निगेटिव थॉट्स से कैसे बच सकते हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट June 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

भाग-दौड़ भरी जिंदगी से लोग इतने तनावग्रस्त हो जाते हैं कि निगेटिव थॉट्स आने लगते हैं। ऐसे लोग गलत कदम उठाने से भी नहीं हिचकते हैं। आइए हम इनका समाधान जानते हैं।

सवाल

मेरी उम्र 26 साल है और मैं जॉब करती हूं। कई बार जॉब से संबंधित दवाबों या किन्हीं अन्य कारणों से मुझे बहुत ज्यादा निगेटिव थॉट्स आने लगते हैं। इसका प्रभाव मेरे जीवन पर पड़ता है और मेरे काम बाधित होते हैं। निगेटिव थॉट्स से कैसे बच सकते हैं? 

जवाब

हमारी जिंदगी का नियम ही सुख और दुख है। कभी आप खुश रहेंगे तो कभी दुखी या फिर कभी जीत मिलेगी को कभी हार मिलेगी। इसलिए कभी-कभी नकारात्मक विचार आना सामान्य बात है, लेकिन अगर ज्यादा नकारात्मक ख्याल आ रहे हैं तो ये समस्या वाली बात है। इससे आप और आपके करीबियों को तकलीफ जरूर हो सकती है। आपके निगेटिव थॉट्स का कारण चाहे जो भी हो, अगर आप हर बात को सकारात्मक या पॉजिटिव तरीके से लेंगे तो आप खुद ही अच्छा महसूस करेंगे।

आप खुद से कुछ आसान से सवाल पूछें : 

  1. ऐसा होने से कौन सी चीज है जो अच्छी हुई है?
  2. अगर आज ऐसा हुआ तो इसका मेरे जीवन पर क्या असर पड़ेगा?
  3. क्या मेरे ऐसे सोचने पर मेरी जिंदगी ऐसे ही कटने वाली है?

अगर आप इन सवालों को सकारात्मक तरीके से लेंगे तो आपको पता चल जाएगा कि आप जो भी सोच रहे हैं वह बहुत छोटी सी चीज है। आप फिर से खड़े होने की कोशिश करें और सोचें कि कड़ी मेहनत से आप हर चीज को हासिल कर सकते हैं। निगेटिव थॉट्स ज्यादा आने पर अपना ध्यान किसी पॉजिटिव चीज में लगाएं। दोस्तों या परिवार के साथ समय बिताएं, कहीं बाहर घूमने जाएं। 

निगेटिव थॉट्स से बचने के लिए टिप्स 1:  खुश रहें

बदलती जीवनशैली में जहां पॉजिटिव बदलाव हो रहें हैं वहीं अच्छा करने की चाह के कारण निगेटिव थॉट्स भी आने लगते हैं। हालांकि, ऐसी स्थिति में भी खुश रहें और अच्छी बातें सोचें। अगर कोई परेशानी होती है, तो अपनी परेशानी को अपने करीबी या अच्छे मित्रों से शेयर करें। हैलो स्वास्थ्य की टीम ने जब निगेटिव थॉट्स से जुड़े सवाल लोगों से किए तो मुंबई में रहने वाले सोनू नायर कहते हैं कि “मैं कुछ वक्त से नकारात्मक विचारों को अपने अंदर जगह देने लगा था। धीरे-धीरे मेरी परेशानी और एंजायटी बढ़ने लगी और मुझे डॉक्टर से मिलना पड़ा। अब मैं अपने आपको किसी भी परेशानी में खुश रखता हूं और मेरे अंदर निगेटिव थॉट्स भी नहीं आते हैं।”

यह भी पढ़ें: अकेले खुश रहना कैसे सीखें?

निगेटिव थॉट्स से बचने के लिए टिप्स 2: सकारात्मक सोच रखें

मन में निगेटिव थॉट्स न आएं इसलिए सकारात्मक सोच बनाए रखना चाहिए। यह खुश रहने के जैसा ही है। पॉजिटिव थिंकिंग बनाए रखने के लिए सकारात्मक विचार रखने वाले लोगों के संपर्क में रहना अच्छा विकल्प माना जाता है। ऐसा करने से आप अच्छा महसूस कर सकेंगे।

निगेटिव थॉट्स से बचने के लिए टिप्स 3: योग करें

कहते हैं अपने आपको फिट रखने के लिए पौष्टिक आहार के साथ-साथ योग या एक्सरसाइज भी करना आवश्यक है। इसलिए वक्त निकाल कर रोजाना योग करें। योग से जुड़े जानकार मानते हैं कि 15 मिनट से भी योग की शुरुआत की जा सकती है। योग भी आपकी सोच को पॉजिटिव बनाने में मददगार है।

निगेटिव थॉट्स से बचने के लिए टिप्स 4: गलतियों से डरें नहीं

हम सभी गलती करने से डरते हैं, लेकिन हम सभी जानकर गलती तो करते नहीं। दरअसल सच तो ये है कि हमें अपनी गलतियों से डरना नहीं चाहिए बल्कि इससे सीखना चाहिए। इसलिए गलती करने पर मन में नेगेटिव थॉट्स न आने दें।

यह भी पढ़ें: डिप्रेशन से बचने के उपाय, आसानी से लड़ सकेंगे इस परेशानी से

निगेटिव थॉट्स से बचने के लिए टिप्स 5: म्यूजिक सुनें

कुछ रिसर्च के अनुसार म्यूजिक हमारे मस्तिष्क को एक्टिव रखने के साथ-साथ सकारात्मक रखने में भी मददगार होता है। इसलिए अगर आपको म्यूजिक पसंद है या अगर आपको डांस करना पसंद है, तो आप डांस करें। यह आपको फिट रखने के साथ-साथ तनाव और चिंता से भी दूर रखने में काफी लाभकारी है। कुछ रिसर्च में तो ये भी कहा गया है कि प्रेग्नेंसी के दौरान डांस करना बनने वाली मां और शिशु दोनों के लिए लाभकरी होता है।

निगेटिव थॉट्स से बचने के लिए टिप्स 6: बात करें

अगर आप अकेले समय ज्यादा बिताएंगे तो शायद आप हमेशा किसी न किसी बात में उलझे रहेंगे। इसका मतलब ये नहीं कि आप मी टाइम (खुद के लिए वक्त) न निकालें। बल्कि लोगों से बातचीत करें। सोशल बने ऐसा करना भी आपको नकारात्मक सोच से दूर रहने में मदद करेगा।

निगेटिव थॉट्स से बचने के लिए टिप्स 7: मदद करें

“दूसरों की मदद करनी चाहिए” यह तो हम जानते हैं लेकिन, शायद यह कुछ लोगों का अपना एक्सपीरियंस होगा। मुंबई की रहने वाली रचना तनेजा से जब हमने भी की तो उनका कहना है कि “किसी की हेल्प करना मेरे लिए किसी स्ट्रेस बस्टर से कम नहीं है। इसलिए मैंने अपना प्रोफेशन ही समाज सेवा बना लिया। हम कई ऐसे परिवार से से मिलते हैं जो कई अलग-अलग तरह की परेशानी जैसे बीमारी या आर्थिक तंगी से गुजरते हैं, लेकिन ऐसी स्थिति में भी कोशिश कर इससे लड़ते हैं और सफल भी होते हैं।” यहां यह ध्यान रखना बेहद जरूरी है की मदद करने के लिए समाज सेवी अगर आप नहीं बनना चाहते हैं, तो भी आप किसी न किसी की मदद अलग-अलग तरह से कर सकते हैं। अगर रस्ते में चलते एक ऐसे इंसान को आपने अगर सड़क पार करवा दी तो वो भी मदद ही है।

यह भी पढ़ें: #WCID: क्रिएटिविटी और मेंटल हेल्थ का क्या है संबंध

अगर आपके मन में किसी भी तरह की कोई चिंता है तो उसे मन में न रखें। बल्कि, अपने विश्वसनीय लोगों के साथ शेयर करें। इससे आप खुद को हल्का और सकारात्मक महसूस करेंगे। वहीं, कई बार मन में ये भी ख्याल आता है कि जमाना या दुनिया क्या कहेगी। हमेशा एक बात याद रखें कि कुछ तो लोग कहेंगे लोगों का काम है कहना। हमेशा सोचें कि आज आप जहां भी हैं अपने दम पर हैं। इसके साथ ही आप हमेशा ये भी सोचें कि आपने किसी भी चीज को पाने के लिए कितनी मेहनत की है। आपने अपने काम को कितना समय दिया है। आप जितना पॉजिटिव सोचेंगे आपका काम उतना अच्छा हो जाएगा। इस तरह से आप खुद भी खुश रहेंगे और लोगों को भी खुश रख सकेंगे। 

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

अगर आप निगेटिव थॉट्स से बचना चाहते हैं या इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

‘नथिंग मैटर्स, आई वॉन्ट टू डाय’ जैसे स्टेटमेंट्स टीनएजर्स में खुदकुशी की ओर करते हैं इशारा, हो जाए अलर्ट

टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार के कारण क्या हैं? 15 से 24 साल की उम्र के टीनएजर्स में मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण खुदकुशी है। टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार..

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन September 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

टीचर्स डे: ऑनलाइन क्लासेज से टीचर्स की बढ़ती टेंशन को दूर करेंगे ये आसान टिप्स

लॉकडाउन में टीचर्स का मानसिक स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ रहा है? ऑनलाइन क्लासेज के लिए मोबाइल और कंप्यूटर का अत्यधिक उपयोग करने से कई तरह की शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं....covid-19 lockdoen and teachers' mental health in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्ट्रेस मैनेजमेंट September 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Pedophilia : पीडोफिलिया है एक गंभीर मानसिक बीमारी, कहीं आप भी तो नहीं है इसके शिकार

पीडोफिलिया क्या है, पीडोफीलिक डिसऑर्डर का कारण क्या है, पीडोफीलिक डिसऑर्डर के लक्षण, इलाज, बच्चे के प्रति यौन आकर्षण, बाल यौन शोषण, pedophilia, paedophilia

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन August 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस क्या हैं और कैसे उबरा जाए इन समस्याओं से?

एलजीबीटी कम्युनिटी चैलेंजेस के दौरान समुदाय के लोगों को न केवर घर में बल्कि घर के बाहर भी भेदभाव का सामना करना पड़ता है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए समुदाय के चैलेंज के बारे में। lgbt community challenges

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन August 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

महिलाओं में होने वाली बीमारी (Women illnesses)

Women illnesses: इन 10 बीमारियों को इग्नोर ना करें महिलाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
ऑनलाइन स्कूलिंग के फायदे, Online Schooling benifits

ऑनलाइन स्कूलिंग से बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ता है पॉजिटिव इफेक्ट, जानिए कैसे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ November 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दिवाली में अरोमा कैंडल, aroma candle

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ November 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
रिटायरमेंट के बाद मेंटल हेल्थ

रिटायरमेंट के बाद बिगड़ सकती है मेंटल हेल्थ, ऐसे रखें बुजुर्गों का ख्याल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ September 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें