घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज कैसे किया जाता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

 भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में घुटने के दर्द की समस्या से ज्यादातर सीनियर सिटीजन परेशान रहते हैं। नेशनल सेंटर फॉर बायोटक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) द्वारा किये गए रिसर्च के अनुसार घुटने में दर्द की समस्या पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा होती है। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है की घुटनों में दर्द की समस्या 60 साल से ज्यादा उम्र होने पर यह शारीरिक परेशानी शुरू हो जाती है। घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज भी संभव है। घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज में थोड़ा वक्त ज्यादा लग सकता है। घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज से पहले हमें पता होना चाहिए कि घुटनों में दर्द के लक्षण क्या हैं? घुटनों में दर्द के कारण क्या हैं? 

और पढ़ें: बवासीर या पाइल्स का क्या है आयुर्वेदिक इलाज

लक्षण

घुटनों में दर्द के लक्षण क्या हैं?

घुटने में दर्द के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं। जैसे:-

  • जोड़ों में सूजन और जकड़न की परेशानी होना
  • घुटने का रंग लाल होना और घुटने को छूने पर गर्म महसूस करना
  • कमजोरी होना
  • खड़े होने पर परेशानी महसूस होना
  • पैर सीधा रखने में भी परेशानी महसूस होना
  • चलने, उठने और बैठने में परेशानी होना
  • शरीर में अकड़न होना
  • वॉकिंग के दौरान जॉइंट्स का लॉक हो जाना

इन ऊपर बताये गये लक्षणों के अलावा और भी लक्षण हो सकते हैं। घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज समझने से पहले यह परेशानी क्यों होती है, इसे समझते हैं। 

और पढ़ें: QUIZ : आयुर्वेदिक डिटॉक्स क्विज खेल कर बढ़ाएं अपना ज्ञान

कारण

घुटने में दर्द के कारण क्या हैं?

घुटने में दर्द के निम्नलिखित कारण हैं। जैसे:-

  • शरीर का वजन अत्यधिक होना (बढ़ता वजन या मोटापा)
  • मांसपेशियां कमजोर होना
  • कार्टिलेज खत्म होना
  • हेल्दी डायट फॉलो नहीं करना
  • किसी कारण घुटने में चोट लगना
  • पेल्विस इंफ्लेमेंटरी डिजीज (Pelvic inflammatory disease)

इन ऊपर बताये गए कारणों के अलावा अन्य कारण भी हो सकते हैं। बढ़ती उम्र भी घुटने में दर्द का एक अहम कारण है। इसलिए घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है और यह कैसे किया जाता है यह समझते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें: जानें सेक्स समस्या के लिए आयुर्वेद में कौन-से हैं उपाय?

इलाज

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है?

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज निम्नलिखित है:

घुटनों में दर्द -knee pain

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 1: लेप

आयुर्वेदिक विशेषज्ञ घुटनों का इलाज लेप लगाकर करते हैं। लेप अलग-अलग जड़ी-बूटियों से बनाकर तैयार किया जाता है। इस लेप को दशांग लेप, गृह धूमादि लेप या जटामायादि लेप पूरे शरीर पर या सिर्फ जोड़ों पर लगाया जाता है। इससे जोड़ों में हो रहे दर्द और सूजन दोनों परेशानी दूर हो सकती है।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 2: विरेचन कर्म

आयुर्वेद में विरेचन कर्म एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें जड़ी-बूटियों और औषधियों की मदद से पीड़ित व्यक्ति को दस्त करवाया जाता है। दस्त इसलिए करवाया जाता है क्योंकि दस्त के माध्यम से शरीर में मौजूद पित्त को साफ करने में सहायक होता है। रिसर्च की मानें तो विरेचन पद्धति गठिया, रूहमेटिक अर्थराइटिस और ऑस्टियोअर्थराइटिस की परेशानी को दूर करने में सक्षम है। साइटिका के मरीजों को विरेचन कर्म के दौरान विशेषरूप से अरंडी के तेल का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे साइटिका की परेशानी भी दूर हो सकती है।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 3: निदान परिवर्चन

आयुर्वेद में बीमारी के इलाज के लिए फास्ट भी करवाया जाता है। लेकिन, यहां उपवास या व्रत का यह अर्थ नहीं होता है की मरीज कुछ खाये-पीये ही नहीं। दरअसल आयुर्वेद एक्सपर्ट इलाज के दौरान मरीज को तभी खाने की सलाह देते हैं, जब भूख लगे। क्योंकि बार-बार खाने से शरीर के वजन बढ़ने का खतरा बना रहता है। इस दौरान पेशेंट को पौष्टिक आहार, जड़ी-बूटी और औषधि का सेवन भी करवाया जाता है। इस प्रक्रिया से घुटनों में दर्द की परेशानी को दूर करने के साथ-साथ दोबारा दर्द की संभावना कम हो जाती है।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 4: अग्नि कर्म

अग्नि कर्म के बारे में आयुर्वेद से जुड़े जानकारों की मानें तो इस दौरान दर्द या घाव वाले स्थान को सावधानी पूर्वक जलाया जाता है। जिससे वात रोग से राहत मिलती है। ऐसा करने से संक्रमण, घाव एवं पस की परेशानी दूर होती है। हालांकि अग्नि कर्म का निर्णय आयुर्वेद चिकित्षक ही करते हैं कि यह प्रक्रिया अपनाना चाहिए या नहीं।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 5: बस्ती कर्म

बस्ती कर्म एक तरह की एनिमा थेरिपी है, जिससे पेट को साफ किया जाता है। इससे जोड़ों में होने वाले दर्द को दूर करने में मदद मिलती है। इसके कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकती है। प्रायः बस्ती कर्म के बाद मरीज को कमजोरी महसूस होती है। बस्ती कर्म की मदद से घुटनों के दर्द से राहत मिलने के साथ-साथ यह कोलोन कैंसर या दस्त की समस्या से पीड़ित व्यक्तियों के लिए भी लाभकारी होता है।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 6: स्वेदन

इस प्रक्रिया के अंतर्गत मरीज को पसीना लाया जाता है। दर्द वाली जगहों पर जड़ी-बूटी लगाई जाती है। यह घुटनों के दर्द को दूर करने में काफी सहायक माना जाता है। मरीज की परेशानी को समझते हुए अलग-अलग तरह की जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज के लिए ऊपर बताई गई खास आयुर्वेदिक पद्धति से की जाती है

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 7: अश्वगंधा

अश्वगंधा में एंटी-इंफ्लेमटरी (Anti-inflammatory) और एंटीअर्थरिटिक (Antiarthritic) प्रॉपर्टीज मौजूद होते हैं, जो जोड़ों के दर्द को दूर करने के साथ-साथ सूजन की परेशानी को भी दूर करने में मददगार है। आयुर्वेदिक एक्सपर्ट के अनुसार इसके सेवन से जोड़ों में होने वाली परेशानी से राहत मिल सकती है।

और पढ़ें: योग, दवाईयों, आयुर्वेदिक और घरेलू उपायों से बढ़ाएं अपनी कामेच्छा

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 8: अदरक

खाद्य पदार्थों का स्वाद बढ़ाने के लिए एवं चाय के सेवन से ताजगी महसूस करने के लिए अदरक का सेवन किया जाता है। लेकिन, आयुर्वेदिक एक्सपर्ट अदरक फीवर से  परेशान लोगों के लिए भी इसकी खासियत बताते हैं। अदरक में विटामिन-बी 6 और मैग्नेशियम जैसे अन्य तत्व मौजूद होते हैं, जो शरीर के लिए लाभकारी होता हैं और घुटनों की परेशानी दूर करने में सहायक होते हैं।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 9: गुडूची

