Shellac: शेलैक क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar

परिचय

शेलैक क्या है?

शेलैक, पेड़ पर रहने वाले कैरिका लैक्का नाम के मादा कीड़े से खासतौर पर प्रजनन के बाद निकलने वाला स्त्राव है। इसमें प्राकृतिक गम होता है। फर्टिलाइजेशन के बाद मादा पेड़ पर एक स्पॉट ढूंढकर वहां पर शेलैक की एक परत बनाती है, जिसमें वह खुद को पूरी तरह से कवर करती है। ये सफेद मोम के धागे जैसा दिखता है। इस काकून जैसी जगह में मादा अपने अंडे देती है। 

शेलैक की खेती भारत, थाईलैंड और बर्मा में होती है। इसका उत्पादन कुसुम के पेड़ों  को संक्रमित करने वाले कीड़ों द्वारा किया जाता है। पेड़ों से सफेद मोम के धागों को निकालकर पानी में भिगोया जाता है, जिससे इसमें से कीट हटाए जा सकें। इसके बाद शेष सामग्री को सोडियम कार्बोनेट में भिगोया जाता है, जो लैकिक एसिड को हटाता है। फिर तीन से चार प्रोसेस से निकलने के बाद शेलेक तैयार होता है। शैलेक का इस्तेमाल सालों से फार्मा, डेंटिस्ट्री और मैनुफेक्चरिंग इंडस्ट्री में किया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें- Flax Seeds : अलसी के बीज क्या है?

 शैलेक का उपयोग ​किस लिए किया जाता है?

-डेंटिस्ट्री में शैलेक का इस्तेमाल डेंटल प्रोडक्ट्स को बनाने में किया जाता है। डेंटिस्ट शैलेक को लंबे समय से कई तरह से इस्तेमाल करते आ रहे हैं। इनमें से ज्यादातर शैलेक का इस्तेमाल डेन्चर करते वक्त करते हैं। डेंट्ल स्कूलों में मोल्डिंग और आर्टिफिशियल कैलकुलस के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है।

-फार्मा इंडस्ट्री में भी इसका प्रयोग लंबे समय से किया जा रहा है। इसे खासतौर पर दवाइयों को बनाने और उस पर कोटिंग करने के लिए प्रयोग किया जाता है। 

-कॉस्मेटिक इंडस्ट्री में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्ड जैसे हेयर स्प्रे, लिपस्टिक को बनाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है।

आयुर्वेद में शैलेक का इस्तेमाल :

आयुर्वेद में शैलेक का इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। इसे लगाने से चोट और घाव से खून आना बंद हो जाता है। इसके अलावा ये त्वचा के अल्सर को भी ठीक करता है। फंगल इन्फेक्शन, एक्जिमा, हर्पीज और स्कैबीज से निजात दिलाने में भी ये मददगार है। 

इन बीमारियों में भी है मददगार:

-डायरिया

-डिसेन्ट्री

-पेट में कीड़े

-अंदरूनी ब्लीडिंग

-कफ

-ऑस्टियो आर्थराइटिस

-ओबेसिटी

शैलेक कैसे काम करता है?

शैलेक कैसे काम करता है, इसके बारे में कोई अध्ययन नहीं है। हालांकि इसमें प्राकृतिक गम होता है जिस वजह से इसका प्रयोग कोटिंग के लिए किया जाता है। इसका इस्तेमाल करने का सोच रहे हैं तो एक बार अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें

यह भी पढ़ें- Flax Seeds : अलसी के बीज क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है शैलेक का उपयोग ?

जो लोग दवाइयों में शैलेक को ले रहे हैं उनमें ज्यादातर के लिए यह सुरक्षित है। बहुत कम लोगों में शैलेक से एलर्जी देखने को मिलती है। बहुत सारे लोग डेंटल और फार्मा प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल होने वाले शैलेक और हार्डवेयर स्टोर पर मिलने वाले उत्पाद में इस्तेमाल होने वाले शैलेक को एक समझ लेते हैं। बता दें, हार्डवेयर प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल होने वाला शैलेक में मेथनॉल भी होता है, जो बहुत ही जहरीला होता है। यदि आपको शैलेक से एलर्जी है तो इसका इस्तेमाल न करें।

ये भी पढ़ें- Green Tea : ग्रीन टी क्या है ?

साइड इफेक्ट्स

शैलेक से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

कुछ लोगों को शैलेक से एलर्जी हो सकती है। अगर आपको गोंद या पौधे के अर्क से किसी तरह की कोई एलर्जी है तो इसका इस्तेमाल न करें। अगर आपकी किसी दूसरी बीमारी की दवाइयां चल रही हैं तो इसका इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करें।

स्तनपान कराने वाली और गर्भवती महिलाएं इसको बिल्कुल एवॉइड करें, क्योंकि ये उनके और उनके बच्चे के लिए हानिकारक हो सकता है।

यह भी पढ़ें- Protein powder : प्रोटीन पाउडर क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

ये फलेक्स  के रूप में उपलब्ध है, लेकिन इसका इस्तेमाल ऐसे नहीं करना चाहिए। फार्मा इंडस्ट्री में इसका प्रयोग इसे कई तरह से रिफाइन करने के बाद किया जाता है।

रिव्यू की तारीख सितम्बर 8, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 19, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे