home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

घर पर मौजूद इन 7 चीजों को बनाएं स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय

घर पर मौजूद इन 7 चीजों को बनाएं स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय

कपूर, हल्दी, तुलसी समेत सात चीजों में हैं औषधीय गुण

स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय भी इसके इलाज में काफी कारगर माने जा सकते हैं। स्वाइन फ्लू (Swine Flu) एक तेजी से फैलने वाला संक्रामक रोग है, जो इंफ्लूएंजा वायरस (H1N1) की वजह से होता है। इस वायरस से प्रभावित व्यक्ति में सामान्य मौसमी सर्दी-जुकाम जैसे ही लक्षण होते हैं, जैसे – नाक से पानी बहना या नाक बंद हो जाना, गले में खराश, सर्दी-खांसी, बुखार, सिरदर्द, शरीर दर्द, थकान, ठंड लगना, पेट दर्द, कभी-कभी दस्त उल्टी आना। ये सबसे पहले शूकर (सुअर) में पाया गया था। अब ये इंसानों में भी पाया जाने लगा है और ये संक्रमित व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंच सकता है।

और पढ़ें : स्वाइन फ्लू से बचाव के तरीके : यूपी में स्वाइन फ्लू के कहर के बाद आपको ये बातें जानना हैं जरूरी

2009 में चर्चा में आई स्वाइन फ्लू की बीमारी

सबसे पहले स्वाइन फ्लू 2009 में चर्चा में आया था जब पहली बार ये इंसानों में पाया गया था। इसने एक तरह से महामारी का रूप ले लिया था। महामारी ऐसी बीमारियों को कहते हैं, जो एक साथ हजारों लोगों को अपना शिकार बना लेती हैं।

स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय ही बचाव का सबसे अच्छा तरीका

डॉक्टर्स का मानना है कि कोई शख्स स्वाइन फ्लू की चपेट में आ गया हो तो, घर के बाकी लोगों को भी इससे बचने के लिए डॉक्टरी सलाह लेकर दवा खा लेनी चाहिए। डॉक्टर के अनुसार स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय ही इसे रोकने का सबसे बड़ा उपाय हो सकता है। आराम करना, खूब पानी पीना, शरीर में पानी की कमी न होने देना इसका सबसे बेहतर उपाय है।

और पढ़ेंः कोरोना वायरस के बाद अब देश में स्वाइन फ्लू की दस्तक, जानें क्या हैं H1N1 वायरस के लक्षण

इस वजह से होता है स्वाइन फ्लू

स्वाइन फ्लू एच1एन1 (H1N1) वायरस की वजह से होता है जो खासतौर पर शुअरों को प्रभावित करता है। हालांकि, ये जानवरों से सीधे इंसानों तक नहीं पहुंचता बल्कि इंसानों से इंसानों में पहुंचता है। एचवन एनवन (H1N1) बेहद तेजी से फैलने वाला वायरस है जो सलाइवा और शरीर के अन्य द्रव्यों से भी फैल सकता है। इसी वजह से ये खांसी, छींक और संक्रमित जगह को छूने के बाद आंख या नांक छूने से भी हो सकता है।

जब इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है तो उस दौरान निकली सूक्ष्म बूंदों में घुलकर ये वायरस हवा में पहुंच जाता है और जैसे ही आप इसके संपर्क में आते हैं, या संक्रमित जगह को चाहे फिर वो गेट का हैंडल ही क्यों ना हो, उसे छूते हैं तो आप इसका शिकार बन जाते हैं। इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति खुद में लक्षण दिखाई देने के एक दिन पहले भी किसी दूसरे को संक्रमित कर सकता है। भले इस वायरस का नाम स्वाइन (सुअर) के नाम पर हो पर ये पोर्क से बने उत्पादों को खाने से नहीं होता।

नोट- यह जानकारी किसी भी स्वास्थ्य परामर्श का विकल्प नहीं हैं। हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

आपके घर में ही मौजूद कुछ चीजें स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय बन सकती हैं

जानिए स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय के लिए किन चीजों का करें इस्तेमालः

1.स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय के लिए तुलसी

हमारे घरों में तुलसी आसानी से उपलब्ध हो जाती है। तुलसी में मौजूद एंटी- बैक्टीरियल और एंटी-वायरस प्रॉपर्टी इसे सबसे लाभकारी बनाते हैं। यह किसी की भी रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) बढ़ा सकती है। इसलिए ऐसा तो नहीं कहा जा सकता कि यह स्वाइन फ्लू को बिलकुल ठीक कर देगी, लेकिन एच1एन1 वायरस से लडऩे में निश्चित रूप से सहायक हो सकती है। तुलसी से लाभ पाने का सबसे आसान तरीका है कि हर रोज इसकी पांच अच्छी तरह से धुली हुई पत्तियों का खाया जाए।

और पढ़ेंः स्वाइन फ्लू से कैसे बचाएं बच्चों को?

2.कपूर

स्वाइन फ्लू से बचाव के लिए कपूर का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। वयस्क चाहें तो कपूर की गोली को पानी के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं। वहीं बच्चों को इसका पाउडर आलू अथवा केले के साथ मिलाकर देना चाहिए, लेकिन कपूर के सेवन के बारे में इस बात का ध्यान रखें कि, कपूर को रोज नहीं लेना चाहिए। महीने में एक या दो बार ही इसका इस्तेमाल पर्याप्त है।

3.स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय के लिए शहदhome remedies for swine flu

शहद में मौजूद एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टी इसे एक प्रभावी इम्यूनिटी बूस्टर (रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला) बना देती हैं। इसकी वजह से बीमारी से तेजी से रिकवरी भी होती है। इसलिए स्वाइन फ्लू में इसे लेना बेहद लाभाकरी है। शहद को अदरक के साथ चाय के रूप में लिया जा सकता है। ये बेहद प्रभावशाली घरेलू नुस्खा है।

4.लहसुन

लहसुन भी मौजूद एंटी-वॉयरल गुण रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा करने में मदद करते है। इसके लिए आप लहसुन की दो कलियां रोज सुबह खाली पेट गुनगुने पानी के साथ लेना चाहिए। इससे रोग प्रतिरोधक शक्ति में इजाफा होता है।

5.स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय के लिए एलोवेरा

एलोवेारा एक और ऐसी लोकप्रिय जड़ी-बूटी है जो आपके भीतर फ्लू से लडऩे की क्षमता बढ़ाती है। इसका इस्तेमाल दवाइयों तथा सौंदर्य प्रसाधनों में किया जाता है। इसके अलावा एलोवेरा व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी मदद करता है। एलोवेरा जेल की एक चम्मच पानी के साथ इस्तेमाल करने से न सिर्फ त्वचा को खूबसूरत बनाया जा सकता है, बल्कि यह स्वाइन फ्लू के असर को कम करने में भी कारगर साबित होता है।

और पढ़ेंः स्वाइन फ्लू के कारण क्या हैं?

6.विटामिन सी वाले फल

आमतौर पर माना जाता है कि सर्दी से बचने का सबसे बेहतर तरीका विटामिन सी का इस्तेमाल है, जो कि स्वाइन फ्लू के लिए भी कारगर साबित होता है। इसलिए अपने आहार में विटामिन सी को शामिल करें। विटामिन सी सभी प्रकार के खट्टे फलों जैसे नींबू, आंवला, अंगूर, संतरा आदि में भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

7.स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय के लिए हल्दी

सालों से हल्दी का उपयोग सौन्दर्य प्रसाधन के अलावा सर्दी-खांसी को दूर करने के लिए भी किया जाता रहा है। इसमें अनिवार्य तेल और इसको रंग देने वाला पदार्थ करक्युमिन होता है। जिसमें कई औषधीय गुण होते हैं। इसके अलावा इसका सबसे बड़ा गुण यह है कि ऊंचे तापमान पर गर्म करने के बावजूद भी इसके औषधीय गुण नष्ट नहीं होते है।

जानकारों के अनुसार गुनगुने दूध में हल्दी मिलाकर पीने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है और रोजाना एक गिलास दूध में थोड़ी सी पिसी हल्दी मिलाकर पीने से स्वाइन फ्लू का असर कम होने लगता है।

निष्कर्ष- स्वाइन फ्लू जैसे बीमारी से बचने के लिए आप आसानी से इन घरेलू चीजों का इस्तेमाल स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय के तौर पर किया जा सकता है। ये आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा ये चीजें आपकी रोगों से लड़ने क्षमता बढ़ाकर आपको अन्य बीमारियों से भी बचाएंगी।

अगर आपको स्वाइन फ्लू के घरेलू उपाय या इससे जुड़ी अपनी समस्या को लेकर कोई सवाल है, तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श लेना ना भूलें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Swine flu (H1N1 flu). https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/swine-flu/diagnosis-treatment/drc-20378106. Accessed on 21 August, 2020.

H1N1 Flu. https://www.cdc.gov/h1n1flu/homecare/. Accessed on 21 August, 2020.

2009 H1N1 Flu (“Swine Flu”) and You. https://www.cdc.gov/h1n1flu/qa.htm. Accessed on 21 August, 2020.

Natural Supplements for H1N1 Influenza: Retrospective Observational Infodemiology Study of Information and Search Activity on the Internet. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3221378/. Accessed on 21 August, 2020.

Ayurvedic Perspective of Swine Flu. https://www.nhp.gov.in/ayurvedic-perspective-of-swine-flu_mtl. Accessed on 21 August, 2020.

लेखक की तस्वीर badge
Piyush Singh Rajput द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 31/08/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x