आयुर्वेद में कहा गया है कि गुडूची के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। शरीर कमजोर पड़ने पर घुटनों की परेशानी शुरू हो जाती है, इसलिए घुटने का आयुर्वेदिक इलाज गुडूची से किया जाता है।इसके सेवन से घुटनों के दर्द के अलावा उल्टी, दस्त, सर्दी-जुकाम या खांसी की परेशानी बुखार से पीड़ित व्यक्तियों के लिय भी लाभकारी होता है। इस औषधि में शक्तिशाली गुण मौजूद होने की वजह से यह डायजेशन प्रोसेस को भी ठीक रखने में मददगार है। इसलिए आयुर्वेद विशेषज्ञ बुखार इस औषधि के सेवन की सलाह देता है।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 10: सरसों का तेल

सरसों के तेल में विटामिन, खनिज, कैल्शियम और आयरन की प्रचुर मात्रा पाई जाती है , जो सेहत के लिए कई दृष्टिकोण से लाभकारी माना जाता है। सरसों का तेल एक नहीं बल्कि कई तरह से लाभकारी होता है। क्योंकि इस तेल से बनी सब्जी का सेवन तो हम करते ही हैं, वहीं इससे शरीर की मालिश भी की जाती है। आयुर्वेदिक डॉक्टर इसके सेवन और इससे मालिश दोनों की सलाह देते हैं।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 11: मेथी

कहते हैं स्वस्थ्य रहने के लिए हम सभी को पौष्टिक तत्वों का सेवन अवश्य करना चाहिए। इसलिए मेथी का सेवन लाभकारी माना जाता है। दरअसल मेथी में एंटीइंफ्लमेटरी और एंटीऑक्सिडेंट गुण शरीर के लिए लाभकारी माने जाते हैं। इसलिए आयुर्वेदिक एक्सपर्ट इसके लिए सलाह देते हैं। मेथी के दाने को पानी मिलाकर कुछ घंटे के लिए छोड़ दें और उसके बाद इसे छान लें और फिर इस पानी का सेवन करें। इससे शरीर फिट रहता है और वजन भी संतुलित रहता है और घुटने की समस्या से राहत भी मिल सकती है।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 12: लौंग

लौंग में एक नहीं बल्कि कई गुण जैसे एंटीबैक्टीरियल, एंटीऑक्सिडेंट, एंटीइंफ्लेमेंटरी, एंटीफंगल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो सर्दी-जुकाम और दांत दर्द या मसूड़ों की परेशानी को दूर करने में सक्षम है। लेकिन, लौंग की खासियत सिर्फ यहीं नहीं रुक जाती है। आयुर्वेद में लौंग से घुटने के दर्द या सूजन का इलाज किया जाता है। आयुर्वेद एक्सपर्ट लौंग के तेल या लौंग के पाउडर को दर्द वाले जगहों पर लगाते हैं, जिससे घुटनों में दर्द से राहत मिलती है।

घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज 13: एलोवेरा

एलोवेरा बॉडी वेट कंट्रोल रखने के साथ-साथ घुटनों से संबंधित परेशानियों को भी बचाने में सहायक है। आयुर्वेद में एलोवेरा और हल्दी को एकसाथ मिलाकर दर्द वाली जगह पर लगा दिया जाता है जो धीरे-धीरे दर्द को कम करती है।

लक्षण, कारण और घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज समझने के साथ-साथ शरीर को फिट रखने के लिए योगासन भी अत्यधिक जरूरी है। इसलिए नियमित रूप से योग करने की आदत डालें। योग करने से पहले योगा एक्सपर्ट और आयुर्वेदिक एक्सपर्ट से यह जरूर समझें की आपके लिए कौन-कौन से योगासन लाभकारी हो सकते हैं।

आयुर्वेदिक इलाज 14: रक्तमोक्षण

रक्तमोक्षण पद्धतिम में मरीज के शरीर की विभिन्न नाड़ियों से अशुद्ध खून निकाला जाता है। जिसके लिए गाय के सींग, करेले, सुईं आदि का इस्तेमाल किया जाता है। निकालने के लिए टूल का चुनाव मरीज के स्वास्थ्य व स्थिति के मुताबिक होता है। यह तरीका मरीज के जोड़ों में मौजूद अमा को साफ कर, उसे दोबारा बनने से रोकता है। इससे तुरंत आराम मिलने में मदद मिलती है।

और पढ़ें: दस्त का आयुर्वेदिक इलाज क्या है और किन बातों का रखें ख्याल?

घरेलू उपाय

क्या हैं घरेलू उपाय?

घुटनों के दर्द से राहत पाने के लिए निम्नलिखित घरेलू उपाय अपनायें जा सकते हैं। जैसे:

  • वैसे खाद्य पदार्थों का सेवन न करें जिससे डायजेशन बिगड़े
  • आयुर्वेद एक्सपर्ट की मानें तो सूर्य ढ़लने के बाद दही, राजमा, मूली, खीरा, अरबी आदि का सेवन न करें
  • अत्यधिक प्रोटीन से भरपूर जैसे पालक, ड्राय फ्रूट्स या दाल का सेवन न करें
  • छिलके वाली दाल का सेवन न करें
  • अगर आप नॉन वेज खाना पसंद करते हैं, तो इनका सेवन बंद कर दें। क्योंकि ऐसे खाद्य पदार्थों के सेवन से यूरिक एसिड बढ़ने की संभावना बनी रहती है, जिससे जोड़ों और हड्डियों में दर्द की समस्या शुरू हो सकती है।
  • रोजाना ढ़ाई से तीन लीटर पानी का सेवन करें
  • अत्यधिक मीठे खाद्य पदार्थ जैसे चॉकलेट, टॉफी, केक, पेस्ट्री और सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन न करें
  • जंक फूड का सेवन न करें 
  • एल्कोहॉल और स्मोकिंग से दूरी बना लें 

इन छोटे-छोटे टिप्स को फॉलो कर घुटनों की परेशानी से निजात पा सकते हैं।

अगर आप घुटनों में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज या घुटने की दर्द की परेशानी से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Joint Pain (Arthralgia) : जोड़ों का दर्द (आर्थ्राल्जिया) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जोड़ों का दर्द क्या है, उसका उपचार, आर्थ्राल्जिया के लक्षण और घरेलू उपचार, Joint Pain के कारण, Joint Pain के लिए ट्रीटमेंट, Arthralgia और Gout में अंतर।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Knee Pain : घुटनों में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए घुटनों में दर्द का कारण, क्या इस दर्द का निदान और उपचार है?, नी पेन के लक्षण, उसका घरेलू उपचार, Knee Pain के लिए ट्रीटमेंट, Knee Pain की सर्जरी।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Flexura D: फ्लेक्सुरा डी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फ्लेक्सुरा डी की जानकारी in hindi. इसके डोज, उपयोग, साइड इफेक्ट्स, सावधानी और चेतावनी को जानने के साथ इसके रिएक्शन और स्टोरेज को जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 11, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

जोड़ो में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जॉइंट पेन में क्या करें और क्या नहीं?

जोड़ो में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज, जोड़ो में दर्द की आयुर्वेदिक दवा, क्या खाएं, क्या नहीं, जोड़ों में दर्द के घरेलू उपाय, जोड़ो में दर्द के लिए योग क्या हैं? जॉइंट पेन में हीट....ayurvedic treatment for joint pain in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ सेंटर्स, अर्थराइटिस जून 9, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोलिमेक्स

Colimex: कोलिमेक्स क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कोल्डैक्ट

Coldact: कोल्डैक्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
एस प्रोक्सीवोन

Ace Proxyvon: एस प्रोक्सीवोन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जून 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Quiz: दर्द से जुड़े मिथ्स एंड फैक्ट्स के बीच सिर चकरा जाएगा आपका, खेलें क्विज

के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 16, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें