backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

हाय ब्लड प्रेशर और हार्ट डिजीज में क्या डैश डायट दिखाती है कमाल?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Sayali Chaudhari · फार्मेकोलॉजी · Hello Swasthya


Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 23/12/2021

हाय ब्लड प्रेशर और हार्ट डिजीज में क्या डैश डायट दिखाती है कमाल?

हाय ब्लड प्रेशर की समस्या पिछले कुछ सालों में एक गंभीर बीमारी बनती जा रही है। हाय ब्लड प्रेशर यानी हायपरटेंशन को अन्य कई कंडीशंस के उच्च जोखिम से भी जोड़ा जाता है जैसे हार्ट डिजीज, हार्ट फेलियर और स्ट्रोक आदि। इसके उपचार में दवाईयां, सर्जरी और सही लाइफस्टाइल शामिल है। लेकिन, हाय ब्लड प्रेशर के उपचार में रोगी की डायट एक गंभीर भूमिका निभाती है। आज हम हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) के बारे में बात करने वाले हैं। आइए, जानते हैं हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) क्या है और इसके कैसे फॉलो करना चाहिए? सबसे पहले डैश डायट के बारे में जान लेते हैं।

हायपरटेंशन के लिए डैश डायट से पहले जानें डैश डायट (Dash Diet) क्या है?

डैश डायट में डैश यानी DASH का अर्थ है डायट्री अप्रोचिज टू स्टॉप हायपरटेंशन (Dietary Approaches to Stop Hypertension)। इस डायट के बारे में अर्ली 1990s में स्टडी की गई थी। इस स्टडी का उद्देश्य लो ब्लड प्रेशर के लिए आहार संबंधी स्ट्रेटेजी को बनाना था। यानी, यह वो डायट्री अप्रोच है जिसे खास हायपरटेंशन से राहत पाने के लिए डिजाइन किया गया है। इस डायट की सलाह उन लोगों को दी जाती है, जो हायपरटेंशन से राहत पाना चाहते हैं या उसका उपचार करना चाहते हैं। ताकि, हार्ट संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सके। इस डायट में फल, सब्जियों, साबुत अनाज और लीन मीट पर फोकस किया जाता है।

शोधकर्ताओं में यह नोटिस किया था कि हाय ब्लड प्रेशर की समस्या उन लोगों में कम होती है जो प्लांट बेस्ड डायट को फॉलो करते हैं। उसके बाद उन्होंने इस डायट को बनाया था। इसलिए, इस डायट में फल और सब्जियों को अधिक शामिल किया गया है। जबकि इसमें रेड मीट, नमक, शुगर और फैट्स की मात्रा कम रखी गयी है। ऐसा माना जाता है कि इस डायट से हाय ब्लड प्रेशर को लो रहने में इसलिए भी मदद मिलती है क्योंकि इसमें नमक को कम मात्रा में रखा गया है। हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) को बेहद लाभदायक माना गया है लेकिन इसके कुछ अन्य स्वास्थ्य लाभ भी हैं। आइए जानते हैं इसके लाभों के बारे में।

और पढ़ें: ब्लड प्रेशर की समस्या है तो अपनाएं डैश डायट (DASH Diet), जानें इसके चमत्कारी फायदे

हायपरटेंशन के लिए डैश डायट: डैश डायट के फायदे (Benefits of Dash Diet)

ब्लड प्रेशर लेवल को लो रखने के अलावा भी डैश डायट के हेल्थ संबंधी कई लाभ हैं। यह वजन कम करने और कैंसर रिस्क को कम करने में भी लाभदायक है। हालांकि, किसी भी फायदे के लिए इस डायट को डॉक्टर के कहने पर ही फॉलो करना चाहिए। यह डायट हमारे शरीर को कई तरह से प्रभावित करती है, जैसे:

लोअर ब्लड प्रेशर (Lowers Blood Pressure): ब्लड प्रेशर ब्लड द्वारा लगाई गई वो फाॅर्स है जो ब्लड वेसल्स की वॉल्स के अगेंस्ट लगाई जाती है। हर समय जब हमारा दिल धड़कता है, तो यह आर्टरीज में ब्लड को पंप करता है। ब्लड प्रेशर को दो नंबर्स में मापा जाता है

वयस्कों में सामान्य ब्लड सिस्टोलिक प्रेशर 120 mmHg से कम होता है और डायस्टोलिक प्रेशर 80 mmHg.से कम होता है। सामान्यतया इसे 120/80 इस तरह लिखा जाता है। अगर किसी की ब्लड प्रेशर रीडिंग 140/90 आती है तो इसका अर्थ है कि उसका ब्लड प्रेशर हाय है। लेकिन, ऐसा पाया गया है कि डैश डायट से हेल्दी और हाय ब्लड प्रेशर से पीड़ित दोनों तरह के लोगों का ब्लड प्रेशर कम होता है।

और पढ़ें: जानें हायपरटेंशन कम करने के उपाय

इसमें कोई संदेह नहीं है कि हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) लाभदायक है। लेकिन, इस बात को भी ध्यान में रखें कि ब्लड प्रेशर में कमी से ऐसा जरूरी नहीं हैं कि आपमें हार्ट डिजीज का जोखिम भी कम हो। वजन कम करने में मददगार है। अगर आपको हाय ब्लड प्रेशर की समस्या है, तो डॉक्टर आपको वजन कम करने की सलाह अवश्य देंगे। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि अगर आपका वजन अधिक है, तो आपको हाय ब्लड प्रेशर की समस्या का जोखिम भी अधिक होता है। ऐसा भी माना जाता है कि डैश डायट को फॉलो करने से वजन कम होने में भी मदद मिलती है। इस डायट में हाय फैट, मीठी चीजों आदि को खाने से मना किया जाता है। जिससे मरीज के आहार में कैलोरीज कम हो जाती हैं और वजन कम होता है।

हायपरटेंशन के लिए डैश डायट के अन्य फायदे (Benefits of Dash Diet for Hypertension)

हायपरटेंशन के साथ ही डैश डायट के कई अन्य लाभ भी हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • कैंसर का जोखिम हो कम (Decreases cancer risk): ऐसा माना गया है कि डैश डायट से कुछ कैंसर्स का जोखिम कम होता है जैसे कोलोरेक्टल कैंसर (Colorectal Cancer) और ब्रेस्ट कैंसर  breast cancer आदि।
  • मेटाबोलिक सिंड्रोम रिस्क कम होता (Lowers metabolic syndrome risk): कुछ स्टडीज यह बताती हैं कि डैश डायट से मेटाबोलिक सिंड्रोम का जोखिम भी कम होता है।
  • डायबिटीज रहे संतुलित (Lowers diabetes risk): टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम को कम करने में डायट भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। ऐसा भी माना जाता है कि डैश डायट को लेने से इंसुलिन रेजिस्टेंस भी सुधरती है।
  • हार्ट डिजीज का जोखिम हो कम (Decreases heart disease risk): हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) के फायदों के बारे में आप जान ही गए होंगे। ब्लड प्रेशर के लो होने पर हार्ट डिजीज जैसे हार्ट स्ट्रोक या हार्ट अटैक का जोखिम कम होता है।
  • किडनी की रोगी के लिए भी यह डायट लाभदायक है।
  • यह तो थे डैश डायट के फायदे। अब जानते हैं कि हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) कैसी होनी चाहिए?

    और पढ़ें: हायपरटेंशन बन सकता है कंजेस्टिव हार्ट फेलियर की वजह, आज से ही शुरू कर दें इस पर नजर रखना

    हायपरटेंशन के लिए डैश डायट में क्या खाना चाहिए? (Dash Diet for Hypertension)

    हायपरटेंशन के लिए डैश डायट में क्या खाना चाहिए, आपके मन में ये जरूर होगा। डैश डायट एक संतुलित और फ्लेक्सिबल डायट प्लान है। जो हार्ट के साथ-साथ हमें पूरी तरह से हेल्दी रखने में मदद करता है। इसका पालन करना भी बेहद आसान है। इस डायट में सब्जियों, फलों और साबुत अनाजों को शामिल किया गया है। इसके साथ ही इसमें फैट फ्री या लो फैट डेयरी प्रोडक्ट्स को लेने की सलाह भी दी जाती है। इसमें हाय सैचुरेटेड फैट्स जैसे फैटी मीट्स या फुल फैट डेयरी उत्पादों को भी लिया जा सकता है। जब आप डैश डायट को फॉलो कर रहे हों तो आपके लिए इन फूड्स को लेना महत्वपूर्ण माना गया है, जैसे:

    • आहार जो पोटैशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फाइबर और प्रोटीन से भरपूर हो।
    • आहार जिसमें सैचुरेटेड फैट कम हो।
    • खाद्य पदार्थ जिनमें सोडियम कम मात्रा में हो।

    और पढ़ें: अपने करीबी की हायपरटेंशन कम करने में मदद कैसे करेंगे?

    हायपरटेंशन के लिए डैश डायट में लें ये खाद्य पदार्थ (Foods in dash diet)

    डैश डायट रोजाना और साप्ताहिक न्यूट्रिशनल गोल्स प्रदान करती है। इसकी सर्विंग आपकी रोजाना की कैलोरी नीड्स पर निर्भर करती है। दिन में 2,000-कैलोरीज डैश डायट को लेने के लिए आपको हरेक फ़ूड ग्रुप में से इतनी मात्रा में आहार को लेने की सलाह दी जाती है:

    • अनाज (Grains): हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) में दिन में छे से आठ बार अनाज लेने की सलाह दी जाती है। एक सर्विंग में एक स्लाइस ब्रैड, ओट्स, रोटी,  ब्राउन राइस आदि को लिया जा सकता है।
    • सब्जियां (Vegetables): डैश डायट में दिन में चार से पांच बार सब्जियों को लिया जा सकता है। इसमें आप कच्ची या पकी हुई सब्जियों या जूस को ले सकते हैं। लेकिन, जूस बिना चीनी के होना चाहिए।
    • फल (Fruits): हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) में फलों को शामिल करें। डैश डायट एक चार से पांच बार फलों को लेने के लिए कहा जाता है। इसमें कोई भी मौसमी फल और उनका जूस शामिल है।
    • फैट फ्री या लो फैट डेयरी प्रोडक्ट (Fat-free or low-fat dairy products): दिन में दो से तीन बार इन डेयरी उत्पादों को लेना चाहिए। इसमें दूध, दही, पनीर आदि को लिया जा सकता है।
    • लीन मीट्स, पोल्ट्री और फिश (Lean meats, poultry and fish): इस डायट में लीन मीट्स, पोल्ट्री और फिश की मात्रा को सीमित रखा गया गए। लेकिन, आप दिन में कुछ मात्रा में इनका सेवन भी कर सकते हैं।
    • मेवे, सीड्स और फलियां (Nuts, seeds and legumes): इस डायट में एक बार मेवे, सीड्स और फलियों आदि को भी लिया जा सकता है। इसके अलावा आहार में कुछ मात्रा में फैट्स और ऑयल्स को लेने के लिए भी कहा गया है।
    • चीनी और एडेड शुगर (Sugar or Added Sugar): अगर आप डैश डायट का पालन कर रहे हैं तो आपको हफ्ते में कुछ ही बार और कम मात्रा में चीनी और एडेड शुगर को लेना चाहिए।
    • हायपरटेंशन के लिए डैश डायट और सोडियम (Dash Diet and Sodium)

      डैश डायट में जिन खाद्य पदार्थों को शामिल किया गया है उनमें सोडियम की मात्रा का सीमित होना बेहद जरूरी है। आप इन तरीकों से अपने आहार में सोडियम की मात्रा को कम कर सकते हैं:

      • अपने आहार में नमक की जगह सोडियम-फ्री मसालों या फ्लेवरिंग का प्रयोग करें।
      • चावल या अन्य चीजों को पकाते हुए इसमें नमक का प्रयोग न करें।
      • फ्रोजन या कैन में मिलने वाली सब्जियों की जगह ताज़ी सब्जियों को चुनें।
      • बाजार में मिलने वाले खाद्य पदार्थों या स्नेक्स को खाने से बचें, क्योंकि इनमें अधिक मात्रा में नमक होता है।

      इसके साथ ही प्रोसेस्ड और हाय सोडियम फूड्स को अपने आहार में शामिल करने से बचाएं। ऐसा करने से न केवल आप हायपरटेंशन बल्कि कई अन्य कई स्वास्थ्य समस्याओं से भी बच सकते हैं। अब जानते हैं कि हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) क्या सबके लिए लाभदायक है?

      और पढ़ें: CAD डायट : कोरोनरी आर्टरी डिजीज में क्या खाना चाहिए और किन चीजों को नजरअंदाज करना चाहिए?

      हायपरटेंशन के लिए डैश डायट क्या सबके लिए लाभदायक है?

      नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) के अनुसार डैश डायट को हायपरटेंशन को कंट्रोल करने और उससे बचने के लिए डिजाइन किया गया है। यह डायट कई क्लीनिकल ट्रायल्स द्वारा टेस्टेड है और इसे कोलेस्ट्रॉल और अन्य समस्याओं में भी लाभदायक माना गया है। हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) के बारे में की गई स्टडी के अनुसार इस डायट में कम मात्रा में नमक लेने से ब्लड प्रेशर को कम होने में मदद मिलती है। जिन लोगों को हाय ब्लड प्रेशर की समस्या होती है।

      वो अपने आहार में नमक की मात्रा को कम करके ब्लड प्रेशर को संतुलित रख सकते हैं। हालांकि, नार्मल ब्लड प्रेशर वाले लोगों में, नमक का सेवन कम करने के प्रभाव बहुत कम होते हैं। ऐसे में आपके लिए डैश डायट को फॉलो करना प्रभावी है या नहीं इसके बारे में जानने के लिए डॉक्टर की सलाह लें।

      और पढ़ें: बच्चों में कोलेस्ट्रॉल का ट्रीटमेंट करना होगा आसान, अगर फॉलों करें ये डायट और एक्सरसाइज रूटीन

      डैश डायट के लिए कुछ टिप्स (Tips for Dash Diet)

      अगर आपको हाय ब्लड प्रेशर की समस्या है और आप डैश डायट का पालन करना चाहते हैं। तो यह कुछ टिप्स आपके लिए लाभदायक साबित हो सकते हैं। यह टिप्स इस प्रकार हैं:

      • लंच और डिनर में सब्जियों को अवश्य लें।
      • फलों को अपने स्नैक्स में शामिल करें।
      • मक्खन, सलाद ड्रेसिंग, मेयोनीज की मात्रा को आधा कर दें उनकी जगह फैट फ्री या लो फैट चीजों का सेवन करें।
      • अगर आप फूल फैट दूध या क्रीम का प्रयोग करते हैं, तो उसकी जगह लो फैट या स्किम डेरी प्रोडक्ट्स का सेवन करें।
      • अपने आहार में अधिक सब्जियों और ड्राय बींस को शामिल करें।
      • चीजों को खरीदने समय उसके लेवल को अवश्य चेक करें। ऐसे खाद्य पदार्थों को चुनें जिनमें सोडियम कम हो।

      हाय ब्लड प्रेशर से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी के लिए नीचे दिय इस क्विज को खेलिए।

      और पढ़ें: प्रीडायबिटीज के लिए डायट में क्या करना चाहिए शामिल और किनसे बनानी चाहिए दूरी?

      यह तो थी हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) के बारे में जानकारी। डैश डायट ब्लड प्रेशर को कम करने का आसान और प्रभावी तरीका हो सकता है। अगर आपका ब्लड प्रेशर अधिक रहता है, तो आप अपने लाइफस्टाइल में परिवर्तन करके और डैश डायट का पालन करके इस समस्या से राहत पा सकते हैं। अगर आप हायपरटेंशन की शुरुआती स्टेज पर हैं और आपका ब्लड प्रेशर बहुत अधिक नहीं है। तो आप अपनी डायट में सामान्य बदलाव करके और व्यायाम आदि से इस समस्या से कुछ हद तक लाभ पा सकते हैं। धूम्रपान और एल्कोहॉल को लेने से बचें क्योंकि यह हार्ट डिजीज के रिस्क फैक्टर्स में शामिल हैं। हायपरटेंशन के लिए डैश डायट (Dash Diet for Hypertension) को फॉलो करने से पहले अपने डॉक्टर और डायटिशियन की सलाह अवश्य लें।

      डिस्क्लेमर

      हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

      के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

      Sayali Chaudhari

      फार्मेकोलॉजी · Hello Swasthya


      Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 23/12/2021

      ad iconadvertisement

      Was this article helpful?

      ad iconadvertisement
      ad iconadvertisement