home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

मुस्कुराहट भी होती हैं 19 प्रकार की, जानें इमोशन से जुड़े शॉकिंग फैक्ट्स

मुस्कुराहट भी होती हैं 19 प्रकार की, जानें इमोशन से जुड़े शॉकिंग फैक्ट्स

प्यार, गुस्सा, डर, एक्ससाइटमेंट, खुशी, चिंता जैसी तमाम छोटी-छोटी भावनाएं ताउम्र चलती रहती हैं। इन इमोशंस को लगभग छह सेकंड ही शरीर में अवशोषित होने के लिए लगते हैं। कई अध्ययनों से पता चला है कि महिलाओं और पुरुषों दोनों को समान स्तर की भावना का अनुभव होता है। लेकिन, महिलाओं में इसे एक्सप्रेस करने की प्रवृत्ति ज्यादा होती है। ऐसे ही कुछ और इमोशन से जुड़े फैक्ट्स हैं जो बहुत ही रोचक हैं। जानते हैं इस आर्टिकल में-

इमोशन से जुड़े फैक्ट्स (Facts about emotion)

रोने से मन हल्का होता है

इस इमोशन से जुड़े फैक्ट्स को तो आप लोगों ने कभी न कभी सुना ही होगा कि रोने से मन हल्का होता है। जब आप इमोशनल होकर रोते हैं तो ऐसे में एक ल्यूसीन-एन्केफलिन रिलीज होता है। यह एक एंडोर्फिन (Endorphins) होता है जिससे मूड सही होता है और आप अच्छा महसूस करते हैं। इसलिए, कहते हैं कि भाई रो लो मन हल्का हो जाएगा।

प्यार सिर्फ इमोशन नहीं… एक नशा है

जब भी बात हो इमोशन से जुड़े फैक्ट्स की तो प्यार का नंबर पहले आता है। ‘नशा ये प्यार का नशा है’… ‘मन’ फिल्म का गाना वैज्ञानिक रूप से भी एकदम सही है। कहते हैं कि जिस तरह नशे का असर दिमागी नसों पर होता है, ठीक वैसे ही प्यार होने के बाद दिमाग पर असर होता है। रिसर्च में पाया गया कि प्यार में पड़ने के बाद दिमाग से कई तरह के केमिकल (डोपामाइन, एंडोर्फिन, सेरोटोनिन, एड्रेनलाइन आदि) साथ निकलते हैं। इसका प्रभाव संबंधों पर पड़ता है।

और पढ़ें :जानिए क्या हैं कान से जुड़े इंटरेस्टिंग फैक्ट्स

शरीर करेगा इमोशंस कंट्रोल

इमोशन से जुड़े फैक्ट्स की बात करें तो बता दें कि शरीर भीआपकी भावनाओं को दिखाता है। पुराने समय के डॉक्टरों की मानें तो शरीर के विभिन्न अंग अलग-अलग तरह के मूड्स को नियंत्रित करते हैं। उदाहरण के लिए, आपका दिल खुशी को कंट्रोल करता है वहीं डर को किडनी और गुस्से को लिवर।

बोटॉक्स देता है इमोशन

इमोशन से जुड़े फैक्ट्स में यह थोड़ा शॉकिंग है कि बोटॉक्स से व्यक्ति के एक्सप्रेशन कम दिखते हैं। एजिंग का असर चेहरे पर न दिखे इसके लिए लोग बोटॉक्स (botax) इंजेक्शन का उपयोग करते हैं। लेकिन, इससे फेशियल एक्सपेरेशन (facial expression) पर असर पड़ता है। बोटॉक्स आपके चेहरे के नेचुरल इमोशन को छिपाने लगता है।

मूड के हिसाब से होते हैं कपड़े

इमोशन से जुड़े फैक्ट्स की बात हो रही हो और महिलाओं की बात न हो ऐसा कैसे हो सकता है? एक अध्ययन से पता चला है कि जो महिलाएं डिप्रेशन में होती हैं या उदास होती हैं, उनमें बैगी टॉप, जींस, स्वेटशर्ट या जम्पर पहनने की अधिक संभावना होती है। इसके विपरीत जो महिलाएं खुश या सकारात्मक सोच रखती हैं, उन्हें ड्रेस और ज्वेलरी पहनना पसंद होता है।

और पढ़ें : महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर क्यों होता है? जानें लंबाई से जुड़े रोचक फैक्ट्स

इमोशन सिर्फ अंदर की ही बात नहीं

इमोशन से जुड़े फैक्ट्स में यह सुनकर हैरानी होगी कि इमोशंस सिर्फ मनोवैज्ञानिक (psychological) ही नहीं होते हैं। इनको शारीरिक रूप से भी देखा जा सकता है। तरह-तरह की भावनाएं शरीर के विभिन्न हिस्सों को उत्तेजित करती हैं। शरीर का ऊपरी आधा हिस्सा सकारात्मक भावनाओं का जवाब देता है और नकारात्मक भावनाएं (जैसे डिप्रेशन की समस्या) आमतौर पर सुन्न होती हैं।

और पढ़ें :आखिर कैसा होना चाहिए स्वस्थ जीभ का रंग?

मुस्कुराहट भी होती है 19 तरह की

इमोशन से जुड़े फैक्ट्स में से यह सबसे ज्यादा हैरान करने वाला है। आपको जानकर हैरानी होगी कि मुस्कुराहट तकरीबन 19 अलग-अलग तरह-तरह की होती है। हर तरह की सिचुएशन में हम अलग ही स्माइल देते हैं। अध्ययन में पता चलता है कि स्माइल कैसी भी हो लेकिन, हंसने से अच्छा ही महसूस होता है।

डर का इमोशन या मनोभाव भी जरूरी है

बुरी फीलिंग्स आपके लिए अच्छी होती हैं। दरअसल, डर और क्रोध जैसी नकारात्मक भावनाओं का अनुभव करना मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। इससे हमें अपने अनुभवों का सकारात्मक तरीके से मूल्यांकन करने में मदद मिलती है। जो व्यक्ति केवल पॉजिटिव सोचता है, वह अक्सर कुछ तरह के जोखिमों को अनदेखा करता है। इसलिए, नकारात्मक इमोशन पूरी तरह से स्वाभाविक हैं और उन्हें दबाना नहीं चाहिए।

और पढ़ें : नहाने में आप खर्च करते हैं जिंदगी के इतने घंटे, जानें नहाने के फायदे

कडलिंग से दूर भागेगा दर्द

कडलिंग कभी-कभी नेचुरल पेनकिलर्स का काम कर सकती है। एक रिसर्च में पाया गया कि कडलिंग से ऑक्सिटोसिन हॉर्मोन निकलता है। इससे ब्लड प्रेशर कम होता है। देखा गया है कि कडलिंग से सिरदर्द की समस्या में राहत पहुंचती है। कडलिंग से इम्यून सिस्टम भी बूस्ट होता है। इमोशन से जुड़े फैक्ट्स में बात करें कडलिंग तो यह काफी प्यारा फैक्ट है।

इमोशंस या मनोभाव की नकल

जब आप इमोशन से जुड़े फैक्ट्स पढ़ रहे हैं तो आपको बता दें कि आप आस-पास के लोगों के इमोशंस की नकल करते हैं। शोध में पाया गया कि लोग अनजाने में अपने आस-पास के लोगों की भावनात्मक इमोशन की नकल करते हैं। फिर चाहे वह स्माइल करने की बात हो या फिर अन्य लोगों से पॉजिटिव वाइब्स लेना।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें :स्ट्रेस को दूर भगाना है तो दोस्त को पास बुलाएं, जानें दोस्ती के बारे में इंटरेस्टिंग फैक्ट्स

हर रंग कुछ कहता है

हां, जी सही सुना। अलग-अलग रंग हमारे अंदर अलग-अलग इमोशन जगाते हैं। जैसे पीला रंग खुशी से जुड़ा होता है और नीला रंग व्यक्ति को शांत करने में मदद करता है। तो, अगली बार जब आप बेचैन हों, तो आप ब्लू कलर को अपना साथी बनाएं।

दिल क्यों टूटता है

इमोशन या मनोभाव से जुड़े फैक्ट्स की बात हो और दिल क्यों पीछे रह जाए? दिल का टूट जाना सिर्फ एक जुमला ही नहीं है। यह सच में टूटता है। रिसर्च में भी पाया गया कि ब्रेकअप के बाद या किसी वजह से पार्टनर से अलग होने के बाद दिल के किसी हिस्से में वाकई भारीपन महसूस होता है। इससे दिल में सच में दर्द उठता है। इसे ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम (broken heart syndrome) भी कहते हैं।

जबरदस्ती की मुस्कुराहट दे सकती है खुशी

कभी-कभी जब आप दुखी होते हैं और स्माइल करने की कोशिश करें तो आप वास्तव में उस भावना को महसूस करना शुरू कर देंगे। रिसर्चस बताती है कि अगर आप खुद को खुश रखना चाहते हैं, तो आपको बस 30 सेकंड के लिए अपने चेहरे पर मुस्कान बनाए रखनी होगी। उसके कुछ देर बाद आप खुशी महसूस करेंगे।

तो ये थे कुछ इमोशन से जुड़े फैक्ट्स उम्मीद है आपको पसंद आए होंगे। ऐसे ही अगर आप जानते हैं तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। इमोशन से जुड़े फैक्ट्स हेल्थ से जुड़े ऐसे ही मजेदार तथ्यों और अन्य स्वास्थ्य संबंधी जानकारियों के लिए पढ़ते रहिए “हैलो स्वास्थ्य”।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/07/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड