वर्क फ्रॉम होम में कंप्यूटर पर कर रहे हैं काम तो हो जाएं सावधान, त्वचा को ऐसे हो रहा नुकसान

    वर्क फ्रॉम होम में कंप्यूटर पर कर रहे हैं काम तो हो जाएं सावधान, त्वचा को ऐसे हो रहा नुकसान

    कोरोना वायरस (Corona Virus) के कारण पिछले कई महीनों से लोग घरों में रहने को मजबूर हैं। ज्यादातर लोग अपने-अपने दफ्तर का काम घर से कर रहे हैं। शुरुआत में कई लोगों को यह अभिशाप की तरह लग रहा था, लेकिन फिलहाल लोगों ने इसे जिंदगी का हिस्सा बना लिया है। महिलाओं ने दफ्तर और घर के काम करने का टाइम टेबल तैयार कर लिया है। लोग अपने वर्किंग टाइम से ज्यादा काम कर रह हैं लेकिन अभी सबको इसकी आदत सी हो गई है और इसी में लोगों ने अपना कंफर्ट बना लिया है। एक तरफ वर्क फ्रॉम होम के कई फायदे हैं, तो दूसरी तरफ यह लोगों के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर डाल रहा है। आपने बहुत बार पढ़ा और सुना होगा कि घंटों स्क्रीन पर काम करने से आंखे कमजोर होती हैं पर क्या आप जानते हैं इससे आपकी स्किन भी डैमेज हो सकती है।

    हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार वर्क फ्रॉम होम में स्क्रीन पर लोग पहले से ज्यादा समय बिता रहे हैं। हम सभी लोग अपना आधे से ज्यादा दिन कंप्यूटर व लैपटॉप के सामने बैठे निकालते हैं। इससे समय मिलता है तो हम फोन में लग जाते हैं। वर्क फ्रॉम होम में कंप्यूटर व लैपटॉप के सामने बैठे बैठे लोगों के पॉश्चर तो खराब हो ही रहे हैं। इसके चलते लोगों में स्किन डैमेज के मामले सामने आए हैं।

    एक्सपर्ट्स की मानें तो कंप्यूटर व लैपटॉप से निकलने वाली ब्लू लाइट आपकी आंखों के साथ पूरे चेहरे को बर्बाद कर सकती हैं। 2010 में द जर्नल ऑफ इनवेस्टिगेटिव डर्माटेलॉजी में पब्लिश हुए एक शोध के मुताबिक, लाइट स्किन की तुलना में डार्क स्किन वाले लोगों में ब्लू लाइट के जोखिम होने का खतरा अधिक होता है। कई शोध के मुताबिक, लैपटॉप व कंप्यूटर से निकलने वाली ब्लू लाइट से डार्क स्किन वाले लोगों को हायपर पिगमेंटेशन व स्किन डार्कनिंग की शिकायत हो सकती हैं। इसके साथ ही लैपटॉप व कंप्यूटर से निकलने वाली ये हानिकारक किरणें प्रीमैच्योर एजिंग व चेहरे और हाथों पर झुर्रियों का कारण भी बन सकती हैं। इससे समय से पहले बूढ़ें नजर आने लगते हैं। इन हानिकारक किरणों से त्वचा में कोलेजन ब्रेक हो जाते हैं, जिससे त्वचा पर काले धब्बों की शिकायत होती है। वर्क फ्रॉम होम में स्किन केयर के लिए क्या करना चाहिए आइए जानते हैं।

    और पढ़ें: वर्क फ्रॉम होम के लिए 7 आसान एक्सरसाइज, बढ़े हुए वजन को कम करने के साथ ही देगी स्ट्रेंथ भी!

    ब्लू लाइट स्किन को कैसे डैमेज करती है? (How does blue light damage the skin?)

    हम सभी इस बात से अच्छी तरह वाकिफ हैं कि अल्ट्रावॉयलेट रेज सेल्स डीएनए को डैमेज करते हैं, वहीं ब्लू लाइट ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के जरिए कोलेजन को डैमेज करती है। हमारी त्वचा में फ्लेविन नामक एक केमिकल होता है जो ब्लू लाइट को एब्जोर्ब करता है, जिससे फ्री रेडिकल्स का उत्पादन होता है जो त्वचा को डैमज करने का कारण बनता है।

    हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार, कंप्यूटर के सामने 20 मिनट बैठने से उतना ही त्वचा को नुकसान होता है जितना 20 मिनट धूप में बैठने से होता है। हम सभी जानते हैं कि सूरज हमारी त्वचा के लिए दुश्मन समान है, पर आपको जानकर हैरानी होगी कि कंप्यूटर और लैपटॉप भी हमारी त्वचा के लिए उतने ही हानिकारक हैं। सोचिन हम आज तक कितना समय स्क्रीन के सामने बैठकर बिता चुके हैं और इससे अब तक हमारी त्वचा को कितना नुकसान पहुंचा होगा।

    लैपटॉप व कंप्यूटर से निकलने वाली ब्लू लाइट से हो रहे नुकसानों के देखते हुए हम अपना काम करना तो बंद नहीं कर सकते लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखकर हम इसके जोखिमों को कम कर सकते हैं। घंटों तक स्क्रीन पर काम करने से त्वचा को नुकसान होने से बचाने के लिए निम्न बातों का ख्याल रखें:

    वर्क फ्रॉम होम में स्किन केयर

    और पढ़ें: कोरोना का असरः वर्क फ्रॉम होम से परिवारों में होने लगी खटपट!

    वर्क फ्रॉम होम में स्किन केयर: स्क्रीन पर समय बिताने का एक समय तय कर लें (Set a time to spend time on screen)

    यदि आपके दफ्तर की शिफ्ट 10 से 6 है तो इसी समय में अपना काम पूरा करने की कोशिश करें।कई लोग सुबह से रात तक कंप्यूटर पर बैठे रहते हैं। वे बीच बीच में अपना काम करने लगते हैं। ऐसा करके आप खुद को ही बीमार कर रहे हैं। बेहतर होगा कि आप स्क्रीन पर समय बिताने का एक समय तय करें और उसी समय में अपना काम पूरा करने की कोशिश करें।

    वर्क फ्रॉम होम में स्किन केयर: एंटीऑक्सीडेंट्स को डायट में शामिल करें (Add Antioxidants to the Diet)

    अपनी डायट में ऐसे फल और सब्जियों को शामिल करें जिनका सेवन करने से आपके शरीर को एंटीऑक्सीडेंट्स मिलें। एंटीऑक्सीडेंट्स आपके शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचाते हैं। यह आपकी त्वचा को हानिकारक ब्लू लाइट से सुरक्षा कवच प्रदान करने में भी मदद करते हैं। इसके लिए आप अपनी डायट में स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी, किवी जैसे फलों को डायट में शामिल कर सकते हैं। ये फल आपकी त्वचा को एजिंग से लड़ने में भी मदद करते हैं।

    और पढ़ें: कोरोना के दौरान वर्क फ्रॉम होम करने से बिगड़ सकता है आपका बॉडी पोस्चर, जानें एक्सपर्ट की सलाह

    वर्क फ्रॉम होम में स्किन केयर: त्वचा को मॉश्चराइज करें (moisturize the skin)

    क्याआपको पता हे कि घर पर भी सनसक्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए। हां, करना चाहिए। क्योंकि केवल सूर्य की किरणों में ही नहीं बल्कि लाइट और कंप्यूटर की स्क्रीन में भी हानिकारक रेज पायी जाती हैं। जो त्चचा को नुकसान पहुंचाने के साथ कई गंभीर बीमारियों का शिकार भी बना देती हैं। अगर घंटों स्क्रीन पर काम करने के बाद आपकी स्किन ड्राय हो रही है तो अपनी त्वचा को हेल्दी रखने के लिए इसे अच्छे से मॉश्चराइज करें।

    वर्क फ्रॉम होम में स्किन केयर: स्क्रीन और खुद के बीच दूरी रखें (Keep a distance between the screen and yourself)

    दफ्तर का काम करते समय लैपटॉप को खुद के करीब रखने से बचें। यह आपकी त्वचा के साथ शरीर को भी कई तरह से नुकसान पहुंचाता है। कुछ लोग वर्क फ्रॉम होम के दौरान लेटकर लैपटॉप पर काम कर रहे हैं। ऐसा करने से बचें। इसके लिए आप कोशिश करें कि टेबल पर रखे हुए लेपटॉप और अपने बीच कुछ दूरी बनाकर रखें। इससे आपकी त्वचा को कम नुकसान पहुंचेगा।

    और पढ़ें: वर्क फ्रॉम होम करने वाली न्यू मदर्स अपनाएं ये 5 टिप्स, काम होगा आसान

    एक्सपर्ट की राय

    वर्क फ्रॉम होम में स्किन केयर के बारे में मेरठ के क्लीनिकल डॉक्टर शीनू का कहना है कि चाहें नॉमर्ल लाइट हो या लेपटॉप से निकलने वाली रेज। सूर्य की किरणों की तरह इनमें भी यूवीए रेज पायी जाती हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार, बहुत सारे लोगों की त्वचा में घंटों स्क्रीन पर काम करने से गंभीर दुष्परिणाम देखने को मिले हैं। इसलिए यदि आप भी वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं तो अपनी त्वचा का खास ख्याल रखें। घर पर भी सनसक्रीन का इस्तेमाल करें। लगातार ज्यादा देर तक स्क्रीन पर न बैठें। बीच बीच में ब्रेक लेते रहें। यदि आपको भी अपनी त्वचा में किसी तरह के साइड इफेक्ट्स नजर आते हैं तो बेहतर होगा कि आप समय पर किसी अच्छे डर्मेटोलॉजिस्ट से कंसल्ट करें।

    उम्मीद करते हैं आपको वर्क फ्रॉम होम में स्किन केयर पर आधारित हमारा यह लेख पसंद आया होगा। इससे जुड़ा आपका कोई प्रश्न है तो आप हमारे फेसबुक पेज पर जाकर कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

     

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित · अपडेटेड 14/06/2021

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement