय को सिकुड़ने का कारण बनता है और गर्भाशय का अस्तर टूट जाता है, जिससे मासिक धर्म की शुरुआत होती है। विटामिन-सी युक्त फलों के सेवन से भी पीरियड्स से जुड़ी समस्या खत्म होती है। 

अनियमित पीरियड्स से राहत के लिए दालचीनी (daalchini)

दालचीनी शरीर के तापमान को बढ़ाने में मदद करती है। दूध या फिर चाय में  दालचीनी मिलाकर पीने से लाभ होता है। इसमें मौजूद विटामिन-के, आयरन और कैल्शियम महिलाओं के लिए अत्यधिक लाभकारी माना जाता है।

अजवायन (Ajwain ke fayde)

अजवायन शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा को असंतुलित से संतुलित (imbalanced to balanced) करने में मददगार साबित होता है, जिससे पीरियड्स नियमित होने में सहायता मिलती है। इसके सेवन से पीरियड्स समय पर आता है।

इन ऊपर बताये गए घरेलू उपाय को अपनाकर अनियमित पीरियड्स से बचा जा सकता है लेकिन, अगर इन उपाय के बावजूद पीरियड्स जुड़ी परेशानी होने पर डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।

अनियमित पीरियड्स होने की वजह से क्या परेशानी हो सकती है?

अनियमित पीरियड्स के वजह से इसका गर्भधारण पर नकारात्मक असर पड़ता है।

और पढ़ें : Dysmenorrhea (menstrual cramps) : डिसमेनोरिया (पीरियड में दर्द) क्या है?

डॉक्टर से कब संपर्क करना जरुरी है

  • पीरियड्स में सामान्य से ज्यादा दर्द होना
  • सात दिनों से ज्यादा ब्लीडिंग होना 
  • सामान्य रक्त प्रवाह से ज्यादा रक्त प्रवाह (bleeding) होना 
  • 35 दिनों के अंतराल पर पीरियड आना नहीं आना 
  • एक से दो महीने पीरियड का न आना 
  • एक महीने में एक बार से ज्यादा पीरियड्स आना
  • पीरियड्स के दौरान या बाद में स्पॉटिंग होना

इन ऊपर बताई गई परिस्थितियों के साथ-साथ अन्य परेशानी समझ आने पर या महसूस होने पर घरलू इलाज से बचना चाहिए और जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।  

अनियमित पीरियड्स की समस्या होने पर डॉक्टर कौन-कौन से टेस्ट करवाने की सलाह देते हैं?

ऐसी स्थिति में निम्नलिखित टेस्ट की सलाह डॉक्टर देते हैं। जैसे-

  • ब्लड टेस्ट
  • एब्डॉमिनल अल्ट्रासाउंड
  • सी टी स्कैन
  • एम आर आई
  • पेल्विस टेस्ट

इन शारीरिक जांच के अलावा अन्य टेस्ट भी करवाने की सलाह हेल्थ एक्सपर्ट आपको दे सकते हैं।

और पढ़ें : ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पीरियड्स रुकना क्या है किसी समस्या की ओर इशारा?

अनियमित पीरियड्स से जुड़ी परेशानी से बचने के लिए क्या करना चाहिए?

इससे बचने के लिए निम्नलिखित उपाय किये जा सकते हैं। जैसे-

  • नियमित रूप से योगा करना चाहिए
  • मेडिटेशन करें
  • डीप ब्रीदिंग टेक्निक अपनाएं
  • पौष्टिक आहार का सेवन करें
  • एक दिन में 2 से 3 लीटर पानी का सेवन करें
  • एल्कोहॉल का सेवन न करें
  • स्मोकिंग न करें
  • गर्भनिरोधक दवाओं का सेवन न करें (गर्भधारण से बचने के लिए कोंडम का इस्तेमाल करें)
  • जंक फूड का सेवन न करें
  • आवश्यकता अनुसार एक्सरसाइज करें। ध्यान रखें जरूरत से ज्यादा वर्कआउट करने से नुकसान पहुंच सकता है
  • वजन संतुलित बनाय रखें

पीरियड्स में किसी भी तरह की समस्या होने पर बेहतर होगा की आप डॉक्टर से संपर्क करें और अपनी परेशानी बताये। चिकित्सक द्वारा जो भी सलाह और जांच बताई जाती है उसे फॉलो करें।

अगर आप अनियमित पीरियड्स से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

ओल्ड एज सेक्स लाइफ को एंजॉय करने के लिए जानें मेनोपॉज के बाद शारिरिक और मानसिक बदलाव

मेनोपॉज के बाद सेक्स में काफी बदलाव होता है, जानें किन तरीकों को आजमाकर हम सुरक्षित सेक्स के साथ सेक्स को एंजॉय कर सकते हैं, जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Satish singh
मेनोपॉज, महिलाओं का स्वास्थ्य July 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस को दूर भगाने के लिए अपनाएं ये एक्सपर्ट टिप्स

पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस कई महिलाओं में मुसीबत का कारण बनता है। स्ट्रेस का असर ओव्यूलेशन की प्रक्रिया पर पड़ता है। इसके परिणामस्वरूप ओव्यूलेशन में देरी हो सकती है और पीरियड्स का साइकल...

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

9 मंथ प्रेग्नेंसी डायट चार्ट: इन पौष्टिक आहार से जच्चे-बच्चे को रखें सुरक्षित

9 मंथ प्रेग्नेंसी डायट चार्ट पौष्टिक खाद्य पदार्थ का क्या मतलब है, किन-किन चीजों को डायट में शामिल करना चाहिए और किसे नहीं यह जानने के लिए पढ़ें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

Meprate Tablet : मेप्रेट टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

मेप्रेट टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, मेप्रेट टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Meprate Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

Recommended for you

पीरियड्स, Periods

जब सिर दर्द, सर्दी, बुखार कह सकते हैं, तो पीरियड्स को पीरियड्स क्यों नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
पेरिमेनोपॉज का इलाज (Treatment for Perimenopause)

पेरिमेनोपॉज का इलाज कैसे किया जाता है? अपॉइंटमेंट के दौरान किन-किन बातों का रखें ध्यान?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 1, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
सर्दियों में पीरियड्स पेन (Periods pain during winter)

सर्दियों में पीरियड्स पेन को कहें बाय और अपनाएं ये उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ January 16, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
पीरियड्स का होना

‘पीरियड्स का होना’ नहीं है कोई अछूत, मिथक तोड़ने के लिए जरूरी है जागरूकता

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ August 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें