Saffron : केसर क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj

उपयोग

केसर (Saffron) का उपयोग किसलिए किया जाता है?

केसर (Saffron) का उपयोग आमतौर पर उपचार के लिए किया जाता है:

  • दमा
  • खांसी
  • काली खांसी (पर्टुसिस)
  • ढीला कफ (एक expectorant के रूप में)
  • नींद की समस्या
  • कैंसर
  • धमनियों का सख्त होना
  • आंत गैस (पेट फूलना)
  • डिप्रेशन
  • अल्जाइमर रोग
  • डर
  • रक्त निकला (हेमोप्टाइसिस)
  • दर्द
  • रूखी त्वचा

महिलाएं मासिक धर्म में ऐंठन प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS) के लिए केसर (Saffron) का इस्तेमाल करती हैं। वहीं, पुरुषों की बात करें तो वह इसका उपयोग शुरुआती संभोग (शीघ्रपतन) और बांझपन को रोकने के लिए करते हैं।

केसर (Saffron) का उपयोग सेक्स में रुचि बढ़ाने (कामोत्तेजक के रूप में) और पसीना लाने के लिए भी किया जाता है।

कुछ लोग सीधे केसर को बालों की जड़ों पर लगाते हैं, ताकि गंजापन की समस्या से निपटा जा सके।

इसका इस्तेमाल और काफी बीमारियों को जड़ से खत्म करने के लिए किया जाता है, कृपया एक बार इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर या हर्बल विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें.

केसर कैसे काम करता है ?

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की ज़रुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना ज़रुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

केसर से जुड़ी सावधानियां एवं चेतावनी

केसर का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

  • अगर आप गर्भवती हैं या फिर शिशु को स्तनपान करवा रही हैं तो इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लें। ऐसा इसलिए है कि गर्भावस्था में महिला को खानपान का ध्यान रखना जरूरी है, ऐसे में अगर इसका सेवन किया जाए, तो कई बार यह नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।
  • अगर आप कोई स्वास्थ्य संबंधी दवाई का सेवन कर रहे हैं तो इसका सेवन करने से बचें।
  • अगर आपको किसी तरह की एलर्जी या दवाई से नुकसान है तो केसर का सेवन बिना डॉक्टर के सुझाव के न करें।
  • आपको कोई अन्य बीमारी, विकार या कोई चिकित्सीय उपचार चल रहा है तो इसका सेवन न करें।
  • यदि आपको किसी तरह के खाने, जानवर या सामान से एलर्जी है तो इसका सेवन करने से बचना चाहिए।

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह ज़रुर लें।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की ज़रुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना ज़रुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

कितना सुरक्षित है केसर का सेवन ?

बच्चों के लिए

यह किस तरह से बच्चों को प्रभावित कर सकता है, इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं मिल पाई है, लेकिन इसपर शोध करने वाले शोधकर्ताओं का कहना है कि केसर से बच्चों को दूर रखना ही सही है।

गर्भावस्था और स्तनपान

शोधकर्ताओं का कहना है कि केसर हमारे शरीर में हीट पैदा करता है अगर गर्भावस्था के दौरान इसका इस्तेमाल किया जाता है तो यह गर्भाशय की दीवार को उत्तेजित कर सकता है, जिससे मिसकैरिज का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए इस नाजुक दौर में डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही केसर का इस्तेमाल करें।

केसर के साइड इफ़ेक्ट

केसर से मुझे किस तरह के दुष्प्रभाव हो सकते हैं?

केसर से होने वाले कुछ संभावित दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

  • मुंह का शुष्क होना (Dry mouth)
  • चिंता
  • सिर चकराना
  • झपकी आना
  • जी मिचलाना
  • भूख में बदलाव
  • सिर में दर्द
  • एलर्जी

अगर आप अधिक मात्रा में केसर का सेवन करते हैं तो

  • त्वचा, आंखों और श्लेष्मा झिल्ली की पीला पड़ना
  • उल्टी
  • सिर चकराना
  • खूनी दस्त
  • नाक, होंठ और पलकों से रक्तस्राव
  • शरीर का सुन्न होना समेत कई सारे दुष्प्रभाव हो सकते हैं.

12-20 ग्राम केसर का सेवन से आपकी मौत भी हो सकती है। यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह ज़रुर लें।

प्रभाव

इन दवाइयों के असर को भी प्रभावित कर सकता है केसर

शोधकर्ताओं के मुताबिक, दवाइयों के साथ केसर का इस्तेमाल करने से यह नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए दवाइयों के साथ केसर का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

बाईपोलर डिसऑर्डर :

शोध में यह बात सामने आई है कि केसर का सेवन करने से मूड स्व‍िंग्स का खतरा बढ़ सकता है।

दिल से जुड़ी बीमारियां :

शोधकर्ताओं के मुताबिक, दिल की बीमारी में केसर का सेवन करने से आपको नुकसान हो सकता है।

लो ब्लड प्रेशरः

अगर आपको लो ब्लड प्रेशर की समस्या है तो केसर का इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह लीजिए। शोधकर्ताओं के मुताबिक, लो ब्लड प्रेशर के मरीज अगर केसर का इस्तेमाल करते हैं, तो उनका ब्लड प्रेशर और भी ज्यादा गिर सकता है। इसलिए इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

केसर की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह ज़रुर लें।

केसर की सामान्य खुराक क्या है?

डिप्रेशनः

शोधकर्ताओं के मुताबिक, केसर मौजूद न्यूरोट्रांसमीटर डोपामाइन, सेरोटोनिन और नॉरपेनेफ्रिन दिमाग को प्रभावित करते है हैं, जिससे आपका दिमाग हमेशा संतुलित रहता है। अगर आप रोजाना 30 मिलीग्राम केसर का इस्तेमाल रोजाना करते हैं तो आपको डिप्रेशन की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। आप चाहे तो दिन में दो बार 12 मिलीग्राम केसर का सेवन भी कर सकती हैं।

प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS) के लिए:

महिलाओं को होने वाले प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम की समस्या के लिए दिन में दो बार 12मिलीग्राम केसर का सेवन किया जा सकता है।

मासिक धर्म की परेशानीः

शोधकर्ताओं के मुताबिक, केसर का सेवन करने से शरीर में खून का प्रवाह सही तरीके से बना रहता है, जिन महिलाओं को मासिक धर्म में किसी भी तरह की परेशानी होती है तो वह 500मिलीग्राम केसर के साथ अजवाइन के बीज और अनीस के अर्क को मासिक धर्म के दौरान तीन बार लिया जा सकता है।

अल्जाइमर रोग:

अल्जाइमर में केसर के एक विशिष्ट उत्पाद का इस्तेमाल 30 मिलीग्राम प्रतिदिन करना चाहिए।

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। कृपया अपने उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

केसर किस रूप में आता है?

वर्तमान में केसर कई तरह से बाजार में उपलब्ध है। मुख्य तौर पर केसर अर्क के तौर पर आता है। परन्तु आजकल बाजार में केसर की चाय, केसर का सिरप जैसी चीजें भी उपलब्ध हैं।

सूत्र

रिव्यू की तारीख जुलाई 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 21, 2019