home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Acacia: बबूल क्या है?

परिचय|उपयोग|साइड इफेक्ट्स|प्रभाव|डोसेज|उपलब्ध
Acacia: बबूल क्या है?

परिचय

बबूल क्या है?

बबूल का पेड़ जिसे स्थानीय भाषा में देशी कीकर कहा जाता है। पुरानी मान्यताओं के अनुसार इस पेड़ में भगवान विष्णु का निवास माना जाता है। प्राचीन समय में इस पेड़ की पुजा की जाती थी। इसके पेड़ घने एवं बड़े होते हैं। इसकी लकड़ी बहुत मजबूत होती है और यह काली मिट्टी में सबसे ज्यादा पाया जाता है। इसके पत्ते आंवले के पत्ते की अपेक्षा बहुत छोटे एवं घने होते हैं। इसकी छाल मोटी एवं खुरदुरी होती है और इसके फूल पीले एवं कम सुगंध वाले होते हैं। बबूल की फलियां जो की लगभग 7 से 8 इंच लंम्बी होती हैं, इनकी आकृति चपटी होती है।

यह औषधीय गुणों से भरपूर होता है तथा अनेक रोगों के उपचार में काम आता है। इसकी हरी पतली टहनियां दातून के काम आती हैं। बबूल का गोंद उतम कोटि का होता है जो औषधीय गुणों से भरपूर होता है तथा सैकड़ों रोगों के उपचार में काम आता है। बबूल की दातुन दांतों को स्वच्छ और स्वस्थ रखती है। बबूल की लकड़ी का कोयला भी अच्छा होता है।

आयुर्वेद के अनुसार, बबूल एक बहुत ही उत्तम औषधि है। इसलिए अगर आप बीमारियों में बबूल का इस्तेमाल करते हैं निःसंदेह आपको बहुत फायदा मिल सकता है। आइए जानते हैं कि जिस पेड़ को बहुत ही साधारण समझा जाता है, उस बबूल से क्या-क्या लाभ मिल सकता है।

और पढ़ें : Clove : लौंग क्या है?

यह कैसे काम करता है?

यह हर्बल पूरक कैसे काम करता है, इस बारे में पर्याप्त अध्ययन नहीं किए गए हैं। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें। हालांकि, कुछ अध्ययन हैं जो बताते हैं:

और पढ़ें : Duckweed: डकवीड क्या है?

उपयोग

बबूल का उपयोग किस लिए किया जाता है?

उच्च कोलेस्ट्रॉल

बबूल आहार फाइबर का एक स्रोत है। यह लोगों को भरा हुआ महसूस कराता है, इसलिए वे पहले की तुलना में खाना बंद कर सकते हैं अन्यथा नहीं। इससे वजन कम हो सकता है और कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो सकता है।

अधिक पसीना आने पर

अधिक पसीना आने की परेशानी में इसके पत्ते और बाल को बराबर मिलाकर महीन पीस लें। इस चूर्ण से पूरे बदन पर मालिश करें। कुछ समय बाद नहा लें।नियमित रूप से यह प्रयोग कुछ दिन तक करने से पसीना आना बन्द हो जाता है। इसके पत्ते के पेस्ट का उबटन लगाने से भी पसीना आना बंद हो जाता है।

और पढ़ें : Black Pepper : काली मिर्च क्या है?

शरीर में जलन की समस्या में

शरीर के किसी अंग में जलन हो रही हो तो बबूल की छाल का काढ़ा बना लें। इसमें मिश्री मिलाकर पीने से शरीर में जलन शांत होती है।

कमर दर्द का इलाज

कमर दर्द में बबूल से फायदा लेने के लिए इसकी छाल, फली और गोंद को बराबर-बराबर मात्रा में मिलाकर पीस लें। इसके सेवन करने से कमर दर्द से आराम मिलता है।

खुजली में आराम

दाद (खुजली) को ठीक करने के लिए इसके फूलों को सिरके में पीस लें। इसे खुजली (दाद) वाले अंग पर लगाएं। दाद और खुजली में लाभ होता है।

दांत की समस्या

प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि इसके गोंद को चबाने से शुगर-फ्री गम चबाने की तुलना में दंत पट्टिका कम हो जाती है। अन्य शोध से पता चलता है कि 6 सप्ताह तक ब्रश करने के बाद बबूल और अन्य अवयवों से युक्त जेल लगाने से क्लोरहेक्सिडाइन 1% जेल का उपयोग करने के लिए पट्टिका कम हो सकती है।

डायबिटीज

शोध से पता चलता है कि बबूल की गोंद पाउडर लेने से टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में रक्त शर्करा को कम करने में मदद मिल सकती है जो मधुमेह की दवाएं भी ले रहे हैं। हालांकि, यह पूरी तरह से रक्त शर्करा को सामान्य नहीं करता है।

मसूड़े की सूजन

6 सप्ताह तक ब्रश करने के बाद बबूल और अन्य अवयवों से युक्त जेल लगाने से क्लोरहेक्सिडाइन 1% जेल का उपयोग करने के समान मसूड़े की सूजन कम हो सकती है।

मोटापा

प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि 30 ग्राम पाउडर रोज लेने से वजन कम करने में मदद कर सकती है हल्दी (Turmeric), जानें 5 फायदेमिल सकती है।

कितना सुरक्षित है बबूल उपयोग ?

गर्भावस्था और स्तनपान :

गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान इस हर्बल का उपयोग करने की सुरक्षा के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है। इस दवा को लेने से पहले संभावित लाभ और जोखिमों को तौलने के लिए हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

सर्जरी :

एक निर्धारित सर्जरी से कम से कम 2 सप्ताह पहले इसका सेवन करना बंद कर दें।

और पढ़ें : Ephedra: एफीड्रा क्या है?

साइड इफेक्ट्स

बबूल से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

जब मुंह से लिया जाता है :

जब इसे औषधीय मात्रा में मुंह से लिया जाता है, तो बबूल सेफ होता है। दैनिक 30 ग्राम तक 6 सप्ताह के लिए सुरक्षित रूप से उपयोग किया गया है। हालांकि, यह गैस, सूजन और मितली सहित मामूली प्रतिकूल प्रभाव पैदा कर सकता है।

त्वचा पर लगाने पर :

यह जानने के लिए पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी नहीं है कि त्वचा पर लगाने पर बबूल सुरक्षित है या दुष्प्रभाव क्या हो सकते हैं। कुछ लोगो को बबूल के इस्तेमाल से एलर्जी हो सकती है इससे बचने के लिए पहले थोड़ी मात्र में ही इसका सेवन करें। अधिक मात्र में सेवन करने से बचे इसका अधिक सेवन शरीर के अंगों जैसे की लिवर व किडनी को खराब कर सकता है।

विशेष सावधानियां और चेतावनी :

गर्भावस्था और स्तनपान :

यह जानने के लिए पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी नहीं है कि गर्भवती महिला या स्तनपान कराने के लिए बबूल सुरक्षित है या नहीं। सुरक्षित पक्ष पर रहें और भोजन में पाए जाने वाले से अधिक मात्रा में उपयोग से बचें।

मधुमेह :

यह रक्त शर्करा यानी डायबिटीज के स्तर को कम कर सकता है। आपके मधुमेह दवाओं को आपके स्वास्थ्य सेवा प्रदाता द्वारा समायोजित करने की आवश्यकता हो सकती है।

सर्जरी :

यह रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकता है। सिद्धांत रूप में, सर्जरी के दौरान और बाद में रक्त शर्करा नियंत्रण में हस्तक्षेप कर सकता है। वैकल्पिक शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं से 2 सप्ताह पहले बबूल लेना बंद कर दें।

प्रभाव

इसके क्या प्रभाव हो सकते हैं ?

बबूल शरीर को एंटीबयॉटिक्स जैसे अमॉक्सिसिलिन (एमॉक्सिल, ट्राइमॉक्स) को अवशोषित करने से रोक सकता है। इस इंटरैक्शन को रोकने के लिए, अमॉक्सिसिलिन लेने से कम से कम चार घंटे पहले ही बबूल लें।

और पढ़ें : Horehound: होरहाउंड क्या है?

डोसेज

बबूल को लेने की सही खुराक क्या है?

उपयुक्त खुराक कई कारकों पर निर्भर करती है जैसे कि उपयोगकर्ता की आयु, स्वास्थ्य, और कई अन्य स्थितियां। इस समय इसके लिए खुराक की एक उपयुक्त सीमा निर्धारित करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। ध्यान रखें कि प्राकृतिक उत्पाद हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं और खुराक महत्वपूर्ण हो सकते हैं। उत्पाद लेबल पर प्रासंगिक निर्देशों का पालन करना सुनिश्चित करें और उपयोग करने से पहले अपने फार्मासिस्ट या चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करें।

और पढ़ें: Black Pepper : काली मिर्च क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

  • बबूल की कठोर छाल का अर्क
  • बबूल कठोर कैप्सूल

उपरोक्त दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है, अधिक जानकारी के लिए विशेषज्ञ से जानकारी जरूर लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Acacia/nutritionj.biomedcentral.com/articles/10.1186/1475-2891-11-111/Accessed on 21 January, 2020.

ACACIA/Accessed on 21 January, 2020.

Short-term clinical effects of commercially available gel containing Acacia arabica: a randomized controlled clinical trial. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/20415914. Accessed on 21 January, 2020.

Acacia. ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/1310566. Accessed on 21 January, 2020.

Acacia. https://www.drugs.com/npp/acacia-gum.html. Accessed on 21 January, 2020.

Acacia Fiber or Gum regulations.gov/document?D=FDA-2011-F-0765-0003. Accessed on 21 January, 2020.

लेखक की तस्वीर
Nikhil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 06/07/2020 को
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x