home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

अवैध ड्रग्स के सेवन से हो सकती हैं कई प्रकार की दिल से जुड़ी खतरनाक बीमारियां, जान लीजिए

अवैध ड्रग्स के सेवन से हो सकती हैं कई प्रकार की दिल से जुड़ी खतरनाक बीमारियां, जान लीजिए

अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज (Illegal Drugs and Heart Disease) का गहरा कनेक्शन है। जिसमें अवैध ड्रग्स के यूज से हार्ट रेट का असामान्य होने से लेकर हार्ट अटैक तक शामिल है। इललीगल ड्रग्स को इंजेक्ट करना भी कार्डियोवैस्कुलर प्रॉब्लम्स का कारण बनता है। जिसमें वेन्स का डैमेज होना, हार्ट वाल्व्स और ब्लड वेसल्स में बैक्टीरियल इंफेक्शन होना शामिल है। इस आर्टिकल अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज (Illegal Drugs and Heart Disease) के कनेक्शन के साथ ही ये ड्रग्स और कौन सी स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनते हैं उनके बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

कई ड्रग्स जैसे कि कोकीन, हेरोइन और एम्फेटेमीन (Amphetamine) के कई प्रकार नर्वस सिस्टम को प्रभावित करते हैं और व्यक्ति की चेतना (Consciousness) को बदल सकते हैं। एडिक्शन और अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज (Illegal Drugs and Heart Disease) के संबंध के के अलावा इन दवाओं के दूसरे साइड इफेक्ट्स भी हैं। जिनमें निम्न शामिल हैं।

  • शरीर के तापमान, हृदय गति और रक्तचाप में परिवर्तन
  • सिर दर्द, पेट दर्द और जी मिचलाना
  • बिगड़ा हुआ निर्णय और कुछ यौन संचारित संक्रमणों (Sexually transmitted infections) का अधिक जोखिम
  • अतिरिक्त पदार्थों के साथ मिलकर टॉक्सिक रिएक्शन (Toxic reaction)
  • दिल का दौरा, दौरे, और रेस्पिरेटरी अरेस्ट (Respiratory arrest)

अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज (Illegal Drugs and Heart Disease)

कोकीन के पाउडर फॉर्म को नाक के जरिए सूंघ लिया जाता है या नेजल टिशूज के जरिए अवशोषित किया जाता है या पानी में घोलकर ब्लडस्ट्रीम में इंजेक्ट किया जाता है। क्रैक कोकीन का एक रूप से जिसे रॉक क्रिस्टल बनाने के लिए प्रोसेस्ड किया गया है जिसे स्मोकि किया जा सकता है। अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज (Illegal Drugs and Heart Disease) का संबंध इस बात से समझा जा सकता है कि कोकीन का यूज करने वाले लोगों को ब्लड प्रेशर हाय होता है, उनकी आर्टरीज और हार्ट मसल्स कड़ी और मोट हो जाती हैं जो हार्ट अटैक का कारण बनती हैं। एक ऑस्ट्रेलियन स्टडी के अनुसार कोकीन का सेवन हार्ट अटैक का रिस्क बढ़ जाता है। इस स्टडी के शोधकर्ताओं ने कोकीन को परफेक्ट हार्ट अटैक ड्रग कहा है। अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज का संबंध इससे स्पष्ट हो जाता है। कोकीन के सेवन से निम्न प्रकार हार्ट अटैक और स्ट्रेाक का खतरा बढ़ जाता है।

और पढ़ें: वर्ल्ड हार्ट डे: हेल्दी हार्ट के लिए फॉलो करें ऐसा लाइफस्टाइल, कम होगा हार्ट डिजीज का खतरा

अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज के बारे में जान लें ये भी (Know this also about illegal drugs)

बीटा-ब्लॉकर्स सामान्य दवाएं हैं जिनका उपयोग दिल के दौरे जैसे दिल की समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है। कोकीन का उपयोग इन दवाओं को ठीक से काम करने से रोक सकता है। कोई व्यक्ति जो हृदय रोग से पीड़ित होने के बाद भी कोकीन का सेवन जारी रखता है, उसके आगे जटिलता या मृत्यु की संभावना तेजी से बढ़ सकती है। संयुक्त राष्ट्र विश्व ड्रग रिपोर्ट ने अनुमान लगाया कि 2013 में संयुक्त राज्य अमेरिका में कोकीन के उपयोग की व्यापकता 12 वर्ष और उससे अधिक उम्र की आबादी का 1.6 प्रतिशत थी, और यह पिछले कुछ वर्षों में स्थिर रही थी। यूएस के हॉस्पिटल इमरजेंसी डिपार्टमेंट में कोकीन का उपयोग चेस्ट पेन और मायोकार्डियल इंफ्रैक्शन (Myocardial infarction) में किया जाता है।

और पढ़ें: हार्ट पेशेंट्स के लिए योग है बेहतर उपाय लेकिन ये योग कहीं पैदा न कर दें खतरा!

अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज

अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज : हो सकती हैं इतनी सारी बीमारियां

हार्ट डिजीज का बड़ा टर्म है। जिसमें कई स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में बात की जाती है जो हार्ट में होती हैं। जिनमें कार्डियोवैस्कुलर परेशानियां भी शामिल हैं। अवैध ड्रग्स का सेवन कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम से परे हार्ट को प्रभावित कर सकता है। अवैध ड्रग्स के सेवन से निम्न हार्ट डिजीज हो सकती हैं।

इनमें से कई कॉम्प्लिकेशन आपस में कनेक्टेड हैं। उदाहरण के लिए कंजेस्टिव हार्ट फेलियर कोरोनरी आर्टरी डिजीज की कार्डियोवैस्कुलर कंडिशन के परिणामस्वरूप हो सकती हैं, जो कि एथेरोस्क्लेरोसिस की एडवांस कंडिशन हैं जिसमें ब्लड वेसल्स ब्लॉक हो जाती हैं।

हार्ट डिजीज (Heart disease) का खतरा बढ़ाती हैं ये ड्रग्स भी

एम्फैटेमिन्स (Amphetamines)

एम्फैटेमिन उत्तेजक दवाएं हैं जिनका उपयोग अटेंशन डेफिसिएट हायपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी), नार्कोलेप्सी या मोटापे के इलाज के लिए किया जा सकता है। जबकि इन दवाओं के कई संस्करण कानूनी रूप से निर्धारित हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि इनके बुरे दीर्घकालिक परिणाम नहीं होते हैं। उत्तेजक पदार्थ हृदय गति और रक्तचाप को बढ़ाते हैं, जिससे हृदय स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, खासकर समय के साथ। सूजन हो सकती है, जो रक्त वाहिकाओं और हृदय की मांसपेशियों को नुकसान पहुंचा सकती है।

मेथेम्फेटामाइन (Methamphetamine)

मेथेम्फेटामाइन हृदय के लिए विशेष रूप से हानिकारक हो सकता है। कोकीन की तरह, मेथामफेटामाइन एरिदमिया का कारण बन सकता है। यह कंजेस्टिव हार्ट फेलियर का कारण भी बन सकता है, जिसमें हृदय या तो रक्त से भरने के लिए बहुत कठोर होता है या इसे ठीक से पंप करने के लिए बहुत कमजोर होता है। इससे पूरे शरीर के लिए आवश्यक रक्त प्राप्त करना मुश्किल हो जाता है और व्यक्ति को थकावट महसूस हो सकती है, साथ ही हृदय संबंधी अन्य समस्याओं का खतरा भी बढ़ सकता है।

और पढ़ें: Arteriosclerosis: बचना है हार्ट की इस बीमारी से, तो आज से अपनाएं हेल्दी लाइफस्टाइल!

एक्सटसी (Ecstasy)

3,4-मेथिलेंडायऑक्साइमेथामफेटामाइन (एमडीएमए) को आमतौर पर टैबलेट के रूप में “एक्स्टसी” और पाउडर या कैप्सूल के रूप में “मौली” कहा जाता है। यह दिल के लिए बेहद खतरनाक हो सकता है, संभावित रूप से सूजन, धड़कन, हृदय गति में वृद्धि और रक्तचाप में तेजी से बदलाव का कारण बन सकता है। इसे दिल की क्षति, गंभीर दिल के दौरे और स्ट्रोक से जोड़ा गया है।

जबकि मौली को एमडीएमए का एक शुद्ध रूप माना जाता है, यह अक्सर कोकीन, केटामाइन, ओवर-द-काउंटर कोल्ड मेडिसिन या “बाथ सॉल्ट्स” (सिंथेटिक कैथिनोन) जैसे अन्य पदार्थों के साथ पाया जाता है।

और पढ़ें: सनफ्लावर ऑयल और ग्राउंडनट ऑयल में से कौन सा तेल है हार्ट के लिए हेल्दी?

अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज से बचना कैसे संभव है? (How is it possible to avoid illegal drugs and heart disease?)

मादक द्रव्यों के सेवन से शरीर के भीतर कई समस्याएं हो सकती हैं, जिसमें लो इम्यूनिटी से लेकर हार्ट डिजीज तक शामिल हैं। हृदय रोग से ग्रस्त व्यक्ति जो नशीली दवाओं या शराब का सेवन करता है, उसे और भी अधिक स्वास्थ्य समस्याओं का अनुभव हो सकता है। इस ड्रिस्ट्रक्टिव साइकल को जारी रखने की आवश्यकता नहीं है।

मादक द्रव्यों के सेवन और व्यसन के लिए उपचार की आवश्यकता व्यक्तिगत हो सकती है। जब व्यसन उपचार की बात आती है तो हर किसी की अलग-अलग जरूरतें होती हैं, और ड्रग रिहेब प्रोग्राम यह सुनिश्चित व्यक्ति को उसकी जरूरत के हिसाब से ट्रीटमेंट मिले। हृदय रोग के उच्च जोखिम वाले व्यक्ति को फिटनेस, न्यूट्रिशन को भी बढ़ावा दिया जाता है ताकि एक स्वस्थ जीवन शैली को अपना सके और स्वस्थ रह सके।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि ड्रग रिहेब प्रोग्राम किसी को नशीली दवा या शराब के दुरुपयोग से मुक्त होने में मदद कर सकता है। चाहे नशे की वजह से उसकी हालत खराब हो गई हो या फिर उसने एडिक्शन के नए डेवलप होने वाले लक्षणों को पहचान लिया हो। यह दोनों स्थितियों में मददगार है।

उम्मीद करते हैं कि आपको अवैध ड्रग्स और हार्ट डिजीज (Illegal Drugs and Heart Disease) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 04/12/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड