home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Mitral valve prolapse: माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स क्या है?

परिचय|लक्षण|डॉक्टर को दिखाएं|निदान|इलाज |जोखिम|जटिलताएं
Mitral valve prolapse: माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स क्या है?

परिचय

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) क्या है?

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) की तब समस्या होती है जब आपका माइट्रल वाल्व ठीक से काम नहीं करता है। जब आपका दिल ऑक्सीजन से भरे रक्त के साथ आपके शरीर को आपूर्ति करने के लिए बाएं वेंट्रिकुलर कक्ष से बाहर पर्याप्त रक्त पंप नहीं करता है।इस दौरान आपको थकान और सांस की तकलीफ जैसे लक्षण पैदा हो सकती है। माइट्रल (MY-trul) वाल्व प्रोलैप्स कभी-कभी रक्त को ऊपरी कक्ष(बाएं आलिंद) में पीछे की ओर ले जाता है, इस स्थिति को माइट्रल वाल्व रिग्रिटेशन कहा जाता है वैसे अधिकतर लोगों में, माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स जानलेवा नहीं होतो हैं,इसको ठीक करने के लिए आपको आपके जीवनशैली में बदलाव और सही उपचार की आवश्यकता है। जिससे रक्त बाएं आलिंद में पीछे की ओर बह सकता है। तो माइट्रल वाल्व रोग हार्ट फेल या अनियमित दिल की धड़कन जैसे अतालता गंभीर(Arrhythmia), और कई जटिलताओं को जन्म दे सकता है।

और पढ़ें : Multiple Sclerosis : मल्टिपल स्क्लेरोसिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) के लक्षण क्या है?

वैसे माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स को एक आजीवन रहने वाला विकार भी माना जाता है, बता दें की इस स्थिति वाले कुछ लोगों में इसके कोई लक्षण दिखाई नहीं होते हैं। लेकिन समस्या के दौरान आप डॉक्टर के पास निदान के लिए जाते हैं उस वक्त बीमारी का पता चलने पर आप चौंक जाते हैं की आपको हृदय से जुड़ी समस्या है।यदि कुछ लोगों में इसके लक्षण समझ में आ रहे हैं तो वो कुछ इस प्रकार से हो सकते हैं क्योंकि रक्त वाल्व के जरिए पीछे की ओर लीक होता है। माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स के लक्षण सभी लोगों एक जैसे न होकर बल्कि अलग-अलग हो सकते हैं। आमतौर पर माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स के लक्षण काफी हल्के होते हैं और धीरे-धीरे विकसित होते हैं। माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स बहुत आम है, जो लगभग तीन से पांच प्रतिशत आबादी को प्रभावित करता है।इसमें पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक प्रभावित होती हैं।इसके लक्षण इस प्रकार से हो सकते हैं।

और पढ़ें : Campylobacter : कैम्पिलोबैक्टर इंफेक्शन क्या है?

  • चक्कर आना या प्रकाशहीनता
  • थकान
  • (अतालता) जिस अनियमित दिल की धड़कन कहते हैं
  • सांस लेने में कठिनाई या सांस की तकलीफ
  • अक्सर शारीरिक गतिविधि के दौरान तकलीफ

डॉक्टर को दिखाएं

डॉक्टर को कब दिखाएं?

यदि आपको ऐसा लगता है कि आपके अंदर माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स के लक्षण हैं तो आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। कई तरह की अन्य स्थितियां माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स के समान लक्षणों का कारण बनती हैं, इसलिए केवल आपका डॉक्टर ही आपको उन लक्षणों का सही कारण बता सकता हैं। यदि आपको सीने में दर्द हो रहा है और आप अनिश्चित हैं तो यह दिल का दौरा हो सकता है, इसके लिए आप तुरंत आपातकालीन चिकित्सा की मदद लें।यदि आपने पहले से ही माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स का निदान करवाया है, तो अपने चिकित्सक को कुछ-कुछ समय पर दिखाते रहें।

और पढ़ें : कोलाइटिस क्या है?

निदान

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) का निदान क्या है?

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) का निदान आमतौर पर एक नियमित शारीरिक परीक्षण द्वारा किया जाता है। माइट्रल वाल्व की असामान्य गति एक विशिष्ट ध्वनि बना सकती है, जिसे “क्लिक” कहा जाता है। जिसको क्लिक-मुरम साउंड कहा जाता है। डॉक्टर इसकी ध्वनि को सुनता है। माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स का निदान करने के लिए एक इकोकार्डियोग्राम की आवश्यकता होती है, जिसे हृदय का अल्ट्रासाउंड कहा जाता है। डॉक्टर वीडियो की मदद से असामान्य रुप देख सकता है।इसमें माइट्रल रेजुर्गेशन, यदि मौजूद है, तो एक इकोकार्डियोग्राम के साथ भी देखा जाएगा।वाल्व रोग के निदान के लिए उपयोग किए जाने वाले अन्य परीक्षणों में ये शामिल हो सकते हैं।

  • इकोकार्डियोग्राफी(Echocardiography)
  • त्रन्सेसोफगेअल इकोकार्डियोग्राफी(Transesophageal echocardiography)
  • रेडियोन्यूक्लाइड स्कैन(Radionuclide scans)
  • कार्डिएक कैथीटेराइजेशन (Cardiac Catheterization)
  • चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (MRI)

और पढ़ें : बुलिमिया क्या है?

इलाज 

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) का इलाज क्या है?

यदि आपको माइट्रल वाल्व रिगर्जेशन है, लेकिन आपके अंदर इसके लक्षण नहीं दिखाई दिए हैं, तो आपकी स्थिति की गंभीरता के आधार पर, आपका डॉक्टर आपकी देखभाल लिए आपके परीक्षण के आधार पर आपको इलाज के लिए बुला सकते हैं। लेकिन यदि आपके लक्षण हैं और माइट्रल वाल्व के माध्यम से रक्त लीक हो रही है, तो डॉक्टर दवाओं या सर्जरी की सिफारिश कर सकता है।माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) का इलाज इन तरीकों से किया जा सकता है जो इस प्रकार हैं।

दवाएं (Medicines)

दवाएं माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स-संबंधित हर्ट बीट की असामान्यताओं और अन्य कई प्रकार की जटिलताओं का इलाज कर सकती हैं। इसमें निर्धारित कुछ दवाओं में शामिल हैं-

बीटा अवरोधक – ये दवाएं आपके दिल की धड़कन को कम और अनियमित धड़कनों को रोकने में मदद करती हैं, जिससे आपका बल्ड प्रेशर कम हो जाता है। बीटा ब्लॉकर्स रक्त वाहिकाओं (Blood vessels) को आराम करने और रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने में मदद करते हैं।

पानी की गोलियां (मूत्रवर्धक)(Water pills (diuretics)- आपका डॉक्टर आपके फेफड़ों से फ्लूइड को निकालने के लिए मूत्रवर्धक(Diuretic) लिख सकता है।

दिल की लय की दवाएं (Heart rhythm medications)- यदि आपको अतालता है, तो आपका डॉक्टर इसका इलाज करने के लिए एक दवा लिख ​​सकता है, जैसे कि प्रोपैफेनोन (राइथमोल एसआर), सोटलोल (बेतापेस, सोराइन, सोटायलाइज़), फ्लिकैनाइड और एमियोडेरोन (पैकरोन)। ये दवाएं आपके हृदय के ऊतकों को सामान्य करके आपके हार्ट बीट को नियंत्रित करने में मदद करती हैं।

एस्पिरिन (Aspirin)- यदि आपका पिछला माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स और स्ट्रोक की हिस्ट्री है, तो आपके डॉक्टर रक्त के थक्कों(blood clot) के जोखिम को कम करने के लिए एस्पिरिन लिख सकता है।

रक्त को पतला करने वाला (blood thinners)- यदि आपको एट्रियल फाइब्रिलेशन है, हर्ट अटैक आने को पुराना कोई इतिहास है, तो डॉक्टर रक्त के थक्के से आपको बचाने के लिए रक्त पतला (blood thinner) करने का सुझाव दे सकता है। उनमें वारफारिन (कैमाडिन, जेंटोवन), हेपरिन, डाबीगाट्रान (प्रादाक्सा), रिवारोक्सेबन (ज़ेरेल्टो), एपीक्साबैन (एलिकिस) और एडोक्सबैन (सवेसा) शामिल हैं। रक्त के पतले होने के कई तरह के जोखिम और साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

दिल की सर्जरी (Heart surgery)

एमवीपी वाले लगभग 10 से 15 प्रतिशत लोगों में, आगे के उपचार की आवश्यकता होती है। इस मामले में, माइट्रल वाल्व को ठीक करने के लिए वाल्व सर्जरी की जाएगी।

तनाव परीक्षण (Stress testing)

आपका डॉक्टर यह देखने के लिए एक तनाव परीक्षण कर सकता है कि क्या माइट्रल वाल्व पुनर्जीवन आपके व्यायाम करने की क्षमता को सीमित करता है। एक तनाव परीक्षण में, आप अपने दिल की दर को बढ़ाने के लिए व्यायाम करते हैं या कुछ दवाएं लेते हैं और अपने दिल को कठिन बनाते हैं।

जोखिम

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) के जोखिम क्या है?

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) के जोखिम कई प्रकार के हो सकते हैं,माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स किसी भी उम्र में किसी भी व्यक्ति को हो सकता है। माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स के गंभीर लक्षण 50 से अधिक उम्र के पुरुषों और महिलाओं में अक्सर होते हैं। माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स परिवारों में आनुंशिक रुप से भी चल सकता है और इसे कई अन्य स्थितियों से जोड़ा जा सकता है, जैसे:

  • मार्फन सिन्ड्रोम(Marfan syndrome)
  • एबस्टीन विसंगति(Ebstein anomaly)
  • मांसपेशीय दुर्विकास(Muscular dystrophy)
  • पार्श्वकुब्जता(Scoliosis)
  • एहलर्स-डानलोस सिंड्रोम(Ehlers-Danlos syndrome)
  • कब्र रोग(Graves’ disease)

जटिलताएं

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) की जटिलताएं क्या हैं?

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse) वाले ज्यादातर लोगों को कभी समस्या नहीं होती है, लेकिन इसमें जटिलताएं हो सकती हैं। जो इस प्रकार है।

माइट्रल वाल्व रिगर्जेटेश(Mitral valve regurgitation)- इस स्थिति में वाल्व रक्त को बाएं आलिंद में वापस लीक करता है, पुरुष होने या हाय बल्ड प्रेशर होने से आपका माइट्रल वाल्व रिग्रेट होने का खतरा बढ़ जाता है। यदि पुनरुत्थान गंभीर है, तो हर्ट फेल को रोकने के लिए आपको वाल्व को बदलने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

दिल की लय की समस्याएं (अतालता)(Heart rhythm problems (arrhythmias)- अनियमित हर्ट बीट सबसे अधिक दिल के ऊपरी कक्षों में होती है। वे परेशान हो सकते हैं, लेकिन आमतौर पर जीवन के लिए खतरा नहीं हैं। गंभीर माइट्रल वाल्व रिगर्जेटेशन के साथ लोगों को बीट की समस्या होने का सबसे अधिक खतरा होता है, जो हृदय के माध्यम से रक्त के प्रवाह को प्रभावित कर सकता है।

हृदय वाल्व संक्रमण (एंडोकार्डिटिस)(Heart valve infection)- आपके दिल के अंदर एक पतली झिल्ली होती है जिसे एंडोकार्डियम कहा जाता है। एंडोकार्डिटिस इस आंतरिक अस्तर का एक संक्रमण है। एक असामान्य माइट्रल वाल्व बैक्टीरिया से एंडोकार्टिटिस होने की आपकी संभावना को बढ़ाता है, जो माइट्रल वाल्व को और नुकसान पहुंचा सकता है।

अगर आप हार्ट अटैक के बारे में जानना चाहते हैं, तो देखें ये वीडियो

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Mitral Valve Prolapse

Accessed on 02/04/2020

Mitral Valve Prolapse

Accessed on 02/04/2020

Mitral Valve Prolapse 

Accessed on 02/04/2020

Problem: Mitral Valve Prolapse

Accessed on 02/04/2020

Mitral valve prolapse

Accessed on 02/04/2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
shalu द्वारा लिखित
अपडेटेड 02/04/2020
x