आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

टीवी एडिक्शन से बचाव के लिए इन बातों का रखें ध्यान

    टीवी एडिक्शन से बचाव के लिए इन बातों का रखें ध्यान

    कोरोना काल से लोगों की लाइफ में काफी बदलाव आ चुका है। उस तनाव भरे समय से निकलने और अपने माइंड को डाइवर्ट करने के लिए लोगों ने कई शौक और आदतों को अपनाया जैसे कि मोबाइल पर लगे रहना, वेब सीरिज देखना, सोशल एक्टिव रहना, गेम्स खेलना और टीवी देखना आदि। जिसमें से कई आदतें लत यानि कि एडिक्शन का भी रूप ले चुकी हैं। इस आर्टिकल में हम बात करेंगे टीवी एडिक्शन (TV Addiction) की। यूनाइटेड स्टेट्स ब्यूरो ऑफ लेबर स्टैटिस्टिक्स के शोध के अनुसार, अमेरिकी औसतन अपने ख़ाली समय के आधे से थोड़ा अधिक टीवी देखने में बिताते हैं। टीवी देखना दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय चीजों में से एक है। कुछ लोग टीवी देखने के इतने ज्यादा आदि हो जाते हैं कि फिर उसके आगे उन्हें कुछ दिखता ही नहीं है। कई बार यह लत यानि कि टीवी ऐडिक्शन आपके हेल्थ पर भारी पड़ सकता है। हम यह नहीं कह रहे हैं कि टीवी देखना नुकसानदेह है, जबकि टीवी देखने की कुछ लाभकारी विशेषताएं हैं, जैसे सीखने और दूसरों के साथ संवाद करने के आपके अवसरों को बढ़ाना, कई नकारात्मक प्रभाव ओवरवॉचिंग से आ सकते हैं। जानिए यहां टीवी एडिक्शन के लक्षणों के बारे में:

    और पढ़ें: इंटरनेट एडिक्शन डिसऑर्डर (Internet addiction disorder) इस नए डिसऑर्डर के बारे में जानते हैं आप?

    टेलीविजन की लत (Television addiction) क्या है?

    टीवी एडिक्शन को कंपलसिव बिहेवियर के रूप में भी देखा जा सकता है। कई मामलों में टेलीविजन की लत को नियंत्रित करना बेहद मुश्किल है। जब से टीवी की लत लोगों में बढ़ी है। जब से टीवी में रियलिटी शो का चलन बढ़ा है, तब से लोगों में टीवी के प्रति क्रेज और बढ़ गया है। टीवी की लत पर हाल ही में किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि एडिक्शन उन लोगों में अधिक आम है, जो तलाकशुदा, विधवा या विवाहित नहीं हैं। हालांकि, इस अध्ययन से यह भी पता चलता है कि शादीशुदा वाले लोगों में भी यह समस्या हो सकती है, जैसे-जैसे आपकी शादी लंबी होती जाती है, आपमें टीवी की लत लगने की संभावना अधिक होती है। साथ ही, आपके घर में जितने अधिक लोग होंगे, टीवी की लत लगने की संभावना उतनी ही कम होगी।

    और पढ़ें: Netflix Addiction: क्या मिलेनियल्स अपने आने वाले 13 साल नेटफ्लिक्स देखने में बिता देंगे?

    टीवी एडिक्शन के लक्षण (Symptoms of TV Addiction)

    टीवी एडिक्शन को व्यवहार या किसी गतिविधि पर निर्भरता के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, टीवी का आदी होना, जो एक व्यवहारिक लत है, लेकिन इसमें अन्य प्रकार के एडिक्शन के समान प्रभाव देखने को मिल सकते हैं। एक अध्ययन में उन श्रेणियों का बताया गया है, जो टीवी एडिक्शन के सामान्य पहलू हैं: ‌

    • अधिक देखना
    • अत्यधिक देखना
    • देखने की लालसा होना

    अलग-अलग अध्ययनों ने प्रति दिन टीवी देखने में अलग-अलग समय बिताने के लिए तर्क दिया है। हालांकि, ये अध्ययन ज्यादातर अमेरिका में औसत व्यक्ति पर आधारित हैं। एक अध्ययन में, प्रतिदिन 2-3 घंटे टीवी देखना सामान्य माना गया है। एक अन्य अध्ययन में यह भी बताया गया है कि 4-प्लस घंटे टीवी देखने को अधिक देखने वाली श्रेणी में गिन सकते हैं। लेकिन वहीं दूसरे अध्ययन में एडिक्शन को घंटों पर आधारित नहीं किया है। इसे मनोवैज्ञानिक निर्भरता के रूप में देखा गया है।

    और पढ़ें: अवैध ड्रग्स के सेवन से हो सकती हैं कई प्रकार की दिल से जुड़ी खतरनाक बीमारियां, जान लीजिए

    इस बारे में फोर्टिस हॉस्पिटल के चीफ इंंटेंसेविस्ट, मुंबई के डॉक्टर संदीप पाटिल का कहना है कि एंग्जायटी डिसऑर्डर के आज के समय में अधिकतर लोग शिकार हो रहे हैं, जो उनकी हेल्थ के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है। उल्टा कई और गंभीर बीमारियों का कारण भी बन सकता है। स्ट्रेस से निकलने के लिए अच्छी लाइफस्टाइल का होना बहुत जरूरी है। मेडिटेशन को मेंटल हेल्थ के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। इसके अलावा डायट में कई ऐसे फूड को शामिल कर सकते हैं, जो आपकी अच्छी नींद में मदद करता है। इससे शरीर में कई ऐसे हॉर्मोन रिलीज होते हैं, जो अच्छी नींद में सहायक माने जाते हैं।

    और पढ़ें: वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे कर सकते मैनेज

    टीवी देखने के सकारात्मक प्रभाव (Positive effects of watching tv)

    अगर हम टीवी देखने के आदत के पॉजिटिव पहलू की बात करें, तो टीवी की लत के सकारात्मक प्रभावों के बारे में बहुत कम सबूत हैं। लेकिन कुछ मामलों में यह टीवी कॉलेज के छात्रों को पार्टी करने और मादक द्रव्यों के सेवन से दूर करने और धार्मिक विश्वासों को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। टीवी को बंधन के क्षणों को प्रोत्साहित करने के लिए भी पाया गया है, जैसे कि परिवार या दोस्तों के समूह एक शो देखने के लिए एक साथ मिल रहे हैं। टीवी देखना भी लोगों के लिए एज्यूकेशन इंफॉरमेशन के रूप में कार्य कर सकता है, जिसमें स्वास्थ्य और सामाजिक संबंधों के विषय भी शामिल हैं। ‌ चूंकि एक सिक्के के दो पहलू होते हैं, टीवी देखना कोई अपवाद नहीं है। इसलिए, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि टीवी देखना आपके लाभ के लिए काम करता है या आपके लिए हानिकारक है।

    और पढ़ें: परीक्षा का डर नहीं सताएगा, फॉलो करें एग्जाम एंजायटी दूर करने के ये टिप्स

    टीवी देखने के नकारात्मक प्रभाव (Negative effects of watching tv)

    अंतत: टीवी का आदी होना एक वास्तविक मुद्दा साबित होता है। बहुत सारे टीवी देखने के साथ पाए गए कुछ मुद्दों में महिलाओं के बीच एक नकारात्मक शरीर दृष्टिकोण, नींद की समस्या, ध्यान डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) में संभावित योगदान और खराब लाइफस्टाइल भी शामिल है। क्या अधिक है, बच्चों (8-16 वर्ष के बीच) में दो घंटे से कम समय देखने वाले अपने साथियों की तुलना में प्रति दिन 4-प्लस घंटे टीवी देखने पर बॉडी मास इंडेक्स और शरीर में फैट प्रॉब्लम अधिक पायी जाती है। अगर आपको लगता है कि आप टीवी की लत से जूझ रहे हैं, तो अपने टीवी देखने की आदतों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें, और वे आपके साथ काम करके यह पता लगाएंगे कि आपकी सबसे अच्छी मदद कैसे की जाए।

    और पढ़ें: कहीं आप भी रिलेशनशिप एडिक्शन के शिकार तो नहीं? अगर हां, तो अपनाएं ये टिप्स

    टीवी की लत का इलाज (TV addiction treatment)

    तो, बहुत अधिक टीवी और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के उपयोग के खतरे को दूर करने के लिए हम क्या कर सकते हैं? टीवी या स्क्रीन का अत्यधिक उपयोग तकनीकी रूप से एक लत है या नहीं, हम इसके प्रभाव को कम करने के लिए कदम उठा सकते हैं। कई माता-पिता ने अपने बच्चों के स्क्रीन समय की निगरानी और टाइम मैनेजमेंट कर सकते हैं। यदि किसी व्यस्क में टीवी एडिक्शन है, तो उसे इस लत से निकलने के लिए खुद ही महनत करनी पड़ेगी। आप अपने ऑफिस के काम और घर के कामों में अधिक समय व्यतीत करें। टीवी को सिर्फ मनोरंजन के तौर पर देखें। टीवी की कमी महसूस होने पर परिवार या दोस्तों के साथ बात करें।

    • टीवी देखने का समय सीमित करें
    • परिवार के सदस्यों के साथ समय बिताएं
    • हॉबी क्लास में दाखिला लें
    • घर से बाहर निकले
    • हेल्दी डायट फॉलो करें
    • नियमित रूप से व्यायाम
    • नए दोस्त बनाएं
    • अपने भविष्य के बारे में सोचें ‌
    • कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरिपी
    • रैशनल इमोटिव बिहेवियरल थेरिपी

    और पढ़ें: घर में अगर कोई है एडिक्शन का शिकार, तो रखें इन बातों का विशेष ख्याल

    टीवी की लत आपके मस्तिष्क को भी काफी हद तक नुकसान पहुंचा सकती है। इसलिए इसका समय रहने सामाधान बहुत जरूरी है। यह एडिक्शन एक व्यक्ति के विकास को बाधित कर सकता है और विभिन्न अन्य मुद्दों का कारण बनता है। सुखी और संपन्न जीवन जीने के लिए समस्या का तुरंत समाधान किया जाना चाहिए। टीवी एडिक्शन के इलाज के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Measuring television addiction
    10.1207/s15506878jobem4803_3

     How much should the average adult exercise every day?
    mayoclinic.org/healthy-lifestyle/fitness/expert-answers/exercise/faq-20057916

    Implication for enhancing media literacy for healthy use of technology

    10.4103/ijsp.ijsp_26_17

    Hidden addiction: Television.
    ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4114517/

     American time use survey summary
    bls.gov/news.release/atus.nr0.htm

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: