home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Anti-arrhythmics: हार्ट एरिथमिया की हो जाए समस्या, तो इन दवाओं का किया जाता है इस्तेमाल

Anti-arrhythmics: हार्ट एरिथमिया की हो जाए समस्या, तो इन दवाओं का किया जाता है इस्तेमाल

हार्ट एरिथमिया (Heart arrhythmias) उस कंडीशन को कहते हैं जब हार्ट बीट इरेगुलर हो जाती है। इस कंडीशन को हार्ट रिदम डिसऑर्डर भी कहते हैं। हार्ट का काम आसान नहीं होता है। ये पूरे शरीर में ब्लड की पंपिंग का काम करता है। अगर किसी कारण से हार्ट में किसी प्रकार की समस्या हो जाती है, तो पूरे शरीर की कार्यप्रणाली प्रभावित होती है। हार्ट एरिथमिया की कंडीशन में या तो हार्ट बीट तेज हो जाती है या फिर धीमी हो जाती है। जब धड़कने अनियमित हो जाती हैं, तो व्यक्ति को ट्रीटमेंट की जरूरत पड़ती है। कुछ लोगों में हार्ट एरिथमिया गंभीर रूप नहीं लेता है लेकिन कुछ लोगों में इस समस्या के कारण सीरियस प्रॉब्लम हो सकती है। ऐसी स्थिति में विभिन्न प्रकार की मेडिकेशन की सहायता से हार्ट एरिथमिया को कंट्रोल किया जा सकता है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स (Anti-arrhythmics in heart problem) दवाओं के बारे में जानकारी देंगे।

और पढ़ें: Heart rhythm disorder (Arrhythmia): हार्ट रिदम डिसऑर्डर क्या है?

हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स (Anti-arrhythmics in heart problem)

Anti-arrhythmics in heart problem

हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स (Anti-arrhythmics in heart problem) ड्रग लेने की सलाह तब दी जाती है, जब फास्ट हार्ट रेट की समस्या हो या फिर प्रिमैच्योर या एक्स्ट्रा हार्टबीट हो। हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स का सेवन करने से हार्ट बीट को नियंत्रित किया जा सकता है। ज्यादातर एरिथमिक ड्रग पिल्स के रूप में आते हैं और लंबे समय तक इस्तेमाल किए जा सकते हैं। अगर इमरजेंसी की समस्या हो, तो इंट्राविनस माध्यम से भी दवाओं को दिया जा सकता है। जानिए हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स (Anti-arrhythmics in heart problem) के बारे में।

और पढ़ें: हार्ट एरिदमिया को मैनेज कर सकते हैं इन एक्सरसाइजेज से, लेकिन रखना होगा कुछ बातों का ध्यान

डॉक्टर हार्ट प्रॉब्लम में इन एंटी-एरिथमिक्स (Anti-arrhythmics in heart problem) दवाओं को लेने की दे सकते हैं सलाह

अगर आपको हार्ट से संबंधित समस्या है, तो डॉक्टर जांच के बाद आपको कुछ दवाएं खाने की सलाह देते हैं। हार्ट से संबंधित दवाओं का सेवन बिना डॉक्टर से सलाह किए नहीं करना चाहिए। अगर आपको पहले से किसी प्रकार की हेल्थ कंडीशन है, तो इस बारे में डॉक्टर को जानकारी जरूर दें। जानिए हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स (Anti-arrhythmics in heart problem) के कुछ ब्रांड के बारे में।

अमियोडर 200 टैबलेट (Amiodar 200 Tablet)

हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स (Anti-arrhythmics in heart problem) के रूप में अमियोडर टैबलेट दी जा सकती है। अमियोडर 200 टैबलेट खाने की सलाह डॉक्टर तब देते हैं, जब पेशेंट को अनियमित हार्ट बीट (Irregular heart beat) की समस्या हो। ये फाइब्रिलेशन (fibrillation) और टैचीकार्डिया (Tachycardia) से जुड़ा हो सकता है। दवा का सेवन करने से धीरे-धीरे हार्ट बीट नियमित हो जाती है और पेशेंट को आराम का अनुभव होता है। इस दवा का सेवन खाने के पहले या फिर बाद में करना है, आपको इस बारे में डॉक्टर से जानकारी लेनी चाहिए। आपको दवा का सेवन तब तक करना चाहिए, जब तक डॉक्टर ने इसकी सलाह दी हो। बीच में दवाओं के सेवन को रोंके नहीं। दवा का लंबे समय तक सेवन कुछ डैमेज का कारण भी बन सकता है। अगर आपको लो ब्लड प्रेशर (Low blood pressure) की समस्या हो, तो डॉक्टर को इस बारे में जानकारी जरूर दें। इस दवा में एक्टिव इंग्रीडिएंट के रूप में अमियोडेरोन (Amiodarone) होता है। इरेगुलर हार्ट बीट में मेडिसिन के रूप में डॉक्टर इस दवा को खाने की सलाह दे सकते हैं। इसकी एक स्ट्रिप की कीमत 98 रु है।

और पढ़ें: इलेक्ट्रोफिजियोलॉजिकल टेस्टिंग : यह टेस्ट कैसे काम आता है दिल से जुड़ी समस्याओं के निदान में!

हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स: फ्लेकाराइट 50 टैबलेट (Flecarite 50 Tablet)

फ्लेकाराइट टैबलेट का इस्तेमाल कुछ प्रकार के एरिथमिया को ठीक करने के लिए किया जाता है। ये दवा एब्नार्मल हार्ट बीट की समस्या को ठीक करने का काम करती है और एब्नॉर्मल इलेक्ट्रिकल सिग्नल्स को ब्लॉक करने का काम करती है। फ्लेकाराइट टैबलेट का सेवन डॉक्टर की सलाह से करना चाहिए और दवा का डोज तब तक लेना चाहिए, जब तक डॉक्टर कहें। आपको दवा का सेवन रोजाना निश्चित समय पर करना चाहिए। दवा का सेवन करने से सिरदर्द (Headache), कमजोरी (Weakness) या फिर चक्कर का एहसास हो सकता है। आपको दवा का सेवन करने से साथ ही जरूरी चेकअप भी कराते रहने चाहिए। इस दवा में एक्टिव इंग्रीडिएंट के रूप में फ्लेकेनाइड (Flecainide) होता है। इसकी एक स्ट्रिप की कीमत 127 रु है।

नोट – हैलो हेल्थ किसी भी प्रोडक्ट या ब्रांड का प्रचार नहीं कर रहा है। ब्रैंड्स का प्राइज थोड़ा कम या फिर ज्यादा हो सकता है। आप जहां से से प्रोडक्ट खरीद रहे हैं, वहां का प्राइज अन्य जगह से अलग हो सकता है।

हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स: प्रोनेस्टिल टैबलेट (Pronestyl Tablet)

प्रोनेस्टिल टैबलेट का इस्तेमाल अनियमित हार्ट बीट को नियमित करने के लिए किया जाता है। जिन लोगों की हार्ट बीट अधिक या फिर कम हो जाती है, तो ऐसे में दवाओं का सेवन जरूरी हो जाता है। डॉक्टर से परामर्श के बाद प्रोनेस्टिल टैबलेट (Pronestyl Tablet) का सेवन रोजाना और नियमित समय पर करना चाहिए। अगर आप डॉक्टर से बिना सलाह के दवा का सेवन बंद कर देते हैं, तो स्थिति अधिक बिगड़ सकती है। इस दवा में एक्टिव इंग्रीडिएंट के रूप में प्रोकेनामाइड (Procainamide) होता है। इसकी एक स्ट्रिप की कीमत 39 रु है। आप इस बारे में अधिक जानकारी डॉक्टर से प्राप्त कर सकते हैं।

और पढ़ें: एक्टोपिक रिदम : ऐसी स्थिति, जब स्किप हो जाए दिल की धड़कन!

हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स: प्रडील 150 टैबलेट (Pradil 150 Tablet)

प्रडील 150 टैबलेट का इस्तेमाल एब्नार्मल हार्टबीट को ठीक करने के लिए किया जाता है। एब्नार्मल हार्टबीट कई समस्याओं को जन्म दे सकती है, इसलिए समय पर इस समस्या का इलाज कराना बेहद जरूरी हो जाता है। प्रडील 150 टैबलेट का इस्तेमाल करने से हार्ट बीट नॉर्मल हो जाती है और साथ ही पेशेंट को राहत महसूस होती है। दवा का सेवन करने से कुछ साइडइफेक्ट जैसे कि चक्कर आना, कब्ज की समस्या (Constipation problem), थकान आदि का एहसास हो सकता है। अगर दवा का सेवन करने के बाद आपको अधिक समस्या महसूस हो रही हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। दवा का सेवन अपने आप बंद न करें। जब डॉक्टर कहें तभी दवा का सेवन बंद करें। नियमित समय पर दवा खाने पर आपको लाभ पहुंचेगा। अगर आपको पहले से कोई हेल्थ कंडीशन हो, तो इस बारे में डॉक्टर को जानकारी जरूर दें। इस दवा में एक्टिव इंग्रीडिएंट के रूप में प्रोपेफेनॉन (Propafenone) होता है। इसकी एक स्ट्रिप की कीमत 284 रु है। आप इस बारे में अधिक जानकारी डॉक्टर से प्राप्त कर सकते हैं।

और पढ़ें: Heart rhythm disorder (Arrhythmia): हार्ट रिदम डिसऑर्डर क्या है?

अगर दवा का सेवन करने के बाद भी आपको किन्हीं समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, तो इस बारे में अपने डॉक्टर को जरूर बताएं। दवाओं का सेवन करते समय खास सावधानी रखें और बताएं गए निर्देशों का पालन करें। आपको हार्ट संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए लाइफस्टाइल में सुधार (Lifestyle improvement) की जरूरत है। इस बारे में आप एक बार डॉक्टर से संपर्क करें और जरूरी जानकारी लें।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता। इस आर्टिकल में दिए गए ब्रांड आपकी जानकारी के लिए है। अगर आपको हार्ट संबंधित कोई भी समस्या है, तो पहले डॉक्टर से जांच कराएं और इसके बाद ही किसी दवा का सेवन करें। इस आर्टिकल में हमने आपको हार्ट प्रॉब्लम में एंटी-एरिथमिक्स (Anti-arrhythmics in heart problem) के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड