आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Tomato: टमाटर क्या है?

परिचय|उपयोग|साइड इफेक्ट्स|डोसेज|उपलब्ध
Tomato: टमाटर क्या है?

परिचय

टमाटर (Tomato) क्या है?

टमाटर एक फल है। न्यूट्रिएंट्स से भरपूर इस फल की बेल और पत्तियां भी काफी फायदेमंद होती हैं, जिनका उपयोग कई दवाओं में किया जाता है। ज्यादातर ये लाल रंग में होते हैं, लेकिन इसके अलावा ये यैलो, ऑरेंज, ग्रीन और पर्पल कलर में भी आता है। इसमें अच्छी मात्रा में एंटी-ऑक्सिडेंट्स होते हैं, जो दिल संबंधित बीमारियां और कैंसर की रोकथाम में मददगार है। इसमें विटामिन-सी, पोटैशियम, फोलेट और विटामिन-के भी पाया जाता है।

कैसे काम करता है टमाटर?

न्यूट्रिशन से भरपूर:

टमाटर में लगभग 95% पानी की मात्रा होती है। इसके अलावा 5% कार्बोहाइड्रेट और फाइबर की मात्रा होती है। 100 ग्राम कच्चे टमाटर में 18 कैलोरी, 900 मिली ग्राम प्रोटीन, 3.9 ग्राम कार्ब्स, 2.6 ग्राम शुगर, 1.2 ग्राम फाइबर और 0.2 ग्राम फैट होता है।

विटामिन और मिनिरल्स:

विटामिन-सी : हमारे शरीर में विटामिन-सी एक मजबूत एंटी-ऑक्सिडेंट की तरह काम करता है। ये शरीर में मौजूद मुक्त कणों के प्रभाव को कम करता है।

पोटैशियम : पोटैशियम एक मिनरल है, जो हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी है। ये ब्लड प्रेशर को कंट्रोल कर दिल संबंधित परेशानियों को कोसों दूर रखने में मददगार है।

फोलेट : फोलेट एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, जो नर्वस सिस्टम को हेल्दी तरीके से काम करने में मदद करता है। ये शरीर की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को ठीक कर नई कोशिकाओं को बनाने में भी मददगार है।

और पढ़ें : Rhatany: रैतनी क्या है?

टमाटर (Tomato) का उपयोग किस लिए किया जाता है?

टमाटर का उपयोग निम्नलिखित स्वास्थ्य स्थितियों को बेहतर बनाने के लिए और सेहतमंद रहने के लिए किया जाता है। जैसे:

दिल को रखे स्वस्थ:

टमाटर में लेकोपिन नामक पदार्थ होता है। रिसर्च के अनुसार, ये दिल के लिए बेहद लाभदायक होता है। टमाटर युक्त प्रोडक्ट्स या सप्लिमेंट्स लेने से अच्छा है, टमाटर का सेवन करें। ये दिल संबंधित परेशानियां, डायबिटीज और स्ट्रोक को दूर रखता है। टमाटर में मौजूद फाइबर, पोटैशियम और विटामिन-सी हार्ट को हेल्दी रखने में मददगार होता है।

कैंसर की रोकथाम:

टमाटर में अच्छी मात्रा में विटामिन-सी होता है, जो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से कवच प्रदान करता है। इसमें लेकोपिन भी पाया जाता है। ये एक तरह का कैरोटीनॉयड है, जो प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को कम करता है। यह हमेशा ध्यान रखें की अगर आपको या आपके किसी करीबी को कैंसर है, तो इससे घबराएं नहीं बल्कि जल्द से जल्द से इलाज शुरू करें। कैंसर से बचना आसान है, लेकिन अगर सही समय पर इलाज शुरू किया गया और डॉक्टर द्वारा निर्देशों का ठीक तरह से पालन किया जाय।

आंखो की रोशनी को करे तेज:

टमाटर विटामिन-ए का अच्छा स्त्रोत है, जो आंखों की रोशनी के लिए बहुत जरूरी है। अगर हमारे शरीर में विटामिन-ए की कमी होगी, तो आंखों की रोशनी कम होने लगती है। इसके अलावा, रात में दिखाई नहीं देने वाली परेशानी भी ठीक हो सकती है। ये आंखों की ऊपरी परत कर्निया को भी सुरक्षा प्रदान करता है।

कब्ज की परेशानी से राहत:

ऐसे फूड, जिनमें अच्छी मात्रा में पानी और फाइबर होता है, वो शरीर को हाइड्रेट रखने के साथ कब्ज से राहत दिलाता है। इसमें लैक्सेटिन नामक तत्व होता है, जो पाचन क्रिया को फिट बनाने के साथ डाइजेस्टिव सिस्टम में सुधार कर कई बीमारियों से दूर रखता है।

स्किन के लिए वरदान:

टमाटर में कोलेजन पाया जाता है, जो हड्डियों, त्वचा, मांसपेशियों, नाखूनों और बालों के लिए जरूरी होता है। अगर शरीर में कोलेजन लेवल कम होता है, तो स्किन पर रिंकल्स आना, हड्डियों का कमजोर होना और जॉइंट्स पेन जैसी समस्याएं हो सकती हैं। आप टमाटर का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार का फेस पैक बनाने के लिए भी कर सकते हैं, जैसे कि टमाटर के रस को मुल्टानी मिट्टी के साथ मिलाकर के भी लगा सकते हैं। ये त्वचा की टाइटनिंग और स्किन ग्लो दोनो का काम करता है। इसके अलावा टमाटर के रस में नींबू का रस भी मिलाकर लगा सकती हैं। ये त्वचा के दाग-धब्बों को दूर करता है। टमाटर का इस्तेमाल होम मेड स्क्रब बनाने में भी किया जाता है।

दांतों और हड्डियों के लिए लाभकारी है टमाटर:

नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार हड्डियों और दांतों की मजबूती के लिए विटामिन-के बेहद जरूरी है और टमाटर में विटामिन-के की मात्रा ज्यादा होती है। इसलिए टमाटर के सेवन से दांतों और हड्डियों को स्ट्रॉन्ग बनाने में मदद मिलती है।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से बचाएं:

टमाटर में डाइयूरेटिक गुण होते हैं, जो यूरीन पास होने में मदद करते हैं। इससे शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ जैसे नमक, यूरिक एसिड और अत्यधिक पानी बाहर निकल जाता है। इसके साथ ही, यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन और ब्लैडर कैंसर होने की संभावना भी कम होती है।

वेट लॉस के लिए फायदेमंद है टमाटर:

डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेस, स्टेट गवर्मेंट ऑफ विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिआ ( Department of Health & Human Services, State Government of Victoria, Australia) के रिसर्च अनुसार वजन कम करने के लिए टमाटर का सेवन लाभकारी माना जाता है। टमाटर में मौजूद फाइबर आंतों को स्वस्थ्य रखने के साथ-साथ शरीर को ऊर्जा भी प्रदान करने में सहायक है। अगर आप वेट लॉस टिप्स अपनाना चाहते हैं, तो टमाटर का सेवन करें, लेकिन संतुलित मात्रा में।

ब्लड शुगर लेवल रहता है कंट्रोल:

नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार टमाटर के जूस में लाइकोपीन, β-कैरोटीन, पोटैशियम, विटामिन-सी, फ्लेवोनोइड, फोलेट और विटामिन-ई की मौजूदगी टाइप-2 डायबिटीज के पेशेंट्स के लिए बेहद लाभकारी माना जाता है। नियमित और संतुलित मात्रा में सेवन से ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल रखने में मदद मिल सकती है।

ब्लड प्रेशर रहता है नियंत्रित:

रिसर्च के अनुसार टमाटर में औषधीय गुण मौजूद होता है, क्योंकि इसमें लाइकोपीन, बीटा कैरोटीन और विटामिन-ई के साथ-साथ इसमें एंटीऑक्सिडेंट्स मौजूद होता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व ही ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में सहायक होते हैं।

बढ़ती है रोग प्रतिरोधक क्षमता:

अगर बॉडी की इम्यून पावर स्ट्रॉन्ग हो यानि रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी हो, तो किसी भी बीमारी से लड़ना आसान हो जाती है। अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए टमाटर का सेवन करें, क्योंकि टमाटर में एंटीऑक्सिडेंट्स, लाइकोपीन और बीटा-कैरोटीन की मौजूदगी इम्यून पावर को स्ट्रॉन्ग करने में सहायक होता है।

मांसपेशियों के निर्माण में सहायक है टमाटर:

मांसपेशियों के निर्माण में एक्सरसाइज की अहम भूमिका होती है, ठीक वैसे ही डायट में टमाटर को भी शामिल अवश्य करना चाहिए। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) के अनुसार टमाटर में मौजूद पोटैशियम और सोडियम मांसपेशियों के निर्माण में सहायक होता है। इसलिए अपनी डायट में टमाटर को जरूर शामिल करें।

