लाफ्टर थेरेपी : हंसो, हंसाओं और डिप्रेशन को दूर भगाओं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट नवम्बर 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कभी-कभी टीवी पर कॉमेडी शोज देख कर हंसना या किसी फनी वीडियो या कॉमेडी मूवी को देखना आपके मूड को थोड़ा लिफ्ट कर सकता है। लेकिन इसे रेगुलर ग्रुप सेशन के तौर पर अपनाना, जहां आप दूसरों के साथ मिलकर हंसते हैं, अवसाद के लिए एक बेहतर चिकित्सीय उपचार हो सकता है। इसे ‘लाफ्टर थेरेपी’ कहा जाता है, जो अवसाद और चिंता जैसी मानसिक समस्याओं के इलाज के रूप में चर्चित हो रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की माने तो आज पूरी दुनिया में सभी ऐज ग्रुप के लगभग 26.4 करोड़ लोग डिप्रेशन (depression) जैसी समस्या से जूझ रहे हैं। ऐसे में लाफ्टर थेरेपी (laughter therapy) डिप्रेशन के मरीजों के लिए एक प्रभावी उपाय साबित हो रहा है। इसको देखते हुए ही लोगों में लाफ्टर के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए हर साल 2 अक्टूबर को वर्ल्ड स्माइल डे (World Smile Day) भी मनाया जाता है।

और पढ़ें : हेल्दी स्माइल पानें के आसान नुस्खे, क्योंकि मुस्कुराते चेहरे सबको होते हैं पसंद

लाफ्टर थेरेपी (laughter therapy) क्या है?

लाफ्टर थेरेपी एक प्रकार की चिकित्सा है, जिसमें दर्द और तनाव को दूर करने और किसी व्यक्ति के वेल-बीइंग में सुधार करने के लिए ह्यूमर का उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग मेंटल स्ट्रेस (mental stress) के साथ-साथ कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से निपटने में मदद करने के लिए भी किया जा सकता है। इस थेरेपी में लाफ्टर एक्सरसाइज (laughter exercise), कॉमेडी फिल्में, किताबें, खेल और पहेलियां शामिल हो सकती हैं। इसे ह्यूमर थेरेपी (humor therapy) भी कहा जाता है।

और पढ़ें : स्ट्रेस कहीं सेक्स लाइफ खराब न करे दे, जानें किस वजह से 89 प्रतिशत भारतीय जूझ रहे हैं तनाव से

लाफ्टर थेरेपी (laughter therapy) कैसे काम करती है?

लाफ्टर एक पॉजिटिव सेंसेशन है, जो तनाव को दूर करने का उपयोगी और स्वस्थ तरीका है। लाफ्टर थेरेपी एक तरह का कॉग्निटिव-बिहेवियरल ट्रीटमेंट (cognitive behavioral treatment) है, जो फिजिकल, साइकोलॉजिकल और सोशल रिलेशनशिप को हेल्दी बना सकता है। एक गैर-औषधीय, वैकल्पिक उपचार के रूप में लाफ्टर थेरेपी मानसिक स्वास्थ्य (mental health) पर सकारात्मक प्रभाव डालती है। इससे तनाव का प्रभाव कम हो सकता है।

लाफ्टर से कोर्टिसोल, एपिनेफ्रीन (Epinephrine), ग्रोथ हार्मोन और 3,4-डायहाइड्रॉफिनाइलैसिटिक एसिड (एक प्रमुख डोपामाइन कैटाबाइट) का सीरम लेवल कम हो जाता है, जो स्ट्रेस रिस्पॉन्स को रिवर्स कर देता है। बता दें कि डिप्रेशन एक मानसिक बीमारी है, जहां मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर, जैसे कि नॉरपेनेफ्रिन, डोपामाइन और सेरोटोनिन कम हो जाते हैं और मस्तिष्क के मूड कंट्रोल सर्किट में कुछ गड़बड़ी हो जाती है। ऐसे में लाफ्टर थेरेपी डोपामाइन और सेरोटोनिन एक्टिविटी को बदल सकती है। इसके अलावा, हंसने से एंडोर्फिन हॉर्मोन रिलीज होता है जो मनोदशा को ठीक करने में मदद कर सकता है।

और पढ़ें : LGBT कम्युनिटी में 60 प्रतिशत लोग होते हैं डिप्रेशन का शिकार, जानें क्या है इसकी वजह?

मेंटल हेल्थ के लिए लाफ्टर थेरेपी के फायदे क्या हैं?

  • हंसना, आनंद और उत्साह को आपकी लाइफ में बढ़ाता है
  • चिंता और टेंशन को दूर करता है
  • तनाव कम करता है
  • मूड में सुधार करता है
  • रेसिलिएंस (कठिनाइयों और समस्याओं से जल्दी ठीक होने की क्षमता) मजबूत करता है

और पढ़ें : हेल्दी नाश्ता दिन भर देता है एनर्जी और मूड रखता है ठीक, और भी हैं फायदे

अपने जीवन में अधिक हंसी कैसे लाएं?

शुरुआत में लाफ्टर के लिए अलग-अलग समय निर्धारित करके स्टार्ट करें। इसे शुरू करने के कुछ तरीके इस प्रकार हैं:

स्माइल करें

लाफ्टर थेरेपी

मुस्कुराहट, हंसी की एक शुरुआत है। स्माइल को अपनी जिंदगी में ज्यादा से ज्यादा जोड़ने के लिए, जब आप किसी भी प्लीजिंग चीज को देखें तो हल्का-सा मुस्कुराएं। ऐसा ही अक्सर करने का प्रयास करें। अपने फोन पर देखने की बजाय, सड़क पर गुजरने वाले लोगों को देखें। लोगों के हंसते-मुस्कुराते चेहरे आपको एक नयी एनर्जी देंगे। आपको भी ये फेसेस स्माइल करने पर मजबूर करेंगे। इस तरह से अपनी लाइफ में हर दिन एक स्माइल को ऐड करें।

और पढ़ें : मुस्कुराहट भी होती हैं 19 प्रकार की, जानें इमोशन से जुड़े शॉकिंग फैक्ट्स

ब्लेसिंग्स के बारे में सोचें

आपके जीवन के सकारात्मक पहलुओं पर विचार करें। इससे आपको नकारात्मक विचारों से दूर रहने में आसानी होगी, जो अक्सर आपको हंसने से रोकते हैं। इस तरह से जब आप नेगेटिव थॉट्स (negative thoughts) से दूर रहना सीख जाते हैं, तो जिंदगी में खुशी को ज्यादा से ज्यादा जगह मिलने लगती है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

जब आप हंसी सुनें, तो उसकी ओर बढ़ें

कभी-कभी ह्यूमर और लाफ्टर प्राइवेट होता है। लेकिन, कभी आपने देखा है कि जब कोई चुटकुला या वाकया एक छोटे से ग्रुप में शेयर किया जाता है, तो लोग उसे बार-बार याद करके काफी देर तक हंसते हैं। ऐसे किसी भी ग्रुप को हंसते हुए देखे तो उसकी ओर कदम बढ़ाएं। शायद आपको भी एक हंसी का मौका मिल जाए।

और पढ़ें : दुनियां में आए हैं तो…तो गिरना ही पड़ेगा, पर गिरने पर हंसी क्यों छूटती है?

मौज-मस्ती, चंचल लोगों के साथ समय बिताएं

आपने देखा होगा कि कुछ लोग कितने मजाकिया और खुशमिजाज होते हैं। ऐसे लोगों के साथ बिताया गए समय पता ही नहीं चलता है। आपको ऐसे लोगों की कंपनी को जॉइन करना, स्ट्रेस, एंग्जायटी और टेंशन से दूर रख सकता है। इसलिए जब भी आप उदास हो, तो ऐसे लोगों के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताने की कोशिश करें।

और पढ़ें : हर समय रहने वाली चिंता को दूर करने के लिए अपनाएं एंग्जायटी के घरेलू उपाय

लाफ्टर थेरेपी के लिए ग्रुप जॉइन करें

अपने जीवन में हंसी को जोड़ने के लिए लाफ्टर योग (laughter yoga) या लाफ्टर थेरेपी ग्रुप की खोज करें और उसे जॉइन करें। जॉर्जिया स्टेट यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन में पाया गया कि एक लाफ्टर थेरेपी ग्रुप से अधिक उम्र के वयस्कों के मानसिक स्वास्थ्य के साथ-साथ उनके एरोबिक एंड्यूरेंस (aerobic endurance) में भी सुधार हुआ। साथ ही, स्टडी से भी पता चला कि दूसरों की हंसी सुनना अक्सर आपकी हंसी को ट्रिगर कर सकता है।

और पढ़ें : मानसिक स्वास्थ्य पर सोशल मीडिया के हो सकते हैं नकारात्मक प्रभाव, जानें इनसे कैसे बचें

एक भी दिन बिना हंसी के नहीं

जैसे आप व्यायाम और ब्रेकफास्ट के लिए अपना टाइम सेट करते हैं। वैसे ही सुनिश्चित करें कि हर दिन आप कुछ ऐसा करने की कोशिश करेंगे जो आपको हंसाए। अपनी लाफ्टर थेरेपी के लिए 10 से 15 मिनट का अलग समय सेट करें। जितना अधिक आपको हर दिन हंसने की आदत डालेंगे, उतना ही डिप्रेशन से आप दूर रहेंगे।

और पढ़ें : बच्चों की इन बातों को न करें नजरअंदाज, बच्चों में डिप्रेशन हो सकता है

लाफ्टर थेरेपी में क्या न करें?

खुद की लाइफ में हंसी जोड़ने के लिए दूसरों पर हंसना बिलकुल भी ठीक नहीं है। उन पर हंसने की बजाय, उनके साथ हंसने को प्रायोरिटी दें। अक्सर आपको नहीं पता होता कि सामने वाला किस चुनौतीपूर्ण स्थिति से गुजर रहा है। ऐसे में उसके एपिरेंस या उसकी कमजोरियों पर हंसना उस व्यक्ति को दुखी कर सकता है। इसलिए इसे अवॉयड करें।

हंसी की पावर किसी खुशी को दुगुनी कर सकती है। यह लोगों को बदल देती है। लाफ्टर भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक समस्याओं को ठीक करता है। यह हंसी शारीरिक बीमारियों और दर्द को भी कम करती है और लोगों को मानसिक रूप से तेज रहने में भी मदद करती है। लाफ्टर एक्सपर्ट्स की मानें तो हंसने से मेंटल फंक्शन, मेंटल अलर्टनेस और मेमोरी को बूस्ट करता है। इसलिए हंसे और लोगों को भी हंसाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

वर्ल्ड कॉलेज स्टूडेंट्स डे: क्यों होता है कॉलेज स्टूडेंट्स में डिप्रेशन?

कॉलेज स्टूडेंट्स में डिप्रेशन के कारण, कॉलेज डिप्रेशन (college depression) कोई स्पेसिफिक टर्म नहीं है। यह सामान्य अवसाद ही है जो कॉलेज के दिनों में स्टूडेंट्स में होता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन सितम्बर 9, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

पेट्स पालना नहीं है कोई सिरदर्दी, बल्कि स्ट्रेस को दूर करने की है एक बढ़िया रेमेडी

पेट थेरेपी क्या है? इसके मानसिक स्वास्थ्य लाभ क्या है, यह कैसे काम करती है? एनिमल थेरेपी (animal therapy) में सबसे ज्यादा कुत्तों और बिल्लियों का उपयोग किया जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन सितम्बर 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

रिटायरमेंट के बाद बिगड़ सकती है मेंटल हेल्थ, ऐसे रखें बुजुर्गों का ख्याल

रिटायरमेंट के बाद मेंटल हेल्थ पर क्या प्रभाव पड़ता है? 60 के पार होने पर बुजुर्गों में डायबिटीज, ऑस्टियोअर्थराइटिस, हाई ब्लड प्रेशर, दिल की बीमारी के साथ-साथ न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर की संभावना भी बढ़ जाती हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
सीनियर हेल्थ, मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन सितम्बर 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

‘नथिंग मैटर्स, आई वॉन्ट टू डाय’ जैसे स्टेटमेंट्स टीनएजर्स में खुदकुशी की ओर करते हैं इशारा, हो जाए अलर्ट

टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार के कारण क्या हैं? 15 से 24 साल की उम्र के टीनएजर्स में मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण खुदकुशी है। टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार..

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन सितम्बर 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

एजिंग माइंड, Ageing Mind

उम्र बढ़ने के साथ घबराएं नहीं, आपका दृढ़ निश्चय एजिंग माइंड को देगा मात

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ जनवरी 11, 2021 . 11 मिनट में पढ़ें
लॉकडाउन के दौरान मेंटल स्ट्रेंस

लॉकडाउन के असर के बाद इस नए साल पर अपने मानसिक स्वास्थ्य को कैसे फिट रखें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
एंग्जायटी से बाहर आने के उपाय, anxiety

एंग्जायटी से बाहर आने के लिए क्या करना चाहिए ? जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
डिस्थीमिया-Dysthymia (परसिस्टेंट डिप्रेसिव डिसऑर्डर)

क्रोनिक डिप्रेशन ‘डिस्थीमिया’ से क्या है बचाव?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 10, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें