home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स भी हैं, कर सकते हैं आप इनको ट्राय

एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स भी हैं, कर सकते हैं आप इनको ट्राय

एरिदमिया (Heart Arrhythmias) में असामान्य या अनियमित हार्टबीट की परेशानी होती है। अगर हार्ट बीट बहुत कम है तो उसे ब्रैडीकार्डिया (Bradycardia) और बहुत फास्ट होती है तो उसे टैकीकार्डिया (Tachycardia) कहा जाता है। ज्यादातर हार्ट एरिदमियाज को इलाज की जरूरत नहीं होती है, लेकिन कुछ एरिदमिया गंभीर हो सकते हैं और जीवन को हानि पहुंचा सकते हैं। अगर आपको एरिदमिया है तो एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative treatments for arrhythmia) को भी अपनाया जा सकता है। यहां कुछ ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स के बारे में जानकारी दी जा रही है, लेकिन इनको अपनाने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative Treatments for Arrhythmia)

अक्सर लोग दवाओं के उपयोग से बचना चाहते हैं और दवाओं के ऑल्टरनेटिव्स के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। जिनसे बीमारी को मैनेज किया जा सके। एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative treatments for arrhythmia) में ऐसे ऑप्शन शामिल हैं जिनको अपनाना आसन है। चलिए उनके बारे में जान लेते हैं।

और पढ़ें: Heart Valve Stenosis: हार्ट वॉल्व स्टेनोसिस के कारण किन समस्याओं का करना पड़ता है सामना?

एक्यूपंक्चर (Acupuncture)

एनसीबीआई में छपी स्टडी के अनुसार स्टडी में शामिल 87-100% पार्टिसिपेंट्स में एक्यूपंक्चर का उपयोग करने के बाद नॉर्मल हार्ट रिदम फंक्शन को नोटिस किया गया। हालांकि, रिसर्च में यह भी कहा गया है कि इसके लिए और अधिक रिसर्च, क्लिनिकल ट्रायल्स और एनालिसिस करने की जरूरत है। अगर आप एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स के बारे में सोच रहे हैं तो एक्यूपंक्चर को अपना सकते हैं, लेकिन इसके लिए किसी एक्यूपंक्चर प्रशिक्षित का ही सहारा लें और इसके बारे में पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

ओमेगा-3 फैटी एसिड्स (Omega-3 fatty acids)

अमेरिका हार्ट एसोसिएशन (AHA) के अनुसार फैटी फिश और ओमेगा-3 से युक्त दूसरे फूड्स का सेवन हार्ट डिजीज के रिस्क को कम करने के साथ ही एरिदमिया के रिस्क को भी कम कर सकता है। इसके लिए आप सामन (Salmon), टूना (Tuna) जैसी मछलियों को डायट में शामिल कर सकते हैं। एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative treatments for arrhythmia) के तौर पर यह ऑप्शन अपनाना भी बेहद आसान है। इसके बारे में आप डायटीशियन से भी सलाह ले सकते हैं।

विटामिन सी (Vitamin C)

एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative treatments for arrhythmia) के रूप में विटामिन सी का उपयोग बेहद आसान है। दरअसल एरिदमियाज और दूसरी हार्ट कंडिशन्स ऑक्सिडेंट स्ट्रेस (Oxidant stress) और इंफ्लामेशन (Inflammation) से जुड़ी हैं। एंटीऑक्सिडेंट्स जैसे कि विटामिन सी और ई इनको कम करने में मदद करते हैं। विटामिन सी का उपयोग आप कोल्ड, फ्लू के इलाज में कर सकते हैं। साथ ही यह एरिदमिया के इलाज में भी मददगार हो सकता है।

एनसीबीआई में छपी स्टडी के अनुसार एरिदमिया (Arrhythmia) केवल उन 4.5 प्रतिशत लोगों में हुआ, जिन्होंने लगातार एट्रियल फिब्रिलेशन (Atrial fibrillation) के लिए कार्डियोवर्जन (Cardioversion) के बाद विटामिन सी प्राप्त किया। यह उन 36.3 प्रतिशत लोगों में हुआ, जिन्हें विटामिन सी (Vitamin C) नहीं मिला था। विटामिन सी को अपने रूटी ROUTINE का हिस्सा कैसे बनाया जा सकता है इसके बारे में डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ें: सिस्टोलिक हार्ट फेलियर : लाइफस्टाइल में हेल्दी बदलाव से सुधर सकती है दिल की यह कंडिशन!

मैग्नीशियम और पोटेशियम (Magnesium and potassium)

मैग्नीशियम और पोटेशियम हार्ट को स्टेबल रखने में मदद करते हैं। अगर बॉडी में पर्याप्त मात्रा में मैग्नीशियम नहीं है तो यह असामान्य हार्ट बीट (Irregular heartbeat), मसल वीकनेस (Muscle weakness) का कारण बन सकता है। वहीं मैग्नीशियम की अधिक मात्रा निम्न परेशानियों की वजह बन सकती है।

अधिकांश डायट्स में पोटेशियम कम होता है। उम्र बढ़ने के साथ ही कुछ दवाएं जैसे कि वॉटर पिल्स मैग्नीशियम और पोटेशियम को कम कर सकती हैं। लो पोटेशियम एरिदमिया और मसल वीकनेस का कारण बनता है। एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative treatments for arrhythmia) के रूप में इस ऑप्शन को भी अपना सकते हैं, लेकिन डायट में मैग्नीशियम और पोटेशियम को कैसे एड करना चाहिए इस बारे में पहले डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ें: Heart Valve Stenosis: हार्ट वॉल्व स्टेनोसिस के कारण किन समस्याओं का करना पड़ता है सामना?

नागफनी (Hawthorn)

कई लोग एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative treatments for arrhythmia) के रूप इस हर्ब का यूज करते हैं। इस हर्ब का उपयोग कई दशकों से कई हेल्थ कंडिशन के इलाज में किया जा रहा है जिसमें हार्ट से जुड़ी स्थितियां भी शामिल हैं। आज भी कंजेस्टिव हार्ट फेलियर (Congestive heart failure) असामान्य हार्ट बीट (Irregular heartbeat) के इलाज में इसका उपयोग होता है, लेकिन इस विषय पर और अधिक स्टडीज की आवश्यकता है। इस हर्ब का उपयोग करने से पहले आयुर्वेदिक एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। हर्बल सप्लिमेंट्स हमेशा सभी के लिए सुरक्षित नहीं होते।

एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स

एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स ऑप्शन का उपयोग करते वक्त ध्यान रखें ये बातें (Keep these things in mind when using alternative treatment options for arrhythmias)

यहां बताए गए एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative treatments for arrhythmia) ऑप्शन्स में से किसी का भी उपयोग करने से डॉक्टर से सलाह लें। कुछ हर्बल सप्लिमेंट्स साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकते हैं या उन दवाओं के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं जिनको आप ले रहे हैं। इन सप्लिमेंट्स का सही डोज मददगार हो सकता है, लेकिन गलत डोज बेहद नुकसानदायक भी हो सकता है।

  • उहारण के लिए फिश ऑयल का उपयोग अगर वार्फरिन के साथ किया जाए तो यह ब्लीडिंग का कारण बन सकता है।
  • there is no significant effect on warfarin TTR and bleeding caused by fish and krill oil – SO CUT FIRST POINT
  • अगर आपको किडनी फैलियर या इससे जुड़ी कोई समस्या है तो मैग्नीशियम सप्लिमेंट्स का उपयोग नहीं करना चाहिए। THIS IS WRONG
  • पोटेशियम रैशेज, उल्टी, डायरिया, मतली आदि का कारण बन सकता है। अगर आपको हायपरकैल्मिया (Hyperkalemia) की समस्या है तो पोटेशियम नहीं लेना चाहिए।
  • विटामिन बेहद नुकसानदायक हो सकता है अगर सिकल सेल एनीमिया (Sickle cell anemia), थेलेसीमिया (Thalassemia), साइडरोब्लास्टिक एनीमिया (Sideroblastic anemia) की समस्या हो। NOT TRUE
  • किडनी स्टोन होने पर भी विटामिन सी नहीं लिया जाना चाहिए।

यदि आप इसे वार्फरिन के साथ लेते हैं तो विटामिन ई ब्लीडिंग का कारण बन सकता हैWRONG यह आपके लिए समस्याएं पैदा कर सकता है अगर आपके साथ निम्न समस्याएं हों।

  • विटामिन के की कमी (Vitamin K deficiency)
  • लिवर फेलियर की हिस्ट्री (History of liver failure)
  • ब्लीडिंग डिसऑर्डर (Bleeding disorder) जैसे हीमोफिलिया (Hemophilia)
  • पेप्टिक अल्सर (Peptic ulcer)
  • हेमोरेजिक स्ट्रोक (Hemorrhagic stroke)

इसलिए एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative treatments for arrhythmia) को अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह मशविरा जरूर करें।

और पढ़ें: हार्ट डिजीज में बैलून थेरिपी किस तरह होती है मददगार?

हार्ट एरिदमिया को मैनेज करने के कुछ टिप्स (Some Tips to Manage Heart Arrhythmia)

एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स के अलावा कुछ टिप्स की मदद से भी इसको मैनेज करने में सहायता मिलती है। जो निम्न हैं।

  • हार्ट एरिदमिया होने पर एनर्जी ड्रिंक्स का उपयोग सोच समझकर करें। क्योंकि इसमें कैफीन की अधिक मात्रा का उपयोग किया जाता है। ये ड्रिंक्स ब्लड प्रेशर को बढ़ाने का कारण बनती हैं जिनकी वजह से एरिदमिया हो सकता है।
  • हार्ट एरिदमिया का सामना कर रहे लोगों को कैफीन का सेवन बहुत सोच समझकर करना चाहिए। कई लोगों में कॉफी के सेवन से हार्ट इरिदमिया की समस्या देखी गई है।
  • डॉक्टर एरिदमिया की समस्या होने पर एल्कोहॉल का सेवन ना करने की सलाह देते हैं क्योंकि यह हार्ट को कमजोर बनाने का काम करती है।
  • हार्ट एरिदमिया को मैनेज करने के लिए सबसे जरूरी है कि आप वजन कम करें। मोटापा हार्ट से रिलेटेड बीमारियों का रिस्क बढ़ा देता है। जिसमें एरिदमिया भी शामिल है।एरिदमिया के मरीज को दिन में 7 से 9 घंटे की नींद लेनी चाहिए। इससे थकान भी नहीं होती जो कभी-कभी इरिदमिया को ट्रिगर करती है।
  • एरिदमिया को मैनेज करने में एक्सरसाइजेस भी मदद कर सकती हैं जिनमें एरोबिक, स्ट्रेचिंग, फ्लेग्जिबिलिटी बैलेंस, और स्ट्रेंथ एक्सरसाइज का सहारा लिया जा सकता है। इस बारे में एक बार फिटनेस एक्सपर्ट या डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

उम्मीद करते हैं कि एरिदमिया के लिए ऑल्टरनेटिव्स ट्रीटमेंट्स (Alternative treatments for arrhythmia) क्या हैं इससे संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

The effects of acupuncture on cardiac arrhythmias: a literature review/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/18992625/ Accessed on 26th October 2021

Oral vitamin C administration reduces early recurrence rates after electrical cardioversion of persistent atrial fibrillation and attenuates associated inflammation/
https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15982504/Accessed on 26th October 2021

Fish and omega-3 fatty acids/heart.org/HEARTORG/HealthyLiving/HealthyEating/HealthyDietGoals/Fish-and-Omega-3-Fatty-Acids_UCM_303248_Article.jsp#.VyGCVDArLIU/Accessed on 26th October 2021

Heart arrhythmia: Symptoms and causes/mayoclinic.org/diseases-conditions/heart-arrhythmia/symptoms-causes/dxc-20188128/Accessed on 26th October 2021

3 Kinds of Exercise That Boost Heart Health/https://www.hopkinsmedicine.org/health/wellness-and-prevention/3-kinds-of-exercise-that-boost-heart-health/Accessed on 26th October 2021

लेखक की तस्वीर badge
Sayali Chaudhari द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/10/2021 को