एंटी एजिंग:

त्वचा पर निखार लाना चाहते हैं, तो टमाटर का सेवन जरूर करें, क्योंकि टमाटर में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट स्किन के लिए लाभकारी होता है। अगर स्किन से जुड़ी कोई समस्या है, तो उसका निदान भी टमाटर में छुपा है। स्किन से जुड़ी परेशानी को दूर करने के लिए टमाटर का फेस पैक बनायें। फेस पैक बनाने के लिए टमाटर को मैश करें और उसमें शहद मिलाएं। अब इस पैक को चेहरे पर लगाएं और 10 मिनट तक चेहरे की मालिश करें। इससे त्वचा पर निखार आता है और चेहरे पर पड़ने वाली रेखाएं और झुर्रियां दूर हो सकती हैं। टमाटर और शहद फेस पैक का इस्तेमाल सप्ताह में दो बार किया जा सकता है। यही नहीं टमाटर सनबर्न की परेशानी को भी दूर करने में मददगार है।

टमाटर से बालों को बनायें स्ट्रॉन्ग:

अगर आपके बाल कमजोर हो चुके हैं और झड़ते हैं, तो झड़ते बालों की परेशानी को रोकने के लिए टमाटर का रस आपके लिए बेहद लाभकारी होगा। बालों में और अपने स्कैल्प पर टमाटर का रस लगाएं और 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दें और उसके बाद हेयर वॉश कर लें। ऐसा रेग्यूलर करने से बाल स्ट्रॉन्ग होने के साथ-साथ बाल शाइन भी करते हैं और डैंड्रफ की समस्याओं के साथ-साथ अन्य परेशानी भी दूर हो सकती है।

इन परेशानियों में भी है टमाटर (Tomato) मददगार:

और पढ़ें : पालक से शिमला मिर्च तक 8 हरी सब्जियों के फायदों के साथ जानें किन-किन बीमारियों से बचाती हैं ये

उपयोग

कितना सुरक्षित है टमाटर (Tomato) का उपयोग ?

  • टमाटर का सीमित मात्रा में सेवन करना सुरक्षित है। अत्यधिक मात्रा में इसकी पत्तियों का सेवन जहर का कारण बन सकता है। टमाटर एसिडिक होता है और इसका ज्यादा सेवन करने से एसिडिटी की परेशानी हो सकती है।
  • जिन लोगों को पथरी की शिकायत होती है, वो भी इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से बचें। इलमें कैल्शियम और ऑक्सलेट अच्छी मात्रा में होते हैं। शरीर में इनकी मात्रा बढ़ने लगती है तो ये पूरी तरह शरीर से नहीं निकल पाते। ये धीरे-धीरे शरीर में जमना शुरू हो जाते हैं जो किडनी स्टोन का कारण बनते हैं।
  • टमाटर में अच्छी मात्रा में पोटैशियम होता है। इसके अधिक सेवन से खून में पोटैशियम की मात्रा ज्यादा हो सकती है जो गुर्दे के कार्य को बाधित कर सकता है। इसलिए किडनी संबंधित परेशानियों से ग्रसित लोग इसका सेवन लिमिट में ही करें।
  • प्रेग्नेंट और ब्रेस्टफीड करवाने वाली महिलाएं इसका अत्यधिक सेवन करने से बचें।

और पढ़ें : Agave : रामबांस क्या है ? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

साइड इफेक्ट्स

टमाटर (Tomato) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

टमाटर के सेवन से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। जैसे:

  • पेट साफ न होना
  • एसिडीटी की तकलीफ होना
  • एलर्जी की समस्या
  • गले और मुंह में जलन होना
  • चक्कर आना
  • उल्टी होना
  • चेहरे, गले और मुंह पर सूजन आना
  • जोड़ों में दर्द होना

हर किसी को ये साइड इफेक्ट हो ऐसा जरूरी नहीं है, कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं, तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : Thyme: थाइम क्या है?

डोसेज

टमाटर (Tomato) का सेवन कितना करना चाहिए है?

दवा की तौर पर टमाटर की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लिमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए, सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

और पढ़ें : Broom Corn: ब्रूम कॉर्न क्या है ? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

  • रॉ टोमैटो
  • टोमैटो पाउडर
  • टोमैटो एक्सट्रेक्ट

अगर आप टमाटर (Tomato) के सेवन से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 19/01/2021 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड