साइलेंट स्ट्रोक और मिनी स्ट्रोक के बीच क्या अंतर है?

By Medically reviewed by Dr. Pranali Patil

ब्रेन स्ट्रोक यानी मस्तिष्काघात के कई चरण और कई प्रकार हैं। जिनमें साइलेंट स्ट्रोक और मिनी स्ट्रोक यानी प्री स्ट्रोक की पहचान करना सबसे मुश्किल होता है। कई बार समय रहते इनके लक्षणों का पता लगाने में देरी हो जाती है, जिसके कारण व्यक्ति शारीरिक रूप से दिव्यांग हो सकता है या उसकी मृत्यु भी हो सकती है। अगर समय रहते साइलेंट स्ट्रोक और मिनी स्ट्रोक के लक्षणों की पहचान की जाए, तो शारीरिक अक्षमता को रोका जा सकता है।

यह भी पढ़ेंः अगर दिल बायीं की जगह हैं दायीं ओर तो आपको है डेक्स्ट्रोकार्डिया

जानिए साइलेंट स्ट्रोक और मिनी स्ट्रोक में अंतर

साइलेंट स्ट्रोक या साइलेंट सेरेब्रल इंफर्क्शन (SCI) क्या है?

साइलेंट स्ट्रोक को साइलेंट सेरेब्रल इन्फर्क्शन (SCI) भी कहा जाता है। यह अचानक से ब्रेन में खून की आपूर्ति रूकने की वजह से आता है। इसके कारण मस्तिक के ऊतकों का नुकसान होता है। जिसके कारण व्यक्ति बेहोश हो सकता है या बोलने, देखने और शारीरिक प्रक्रियाएं करने में असमर्थ हो सकता है। कई बार यह मृत्यु की भी वजह बन सकती है। आमतौर पर कुछ लोगों को इसका अनुभव ही नहीं हो पाता की उनके साथ ऐसा स्ट्रोक की वजह से हो रहा है। इसी वजह से इसे साइलेंट स्ट्रोक कहा जाता है।

साइलेंट स्ट्रोक का असर दिमाग के एक छोटे हिस्से पर पड़ सकता है। जिसकी वजह से वहां की कोशिकाएं काम करना बंद कर देती हैं। साइलेंट स्ट्रोक के कारण प्रभावित व्यक्ति चलने-फिरने में असमर्थ हो सकता है, उसकी पाचन प्रक्रिया प्रभावित हो सकती है और दिमाग भी ठीक से काम करना बंद कर सकता है।

इसके अलावा अगर किसी को एक से अधिक बार साइलेंट स्ट्रोक आता है, तो उसे भूलने की बीमारी हो सकती है और उनके स्ट्रोक के खतरे भी बढ़ सकते हैं।

साइलेंट स्ट्रोक या साइलेंट सेरेब्रल इंफर्क्शन (SCI) के कारण क्या है?

ब्रेन की नसों में जब खून के थक्का जमने लगते हैं या हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होती है, तो इसके कारण दिल की खून की नसे सिकुड़ने लगती है जो साइलेंट स्ट्रोक का कारण हो सकता है। कभी-कभी इसका कारण डायबिटीज या सिर में लगी कोई चोट भी हो सकती है।

यह भी पढ़ेंः भले ही खामोश रहें लेकिन, बहुत कुछ कहती है आपकी बॉडी लैंग्वेज

साइलेंट स्ट्रोक के लक्षण

  • आमतौर पर साइलेंट स्ट्रोक के लक्षण बिना डॉक्टर के परीक्षण के पहचानें नहीं जा सकते हैं। आमतौर पर, साइलेंट स्ट्रोक की पहचान करने के लिए मस्तिष्क का एमआरआई (MRI) (magnetic resonance imaging) टेस्ट करना जरूरी होता है।

मिनी स्ट्रोक या ट्रांसिएंट इस्केमिक अटैक (transient ischemic attacks- TIA) क्या है?

मिनी स्ट्रोक को प्री स्ट्रोक या ट्रांसिएंट इस्केमिक अटैक (transient ischemic attacks- TIA) भी कहा जाता है।

प्री स्ट्रोक के कारण क्या है?

यह तब आता है जब खून के थक्के बनने के कारण मस्तिष्क के किसी एक हिस्से में खून के प्रवाह में थोड़ी देरी के लिए रूक जाता है। हालांकि, इसके लक्षण अगले 24 घंटे के अंदर गायब हो जाते हैं। साथ ही, इसके कारण किसी भी तरह के स्थायी विकलांगता की समस्या नहीं होती है।

यह भी पढ़ेंः हाथ और पैर की अंगुलियों के नाखूनों से जुड़ी मजेदार बातें

मिनी स्ट्रोक (TIA) के लक्षण

  • चक्कर आना
  • भ्रम होना
  • धुंधला दिखाई देना
  • शरीर के सिर्फ एक ही तरफ अटैक महसूस करना
  • अस्थायी रूप से बोलने में असमर्थ होना
  • सुनने में परेशानी होना
  • शब्दों को समझने में परेशानी होना

साइलेंट स्ट्रोक और मिनी स्ट्रोक आने पर कैसे बचाव करें?

स्ट्रोक आने पर निम्न बातों का ध्यान रखेंः

लक्षण दिखाई देने पर तुरंत इमरेंजी चिकित्सा से संपर्क करें। इसके अलावा ब्रेन स्ट्रोक के लिए घर पर ही FAST टेस्ट किया जा सकता है। FAST टेस्ट की मदद से आप दो मिनट में ब्रेन स्ट्रोक के लक्षणों की पहचान कर सकते हैंः

यह भी पढ़ेंः साइलेंट हार्ट अटैक (Silent Heart Attack): जानिए लक्षण, कारण और बचाव के तरीके

फास्ट टेस्ट के 4 चरण होते हैंः

  1. पहले चरण F की पहचान करें- एफ का मतलब फेस है। यानी संभावित व्यक्ति को मुस्कराने के लिए कहें। अगर मुस्कराने के दौरान उसका चेहरे का एक हिस्सा लटका हुआ दिखाई दे, तो स्ट्रोक का खतरा हो सकता है।
  2. दूसरे चरण A की पहचान करें- ए का मतलब आर्म है। यानी संभावित व्यक्ति को दोनों हाथ ऊपर उठाने के लिए कहें। अगर इस दौरान उसका एक हाथ नीचे की तरफ आ जाए या वो ऊपर उठा नहीं पाए, तो यह स्ट्रोक के संकेत हो सकते हैं।
  3. तीसरे चरण S की पहचान करें- एस का मतलब स्पीच है। संभावित व्यक्ति को कोई शब्द दोहराने के लिए कहें। अगर उसे उस शब्द को दोहराने में परेशानी हो, तो यह स्ट्रोक का खतरा हो सकता है।
  4. चौथे चरण T पर एक्सन लें- अगर तीनों लक्षणों में से कोई एक भी दिखाई तो तुरंत आपातकालीन स्थिति में अस्पताल जाएं। यहां टी का मतलब टाइम टूकॉल इमरजेंसी सर्विस से है।

अगर समय रहते साइलेंट स्ट्रोक और मिनी स्ट्रोक के लक्षणों की पहचान की जाए, तो भविष्य में होने वाली विकलांगता और मृत्यु दर को कम किया जा सकता है।

और पढ़ेंः-

ऑटिज्म और डिस्लेक्सिया एक नहीं हैं, अंतर यहां जानें

स्टडी: ब्रेन स्कैन (brain scan) में नजर आ सकते हैं डिप्रेशन के लक्षण

बीएमआर (BMR) क्या है ?

अपना हार्ट रेट जानने के लिए ट्राई करें टार्गेट रेट कैलक्युलेटर

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख दिसम्बर 2, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया दिसम्बर 2, 2019

सूत्र