आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर : जिसमें हर वक्त सताता है पेरेंट्स से बिछड़ने का डर

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर : जिसमें हर वक्त सताता है पेरेंट्स से बिछड़ने का डर

    सेपरेशन एंजायटी चाइल्डहुड डेवलपमेंट का सामान्य हिस्सा है। यह आमतौर पर 8-12 महीने के बच्चों में होती है और उनके 2 साल के होते-होते ठीक हो जाती है। यह एंजायटी व्यस्कों को भी हो सकती है। कुछ बच्चे स्कूल या टीनएज के समय इस चिंता का अनुभव करते हैं। इस कंडिशन को सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर (Separation anxiety disorder) कहा जाता है। एनसीबीआई (NCBI) की स्टडी के अनुसार तीन से चार प्रतिशत बच्चे सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर का अनुभव करते हैं।

    यह डिसऑर्डर जनरल मूड और मेंटल हेल्थ से जुड़ी समस्याओं की तरफ इशारा करता है। कई बच्चे जो बचपन में इस डिसऑर्डर का सामना करते हैं उनमें व्यस्क होने पर मानसिक बीमारी डायग्नोस होती हैं।

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर के लक्षण क्या हैं? (Separation anxiety disorder Symptoms)

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर के लक्षण तब दिखाई देते हैं जब बच्चा पेरेंट्स या किसी करीबी से अलग होता है। अलग होने का डर भी चिंता से संबंधित व्यवहार का कारण बनता है। सबसे आम व्यवहारों में निम्न शामिल हैं।

    • पेरेंट्स के चिपके रहना
    • माता-पिता या किसी अन्य प्रियजन को बीमारी या आपदा में खोने के बारे में लगातार, अत्यधिक चिंता
    • लगातार चिंता करना कि कुछ बुरा होगा, जैसे खो जाना या अपहरण हो जाना, माता-पिता या अन्य प्रियजनों से अलगाव का कारण बनना
    • अलग होने के डर से घर से दूर रहने से इंकार
    • बहुत अधिक और बहुत जोर से रोना
    • सेपरेशन के लिए जरूरी चीजों को करने से मना करना
    • शारीरिक रूप से अस्वस्थ महसूस करना जैसे कि सिर दर्द या उल्टी होना
    • हिंसक और भावुक होना
    • नखरे दिखाना
    • स्कूल जाने के लिए मना करना
    • स्कूल में गिरता प्रदर्शन
    • अकेले सोने के लिए मना करना
    • सेपरेशन से संबंधित डरावने सपने देखना

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर (Separation anxiety disorder) पैनिक डिसऑर्डर और पैनिक अटैक से जुड़ा हो सकता है। तीव्र चिंता और भय की अचानक भावनाओं के बार-बार एपिसोड जो मिनटों के भीतर चरम पर पहुंच जाते हैं।

    डॉक्टर से संपर्क कब करें?

    यह डिसऑर्डर बिना ट्रीटमेंट के ठीक नहीं होता है और यह पेनिक डिसऑर्डर या व्यस्क होने पर अन्य एंजायटी डिसऑर्डर्स का कारण बन सकता है। अगर पेरेंट्स इसके कारण परेशान हैं तो उन्हें डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। सही समय पर डायग्नोसिस स्थिति को संभालने में मदद करता है और दूसरे कॉम्प्लिकेशन के रिस्क को भी कम करता है।

    और पढ़ें: हर समय रहने वाली चिंता को दूर करने के लिए अपनाएं एंग्जायटी के घरेलू उपाय

    एसएडी के रिस्क फैक्टर्स (Separation anxiety disorder risk factors) क्या हैं?

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर (Separation anxiety disorder) उन बच्चों में अधिक देखा जाता है जिनके साथ निम्न स्थितियां रही हों।

    यह डिसऑर्डर तनाव युक्त लाइफ इवेंट की वजह से भी हो सकते हैं जैसे:

    • नए घर में शिफ्ट होना
    • स्कूल बदलना
    • तलाक होना
    • परिवार के करीबी सदस्य की मौत होना

    इस डिसऑर्डर से जुड़े कॉम्प्लिकेशन क्या हो सकते हैं? (Complications of anxiety disorder risk factors)

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर (Separation anxiety disorder) के कारण व्यक्ति कठिनाई का सामना कर सकता है और यह डिसऑर्डर डेली रूटीन के साथ ही स्कूल और जॉब को प्रभावित कर सकता है। यह दूसरे डिसऑर्डर का कारण बन सकता है जिसमें निम्न शामिल हैं।

    और पढ़ें: एंग्जायटी और इंसोम्निया, क्या दोनों में है कुछ संबंध?

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर का पता कैसे लगाया जाता है? (Separation anxiety disorder diagnosis)

    उपरोक्त लक्षणों में से तीन या अधिक लक्षणों का अनुभव करने वाले बच्चों में एसएडी का निदान किया जा सकता है। सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर के निदान में यह निर्धारित करना शामिल है कि आपका बच्चा विकास के सामान्य चरण से गुजर रहा है या समस्या वास्तव में एक डिसऑर्डर है। किसी भी चिकित्सीय स्थिति के बारे में पता करने के बाद, बच्चे का बाल रोग विशेषज्ञ एंजायटी डिसऑर्डर में विशेषज्ञता वाले बाल मनोवैज्ञानिक या बाल मनोचिकित्सक के पास भेज सकता है।

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर (Separation anxiety disorder) का निदान करने में मदद करने के लिए, आपका मेंटल हेल्थ प्रोफेशनल बच्चे का मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन करेगा। जिसमें स्ट्रक्चरड इंटरव्यू शामिल है जिसमें विचारों और भावनाओं पर चर्चा करने के साथ-साथ व्यवहार का अवलोकन भी शामिल है। सेपरेशन एंजायटी डिसआर्डर दूसरी मेंटल प्रॉब्लम के साथ भी हो सकता है। निदान की पुष्टि करने के लिए आपका डॉक्टर अतिरिक्त परीक्षणों के लिए कह सकता है। डॉक्टर अपने सामने पेरेंट्स और बच्चे की बातचीत करने के लिए कह सकते हैं। इससे पता चलता है कि पेरेंट्स की पेरेंटिंग स्टाइल बच्चे की चिंता से कैसे निपटने की क्षमता को प्रभावित करती है नहीं।

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर का इलाज कैसे किया जाता है? (Separation anxiety disorder treatment)

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर (Separation anxiety disorder) का इलाज आमतौर पर मनोचिकित्सा के साथ इलाज किया जाता है, कभी-कभी दवा के साथ। मनोचिकित्सा, जिसे कभी-कभी टॉक थेरेपी या मनोवैज्ञानिक परामर्श कहा जाता है। इसमें थेरिपिस्ट सेपरेशन एंजायटी के लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

    संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (Cognitive behavioral therapy) सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर (Separation anxiety disorder) के लिए मनोचिकित्सा का एक प्रभावी रूप है। चिकित्सा के दौरान बच्चा अलगाव और अनिश्चितता के बारे में आशंकाओं का सामना और प्रबंधन करना सीख सकता। इसके अलावा, माता-पिता सीख सकते हैं कि भावनात्मक समर्थन को प्रभावी ढंग से कैसे प्रदान किया जाए और उम्र के अनुकूल स्वतंत्रता को प्रोत्साहित किया जाए।

    कई बार लक्षण गंभीर होने पर इस थेरिपी के साथ मेडिसिन का भी उपयोग किया जाता है। एंटीडिप्रेसेंट का उपयोग डॉक्टर अक्सर करते हैं, लेकिन किसी भी दवा का उपयोग बच्चे या बड़े के लिए डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें। यह स्थिति को और भी खराब कर सकता है।

    और पढ़ें: Anxiety Attack VS Panic Attack: समझें एंग्जायटी अटैक और पैनिक अटैक में अंतर

    इस डिसऑर्डर से बचने के उपाय हैं क्या?

    सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर (Separation anxiety disorder) को रोकने का कोई निश्चित तरीका नहीं है, लेकिन निम्न सलाहें मदद कर सकती हैं।

    • जितनी जल्दी हो सके प्रोफेशनल की सलाह लें यदि आप चिंतित हैं कि बच्चे की चिंता सामान्य डेवलपमेंट फेज से कहीं ज्यादा खराब है।
    • प्रारंभिक निदान और उपचार लक्षणों को कम करने और डिसऑर्डर को खराब होने से रोकने में मदद कर सकते हैं। डॉक्टर सही ट्रीटमेंट प्लान बता सकते हैं।
    • लक्षणों की पुनरावृत्ति या बिगड़ने को रोकने में मदद करने के लिए ट्रीटमेंट प्लान को फॉलो करें। इसमें अपनी इच्छा के अनुसार किसी प्रकार का बदलाव ना करें।
    • यदि पेरेंट्स को चिंता, अवसाद या अन्य मानसिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं हैं, तो प्रोफेशनल की मदद लें। ताकि वे बच्चे की परवरिश अच्छे ढंग से कर सकें। बच्चे की बेहतर देखभाल के लिए पेरेंट्स मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रहना जरूरी है।

    और पढ़ें: इंटरनेट एडिक्शन डिसऑर्डर (Internet addiction disorder) इस नए डिसऑर्डर के बारे में जानते हैं आप?

    उम्मीद करते हैं कि आपको सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर (Separation anxiety disorder) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र
    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: